Showing posts with label wah wah.... Show all posts
Showing posts with label wah wah.... Show all posts

Wednesday, July 18, 2018

एक जवाब गलत हैं।

हम जो सोचते हैं।वैसा होता नहीं हैं।हमने जो नहीं सोचा हैं शायद हो जाता हैं,या करना पड़ता हैं।ऐसे हालात में हमे क्या करना चाहिए।
बच्चे उसका जवाब हैं।
बच्चो के लिए कोई समस्या नहीं रुकती। अगर बच्चा जिद पे बन आये तो हम उसे रोक नहीं सकते। जब बात खुदकी हो तो खुद को ही जवाब तय करना पड़ता हैं।किसी किताब में बिल्ली को दूध तक पहुंचना था।यहाँ पाठ्यक्रम निर्माण में जुड़े लोगों ने सोचा होगा कि बच्चे की स्किल डेवलोपमेन्ट के लिए ये काम आवश्यक लगा होगा।मगर हुआ कुछ अलग है।
जीवन में समस्या आये तो उसको सोचना ओर समझना चाहिए। हम सृस्टि के साथ जुड़े हैं।नव विचारक बच्चो को खोजने के काम में हम जुड़े हैं। समस्या का कोई समाधान खोजने के लिए बच्चे ही सही जवाब देते हैं। हमारे जैसे पढ़े लिखे लोग किसी की खोज के आधार पर जवाब खोजते हैं। मगर सवाल कितना भी मुश्किल हैं। जवाब जब हमें तय करना हैं तो हमारा ही जवाब माना जाना चाहिए।मुश्किल तब ही होगी जब हमें जो सवाल करेगा उसका जवाब तभी सही कहलायेगा जब तय किया गया जवाब मिलेगा।
समजीए...
सवाल सीधा हैं।
5+3 = ?

यहाँ सवाल करने वाले ने एक ही जवाब की अपेक्षा रखी हैं।जवाब तो ही सही हैं,अगर 8 मीले। सवाल ओर जवाब सही हैं। मगर मेरा मानना हैं कि अगर 8 सीखना ही सिद्धि हैं तो मेरा सवाल होगा(?)+(?)=8 में ऐसा सवाल करूँगा ओर इसके बहोत सारे जवाब होंगे मगर सभी सच हो सकते हैं।

सीखने वाले ने ये कहा कि बिल्ली को दूध तक पहुँचानेका ये भी तरीका हैं। सवाल करने वाले ने तो एक ही जवाब मिलता।जितने लोगो ने सही जवाब कहा होगा उनका उत्तर समान होगा। जैसे 8 जवाब तय हैं। मगर मेने बिल्ली को दूध तक पहुंचाया वो काफी नहीं हैं?

बच्चो की तरह जिद करो।
नियम बदल जाएंगे,जो सन्मान करते हैं,जो प्यार करते हैं वो नियम बदलने को तैयार हैं। हम भी बच्चों से प्यार करते हैं तो हमने भी किताबो में ऐसे नवाचार किये हैं।
सवाल मुश्किल गो सकता हैं।जवाब नहीं।क्यो की सवाल को जवाब चाहिए।जवाब देने के बाद आने वाले सवाल को हम नए तरीके से देख सकते हैं।सवाल सर्वस्व नहीं हैं।सवाल एक हैं।जवाब अनेक हैं।हमें सही ठहरना हैं चाहे जवाब को सही माना जाए या गलत। हमारी समझ हमे बनाए रखनी हैं।

@#@
जीवन एक सवाल हैं।
उसके जवाब हमे नहीं मिलते,जब जवाब मिलते हैं तो देर हो गई होती हैं।मरने के बाद जो हमारे होते हैं वो कहते हैं कि ये जवाब गलत था।

Monday, July 16, 2018

તું બસ તું...



નાના પાટેકર.
એક અદના અદાકાર.
મને ગમતા કલાકાર પૈકી એક અભિનેતા.એક ઉત્તમ ચિત્રકાર,સ્કેચર અને કાર્ટૂનિસ્ટ.મુંબઈ બ્લાસ્ટ વખતે આરોપીના સ્કેચ બનાવવામાં નાના પાટેકર દ્વારા મુંબઇ પોલીસ ને સહયોગ કર્યો હતો. ફિલ્મમાં નાના પાટેકર અને પત્રકારમાં રજત શર્મા.રજત શર્મા મને નાના પાટેકર જેટલા જ પસંદ છે.ઇન્ડિયા ટીવી ઉપર આપકી અદાલત કાર્યક્રમ આવે છે.વર્ષોથી હું તે જોવું છું.મને ગમે છે.કેટલાક દિવસો પહેલા નાના પાટેકરને આપકી અદાલતમાં બોલાવવામાં આવ્યા.અહીં એમણે સરસ વાત કરી.એક સુંદર વક્તા અને અદભુત અવાઝના માલિક શ્રી નાના પાટેકર દ્વારા અનેક ફિલ્મના સંવાદ બોલવા ઉપરાંત કેટલીય બાબતોની અહીં ચર્ચા કરવામાં આવી.માધુરી દીક્ષિત માટે અહીં નાના એ એક વાત કરી.જેમાં એમણે એક સંવાદ બોલી સંભળાવ્યો. એ ઇન્ટરવ્યૂ જોવામાં મજા પડી.મને મજા પડી એક તું વાળો સંવાદ સાંભળવામાં.એ મને ગુજરાતીમાં લખવાનું મન થયું.કશું જ યાદ ન હતું.ફિલ્મનું નામ કે એવું કોઈ જ વિગત યાદ નથી.યાદ છે નાના દ્વારા બોલાયેલ પેલી હિન્દી કવિતા.મનેય એવું લખવાનું મન થયું.મેં અહીં એ પેટનમાં ગુજરાતી લખ્યું છે.નાના પાટેકરની બોલાયેલ વિગતનો એક શબ્દ નથી.હા,વિચાર એમાંથી આવ્યો હતો.આ મારું લખાણ...

મારી તું...


નીચે તું.
ઉપર યુ.
પાછળ તું.
આગળ તું.

વિચાર તું.
આચાર તું.
વાત તું. સંવાદ તું.
મારો પ્રત્યેક શ્વાસ તું.

અંદર તું.
બહાર તું.
વાત તું વ્યવહાર તું.
આસપાસ બસ તુજ તું.


આંખ હું ને દૃશ્ય તું.
ઉડાન હું ને નભ છે તું.
ન દેખાય તો અંધારું તું.
દેખાય ત્યાં છે પ્રકાશ તું.

સંસ્કાર તું.
સંસ્કૃતિ તું.
જીવવા માટેનું કારણ તું.
મારવા માટેનું મારણ પણ તું.

તું છે તો હું છું.
હું નથી તોય છે તું.
મારા વગર નથી પૂર્ણ તું.
મારી પૂર્ણતામાં બસ એક તું.

જોડે તું.
પાસે તું.
નજીક તું.
દૂર પણ તું.


બે હિસાબ તું.
બે ખોફ બસ તું.
ભરચક પણ તું.
છલોછલ પણ તું.

બસ..
તું તું તું તું ને બસ તું.

તું આવે તો તું.
તું ન આવે તો તું.
મારું માને તોય તું.
મારું ન માને તોય તું.

છે મારૂ જીવન તું.
છે, મરણ મારું જ તું.
જીવન છે તું.
કવન છેતું જ તું.

સૂરજ હું ને તાપ તું.
અંધારું હું ને તારા તું.
નફરત હું ને બસ, પ્યાર તું.
ગુસ્સો હું ને વિશ્વની શાંતિ તું.

જીવનમાં એક ભાગ તું.
જીવન હોવાનો અહેસાસ તું.
આપે અનહદ મને વિશ્વાસ તું.
મારા દરેક શ્વાસમાં બસ તું જ તું.

મારો જ પ્રેમ તું.
મારો જ વહેમ તું.
મારી જાત તું.
મારી વાત તું.
મારું નામ તું.
બહુમાન પણ તું.


જીવવા માટે બસ કારણ તું.
મરવા માટેનું મારું મારણ તું.
હવે કાયમ મારું જીવન છે તું.
નામ છે બસ,પણ પાછળ મારા તું.

કરીલે વ્હેમનો દીવો તું.
પ્રેમ ને આપણા પ્રગટાવીશ તું.
કરે છે જે આજે મારી સાથે તું.
કારણ ખૂબ પ્રેમ મને કરે છે તું.

મારો તો શ્વાસ છે તું.
મારો તો વિશ્વાસ છે તું.
જીવવા માટે કારણ બસ તું.
જીતવા માટેની જીદ પણ તું.

વાત કરે તું.
પ્રેમ કરે છે તું.
વિશ્વાસ રાખ તું.
નોખા શ્વાસ રાખ તું.

છોડવા માટે એક કારણ તું.
મને મારનારનું મારણ બસ તું.
તને પૂછી જો જાતે જ તું.
તું...તું...તું..બસ તું જ તું.

હું છું તોય છે તું.
હું નથી તોય તું.
મારા પાછળ તું.
મારી સાથે પણ તું.
 અને તું.

ગુસ્સો તું.
સ્નેહ પણ તું.
વ્હાલ તું.
બબાલ પણ તું.

જાત તું.
ભાત તું.
વ્યવહાર તું.
વિશ્વાસ તું.

લવ તું...ભવ તું...
આવ તું.આવકાર તું.
બસ...જ્યાં જોવું ત્યાં તું જ તું.
બસ... ન દેખાય તોય બસ એક તું.


આ લખ્યું.પાછું આજે અહીં લખતા પહેલા થોડું મઠારી જોયું.આ મને ગમ્યું અને કાયમ શોધતાં અટકાય એ માટે આપ સૌ સામે બ્લોગમાં મૂકી દીધું.

@#@

હું...
તારો જ હું.

Monday, July 9, 2018

गुजरात:फुटबॉल ओर सन्मान

आज कल फुटबॉल फीवर चल रहा हैं।कई सारे अपसेट ओर चमत्कार फुटबॉल वर्ल्ड कप में देखने को मिले हैं।हमारे गुजरात के लिए भी एक गौरव हमे फुटबॉल से मिला हैं। ये सन्मान मिला हैं जोधपुर स्कूल से।ये एक सरकारी स्कूल हैं।यहां पे शिक्षा प्राप्त कर रहे बच्चों के लिए स्कूल के सभी अध्यापक विशेष कार्य करतर हैं।जिसका परिणाम भी प्राप्त हुआ हैं।
इस स्कूल में पढ़ने वाले 
माया रबारी,माया चौहान ,साक्षी अंतानी ओर दिप प्रजापति के साथ थलतेज स्कूल के  પ્રાથમિક विद्यार्थियो के साथ स्वीडन जा रहे हैं।यहाँ गोथीया फुटबॉल कप में भाग लेने जा रहे हैं।पिछले तीन सालों से ये बच्चे इस टूर्नामेंट में खेलने जा रहे हैं।इन बच्चो को SKF कंपनीने स्पॉन्सर किया हैं। हमारे लिए गौरव इस बात का हैं कि पीछले साल माहिया चौधरी को बेस्ट प्लेयर का खिताब मिला था ।इन बच्चों को सन्मानित करने के लिए DPEO श्री महेश महेता के साथ शिक्षा से जुड़े अन्य अधुकारी ओर संघठन के प्रतिनिधि उपस्थित थे।खेल से जुड़ी संस्थानों के प्रतिनिधि ओर मीडिया कर्मियों की विशेष उपस्थिति में उनका सन्मान समारोह हुआ।
ये ब हहै स्टेट ओर नेशनल चेम्पियन शिप खेल चुके हैं।स्टेट चेम्पियन बन चुके हैं।और बहोत सारे सन्मान अपनी स्कूल को दिला चुके हैं।ऐसी स्कूल और ऐसे बच्चों को नमन।
@#@
कोन कहता हैं,गुजरात में सरकारी स्कूल काम नहीं करती।ऐसे रीपोर्ट ओर सन्मान कोई प्राइवेट स्कूल में भी नहीं हैं।

Saturday, July 7, 2018

नया रास्ता...

बेटी बचावो।
बेटी पढ़ाओ।
आज कल ये बात बहोत चल रही हैं।बहोत सारी संस्थाएं ओर व्यक्ति विशेष इस विषय के लिए कार्यरत हैं। इस में एक नई जानकारी मुजे मिली।श्री सूर्यकांत सिंह और श्री विमल सिंह पवार ने कुछ नया किया हैं।अगर आपको लड़की का बोझ लगता हैं तो आप उनतक लड़की को पहुंचाए।आप को पहचान देनेकी आवश्यकता नहीं हैं।
ऐसे लडकिया बचेगी ओर सही हाथोंमें उनका विकास हो पायेगा।लड़कियों के लिए नई हेल्पलाइन उनके जीवन को सुनहरा बना सकती हैं।

@#@
बच्चियों को बचाने के लिए नहीं,बच्चियों को बढ़ाने के लिए ये नई मुहिम चलाने के लिए नई मुहिम रंग लाएगी।

Thursday, July 5, 2018

हम करेंगे...



हमारे आगे पीछे हम देखते हैं।
कोई एक व्यक्ति या संस्थान बहोत सारे लोगो को नेतृत्व प्रदान करती हैं।एक अच्छा पिस्टर हैं।सभी समान थे मगर जिस ने को अपनी बात मनवाली वो आज सबका नेतृत्व कर रहा हैं।
लोकशाही का भी यही मॉडल हैं।सबको समजा ने के लिए हमारा कॉम्युनिकेशन स्किल का बहेतर होना जरूरी हैं।आए कौशल्य हमे नेतृत्व प्रदान करने के अवसर तक आसानी से पहुंचा सकती हैं।हमारी आसपास जो भी हो रहा हैं उसमें सबसे पहली बात ये हैं कि क्या हम हमारी बात मनवा पाएंगे!क्या हमारे में नेतृत्व के लक्षण हैं,जिसे हम आगे बढ़ा सकें।आज हमारी मांग हैं कि हमे हमारी बात रखने का मौका मिले।इसका सीधा मतलब हैं कि हमे ऐसी बात करनी होगी जो सब को सहज लगे।नेतृत्व का सबसे पहला नियम हैं,सबके साथ समानता।समानता ही काम में एक दूसरे से हमे जोड़े रखेगी।

@#@
हमे जो करना हैं,उसे तय करके।
क्योकि तय किये बगर जो कुछ होता हैं उसे अकस्मात कहा जाता हैं।

Sunday, June 17, 2018

કલામ સર : ઇફતાર

અબ્દુલ કલામ.
સિર્ફ નામ કાફી હૈ.
ભારત રત્ન,મિસાઈલ મેન અને પૂર્વ રાષ્ટ્રપતિ એ.પી.જે.અબ્દુલ કલામ. રાષ્ટ્રપ્રેમી અને વિચારક અબ્દુલ કલામ.એમનો ફોટો ઘરમાં રાખવો ગમે.હું એમને 5 વખત નજીક થી જોઈ અને મળી શક્યો છું.મારા માટે એ જાણે જન્નત છે.એમની સાથેના મારા ફોટો ક્યારેય શેર કર્યા નથી.કદાચ એ યોગ્યતા મારી ન હોવાનું માનું છું.રમજાન મહિનામાં ઇફતાર નું આયોજન થાય.રાજકીય પક્ષો અને સૌ કહેવાતા મોટા માથા ઇફતાર પાર્ટીનું આયોજન કરે અને વધુ મોટા થવા મહેનત કરે.આવું કરે એ કલામ નહીં.
આ વાત ક્યાંક વાંચેલી છે.આ વર્ષ 2002ની વાત છે.
ડો.એ.પી.જે. અબ્દુલ કલામ ભારતના રાષ્ટ્રપતિનો હોદો સંભાળ્યો અને થોડા સમય બાદ પવિત્ર રમઝાન માસ આવ્યો. વર્ષોથી રાષ્ટ્રપતિ ભવનની એક પ્રણાલીકા રહી છે કે રમઝાન માસમાં ભારતના રાષ્ટ્રપતિ દેશની ગણમાન્ય મોટી-મોટી હસ્તીઓને ઇફતાર પાર્ટી આપે.
આ વખતે તો રાષ્ટ્રપતિ પોતે જ મુસ્લીમ હતા એટલે રમઝાનની ઇફતારનું જોરદાર આયોજન કરવાનું રાષ્ટ્રપતિ ભવને નક્કી કર્યુ. ડો.કલામે એમના મિત્ર જેવા પી.એમ.નાયરને કહ્યુ, "આ ઇફતાર પાર્ટીમાં તો બધા ધનિક લોકો જ આવે. એ લોકોને જમાડો કે ન જમાડો એનાથી શું ફેર પડવાનો. આપણે ઇફતાર પાર્ટી કરીને આવા ધનવાનોને નથી જમાડવા એ તો રોજ સારુ-સારુ જમે જ છે. આપણે અનાથાલયના બાળકોને સરસ ભોજન કરાવીએ. તમે તપાસ કરો કે ઇફતાર પાર્ટીનું આયોજન કરીએ તો એનો કેટલો ખર્ચો થાય ?"
પી.એમ.નાયરે આ બાબતે તપાસ કરી અને ડો.કલામને કહ્યુ,"સર, ઇફતાર પાર્ટી માટે લગભગ 22 લાખ જેટલો ખર્ચો થાય". ડો.કલામે કહ્યુ, "તમે ટીમ બનાવો અને અનાથાલયોના બાળકો માટે કપડા, ધાબળા, મિઠાઇ વગેરેની વ્યવસ્થા કરાવો. આપણે નાના-નાના બાળકોને રાજી કરવા છે. બાળકો રાજી થશે તો અલ્લાહ રાજી જ છે. ગરીબ ઘરના બાલકોની ખુશી એ જ આપણા માટે ઇફતાર પાર્ટી."
આવું જ આયોજન એમને રાષ્ટ્રપતિ બન્યા ત્યારે પહેલા બાલ દિન મા કર્યું હતું.આખા ભારતના દરેક રાજ્યમાંથી 10 બાળકોની પસંદગી કરાઈ હતી.સરકારી શાળાના અને અન્ય તેજસ્વી ભારતના બાળકોને રાષ્ટ્રપતિ ભવનમાં નિમંત્રણ આપવામાં આવ્યું હતું.

@#@
2022 નું કલામ સરનું સ્વપ્ન આપણે પૂરું કરી શકીએ તો જ એમને આપણી અંજલિ.

Friday, June 1, 2018

बच्चे और हम

आप देखते हैं।
आप सोचते होंगे कि ये क्या हैं।
एक लड़के को शायद उसकी मम्मी ने दूध दीया हैं।किसी कारण से वो दूध फर्श पे पड़ा हैं।
कोई बच्चा होता तो शायद रो लेता,मगर इस ने तो कमाल कर दिया।
घर के 3 पालतू साथी के साथ बच्चा लेटकर दूध पी रहा हैं।बच्चे अपनी मनमानी करते हैं,कुछ हमे पसंद हैं और कुछ ना पसंद।मगर बच्चे तो बच्चे हैं।बच्चे क्यो ऐसा करते हैं,जो हमे पसंद नहीं हैं।बच्चे ऐसे क्यो होते हैं जो सब हमारी पसंद को ही ना पसंद करते हैं।हम मानते हैं कि हम जो चाहते हैं,वो ही हमारे बच्चे करे।मगर सवाल ये हैं कि क्या हम जब बच्चे थे तब हम हमारे मातापिता को पसंद आये ऐसा ही करते थे?अगर जवाब हा  तो हमे सोचना ओर संभालन हैं।कोई व्यक्ति सभी को सदैव खुश नहीं रख सकता हैं।आप भी ओर में भी।मगर आज सुबह ये फोटो देखकर अपने बचपनको याद करिए।

@#@
बच्चो को जब हम कुछ कहते हैं,हमारा कहा वो समज ही गए हैं ऐसा मानना गलती हो सकती हैं।

Thursday, April 26, 2018

INSPIRE awards


2018 Nominations open for INSPIRE awards-MANAK for Innovations by school children (class 6 to 10) sponsored by Department of Science and Technology, Govt of India.* Rs 10k per student to participate  if s/he gets selected for district level exhibition.  Top ideas from district exhibition get selected for state level.  The top ideas from states exhibition get selected for national level exhibition along with mentoring support from experts from IITs and other national labs for improvement and develop the prototype. The top 60 ideas are showcased in  Rashtrapati bhavan! Further, all 60 get a chance for 7 days education trip to Japan. Do not wait...lets encourage school children to participate to become future innovators. 

Requested to kindly forward this to school students, parents, teachers and principals of schools.

Please click hear...

Sunday, April 22, 2018

આજ અને કાલ


આજે આજ છે.કાલે કાલ હશે.આજે ભલે દુઃખ હોય,કાલે સુખ હશે જ હશે.આજે ભલે સુખ છે.કાલે દુઃખ આવશે જ.આપણે કાયમ આવતી કાલની ફિકર કરીએ છીએ.આજે જે આજ છે,એ એ જ કાલ છે જેની આપણે ગઈ કાલે ચિંતા કરતા હતા.
જ્યારે વ્યક્તિ દુઃખમાં હોય ત્યારે તે આવતી કાલના સુખ માટે મથામણ કરે છે.આવતી કાલ માટે ચિંતા કરે છે.એ ચિંતા એ હોય કે આજની ચિંતા આવતી કાલે દૂર થશે કે નહીં.
આજે જે દુઃખી છે એ આવતી કાલના સુખ માટે ચિંતા કરે છે.આજનું આ પોસ્ટર આપણાં માટે છે.સૌને સરખું લાગુપડે છે.આપણે જ્યારે આજે જીવતા હોઈએ છીએ ત્યારે કાલની ચિંતા કરીએ છીએ.આ ચિંતા દૂર  કરવી જરૂરી થઈ પડે છે. કેટલીક  વ્યક્તિ આજના દુઃખ ને દૂર કરવા કે આજના સુખ ને ટકાવી રાખવા સતત પ્રયત્ન કરે છે.
આજે જે આજ છે.
કાલે તે ગઈ કાલ હતી.
આજે જે આજ છે.
આવતી કાલે આજ હશે.આજે જે આજ છે એટલે જ આજે એ આવતી કાલ કહેવાય છે.કોણ રોજ આવે છે તો આજ રોજ આવે છે.આ એ જ આજ છે જેને આપણે ગઈ કાલે યાદ કરતા હતા.


@#@
આજ ને આજની જેમ જુઓ.
અકબર બીરબલ ની વાર્તામાં આવે છે એમ એમ 'यह वख्त गुजर जाएगा' સારો કે ખરાબ સમય આજે છે.કાલે બદલાશે એજ જીવન.

Wednesday, April 18, 2018

छोकु:दीकू


शरुआत ओर अंत।
समान होता हैं,समान नहीं हैं तो समस्या हैं।कुदरती या कृत्रिम किसी भी व्यवस्था में सेम सिस्टम काम करता हैं।कॉम्युटर जहाँ से शुरू होता हैं,वहीं पे खत्म होता हैं।वैसेही जीवन जब शुरू होता हैं,वहीं से वो खत्म भी होता हैं।
जब बच्चा पैदा होता हैं।तबसे कुछ साल उसे प्रत्येक कार्यमें किसी की सहायता चाहिए होती हैं।वैसे ही जब व्यक्ति वृद्ध होता हैं,आखिरी दिनों में उसे भी हर काम के लिए सहायक की आवश्यकता होती हैं।छोटा बच्चा अपने आप खाना नहीं खा सकता।वैसे ही वयस्क की भी यही समस्या हैं।
शुरू से अंत तक कि जो दौड़ हैं, उसमें हमने जो सजाया हैं,संवारा हैं या प्राप्त किया हैं उसी के आधार पर हमारे आखरी दिन खत्म होते हैं।
क्या हमने हमारे जीवन के बीच में मुसफरी करते समय ऐसे काम किये हैं जिससे अपना अंत शांति से हो।जीवन में व्यक्ति को हंसना सीखना पड़ता हैं,रोता तो तब भी हैं जब वो पैदा होता हैं।अगर हम पैदा हुए तब रोये थे,बाकी के सभी खुश थे।जब हम मरेंगे तो हम खुश होगे और बाकी के रोयेंगे।

अब बताइए...

हमने ये सोचा कि हम हंसते हंसते जीवन जिएंगे ओर इसे हंसते हंसते खत्म करेंगे।मगर रूल्स ऐसा हैं कि आप रोते हुए आये थे,सो आपका रोते हुए जाना तय हैं।मगर वो रोना अंतिम दिनों में न होते हुए,बीच में खत्म हो जाये वो हमारे हाथमें हैं।अब हमें ये देखना हैं कि हम कब रोयेंगे।हमे क्यो रोना आता हैं।क्या इस रोने को हम रोक नहीं सकते।रोने को रोकने के लिए हमे क्या करना पड़ेगा।इस सवालों के जवाब ही हमे शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए रास्ता दिखायेगा।

मेने जो तय किया,में उसे खत्म करता हूँ।उस के लिए मुजे जो करना हैं में करूँगा।हसूंगा, रोऊंगा किसी को हसाउंगा या रुलाऊंगा।मगर जो तय हैं,उसे पूर्ण करूँगा।आज परशुराम जयंती हैं।अक्षय तृतीया हैं।दो अच्छे दिनोंका आज संगम हैं।वैसा ही संगम हमारे जिंदगी में आये और हम शांति से जीवन पसर करे वैसी प्रार्थना करते हुए आज तय करना चाहता हूं कि में ख़ुशी से अपना जीवन जी रहा हूँ और उसे पूर्ण करूँगा।में हंसते हुए मरूँगा,मेरे पीछे जो रोयेंगे वैसा ही अंत उनका होगा।जो मेरे पीछे हसेंगे उनके पीछे उनके बाद उनके निधन के बाद  लोग हसेंगे। यहाँ हसने का मतलब हैं याद करना।अच्छे केंलिएबयाद करना। जो मेरे पीछे रोयेंगे,उनके पीछे भी कोई रोयेगा।जहां से स्टार्ट हुआ,वहीं खत्म होगा।


@#@
दो शब्द हैं।
किसी कहानी में थे।
एक छोकु ओर दूसरा दिकू।
छोकु का मतलब अगर शुरुआत है तो दिकुका अर्थ अंत हैं।हम छोकु से शुरू करके अपने जीवन में आगे बढ़ते हुए जिम्मेदारी ओर हुकुम को मानते हुए दिकू तक पहुंचना हैं।सो...आज के पावन अवसर पर आपको छोकु दिकू की शुभकामना।

Sunday, April 8, 2018

ગુણોત્સવ: ગુરુ ઉત્સવ

રાજ્ય પરીક્ષા બોર્ડ,ગાંધીનગર.અહીં શ્રી પ્રફુલ જલુ ચેરમેન છે.છેલ્લા થોડાક વર્ષોથી એક વિઝન સાથે રાજ્ય પરીક્ષા બોર્ડનું નવતર કાર્ય ચાલે છે.ગુણોત્સવ અંતર્ગત ચેરમેનશ્રી ને જૂનાગઢ જિલ્લાનાં કેશોદ તાલુકાનાં સોંદરડા ગામમાં જવાનું થયું.અહીં તેઓએ વિદ્યાર્થીઓનાં અભ્યાસનું બાહ્ય મુલ્યાંકન કરવાનું હતું.આ સમયે નાનકડી સોંદરડા પ્રાથમીક શાળાની મોટી કહી શકાય તેવી સિધ્ધીઓ સાથે વિદ્યાર્થીઓ બેઠા હતા. સોંદરડા પ્રાથમિક શાળાએ વર્ષ ૨૦૧૬માં એન.એમ.એમ.એસ.ની પરીક્ષામાં છ વિદ્યાર્થીને પરીક્ષા અપાવી જેમાંથી ચાર વિદ્યાર્થી ઉતિર્ણ થયા. વર્ષ ૨૦૧૭માં છ વિદ્યાર્થીએ પરીક્ષા આપી અને બધા વિદ્યાર્થી ઉતિર્ણ તો થયા પણ તેમાં બે વિદ્યાર્થી મેરીટમાં રેંક હાંસલ કરી શાળા અને ગામનું ગૈારવ વધાર્યું.

શાળાના આચાર્યશ્રી માલદેભાઇ કામરીયા અને સહાયક શિક્ષકશ્રી વિરમભાઇ તથા શ્રી દુધાત્રાએ શાળાની શેક્ષણિક પ્રવૃતિમાં વિદ્યાર્થી કેમ અવ્વલ બને તેની કાળજી દાખવી છે.એમના ખાસ આયોજન અહીં જોઈ શકાય છે.આ માટે તેમણે ખાસ પ્રયત્ન કર્યો છે. સાથે સહ શૈક્ષણિક પ્રવૃતિઓમાં વિદ્યાર્થીઓ કેમ રસ દાખવે તે દિશામાં પણ વિવિધ પરિણામલક્ષી કાર્યક્રમો અહીં હાથ ધરવામાં આવેલ છે. શાળામાં આધુનિક વ્યવસ્થાઓ સાથેની કોમ્પ્યુટર લેબમાં વિદ્યાર્થીઓને કોમ્પ્યુટરના અનુભવો પુરા પડાય છે. સર્વદિશામાં બાળકોની કાબેલીયત હાંસલ કરે તેવી વ્યવસ્થા દ્વારા અહીંનું શિક્ષણ કાર્ય ચાલી રહ્યુ હતું. લોકમાનસમાં ખાનગી શાળા તરફ એકતરફી લગાવ વધી રહયો છે. ખાનગી શાળામાં જ શ્રેષ્ઠ શિક્ષણ મળે તેવી ભ્રામક માન્યતાઓ વાલીઓ ધરાવે છે. આવા ખોટા ભ્રામક પ્રચાર સામે સોંદરડા જેવી શાળાઓ ખાનગી શાળા કરતાં પણ શ્રેષ્ઠ શિક્ષણ અને આયોજન શિક્ષકો દ્વારા થાય છે.શિક્ષકો દ્વારા અહીં જાને બધું જ આપવાનો પ્રયાસ થાય છર.જે દેખાઈ આવે છે.

આ શાળાની મુલાકાત પણ શ્રી પ્રફુલ જલુએ લીધી હતી.તેઓએ ગામડામાં જ શિક્ષણ મેળવ્યું હતું.પોતાની વાતમાં એમણે જણાવ્યું કે  કેશોદ તાબાનાં મઘરવાડા ગામની સરકારી શાળામાં જ અભ્યાસ કર્યો. કારકિર્દીનાં વિવિધ શિખર સિદ્ધ કરવામાં ડગલુ પણ પીછે હઠ કરી નથી.તેમના પ્રાથમિક શાળાના ગુરૂ શ્રી કાનજીભાઇ મક્કા મેસવાણ ગામે તંદુરસ્ત જીવન પસાર કરી રહ્યા છે. શ્રી પ્રફુલ જલુ તેમના ગુરૂજીને મળી અહોભાવ વ્યક્ત કરવા અને ગુરૂચરણ સ્પર્શવા મેસવાણ પહોંચ્યા. ગુરૂશિષ્યનાં અનેરા હેતની વર્ષા થઇ હતી. અને આજથી પાંત્રીસ વર્ષ અગાઉ જે વિદ્યાર્થીના જીવનમાં  શિક્ષણનાં ઓજસ આંજ્યા તે આજે ગુરુજીને મળવા આવ્યા હતા.આજનું નામ ભલે પ્રફુલ જલુ.પણ...કુટુંબમાં પોલાભાઇ.આ પોલાભાઈની યાદોને વાગોળતા ગુરુજી બોલ્યા. મારો વિદ્યાર્થી ક્યારેય કાચો ના હોય,શ્રી કાનજીભાઇએ તેમની શિક્ષક તરીકેની કારકિર્દીને વાગોળતા તેમના શિષ્યને શીખ આપતા જણાવ્યુ કે તૈયારી વિના વર્ગખંડમાં જવુ એ શિક્ષકની ઉણપ છે. દરેક બાળક દેશનો સૈાથી સર્વોચ્ચ નાગરીક બને તે દિશામાં તેમની શૈક્ષણિક ચિંતા કરવી એ જ ગુરૂધર્મ છે. મને ગૈારવ છે કે મારા છાત્રો આજે સુખી અને સાધન સંપન્ન છે. આ તકે ગુરૂ શીષ્યનું મીલન ખરા અર્થમાં સાંદીપની અને સુદામાની એક યાદ હતી.


@#@
ભણ્યા એટલા ભાગ્યશાળી.
કારણ એમને ત્રણ ભગવાનનો સાથ.એક ભગવાન...બીજા માતાપિતા અને ત્રીજા ગુરુ.

Saturday, February 24, 2018

आज हैं इसे देखो...


कुछ दिनों पहले की बात हैं।में अमदावाद में था।सुबह सुबह कुछ काम से में गाड़ी लेके निकला। आज के दौर में जानकारी प्राप्त करने के माध्यम में FM रेडियो भी बहोत बड़ा रोल अदा करता हैं।गाड़ी में रेडियो जॉकी ध्वनित का शॉ चल रहा था।ध्वनित के इस कार्यक्रम का नाम हैं, 'मॉर्निंग मंत्र'च₹। ध्वनित बात कर रहे थे।आज वो शीतल महाजन की बात कर रहे थे।शीतल महाजन ने एक कीर्तिमान हांसिल किया हैं।उन्होंने साडी पहनकर स्काई डायविंग की।उनके लिए सिर्फ ये बात नहीं हैं।उनके किए ऐसी बहोत सारी जानकारी थी जो ध्वनित ने बताई।


शीतल महाजन।बहुत कम लोगो स्काई डायविंग के बारे में मालूम होगा। हम उसे tv पे देखते हैं।बहोत ही हिम्मत का काम हैं स्काई डायविंग करना।

महाराष्ट्र के पुने में रहनेवाली शीतल महाजन  भारत की पहली महिला है जो स्काई डायविंग करती है। वो 21 साल की थी तब पहली बार जम्प लगया था। उन्होंने पहला जम्प बिना ट्रेंनिग के लगाया था।उनका पहला जम्प नार्थ  पोल से  लगाया गया था।करीब 2400 फिट से उन्होंने पहला जम्प लगाया था।शीतल महाजन ने दूसरा जम्प अंटार्कटिका साउथ पोल से 11600 फिट से लगाया था।

शीतल एक अकेली भारतीय महिला हैं जो दूसरे देशो में भी इसके लिए विविध ओर गौरवपूर्ण रीकॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। दुनिया के सात भूखंड में जम्प कर के उन्होंने नया कीर्तिमान आने नाम किया हैं।

विविध हेलीकॉप्टर ओर प्लेन से वो आजतक जम्प कर चुकी है। अभी तक उन्होंने 700 से अधिक जम्प लागए है। शीतल महाजन के नाम से आज 18 नेशनल अवॉर्ड ओर 6 वर्ल्ड रेकॉर्ड है। भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सन्मानित किया है।

आज वो भारत में स्काई डायविंग की कोच है ।वो कहती है के मेरा धेय्य कुछ अलग करना था। दुनिया को दिखाना था कि भारतीय महिला किसी भी फील्ड में कुछ न कुछ कर सकती है ।

अपनी सोच को बदलिए।सब कुछ मुमकिन हैं।एक महिला अगर ऐसा काम करती हैं तो हमे उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए।सोच बदलो,विचारों से गिरे हुए आप ओर में ऐसी सोच रखते हैं जो सही नहीं हैं।एक अच्छा विचार हमे सफ़लताकी ओर ले जाता हैं।ऐसा ही एक नकारात्मक विचार हमे सफ़लतासे दूर करती हैं।

कृष्ण भगवान ने कहा हैं की,
जो हो गया हैं,वो फिरसे न होगा।
जो हो रहा हैं,वो ही अंतिम सत्य हैं।जो होगा, वो हमने तय किया होगा वैसा ही होगा।
अगर आप अकेले हैं तो वो अब ऐसा नहीं होगा क्यो की वो भूतकाल हैं।आज आप जो हैं,जिन के साथ हैं,जो भी कर रहे हैं वो ही सत्य हैं,क्योकी ये वर्तमान हैं।आप का कल जैसे आपने तय किया हैं वैसा ही होगा।
शीतल महाजन को ही देखलो।भूतकाल में किसी महिला ने स्काय डाइविंग नहीं की थी।अब ऐसा नहीं होगा, वो भूतकाल हैं।शीतल डाइविंग करती हैं,वो वर्तमान हैं और वो ही अंतिम सत्य हैं।कल वो ही होगा जो शीतल चाहेगी।उनकी चाह थी कि वो जरा हटके काम करें।वैसा ही होगा।वो कर रही हैं।
अपने आप में श्रद्धा रखने से ही हम किसी ऑर की श्रद्धा प्राप्त होगी।जो नहीं होने वाला हैं,या जो पहले हो चुका हैं इस बातो मे अपना वर्तमान बर्बाद न करें।
शीतल महाजन के माध्यम से आज जो संदेश में देना चाहता हूं वो स्पस्ट हैं।और वो मेरी टेग लाइन भी हैं।जो है इसे देखो,जो होगा उसे देखलेंगे।

#Thanks RJDhvanit
#waw shital mahajan

We can मुमकिन हैं...!

Thursday, February 22, 2018

मेरे बादभी...



मेरे बादभी इस दुनिया में,जिंदा मेरा नाम रहेगा,
जो  भी तुझको देखेगा, तुजे मेरा लाल कहेगा।
तेरे रूपमें मिलजायेगा,मुझ को जीवन दोबारा।
मेरा नाम करेगा रोशन,
जगमें मेरा राज दुलारा।

एक अद्भुत गाना।
ऐसा ही अद्भुत ये पोस्टर।
क्रिएटर सदैव कुछ नया क्रिएट करते रहते हैं।मेरे एक दोस्त हैं।दोस्त भी ऐसे की समजो के जीवन के अभीन्न व्यक्ति।उन्होंने मुजे ये फोटो भेजा हैं।वो एक क्रिएटर हैं,साथ में वो एक सर्जक को बढ़ावा देने वाली व्यक्ति हैं।आजतक उन्होंने मुजे सम्पूर्ण सहयोग दिया हैं।देते रहे है,ओर आजीवन देते रहेंगे।

आज उन्होंने मुजे एक smg के साथ ये फोटो भेजा।जिसमें लिखा था 'आप को जब भी गुस्सा आये आप इस फोटो को देखना।मुजे यकीन हैं 'आप भी जब गुस्सा होंगे ये फोटो देखेंगे तो शांत हो जाओगे।
सर्जक कुछ भी सर्जन कर सकता हैं।सर्जन याने बनाना।कुछ चीज या सामग्री बनाना ही सर्जन नहीं हैं।किसी व्यक्ति का निर्माण या उसमें सहयोग भी एक अनूठा सर्जन हैं।

# लव यू लाइफ...

Saturday, February 17, 2018

सैनिक परिवार को सलाम


हमारा देश।
विश्वमें सर्वाधिक युवक मतदार वाला देश।विश्व के सबसे युवान जनसंख्या वाला देश।हमारा देश प्रगति कर रहा हैं।आगे ही आगे बढ़ाएंगे कदम वाली बात हम ने स्वीकार की हैं।हमारे देश में आज इजनेर मिलेंगे,तबीब या वकील मिलेंगे एमजीआर देश के लिए सदैव खड़े रहने वाले सैनिक आज भी हमारे आसपास बहोत कम हैं।

चीन एक ऐसा देश हैं,जहाँ मिलेट्री ट्रेनिग करनी आवश्यक हैं।अगर आप के दो संतान हैं तो एक को देश के सैन्य में भेजना आवश्यक हैं।पंजाब,हरियाणा,उत्तर प्रदेश और ऐसे अन्य प्रान्त से सैनिक ज्यादा होते हैं।गुजरात से बहोत कम लोग देश के सैन्य में दाखिल होते हैं।

एक परिवार में दो भाई।सबसे बड़े भाई का नाम केतनसिंह चावड़ा।वो गुजरात के महेसाणा के करीब वसई के निवासी हैं।अपने घर के सबसे बड़े पुत्र।कुल मिलाके 3 भाई बहन हैं।सबसे बड़े केतनसिंह जो भारतीय फौज में काम करते हैं।बचपन से उन्हें देश भक्ति का माहौल मिला।उनका परिवार राऑल चावड़ा कुल हैं।उनके पिताजी गोजारिया स्थित छीटे से नगर में हाइवे के ऊपर गेरेज का संचालन कर रहे हैं।

उनका नाम महेंद्रसिंह।उन्होंने बचपन से उन्होंने अपने संतानों को देश की सेवा में लगाने का संकल्प किया।इस परिवार के सबसे बड़े पुत्र को देश सेवा में भेजा।उनके दूसरे बेटे जिनका नाम अनिरुद्धसिंह हैं।वो भी बचपन से  भाई के नक्शे कदम पर चल रहे हैं।वो देश सेवा में ही जुड़ना चाहते हैं।

यहाँ एक बात जानके आप को खुशी होगी की श्री केतनसिंह चावड़ा की मौसी के दो लड़के श्री सामंतसिंह ओर श्री अर्जुनसिंह देश के सैन्य में सेवा देते हुए निवृत्त हो चुके हैं।देश सेवा के लिए दो बहनें निरुबा चावड़ा के पुत्र केतनसिंह ओर ग़लबा बा के दोनों पुत्र जो सैन्यमें हैं।सोचिए ,उनकी माताओ को सलाम जिन्होंने अपने सभी संतान को देश सेवामें जोड़ा हैं।ऐसे परिवार के मुखिया को सलाम।में तो कहूंगा की स्व. मदारसिंह वाघेला को सलाम हैं।जिन्होंने ऐसी दो बेटियोंको जन्म दिया।अरे...अर्जुनसिंह जी ने तो पाकिस्तान के सामने लड़े गए कारगिल युद्ध के दौरान दुश्मनों के दांत खट्टे करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

ज्यादातर लोग सैनिकों को एकदम शिस्त या कड़क स्वभाव के मान लेते हैं।हमारे देश के सैनिकों ने बहुत सारे खेलो में मेडल दिलवाने वाले सैनिक ही हैं।कुछ संगीत तो कुछ अन्य कौशलयो में निपुण होते हैं।वैसे ही श्री केतनसिंह चावड़ा अच्छी फ्लूट बजाते हैं।

जब हमारी सेना सर्जिकल स्ट्राइक या ऐसा कुछ विशेष सैन्य साहस दिखाती हैं तब उन्हें पैराग्लाइडिंग की सहाय की आवश्यकता होती हैं।श्री केतनसिंह आज पैराग्लाइडिंग के ग्रुप में आज अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं।देश के लिए जीने वाले ऐसे ही हमारे साथी और वीर जवान केतनसिंह कराते चेम्पियन भी हैं।

@#@

जिंदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर,
जान देने की ऋतु रोज आती नहीं।
मरते मरते रहा बागपत साथियो,
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो।

# सैन्य को सलाम
# सैनिक को सलाम
#सैनिक परिवारों को सलाम।

Monday, November 13, 2017

परखे या समजें....

किसीको परखने की नहीं,
समजने की कोशिश करें।

मेरे एक दोस्त हैं।
उनका नाम रामजी भाई।
रामजी भाई किसान हैं।वो अपने खेतमें कुछ नया करते रहते हैं।एक दिन की बात हैं।हम साथमें थे।मेने उन्हें कहा,'में आपको परख नहीं पाता,आप किसान हैं कि शिक्षक।हाला की वो किसान हैं मगर उनके फार्म में शिखने वाले आते रहते हैं।
मेरा सवाल सुनते उन्होंने कहा,'में किसान हूँ, मेरा काम हैं कि में ऋतु आधारित व्यवस्था को समजू ओर उसके साथ कुछ नया करू।उन्हों ने कहा 'में समज ने की नहीं परखने की कोशिश करता हूँ!'
मेने उनके जीवन और जीवन व्यावस्थाको करीब से देखा हैं।वो किसान हैं,नवाचार करते हैं।उनके बच्चे और परिवार उन्हें सहाय नहीं करते हैं।इस बात के लिए उन्हें जब पूछा तो उन्होंने बताया कि 'वो मुजे परख रहे हैं,में उन्हें समज रहा हूँ।उनका परखने का या मेरा समज ने का जब खत्म होगा तब में कुछ नहीं कर पाऊंगा।मेने जो किया या कर रहा हूँ,वो इस लिए की में उन्हें जता सकू में कुछ कर सकता हूँ,ओर अपने आप से कुछ करता रहूंगा।
पारिवारिक सहाय अगर न होतो कुछ नहीं हो सकता।परिवार को परखने के बजाय उन्हे समज ने का प्रयत्न हमे करना चाहिए।
रामजी भाई ने मुजे एक प्रसंग कहा...।
उनका कहना था कि,जब हम सफल होंगे तो लोग कहेंगे 'नसीब वाला या वाली हैं'।उस सफलत के पीछे हमने क्या छोड़ा या क्या तकलीफ जेली हैं।उस बात का कोई जिक्र नहीं करता।तब हम हमारे नसीब को देखते हैं।हम हमारे नसीब को सांजे ने की बजाय परखने का काम करते हैं।हम सिर्फ काम करना हैं।परखने में समय बर्बाद न करें।जब हम सफल होंगे तब लोग हमें समझने का ढोंग करेंगे।
आज हम नाटक  के मुख्य किरदारमें भले न हो।एक दिन हमें केन्द्रमें रखके किरदार लिखे जाएंगे।तब तक हम समजेंगे, परखेंगे नहीं।
#देखेंगे...समजेंगे...नए तरीके...

Wednesday, October 4, 2017

स्वास्थ्य की गेम

हमे सबसे अधिक आवश्यकता स्वास्थ्य की हैं।इसके बगैर हम अच्छी जिंदगी नहीं जी सकते हैं।मेरे किसी दोस्त ने मुजे ये फोटोग्राफ भेजा हैं।स्वास्थ्य के संदर्भमें ए खेल दर्शाया गया हैं।कोन कोंन सी बातें हमे तंदुरस्ती की ओर ले जाएगी।कोंन सी बातें हमे बीमार करेगी।ये ओर ऐसी कई सारी जानकारी इस गेम से हमे जाननेको मिल सकती हैं।PBL के आधार पे जब हम सामाजिक विज्ञान की पुस्तक बना रहे थे तब ऐसा खेल हमने किताब में दिया था।आप के पास भी ऐसे कोई खेल या सामग्री हैं तो मुझतक पहुंचाए।
#Bनोवेशन

Tuesday, October 3, 2017

बोलिए क्या बोलोगे...

आज आए चित्र सब कहेगा।मुजे देदो।भगवान पे नाम पे देदो।विश्वमें जितने धर्म हैं,उन सबके नाम से मांगने वाले हमे मिलेंगे।आज हम धर्म की नहीं कर्म की बात करेंगे।एक व्यक्ति जिसके दो हाथ नहीं हैं।वो मजदूरी करता हैं।एक जगह से दूसरी जगह इट ले जाता हैं।उसके सामने एक व्यक्ति भीख मांगता हैं।ऐसे चित्र जो शब्दो की कमी महसूस नहीं होने देते।ऐसे ही चित्र सटीक तरीके से अपना संदेश पहुंचाते हैं।
#चित्र संदेश


Friday, September 22, 2017

ICT में जोडाक्षर

पहले शब्द था विद्या।
बादमें शब्द मिला शिक्षा।
इस शब्द को मिलने के कुछ दसको के बाद नया शब्द मिला टेक्नोलॉजी।उसके बाद एक नया शब्द सुना ET याने एज्युकेशन ऐंड टेक्नोलॉजी।उसके बाद आया ICT याने इन्फॉर्मेशन एज्युकेशन टेक्नोलॉजी।
आज में आप को ICT के बारे में कहूंगा।12.09.2017 की बात हैं।भारत सरकार के MHRD से सेक्रेटरी श्री अनिल स्वरूप सर गुजरात के महेमान थे।गुजरात के ICT से जुड़े इनोवेटिव टीचर्स को यहाँ निमंत्रित किया गया था।
मुजे यहाँ प्रेजेंटेशन करने का समय मिला।मेने आज तक के मेरे नवाचार ओर उसके प्रचार प्रसार में ICT के सहयोग के बारे में बात की।में आप को में बताऊ की ICT  के काम के लिए बुलाए गए सभी में सबसे कम समज मेरी थी।
मेने यहाँ खूब सीखा।
#Thanks GCERT

Tuesday, September 19, 2017

मेरी खुशी...

एक खूबसूरत गाना हैं।
बच्चे तो भगवान की सूरत होते हैं।वैसा आप फोटोग्राफ में देख सकते हैं।एक छोटा बच्चा।कहते हैं कि बच्चा अनुकरण से भी शिखता हैं।ये बच्चा सुरेंद्रनगर के दसाडा के पास रहता हैं।उसकी सायकल में एक टायर नहीं था।टायर वाली साइकल भी रेतमें हम नहीं चला सकते।अपनी खुशी के लिए आए बच्चा आज निकला हैं।हो सकता हैं शायद गुनगुनाता हो...
छोड़ो कलकी बाते....नई बात पुरानी,
नए दौर में लिखेंगे....मिलकर नई कहानी।

Friday, September 15, 2017

इंडोजापान...

इंडिया....
जापान....
इंडोजापान।पिछले कुछ दिनोंसे जापान के बारेमें भारत के बारे में हम बात कर रहे हैं।बुलेट ट्रेन भारतमें भी शुरू होगी।हमभी चीन और जापान के साथ बुलेट ट्रेन वाले एशियाई देश बनेंगे।हम जापान जैसा करना चाहते हैं।मेरी शुभकामना हैं,में भी सरकार के प्रयत्नोमें सहयोग करूँगा।
जापान के बारेमें कुछ जानकारी हैं।ये रोचक जानकारी हैं।
जापान एक मात्र देश हैं जिसके ऊपर परमाणु बम दागा गया हो।हप्तेमें दो बार ही कूड़ा लेनेको व्यक्ति आता हैं।एक दिनमें 3 से 4 भूकंप के जटके आते हैं।जापान में रोड के ऊपर बिल्डिंग बनाई जाती हैं।नीचे से गाड़ी निकलती हैं।यहां 94%मोबाइल फोन वोटर प्रूफ हैं।जापान में पहले देश बादमें धर्म हैं।विश्वमें सर्वाधिक टेक्नोलॉजी जापान की हैं।जापान अपने आपमें एक महासत्ता हैं।
तकनीकी बातोंमें जापान को कोई नहीं पहुंच सकता हैं।आज बुलेट ट्रेन की चर्चा हैं।ये बुलेट ट्रेन ओर इसके लिए पैसा जापान देगा।राजनीतिक तौर पे ये चीनको चांटा हैं।आशा हैं इंडोजापान नया हिंदुस्तान बनाएगा।
#जापान सरकार