Showing posts with label wah wah.... Show all posts
Showing posts with label wah wah.... Show all posts

Sunday, April 22, 2018

આજ અને કાલ


આજે આજ છે.કાલે કાલ હશે.આજે ભલે દુઃખ હોય,કાલે સુખ હશે જ હશે.આજે ભલે સુખ છે.કાલે દુઃખ આવશે જ.આપણે કાયમ આવતી કાલની ફિકર કરીએ છીએ.આજે જે આજ છે,એ એ જ કાલ છે જેની આપણે ગઈ કાલે ચિંતા કરતા હતા.
જ્યારે વ્યક્તિ દુઃખમાં હોય ત્યારે તે આવતી કાલના સુખ માટે મથામણ કરે છે.આવતી કાલ માટે ચિંતા કરે છે.એ ચિંતા એ હોય કે આજની ચિંતા આવતી કાલે દૂર થશે કે નહીં.
આજે જે દુઃખી છે એ આવતી કાલના સુખ માટે ચિંતા કરે છે.આજનું આ પોસ્ટર આપણાં માટે છે.સૌને સરખું લાગુપડે છે.આપણે જ્યારે આજે જીવતા હોઈએ છીએ ત્યારે કાલની ચિંતા કરીએ છીએ.આ ચિંતા દૂર  કરવી જરૂરી થઈ પડે છે. કેટલીક  વ્યક્તિ આજના દુઃખ ને દૂર કરવા કે આજના સુખ ને ટકાવી રાખવા સતત પ્રયત્ન કરે છે.
આજે જે આજ છે.
કાલે તે ગઈ કાલ હતી.
આજે જે આજ છે.
આવતી કાલે આજ હશે.આજે જે આજ છે એટલે જ આજે એ આવતી કાલ કહેવાય છે.કોણ રોજ આવે છે તો આજ રોજ આવે છે.આ એ જ આજ છે જેને આપણે ગઈ કાલે યાદ કરતા હતા.


@#@
આજ ને આજની જેમ જુઓ.
અકબર બીરબલ ની વાર્તામાં આવે છે એમ એમ 'यह वख्त गुजर जाएगा' સારો કે ખરાબ સમય આજે છે.કાલે બદલાશે એજ જીવન.

Wednesday, April 18, 2018

छोकु:दीकू


शरुआत ओर अंत।
समान होता हैं,समान नहीं हैं तो समस्या हैं।कुदरती या कृत्रिम किसी भी व्यवस्था में सेम सिस्टम काम करता हैं।कॉम्युटर जहाँ से शुरू होता हैं,वहीं पे खत्म होता हैं।वैसेही जीवन जब शुरू होता हैं,वहीं से वो खत्म भी होता हैं।
जब बच्चा पैदा होता हैं।तबसे कुछ साल उसे प्रत्येक कार्यमें किसी की सहायता चाहिए होती हैं।वैसे ही जब व्यक्ति वृद्ध होता हैं,आखिरी दिनों में उसे भी हर काम के लिए सहायक की आवश्यकता होती हैं।छोटा बच्चा अपने आप खाना नहीं खा सकता।वैसे ही वयस्क की भी यही समस्या हैं।
शुरू से अंत तक कि जो दौड़ हैं, उसमें हमने जो सजाया हैं,संवारा हैं या प्राप्त किया हैं उसी के आधार पर हमारे आखरी दिन खत्म होते हैं।
क्या हमने हमारे जीवन के बीच में मुसफरी करते समय ऐसे काम किये हैं जिससे अपना अंत शांति से हो।जीवन में व्यक्ति को हंसना सीखना पड़ता हैं,रोता तो तब भी हैं जब वो पैदा होता हैं।अगर हम पैदा हुए तब रोये थे,बाकी के सभी खुश थे।जब हम मरेंगे तो हम खुश होगे और बाकी के रोयेंगे।

अब बताइए...

हमने ये सोचा कि हम हंसते हंसते जीवन जिएंगे ओर इसे हंसते हंसते खत्म करेंगे।मगर रूल्स ऐसा हैं कि आप रोते हुए आये थे,सो आपका रोते हुए जाना तय हैं।मगर वो रोना अंतिम दिनों में न होते हुए,बीच में खत्म हो जाये वो हमारे हाथमें हैं।अब हमें ये देखना हैं कि हम कब रोयेंगे।हमे क्यो रोना आता हैं।क्या इस रोने को हम रोक नहीं सकते।रोने को रोकने के लिए हमे क्या करना पड़ेगा।इस सवालों के जवाब ही हमे शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए रास्ता दिखायेगा।

मेने जो तय किया,में उसे खत्म करता हूँ।उस के लिए मुजे जो करना हैं में करूँगा।हसूंगा, रोऊंगा किसी को हसाउंगा या रुलाऊंगा।मगर जो तय हैं,उसे पूर्ण करूँगा।आज परशुराम जयंती हैं।अक्षय तृतीया हैं।दो अच्छे दिनोंका आज संगम हैं।वैसा ही संगम हमारे जिंदगी में आये और हम शांति से जीवन पसर करे वैसी प्रार्थना करते हुए आज तय करना चाहता हूं कि में ख़ुशी से अपना जीवन जी रहा हूँ और उसे पूर्ण करूँगा।में हंसते हुए मरूँगा,मेरे पीछे जो रोयेंगे वैसा ही अंत उनका होगा।जो मेरे पीछे हसेंगे उनके पीछे उनके बाद उनके निधन के बाद  लोग हसेंगे। यहाँ हसने का मतलब हैं याद करना।अच्छे केंलिएबयाद करना। जो मेरे पीछे रोयेंगे,उनके पीछे भी कोई रोयेगा।जहां से स्टार्ट हुआ,वहीं खत्म होगा।


@#@
दो शब्द हैं।
किसी कहानी में थे।
एक छोकु ओर दूसरा दिकू।
छोकु का मतलब अगर शुरुआत है तो दिकुका अर्थ अंत हैं।हम छोकु से शुरू करके अपने जीवन में आगे बढ़ते हुए जिम्मेदारी ओर हुकुम को मानते हुए दिकू तक पहुंचना हैं।सो...आज के पावन अवसर पर आपको छोकु दिकू की शुभकामना।

Sunday, April 8, 2018

ગુણોત્સવ: ગુરુ ઉત્સવ

રાજ્ય પરીક્ષા બોર્ડ,ગાંધીનગર.અહીં શ્રી પ્રફુલ જલુ ચેરમેન છે.છેલ્લા થોડાક વર્ષોથી એક વિઝન સાથે રાજ્ય પરીક્ષા બોર્ડનું નવતર કાર્ય ચાલે છે.ગુણોત્સવ અંતર્ગત ચેરમેનશ્રી ને જૂનાગઢ જિલ્લાનાં કેશોદ તાલુકાનાં સોંદરડા ગામમાં જવાનું થયું.અહીં તેઓએ વિદ્યાર્થીઓનાં અભ્યાસનું બાહ્ય મુલ્યાંકન કરવાનું હતું.આ સમયે નાનકડી સોંદરડા પ્રાથમીક શાળાની મોટી કહી શકાય તેવી સિધ્ધીઓ સાથે વિદ્યાર્થીઓ બેઠા હતા. સોંદરડા પ્રાથમિક શાળાએ વર્ષ ૨૦૧૬માં એન.એમ.એમ.એસ.ની પરીક્ષામાં છ વિદ્યાર્થીને પરીક્ષા અપાવી જેમાંથી ચાર વિદ્યાર્થી ઉતિર્ણ થયા. વર્ષ ૨૦૧૭માં છ વિદ્યાર્થીએ પરીક્ષા આપી અને બધા વિદ્યાર્થી ઉતિર્ણ તો થયા પણ તેમાં બે વિદ્યાર્થી મેરીટમાં રેંક હાંસલ કરી શાળા અને ગામનું ગૈારવ વધાર્યું.

શાળાના આચાર્યશ્રી માલદેભાઇ કામરીયા અને સહાયક શિક્ષકશ્રી વિરમભાઇ તથા શ્રી દુધાત્રાએ શાળાની શેક્ષણિક પ્રવૃતિમાં વિદ્યાર્થી કેમ અવ્વલ બને તેની કાળજી દાખવી છે.એમના ખાસ આયોજન અહીં જોઈ શકાય છે.આ માટે તેમણે ખાસ પ્રયત્ન કર્યો છે. સાથે સહ શૈક્ષણિક પ્રવૃતિઓમાં વિદ્યાર્થીઓ કેમ રસ દાખવે તે દિશામાં પણ વિવિધ પરિણામલક્ષી કાર્યક્રમો અહીં હાથ ધરવામાં આવેલ છે. શાળામાં આધુનિક વ્યવસ્થાઓ સાથેની કોમ્પ્યુટર લેબમાં વિદ્યાર્થીઓને કોમ્પ્યુટરના અનુભવો પુરા પડાય છે. સર્વદિશામાં બાળકોની કાબેલીયત હાંસલ કરે તેવી વ્યવસ્થા દ્વારા અહીંનું શિક્ષણ કાર્ય ચાલી રહ્યુ હતું. લોકમાનસમાં ખાનગી શાળા તરફ એકતરફી લગાવ વધી રહયો છે. ખાનગી શાળામાં જ શ્રેષ્ઠ શિક્ષણ મળે તેવી ભ્રામક માન્યતાઓ વાલીઓ ધરાવે છે. આવા ખોટા ભ્રામક પ્રચાર સામે સોંદરડા જેવી શાળાઓ ખાનગી શાળા કરતાં પણ શ્રેષ્ઠ શિક્ષણ અને આયોજન શિક્ષકો દ્વારા થાય છે.શિક્ષકો દ્વારા અહીં જાને બધું જ આપવાનો પ્રયાસ થાય છર.જે દેખાઈ આવે છે.

આ શાળાની મુલાકાત પણ શ્રી પ્રફુલ જલુએ લીધી હતી.તેઓએ ગામડામાં જ શિક્ષણ મેળવ્યું હતું.પોતાની વાતમાં એમણે જણાવ્યું કે  કેશોદ તાબાનાં મઘરવાડા ગામની સરકારી શાળામાં જ અભ્યાસ કર્યો. કારકિર્દીનાં વિવિધ શિખર સિદ્ધ કરવામાં ડગલુ પણ પીછે હઠ કરી નથી.તેમના પ્રાથમિક શાળાના ગુરૂ શ્રી કાનજીભાઇ મક્કા મેસવાણ ગામે તંદુરસ્ત જીવન પસાર કરી રહ્યા છે. શ્રી પ્રફુલ જલુ તેમના ગુરૂજીને મળી અહોભાવ વ્યક્ત કરવા અને ગુરૂચરણ સ્પર્શવા મેસવાણ પહોંચ્યા. ગુરૂશિષ્યનાં અનેરા હેતની વર્ષા થઇ હતી. અને આજથી પાંત્રીસ વર્ષ અગાઉ જે વિદ્યાર્થીના જીવનમાં  શિક્ષણનાં ઓજસ આંજ્યા તે આજે ગુરુજીને મળવા આવ્યા હતા.આજનું નામ ભલે પ્રફુલ જલુ.પણ...કુટુંબમાં પોલાભાઇ.આ પોલાભાઈની યાદોને વાગોળતા ગુરુજી બોલ્યા. મારો વિદ્યાર્થી ક્યારેય કાચો ના હોય,શ્રી કાનજીભાઇએ તેમની શિક્ષક તરીકેની કારકિર્દીને વાગોળતા તેમના શિષ્યને શીખ આપતા જણાવ્યુ કે તૈયારી વિના વર્ગખંડમાં જવુ એ શિક્ષકની ઉણપ છે. દરેક બાળક દેશનો સૈાથી સર્વોચ્ચ નાગરીક બને તે દિશામાં તેમની શૈક્ષણિક ચિંતા કરવી એ જ ગુરૂધર્મ છે. મને ગૈારવ છે કે મારા છાત્રો આજે સુખી અને સાધન સંપન્ન છે. આ તકે ગુરૂ શીષ્યનું મીલન ખરા અર્થમાં સાંદીપની અને સુદામાની એક યાદ હતી.


@#@
ભણ્યા એટલા ભાગ્યશાળી.
કારણ એમને ત્રણ ભગવાનનો સાથ.એક ભગવાન...બીજા માતાપિતા અને ત્રીજા ગુરુ.

Saturday, February 24, 2018

आज हैं इसे देखो...


कुछ दिनों पहले की बात हैं।में अमदावाद में था।सुबह सुबह कुछ काम से में गाड़ी लेके निकला। आज के दौर में जानकारी प्राप्त करने के माध्यम में FM रेडियो भी बहोत बड़ा रोल अदा करता हैं।गाड़ी में रेडियो जॉकी ध्वनित का शॉ चल रहा था।ध्वनित के इस कार्यक्रम का नाम हैं, 'मॉर्निंग मंत्र'च₹। ध्वनित बात कर रहे थे।आज वो शीतल महाजन की बात कर रहे थे।शीतल महाजन ने एक कीर्तिमान हांसिल किया हैं।उन्होंने साडी पहनकर स्काई डायविंग की।उनके लिए सिर्फ ये बात नहीं हैं।उनके किए ऐसी बहोत सारी जानकारी थी जो ध्वनित ने बताई।


शीतल महाजन।बहुत कम लोगो स्काई डायविंग के बारे में मालूम होगा। हम उसे tv पे देखते हैं।बहोत ही हिम्मत का काम हैं स्काई डायविंग करना।

महाराष्ट्र के पुने में रहनेवाली शीतल महाजन  भारत की पहली महिला है जो स्काई डायविंग करती है। वो 21 साल की थी तब पहली बार जम्प लगया था। उन्होंने पहला जम्प बिना ट्रेंनिग के लगाया था।उनका पहला जम्प नार्थ  पोल से  लगाया गया था।करीब 2400 फिट से उन्होंने पहला जम्प लगाया था।शीतल महाजन ने दूसरा जम्प अंटार्कटिका साउथ पोल से 11600 फिट से लगाया था।

शीतल एक अकेली भारतीय महिला हैं जो दूसरे देशो में भी इसके लिए विविध ओर गौरवपूर्ण रीकॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। दुनिया के सात भूखंड में जम्प कर के उन्होंने नया कीर्तिमान आने नाम किया हैं।

विविध हेलीकॉप्टर ओर प्लेन से वो आजतक जम्प कर चुकी है। अभी तक उन्होंने 700 से अधिक जम्प लागए है। शीतल महाजन के नाम से आज 18 नेशनल अवॉर्ड ओर 6 वर्ल्ड रेकॉर्ड है। भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सन्मानित किया है।

आज वो भारत में स्काई डायविंग की कोच है ।वो कहती है के मेरा धेय्य कुछ अलग करना था। दुनिया को दिखाना था कि भारतीय महिला किसी भी फील्ड में कुछ न कुछ कर सकती है ।

अपनी सोच को बदलिए।सब कुछ मुमकिन हैं।एक महिला अगर ऐसा काम करती हैं तो हमे उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए।सोच बदलो,विचारों से गिरे हुए आप ओर में ऐसी सोच रखते हैं जो सही नहीं हैं।एक अच्छा विचार हमे सफ़लताकी ओर ले जाता हैं।ऐसा ही एक नकारात्मक विचार हमे सफ़लतासे दूर करती हैं।

कृष्ण भगवान ने कहा हैं की,
जो हो गया हैं,वो फिरसे न होगा।
जो हो रहा हैं,वो ही अंतिम सत्य हैं।जो होगा, वो हमने तय किया होगा वैसा ही होगा।
अगर आप अकेले हैं तो वो अब ऐसा नहीं होगा क्यो की वो भूतकाल हैं।आज आप जो हैं,जिन के साथ हैं,जो भी कर रहे हैं वो ही सत्य हैं,क्योकी ये वर्तमान हैं।आप का कल जैसे आपने तय किया हैं वैसा ही होगा।
शीतल महाजन को ही देखलो।भूतकाल में किसी महिला ने स्काय डाइविंग नहीं की थी।अब ऐसा नहीं होगा, वो भूतकाल हैं।शीतल डाइविंग करती हैं,वो वर्तमान हैं और वो ही अंतिम सत्य हैं।कल वो ही होगा जो शीतल चाहेगी।उनकी चाह थी कि वो जरा हटके काम करें।वैसा ही होगा।वो कर रही हैं।
अपने आप में श्रद्धा रखने से ही हम किसी ऑर की श्रद्धा प्राप्त होगी।जो नहीं होने वाला हैं,या जो पहले हो चुका हैं इस बातो मे अपना वर्तमान बर्बाद न करें।
शीतल महाजन के माध्यम से आज जो संदेश में देना चाहता हूं वो स्पस्ट हैं।और वो मेरी टेग लाइन भी हैं।जो है इसे देखो,जो होगा उसे देखलेंगे।

#Thanks RJDhvanit
#waw shital mahajan

We can मुमकिन हैं...!

Thursday, February 22, 2018

मेरे बादभी...



मेरे बादभी इस दुनिया में,जिंदा मेरा नाम रहेगा,
जो  भी तुझको देखेगा, तुजे मेरा लाल कहेगा।
तेरे रूपमें मिलजायेगा,मुझ को जीवन दोबारा।
मेरा नाम करेगा रोशन,
जगमें मेरा राज दुलारा।

एक अद्भुत गाना।
ऐसा ही अद्भुत ये पोस्टर।
क्रिएटर सदैव कुछ नया क्रिएट करते रहते हैं।मेरे एक दोस्त हैं।दोस्त भी ऐसे की समजो के जीवन के अभीन्न व्यक्ति।उन्होंने मुजे ये फोटो भेजा हैं।वो एक क्रिएटर हैं,साथ में वो एक सर्जक को बढ़ावा देने वाली व्यक्ति हैं।आजतक उन्होंने मुजे सम्पूर्ण सहयोग दिया हैं।देते रहे है,ओर आजीवन देते रहेंगे।

आज उन्होंने मुजे एक smg के साथ ये फोटो भेजा।जिसमें लिखा था 'आप को जब भी गुस्सा आये आप इस फोटो को देखना।मुजे यकीन हैं 'आप भी जब गुस्सा होंगे ये फोटो देखेंगे तो शांत हो जाओगे।
सर्जक कुछ भी सर्जन कर सकता हैं।सर्जन याने बनाना।कुछ चीज या सामग्री बनाना ही सर्जन नहीं हैं।किसी व्यक्ति का निर्माण या उसमें सहयोग भी एक अनूठा सर्जन हैं।

# लव यू लाइफ...

Saturday, February 17, 2018

सैनिक परिवार को सलाम


हमारा देश।
विश्वमें सर्वाधिक युवक मतदार वाला देश।विश्व के सबसे युवान जनसंख्या वाला देश।हमारा देश प्रगति कर रहा हैं।आगे ही आगे बढ़ाएंगे कदम वाली बात हम ने स्वीकार की हैं।हमारे देश में आज इजनेर मिलेंगे,तबीब या वकील मिलेंगे एमजीआर देश के लिए सदैव खड़े रहने वाले सैनिक आज भी हमारे आसपास बहोत कम हैं।

चीन एक ऐसा देश हैं,जहाँ मिलेट्री ट्रेनिग करनी आवश्यक हैं।अगर आप के दो संतान हैं तो एक को देश के सैन्य में भेजना आवश्यक हैं।पंजाब,हरियाणा,उत्तर प्रदेश और ऐसे अन्य प्रान्त से सैनिक ज्यादा होते हैं।गुजरात से बहोत कम लोग देश के सैन्य में दाखिल होते हैं।

एक परिवार में दो भाई।सबसे बड़े भाई का नाम केतनसिंह चावड़ा।वो गुजरात के महेसाणा के करीब वसई के निवासी हैं।अपने घर के सबसे बड़े पुत्र।कुल मिलाके 3 भाई बहन हैं।सबसे बड़े केतनसिंह जो भारतीय फौज में काम करते हैं।बचपन से उन्हें देश भक्ति का माहौल मिला।उनका परिवार राऑल चावड़ा कुल हैं।उनके पिताजी गोजारिया स्थित छीटे से नगर में हाइवे के ऊपर गेरेज का संचालन कर रहे हैं।

उनका नाम महेंद्रसिंह।उन्होंने बचपन से उन्होंने अपने संतानों को देश की सेवा में लगाने का संकल्प किया।इस परिवार के सबसे बड़े पुत्र को देश सेवा में भेजा।उनके दूसरे बेटे जिनका नाम अनिरुद्धसिंह हैं।वो भी बचपन से  भाई के नक्शे कदम पर चल रहे हैं।वो देश सेवा में ही जुड़ना चाहते हैं।

यहाँ एक बात जानके आप को खुशी होगी की श्री केतनसिंह चावड़ा की मौसी के दो लड़के श्री सामंतसिंह ओर श्री अर्जुनसिंह देश के सैन्य में सेवा देते हुए निवृत्त हो चुके हैं।देश सेवा के लिए दो बहनें निरुबा चावड़ा के पुत्र केतनसिंह ओर ग़लबा बा के दोनों पुत्र जो सैन्यमें हैं।सोचिए ,उनकी माताओ को सलाम जिन्होंने अपने सभी संतान को देश सेवामें जोड़ा हैं।ऐसे परिवार के मुखिया को सलाम।में तो कहूंगा की स्व. मदारसिंह वाघेला को सलाम हैं।जिन्होंने ऐसी दो बेटियोंको जन्म दिया।अरे...अर्जुनसिंह जी ने तो पाकिस्तान के सामने लड़े गए कारगिल युद्ध के दौरान दुश्मनों के दांत खट्टे करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

ज्यादातर लोग सैनिकों को एकदम शिस्त या कड़क स्वभाव के मान लेते हैं।हमारे देश के सैनिकों ने बहुत सारे खेलो में मेडल दिलवाने वाले सैनिक ही हैं।कुछ संगीत तो कुछ अन्य कौशलयो में निपुण होते हैं।वैसे ही श्री केतनसिंह चावड़ा अच्छी फ्लूट बजाते हैं।

जब हमारी सेना सर्जिकल स्ट्राइक या ऐसा कुछ विशेष सैन्य साहस दिखाती हैं तब उन्हें पैराग्लाइडिंग की सहाय की आवश्यकता होती हैं।श्री केतनसिंह आज पैराग्लाइडिंग के ग्रुप में आज अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं।देश के लिए जीने वाले ऐसे ही हमारे साथी और वीर जवान केतनसिंह कराते चेम्पियन भी हैं।

@#@

जिंदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर,
जान देने की ऋतु रोज आती नहीं।
मरते मरते रहा बागपत साथियो,
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो।

# सैन्य को सलाम
# सैनिक को सलाम
#सैनिक परिवारों को सलाम।

Monday, November 13, 2017

परखे या समजें....

किसीको परखने की नहीं,
समजने की कोशिश करें।

मेरे एक दोस्त हैं।
उनका नाम रामजी भाई।
रामजी भाई किसान हैं।वो अपने खेतमें कुछ नया करते रहते हैं।एक दिन की बात हैं।हम साथमें थे।मेने उन्हें कहा,'में आपको परख नहीं पाता,आप किसान हैं कि शिक्षक।हाला की वो किसान हैं मगर उनके फार्म में शिखने वाले आते रहते हैं।
मेरा सवाल सुनते उन्होंने कहा,'में किसान हूँ, मेरा काम हैं कि में ऋतु आधारित व्यवस्था को समजू ओर उसके साथ कुछ नया करू।उन्हों ने कहा 'में समज ने की नहीं परखने की कोशिश करता हूँ!'
मेने उनके जीवन और जीवन व्यावस्थाको करीब से देखा हैं।वो किसान हैं,नवाचार करते हैं।उनके बच्चे और परिवार उन्हें सहाय नहीं करते हैं।इस बात के लिए उन्हें जब पूछा तो उन्होंने बताया कि 'वो मुजे परख रहे हैं,में उन्हें समज रहा हूँ।उनका परखने का या मेरा समज ने का जब खत्म होगा तब में कुछ नहीं कर पाऊंगा।मेने जो किया या कर रहा हूँ,वो इस लिए की में उन्हें जता सकू में कुछ कर सकता हूँ,ओर अपने आप से कुछ करता रहूंगा।
पारिवारिक सहाय अगर न होतो कुछ नहीं हो सकता।परिवार को परखने के बजाय उन्हे समज ने का प्रयत्न हमे करना चाहिए।
रामजी भाई ने मुजे एक प्रसंग कहा...।
उनका कहना था कि,जब हम सफल होंगे तो लोग कहेंगे 'नसीब वाला या वाली हैं'।उस सफलत के पीछे हमने क्या छोड़ा या क्या तकलीफ जेली हैं।उस बात का कोई जिक्र नहीं करता।तब हम हमारे नसीब को देखते हैं।हम हमारे नसीब को सांजे ने की बजाय परखने का काम करते हैं।हम सिर्फ काम करना हैं।परखने में समय बर्बाद न करें।जब हम सफल होंगे तब लोग हमें समझने का ढोंग करेंगे।
आज हम नाटक  के मुख्य किरदारमें भले न हो।एक दिन हमें केन्द्रमें रखके किरदार लिखे जाएंगे।तब तक हम समजेंगे, परखेंगे नहीं।
#देखेंगे...समजेंगे...नए तरीके...

Wednesday, October 4, 2017

स्वास्थ्य की गेम

हमे सबसे अधिक आवश्यकता स्वास्थ्य की हैं।इसके बगैर हम अच्छी जिंदगी नहीं जी सकते हैं।मेरे किसी दोस्त ने मुजे ये फोटोग्राफ भेजा हैं।स्वास्थ्य के संदर्भमें ए खेल दर्शाया गया हैं।कोन कोंन सी बातें हमे तंदुरस्ती की ओर ले जाएगी।कोंन सी बातें हमे बीमार करेगी।ये ओर ऐसी कई सारी जानकारी इस गेम से हमे जाननेको मिल सकती हैं।PBL के आधार पे जब हम सामाजिक विज्ञान की पुस्तक बना रहे थे तब ऐसा खेल हमने किताब में दिया था।आप के पास भी ऐसे कोई खेल या सामग्री हैं तो मुझतक पहुंचाए।
#Bनोवेशन

Tuesday, October 3, 2017

बोलिए क्या बोलोगे...

आज आए चित्र सब कहेगा।मुजे देदो।भगवान पे नाम पे देदो।विश्वमें जितने धर्म हैं,उन सबके नाम से मांगने वाले हमे मिलेंगे।आज हम धर्म की नहीं कर्म की बात करेंगे।एक व्यक्ति जिसके दो हाथ नहीं हैं।वो मजदूरी करता हैं।एक जगह से दूसरी जगह इट ले जाता हैं।उसके सामने एक व्यक्ति भीख मांगता हैं।ऐसे चित्र जो शब्दो की कमी महसूस नहीं होने देते।ऐसे ही चित्र सटीक तरीके से अपना संदेश पहुंचाते हैं।
#चित्र संदेश


Friday, September 22, 2017

ICT में जोडाक्षर

पहले शब्द था विद्या।
बादमें शब्द मिला शिक्षा।
इस शब्द को मिलने के कुछ दसको के बाद नया शब्द मिला टेक्नोलॉजी।उसके बाद एक नया शब्द सुना ET याने एज्युकेशन ऐंड टेक्नोलॉजी।उसके बाद आया ICT याने इन्फॉर्मेशन एज्युकेशन टेक्नोलॉजी।
आज में आप को ICT के बारे में कहूंगा।12.09.2017 की बात हैं।भारत सरकार के MHRD से सेक्रेटरी श्री अनिल स्वरूप सर गुजरात के महेमान थे।गुजरात के ICT से जुड़े इनोवेटिव टीचर्स को यहाँ निमंत्रित किया गया था।
मुजे यहाँ प्रेजेंटेशन करने का समय मिला।मेने आज तक के मेरे नवाचार ओर उसके प्रचार प्रसार में ICT के सहयोग के बारे में बात की।में आप को में बताऊ की ICT  के काम के लिए बुलाए गए सभी में सबसे कम समज मेरी थी।
मेने यहाँ खूब सीखा।
#Thanks GCERT

Tuesday, September 19, 2017

मेरी खुशी...

एक खूबसूरत गाना हैं।
बच्चे तो भगवान की सूरत होते हैं।वैसा आप फोटोग्राफ में देख सकते हैं।एक छोटा बच्चा।कहते हैं कि बच्चा अनुकरण से भी शिखता हैं।ये बच्चा सुरेंद्रनगर के दसाडा के पास रहता हैं।उसकी सायकल में एक टायर नहीं था।टायर वाली साइकल भी रेतमें हम नहीं चला सकते।अपनी खुशी के लिए आए बच्चा आज निकला हैं।हो सकता हैं शायद गुनगुनाता हो...
छोड़ो कलकी बाते....नई बात पुरानी,
नए दौर में लिखेंगे....मिलकर नई कहानी।

Friday, September 15, 2017

इंडोजापान...

इंडिया....
जापान....
इंडोजापान।पिछले कुछ दिनोंसे जापान के बारेमें भारत के बारे में हम बात कर रहे हैं।बुलेट ट्रेन भारतमें भी शुरू होगी।हमभी चीन और जापान के साथ बुलेट ट्रेन वाले एशियाई देश बनेंगे।हम जापान जैसा करना चाहते हैं।मेरी शुभकामना हैं,में भी सरकार के प्रयत्नोमें सहयोग करूँगा।
जापान के बारेमें कुछ जानकारी हैं।ये रोचक जानकारी हैं।
जापान एक मात्र देश हैं जिसके ऊपर परमाणु बम दागा गया हो।हप्तेमें दो बार ही कूड़ा लेनेको व्यक्ति आता हैं।एक दिनमें 3 से 4 भूकंप के जटके आते हैं।जापान में रोड के ऊपर बिल्डिंग बनाई जाती हैं।नीचे से गाड़ी निकलती हैं।यहां 94%मोबाइल फोन वोटर प्रूफ हैं।जापान में पहले देश बादमें धर्म हैं।विश्वमें सर्वाधिक टेक्नोलॉजी जापान की हैं।जापान अपने आपमें एक महासत्ता हैं।
तकनीकी बातोंमें जापान को कोई नहीं पहुंच सकता हैं।आज बुलेट ट्रेन की चर्चा हैं।ये बुलेट ट्रेन ओर इसके लिए पैसा जापान देगा।राजनीतिक तौर पे ये चीनको चांटा हैं।आशा हैं इंडोजापान नया हिंदुस्तान बनाएगा।
#जापान सरकार

Sunday, September 3, 2017

जीवन की समज...

में तुमसे प्यार करता हूँ।
में तुम्हे पसंद करता हूँ।
ये दो शब्द आपने पढ़े होंगे।समजे होंगे और सुने होंगे।एक बार एक व्यक्तिने बुद्ध से कहा,भगवान में प्यार करता हूँ और चाहता हूं, इन दोनोंमें फर्क क्या हैं।ये सुनकर भगवान बुद्धने कहा 'अगर तुम किसी पौधें को पसंद करते हैं,उस समय आप उस पौधेंको हाथमें पकड़के देखते हैं।मगर जब आप पौधें को प्यार करते हैं तब आप उसे रोज पानी पिलाते हैं।
हाथमें पकड़के देखना उसे पसंद करना और उसे नियमिय रूपसे पानी देना हमारा प्यार हैं।सदैव अपने विचारोंको पानी देते रहना चाहिए,क्योकि हम उसे पसंद नही करते।हम हमारे विचारों को प्यार करते हैं।
#विचारो से प्यार...

Saturday, September 2, 2017

हग क्यो किया...


             कुुुछ दिन पहलेकी बातहैं।हमारे देश के उपराष्ट्रपतिपर के लिए चुने गए मुप्पावारपु वेंकैया नायडू अपने वाक चातुर्य और बुद्धिमानी के लिए जाने जाते हैं। उनके वाक चातुर्य का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रत्याशी घोषित होने से कुछ सप्ताह पहले मई में पार्टी के एक कार्यक्रम में उत्सुक पत्रकारों ने उनसे सवाल किया था। कुछ समाचारपत्रों और टीवी चैनलों द्वारा अप्रैल माह से ही नायडू को उपराष्ट्रपति पद के लिए संभावित दावेदार बताया जाने लगा था।

30 मई को पत्रकारों ने जब इस संदर्भ में उनसे सवाल किया था तो उन्होंने चिर-परिचित शैली में जवाब देते हुए कहा था, 'न मैं राष्ट्रपति बनना चाहता हूं, न उपराष्ट्रपति.. मैं सिर्फ 'उषा-पति' बनकर खुश हूं।' उषा नायडू की पत्नी का नाम है। किसान घर में जन्मे, युवा हुए तो संघ से जुड़े आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में एक किसान परिवार में पैदा होने वाले नायडू बचपन में खेलने के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े। एक मामूली कार्यकर्ता से सफर शुरू करने वाले 68 वर्षीय नायडू भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद तक पहुंचे।
उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सबसे करीबी माना जाता है। राजनीति के मैदान में भी नायडू जुझारू रहे हैं। 1975 से 77 के बीच आपातकाल में नायडू ने इंदिरा सरकार के खिलाफ आंदोलन में हिस्सा लिया था। गिरफ्तार होने तक भूमिगत रहे नायडू आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के स्कूलों में सरकार विरोधी पर्चे बांटा करते थे। किसी को संदेह नहीं हो इसलिए वह स्कूटर पर महिला कार्यकर्ता के साथ निकला करते थे। उनके खिलाफ संजय गांधी की सभा में व्यवधान करने का आरोप लगा था। एक जेल से दूसरी जेल में भेजने के क्रम में उन्हें हथकड़ी पहनाई जाती थी।
इंदिरा गांधी ने जब 1980 में आंध्र प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री एनटी रामाराव को बर्खास्त किया था तब जनता पार्टी में रहे एस. जयपाल रेड्डी के साथ प्रमुख विपक्षी प्रवक्ता के रूप में नायडू राष्ट्रीय पटल पर आए। दक्षिण भारत में भाजपा एक कमजोर पार्टी मानी जाती थी।साउथ इंडियामें भाजपा को पहचान देने वाले नायडू जी आज उपराष्ट्रपति हैं।दक्षिण भारत से वो पहले व्यक्ति थे जो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने हो।
अब बात करते है नायडू के हग की।
जब केजरीवाल दिल्ही के CM बने तब उनकी पत्नी ने उन्हें केमेरे के सामने किस किया था।केजरीवाल नायडू से 30 साल छोटे हैं।केजरीवाल हाई प्रोफाइल फेमेली से आते हैं।
व्यक्ति के पास अभिव्यक्त होने के लिए कोई शब्द नहीं रहते तब वो उसे बाहोंमे भर लेता है,हग करता हैं।विश्व के अन्य देश ओर हमारे देश के फ़िल्म ओर खेल से जुड़ी व्यक्ति किस ओर हग करती है,जाहिर जीवन में जुड़े लोग जाहिर स्थल पे ऐसा नहीं करते।
सन्मान देने के लिए हम चरणस्पर्श करते हैं।किसीका स्पर्श जीने की आशा बढाता हैं।चरणस्पर्श से सन्मान मिलता है।हग से प्राप्त होता हैं होंसला।जिन्होंने खेत से शुरू करके केंद्रीय नेता,मंत्री और अब उपराष्ट्रपति बनने की सफलता प्राप्त करने वाले को जीवन पर्यंत निभाने वाली व्यक्ति अगर हग करती हैं तो कुछ गलत नहीं है।
उषा पति आज उपराष्ट्रपति है।वो क्या इतजार करती के सभी मीडिया और व्यक्ति उनके घर से चले जाय तब जाकर एकांत में हग करू।हो सकता हैं मगर हर बार हुए हग को बुरी नजर से देखने की आवश्यकता नहीं हैं।
जिंदा रहने के लिए कभी कभी सिर्फ छूलेना भी कई दिन जिंदा रहने का जरिया होता हैं।और ऐसे जरियों के बाद ही हग करने का अधिकार मिलता हैं।छूलेने से अनंत तक के आनंद प्राप्त करने का एक ही सकल्प हैं सफलता के लिए बिना रुके काम।
#जय हो
#m. नायडू 
#love & Hug

Saturday, August 26, 2017

प्यार का संगीत

एक लड़का।
उसका नाम मेनुहिन।
यहूदी परिवार का लड़का।उसके पिताजी मशहूर वायोलिन वादक थे।वो पेलेस्टाइन में पैदा हुए थे।उन्होंने पेलिस्टेंइन लोकगीतों को वायोलिन पे बजाते थे।उनके इस कौशल्य के माद्यम से वो लोगोको इकठ्ठा करते थे।इन लोगो के समुहमें तब पेलेस्टाइन की आजादी की बाते होती थी।तब ब्रिटन सरकार ने उनके वायोलिन वादन पे प्रतिबंध लगाया था।उन्होंने पेलेस्टाइन से बहार जाकर अपने देश के लिए काम किया।
अब फिरसे लड़के की बात।इस लड़के को इस सालका जवाहरलाल नहेरु आंतरराष्ट्रीय शांति पुरस्कार दिया गया हैं।विश्वमें वायोलिन बजाकर शांति का संदेश देनेवाले मेनुहिन को प्राप्त शांति पुरस्कार मिला तब वो 14 सालके थे।
मेनुहिन का एक इंटरव्यू उनकी माँ के साथ आया था।
इंटरव्यू भी बहोत अच्छा था।जिस में लिखी एक बात आपको पसंद आएगी...

जब मेनुहिन दो या तीन सालका था।घरमें वो वायोलिन बजाना चाहता था।उसकी मम्मी ने उसे तीन चार बार खिलोने वाला वायोलिन लेके दिया।अब उनके खिलोने से अच्छी आवाज नहीं आ रही थी।मेनुहिन ने फिरसे रोना धोना शुरू किया।उसके पापा ने उसे सच्चा वायोलिन देनेको कहा।इंटरव्यू में मेनुहिन की माँ ने कहा हैं कि उसके उसके पापा नेकहा,वो वायोलिन नहीं तोड़ेगा।उसे मालूम हैं।आंखोमें आंसू के साथ उन्होंने बताया कि मेरे मेनुहिन को वायोलिन की किम्मत मालूम हैं।उसके बाप ने देश छोड़ के वायोलिन बजाने की किम्मत अदा की हैं।
अपनी बात खत्म करने से पहले आंखों के आंसू न दिखाने के प्रयत्न के साथ वो बताती हैं कि'जवाहर पुरस्कार विश्वका शांति पुरस्कार हैं,अब पेलेस्टाइन नहीं ओर विश्व हमारा देश हैं।'
में भी ऐसे पुरस्कार देने वाले ओर लेनेवाले दोनो को अभिनंदन देता हूँ।
प्रत्येक व्यक्ति...
अगर किसी कला में रुचि रखता है।विश्व उसका परिवार बनता हैं।कोई भी चीज या घटना हमे कुछ दिन या महीनों पीछे रख सकती हैं।कोई परिस्थिति हमे अपने कार्य के प्रति रोक नहीं सकती।अगर लगाव हैं ।आज मेने वो देखा।आप भी देखे,सुने,पढ़े या महसूस करें।मेरा या हमारा कार्य के प्रति लगाव बना रहे,बढा रहेगा, यही हमे यकीन दिलाएगा की हम जिंदा हैं।
#love आर्ट &आर्टिस्ट

Friday, August 25, 2017

Good morning

मेरे कई दोस्त हैं।
वो कहते हैं कि में रोज लिखू।
में कहता हूं रोज कोई सब्जेक्ट मील तो लिखू।ऐसे कई सारे दोस्त मुजे कुछ भेजते हैं।
कोई दोस्त दो पहरको या शाम को Good Mornig भेजते हैं।मुजे ऐसे दोस्तो की कामनाक़ा इंतजार रहता हैं।आज जो आप देखते हैं वो मुजे भेजा हैं।आज मिच्छामि दुक्कडम का दिन हैं।ये पोस्टर में भी कुछ खास लिखा हैं।

"है प्रभु इच्छा नहीं मेरी की पूरा पथ जान सकुं,
दे प्रकाश इतना कि अगला कदम पहचान सकू।

बस जिन को भी मेने दुभाया हैं,उन सबको मिच्छामि दुक्कड़म।
#love friend
#जिंदगी दोस्तार

Tuesday, August 22, 2017

अनंत की कामना...

में अच्छा हूँ।
में अच्छा नहीं हूँ।
अच्छा बन्नेबके लिए मुजे क्या करना पड़ेगा?अच्छा व्यक्ति बनने के तरीके गूगलमें सर्च करोगे तो जो परिणाम आपको मिलेगा।आप निराश हो जाओगे।क्योकि इक्का दिक्का टॉपिक को छोड़ के आप कुछ नहीं कर पाओगे।ऐसा आप को लगेगा।
आप अच्छे हो।आप को मालूम हैं।इस को प्रूव करने के जोईए समय बर्बाद न करें।एक युवान अपनी प्रेमिका को कहता हैं 'I Love You'।प्रेमिका कहती हैं,'तुम मुजे समय नही दे रहे हो,तुम मुझसे बात नहीं करते हो।मेरे कार्यमें आपको रुचि नहीं है।ये सारी बाते सुनकर युवान ने कहा 'में ये सब नहीं करता और नहीं करूंगा।मगर इससे मेरा प्यार तो कम नहीं होता।प्यार ऐसी चीज नही।जिसको प्रूव करने के लिए समय बर्बाद करना पड़े।
मुजे यकीन हैं,सो मुजे समय बर्बाद करने की आवश्यकता नहीं हैं।आप भी ऐसे समय बर्बाद करने के बजाय आप के प्यार पे भरोसा रखें।समय बर्बाद करने से कुछ हांसिल नहीं होगा।अच्छा होना और उसे साबित करना दोनों अलग बात हैं।कोई खूनी खून के इल्जाम में साबित न करने के कारण बरी हो जाता हैं।इस वख्त हम सच्चाई और जुठ के करीब खड़े होते हैं।
बस,समय के साथ चले।
अपने आप पर भरोसा रखें।
जो साथ है अनंत  तक रहे ऐसी कामना।

Monday, August 14, 2017

ધર્મ અને વિજ્ઞાન:શીતળા સાતમ


આજે શિતળા સાતમ.
એક તહેવાર.ધાર્મિક મહત્વ અને અનેક અંધ શ્રદ્ધા વચ્ચે વર્ષોથી આપણે ઉજવીએ છીએ.ભલે વાર્તા ગમેતે હોય. મારા ઘરેય રાંધવામાં આવતું નથી.હું વિજ્ઞાન અને ધર્મ બન્નેને અલગ જોઈ એક સાથે સાથે જોવું છું.અનુભવું છું.આજે શીતળા સાતમને દિવસે એક વાત યાદ આવી.
એ વખતે ડાબા હાથે સૌને શિતળાની રસી આપવામાં આવતી હતી.આ રસીના શોધક એડવર્ડ જેનરને પણ યાદ કરીએ.આજે શીતળા સાતમના દિવસે શીતળા માતાને વંદન કરતા સાથે  આ વૌજ્ઞાનિકનું નામ યાદ કરીએ.આજે કોટી વંદન એટલે કે જો એ રસી ન શોધાઈ હોત તો કેટલાય લોકો આજે અંધ તરીકે કે અન્ય કોઈ વિકલાંગતા સાથે જીવતા હોત.
શીતળા માતાનું વાહન ગધેડું છે.એ માટે કોઈ વાર્તા કે વિગત હોઈ શકે.ભલે ગધેડાનેય પગે લાગજો પણ વૈજ્ઞાનિક વિચાર ની વાત ફેલાવજો.ડાબા હાથે જ કેમ તો એનો પાછો કોઈ વૈજ્ઞાન આધારિત જવાબ નથી.પણ, જ્યારે આ શીતળાની રસી આપવામાં આવતી હતી તે સમયે તાવ આવતો.કેટલાક બાળકોને આ રસી લીધા પછી બે દિવસ સુધી હાથ દુખાવાનું થતું.આ કારણે ખાસ અગવડ ન પડે તે માટે ઓછા કામમાં આવતા હાથ તરીકે ડાબા હાથમાં રસી આપતા હશે.છતાં બીજો એવો કોઈ જવાબ મને ધ્યાનમાં નથી.જેને ડાબો હાથ જ નહીં હોય તેને જમણે હાથેય આપતા જ હશે.નહિતર નાબૂત ન થાય.આજે શીતળા નાબૂત થયેલ છે.એ માટે ધર્મ સાથે વિજ્ઞાન નોય આભાર માનીએ.
અને હા...આજે ઠંડુ ખાવા માટે મહત્વ દર્શાવતી પેલી ચૂલો ઠારવાનું દેરાણીથી રહી ગયું ...વાળી વાર્તાના લેખકને મારા વંદન સાથો સાથ મારા સહિત મારા 'માતૃછાયા'પરિવારના સૌને જીવનમાં ઠંડક રહે તેવી આશા.મારા સૌને માનસિક રાહત હોય. પારિવારિક સ્નેહ, ઠંડકની આશા સાથે જીવનની अनंत ખુશી મળે તે માટે शुभमस्तु...

Tuesday, July 25, 2017

आप का साथ...

नए अस्पताल का उद्घाटन था!उस निमंत्रण में जो लिखा था,उसके ऊपर में लिख रहा हूँ!एक कदम आगे!ओर सहयोग के बारेमें लिखा था!जो आप बाजू में देख सकते हैं!
नया कदम आपके सहयोग और दुआ के बिना संम्भव नहीं हैं!कई लोग जब हमारे साथ होते हैं,तब जाके हम उनसे ऐसा सुनते हैं!हमने भी कई लोगो को कहा होगा, में तुम्हारे साथ हूँ!ऐसा बोलना ओर उसके ऊपर अमल करना एक बात हैं!ऐसा बोलके उसे निभाना दूसरी बात हैं!
इस बात को बोलके निभाना  मुश्किल तब होता हैं जब बात सिर्फ बोली गई हो!मेने कई ऐसे लोगो को देखा हैं वो हर पल,हर स्थिति,हर हाल में हमे सहयोग करते हैं!मेरे जीवनमें ऐसे कई सारे लोग हैं,जिन्होंने मुजे किसीभी हालमें मुजे नहीं छोड़ा हैं।किसीने पैदा किया,किसीने समजाया,किसीने सिखाया ओर किसीने मुजे निभाया ओर संवारा!
जो आज मेरे साथ हैं!सदैव मेरे रहे हैं!हर हालमें, हर सवाल में!गलती कोन नहीं करता?जो गलती को माफ करदे वो ही जिंदगी हैं!कई लोगो के बगैर जैसे हम नहीं हैं,वैसे ही कई सारे लोग भी हमारे बगैर न हो ऐसा कर्म करें!अगर नहीं करपाये तो सहयोग न करें।हा, उसे परेशान न करे,उसके कार्यमें आपत्ति न बने!
आप हैं तो में हूँ!
आप के सहयोग से ज्यादा हूँ!
आप के सहयोग से जल्द रखूंगा!
#Dr Bn

Friday, July 7, 2017

रिकार्ड दान...रक्तदान...

   

में किसी को कुछ दे नहीं सकता!
मेरी घर की जिम्मेदारी मुझे आर्थिक सहाय करने से रोकती हैं!में किसी के काम का नहीं?!

कई लोगो को ईसके बारें में बोलते आपने सुना ही होगा!ऐसे लोगो के लिए एक आज की ये जानकारी उपकारक होगी!आप के पास एक ऐसी चीज हैं जो आप एक व्यक्ति को नहीं,चार व्यक्ति को सहाय कर सकते हैं!एक सालमें चार बार और 16 व्यक्ति को ऐसी मदद करना जिससे उसे नया जीवन मिले!
हा, में ब्लड डोनेशन के बारे में कहना चाहता हूँ!आप ब्लड डोनेट कर एक साथ चार व्यक्ति को सहाय कर सकते हैं!

आज एक और बात भी आप जानेंगे तो खुश हो जाओगे!उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से कमल किशोर जी ने 130 से अधिक बार ब्लड डोनेट करके अप्रतिम उदाहरणप्रस्तुत किया हैं!उनका विस्तृत परिचय  आप क्लिक करें.... में सिर्फ ये कहूंगा कि उनके इस दान,रक्तदान को एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड में भी स्थान मिला हैं!कमल किशोर जी को रेकॉर्ड बुकमें स्थापित होने की बधाई!