Showing posts with label information.... Show all posts
Showing posts with label information.... Show all posts

Sunday, August 6, 2017

BLUE Whale...

હું નાનો હતો.અમે મેદાનમાં સાંજે રમતા.એવું રમતા કે ભણવાનું છૂટી જતું.આજેય નાની ઉંમરના બાળકો રમે છે.જમાના પ્રમાણે રમતના સાધન બદલાયા છે.આજથી એકાદ દાયકા પહેલાં વીડિયો ગેમ બાળકોનું રમવાનું માધ્યમ હતું.આજે કેટલાક લોકો વ્યક્તિગત સ્વાર્થ માટે કેવું કરી શકે તેની વિગત જોઈએ.આજકાલ એક રમતની ચર્ચા થાય છે.રમતનું નામBLUE WHALE GAME છે.આવી  ‘મોતની ગેમ’ Blue Whale કોણે અને કેમ બનાવી છે? તે જાણીને આપને અચરજ થશે.
તાજેતરમાં મુંબઇના એક 14 વર્ષીય છોકરાએ આત્મહત્યા કરી છે. કહેવાય છે કે ‘બ્લૂ વ્હેલ ચેલેન્જ’ નામની ગેમનો શિકાર બન્યો હતો. આખરે આ બ્લૂ વ્હેલ ચેલેન્જ છે શું? આ જીવલેણ ગેમ કોણે બનાવી? જાણો..

આ ગેમ રશિયાના સાઇબેરિયા પ્રાંતના એક વ્યકિતએ શોધ કરી છે. ફિલિપ બુદેકિન નામના 22 વર્ષીય યુવકે બ્લૂ વ્હેલ ચેલેન્જની શરૂઆત કરી હતી. હાલમાં તે રશિયામાં યુવકોને મરવા માટે પ્રોત્સાહિત કરવાના ગુનામાં જેલમાં 3 વર્ષની સજા કાપી રહ્યો છે. મેમાં ફિલિપે એક ઇન્ટરવ્યુ આપ્યો હતો. જ્યારે તેને પૂછવામાં આવ્યું કે, તે કેમ યુવાનોને મરવા માટે પ્રેરી રહ્યો છે? આ સવાલના જવાબમાં તેણે કહ્યું કે, હા, હું સાચે આ જ કરી રહ્યો હતો. પણ તમને અને બધાને ટૂંક સમયમાં આ વાત સમજાઈ જશે.

લોકોને અત્મહત્યા કરવા માટે પ્રોત્સાહિત કરવા માટે ફિલિપ બુદેકિને એક શરમજનક લોજિક આપ્યુ હતુ. તેણે કહ્યુ કે,’ ‘અમુક માણસો હોય છે, અને અમુક માત્ર જૈવિક કચરો. જે લોકો સોસાયટીને કોઈ પણ પ્રકારે કામ નથી આવવાના. આ લોકો સોસાયટીને માત્ર નુકસાન પહોંચાડી રહ્યા છે અથવા પહોંચાડશે. હું સોસાયટીને આવા લોકોથી મુક્ત કરી રહ્યો હતો.”

તેણે આ સમાચાર માટે ઇન્કાર કર્યો જેમાં કહેવામાં આવ્યુ હતુ કે આ ગેમના કારણે 130થી વધારે લોકોએ આત્મહત્યા કરી છે. તેનું કહવું છે કે તેણે માત્ર 17 લોકોને સ્યૂસાઇડ કરવા માટે ઉશ્કેર્યા હતા. બાકી લોકોને તેમની સાથે સપંર્ક કર્યો અને પછી સ્યૂસાઇડ કરી લીધુ. આ માટે તેણે તેમને ઉશ્કેર્યા નથી. તેણે આગળ જણાવ્યુ કે, 28 લોકો બીજા હતા જે પોતાનો જીવ આપવા ઇચ્છતા હતા. બુદેકિનને જેલમાં ટીનેજ છોકરીઓ લવ લેટર પણ આવતા હતા જે તેનાથી આકર્ષિત હતી.

બ્લૂ વ્હેલ ચેલેન્જની શરૂઆત 2013માં થઇ હતી. આ ગેમની શરૂઆત 2013માં થઈ હતી. ફિલિપે ખાસ કરીને ટીનેજર્સને ઓનલાઈન કોન્ટેક્ટ કરવાનનું શરુ કર્યું, જેથી તે નક્કી કરી શકે કે આ ગેમ સફળતાપૂર્વક કોણ રમી શકશે. તે લોકોને પોતાના વિષે જણાવવાનું કહેતો, સ્કાઈપ પર તેમની સાથે વાતો કરતો અને તેમને નિરાશાજનક કોન્ટેન્ટ જોવાની સલાહ આપતો. પછી તે સૌથી નબળા લોકોને સિલેક્ટ કરતો. આવા લોકોને એડમિન રોજ એક ટાસ્ક આપતા અને તેમણે 50 દિવસમાં આ ટાસ્ક પૂરા કરવાના રહેતા. આ ટાસ્ક પહેલા સરળ હોતા અને પછી લેવલ આગળ વધતા તે ખતરનાક થવા લાગતા. જેમ કે નસ કાપવી, કોઈ પ્રાણીને મારવુ અને અંતમાં આત્મહત્યા કરવાનું કહેવામાં આવતુ. જો કોઈ ટાસ્ક કરવાની ના પાડે તો તેની પ્રાઈવેટ ઈન્ફર્મેશન પબ્લિક કરવાની ધમકી આપવામાં આવતી. આ ટાસ્કના વીડિયો અથવા ફોટો લેવા જરુરી હતા જેનાથી એડમિન્સ ચેક કરી શકે કે ટાસ્ક થઈ ગયા છે કે નહીં.

બુદેકિનએ કહ્યુ, કે તે લોકોને ખુશ જોવા માંગે છે તેથી તે તેમની સાઇકૉલોજી સાથે રમે છે. તેમણે કહ્યુ કે, તે લોકો તે પ્રેમ અને સમજણ આપતો હતો, જે તેમને જિંદગીમાં કોઇએ ન આપ્યો હોય.

આ થઈ ગેમની વાત.આખી વિગત.હવે ઉત્સાહી નેટિયા કે ફોરવરડીયા મિત્રોને માટે...આમ તો કશું કોઈને કેવાય નહિ.હા, એ ગેમના નામનો કે એવો કોઈ પ્રચાર,પ્રસાર ન થાય એટકું જ કેવું છે.આ ગેમ આસિ કે તેવી.એ જાણ્યા પછી કેટલાક નોર્મલ વ્યક્તિઓ પણ તે અંગે સર્ચ કરી પોતાનું મરણ શોધવા જાણે મથે છે.
આ રીતે કોઈના આદેશથી મરવા કરતા,કોઈ એ દેશ માટે મરવાની ગેમ બનાવી હોત તો ભલું થાય.હું જેને પ્રેમ કરું છું તેવા સૌ આ ગેમ ન રમે તેવી આશા.હું કોઈ રમત રમતો નથી,મારથીય કોઈ રમત ન રમે એવી આશા.

Monday, July 24, 2017

राष्ट्रपति चुनाव की खट्टी मिठ्ठी...

आज हमारे राष्ट्रको नए राष्ट्रपति मील हैं!इस से पहले राष्ट्रपति के चुनाव की प्रक्रिया के बारे में यहाँ जानकारी दी गई थी!आज हम बात करेंगे रामनाथ कोविंद जी के चुनाव के बारेमें!
आपको ये जानना जरूरी हैं कि राष्ट्रपति चुनाव में पहेली पसंद ओर दूसरी पसंद ऐसे दो मत देने होते हैं!इसे इलेक्ट्रोल वोट कहते हैं!
आज की परिस्थितिमे उसे समजे!बंधारण में लिखा हैं कि राष्ट्रपति के चुनावमें कुल इलोक्ट्रोल वोट को आधा करके उसमें एक जोड़ने से जो मतसंख्या होती है,कमसे कम उतने या अधिक मतप्राप्त करने होंगे!अगर सारे देश के 1000 इलोक्ट्रेल वोट हैं तो कमसे कम 501 मत जो प्राप्त करेगा वो जीतेगा!अगर पहली पसंद में किसी दो उमेदवार को समान मत मिलते हैं तो दूसरी पसंद के वोट की गिनती करनी होती हैं!आज तक के भारतमे ऐसा कभी नहीं हुआ कि दूसरी पसंदगी से राष्ट्रपति को विजेता गोशीत किया गया हो!
वैसे तो ये 14 व राष्ट्रपतिका चुनाव हैं!शुरू में ऐसा हुआ कि जो उपराष्ट्रपति थे वोही उसके बाद पांच साल के लिए राष्ट्रपति बनते थे!
आज तक सर्वसामान्य उमेदवार,या ज्यादा से ज्यादा दो उम्मीदवार राष्ट्रपतिका चुनाव लड़े हैं!कभी भारत में दो से अधिक उमीदवार राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार नहीं हुए हैं!
आज से पहले 13 चुनाव जो हो चुके उसमें कोंन उमीदवार विजयी होगा वो तय हो जाता हैं!क्योंकि देश की सारी विधानसभा ओर संसद के दोनों गृह से सदस्य वोटिंग करते हैं!राज्यो की जन संख्या के आधार से प्रत्येक राज्य के विधानसभा के सदस्यों के वोट का मूल्य तय होता हैं!1971 कि जनसंख्या के आधार पर इसे तय किया गया हैं!अब को से राज्यमें कोनसा दल शाशक हैं और किस के कितने धारासभा में सदस्य हैं!बस,किसे कितने मत प्राप्त होंगे वो तय हो जाता हैं!
श्रीमती इंदिरा गांधी ने एक बार संस्था कोंग्रेस के सर्वसहमत उमेदवार के सामने अपना व्यक्तिगत उमीदवार खड़ा किया और विजेता बनाया था!उस वख्त ही एक बार ऐसा हुआ कि अधिकृत उमेदवार नही जीते!आप कहेंगे ऐसा कैसे हो सकता हैं! तो में कहूंगा,हमारे बंधारण में राष्ट्रपति चुनाव के लिए व्हिप नही दिया जा सकता!ऐसी विशेष सूचना लिखी गई हैं!पोलिटिकल पार्टी में व्हिप एक ऐसा हथियार हैं जो उसे नही मानता उसे पार्टी का विरोध कहा जाता हैं!लोकशाही में हम जिसे पसंद करे उसे ही मत देते हैं!अगर पार्टी व्हिप देगी तो अपनी नहीं पार्टी की पसंद चलेगी!
कई बार ऐसा भी देखा गया कि सरकार में सहयोगी पार्टी राष्ट्रपति 0द के लिए भिन्न भिन्न उमेदवार को वोटिंग करती हैं!बिहार के मुख्यमंत्री और लालु यादव दोनो JDU ओर राष्ट्रीय जनता दल की संयुक्त सरकार चलाते हैं!JDU ने कोविंद जी को ओर लालु की पार्टीने मीरां कुमार को वोटिंग किया हैं!
प्रतिभा पाटील राष्ट्रपति पद की UPA की उमीदवार थी!शिवसेना NDA का हिस्सा थी!मगर उन्होंने प्रतिभा पाटिल महाराष्ट्र की थी तो उन्हें समर्थन दिया था!
आप ने शायद देखा या सुना होगा कि मीरां कुमार ने उमीदवार बनने के तीसरे दिन कहा था कि मेरे पास जितने की संख्या नहीं हैं तो इसका मतलब ये तो नहीं कि में चुनाव में खड़ी न रहूँ!वो खड़ी भी रही,कोविंद जी राष्ट्रपति बन गए!
आशा हैं अब वो NDA के दलित न बनके हमारे 14 वे राष्ट्रपति बनके कलाम सर जैसी नामना प्राप्त करें!

Wednesday, July 5, 2017

વરસાદ...










આવરે વરસાદ...તમે નાના હતા ત્યારે આ ગીત ગાયું જ હશે.વરસાદ આવે ત્યારે આ ગીત યાદ આવે.કોઈને વરસાદ ન ગમે એવું ન હોય. ચોમાસામાં વરસાદ પડે છે.સાહિત્યમાં  વરસાદને અનેક રીતે રજૂ કરેલ છે. સાહિત્યના દરેક પ્રકારમાં વરસાદ અંગેની વિગતો જોવા મળે છે.આજે આપણે વરસાદના પ્રકાર અંગે વાત કરીશું.

સાહિત્યમાં મહત્વનો પ્રકાર લોકસાહિત્ય. આ અનોખા સાહિત્યમાં વરસાદના મુખ્ય બાર પ્રકાર આપવામાં આવેલ છે.કેટલાક પ્રકાર અંગે આપણે આજે જ જાણીશું.
આ બાર પ્રકારમાં...

ફર ફર:માત્ર રૂંવાડાં ભીના કરે એવો વરસાદ.
છાંટા:પાણીના છાંટા ટપક્વા માંડે એવો વરસાદ.
ફોરાં:મોટા મોટા છાંટા તૂટી પડે એવો વરસાદ.
કરા:જ્યારે છાંટા મોટુ સ્વરૂપ લઈ આપણને મોંઢા ઉપર તડાતડ વાગવા લાગે એવો વરસાદ.
પચેડિયો:માથા ઉપર પચેડિનું રક્ષણ લઈને ભાગવું પડે એવો વરસાદ.
નેવાધાર: ઘર ના નળીયા સંતૃપ્ત થયા પછી નેવાની નીચે બાલ્દી મૂકી શકો એવી ધાર થાય એવો વરસાદ.
મોલિયો:ખેતરમા ઊભા પાક ને જીવનદાન આપે એવો વરસાદ.
અનરાધાર:છાંટા, ફોરાં, કરા બધાય ભેળા મળી રીતસર પાણીની ધારો વરસતી હોય એવો વરસાદ.
મુશળધાર:બધી ધારાઓ ભેગી મળી જાણે સૂપડે સૂપડે પાણી પડતું હોય એવો વરસાદ.
ઢેફા ભાંગ:ખેતરોની માટીઓના ઢેફા પણ ભાંગી નાખે એવો વરસાદ.
સાંબેલાધાર:ખેતરોના કયારાઓ ભરાય જાય અને કૂવાની સપાટીઓ ઉપર આવી જાય એવો વરસાદ.
હેલી:સાંબેલાધાર વરસાદ પણ જો સતત અઠવાડિયા સુધી વરસ્યા કરે તો હેલી આવી એમ કેહવાય.
અહીં જણાવેલ તમામ પ્રકારના વરસાદો જ્યારે એકી સાથે ટુટી પડે ત્યારે બારેય મેઘ ખાંગા થયા એમ કેહવાય.વરસાદ...આવે એટલે ગમે.હવે જ્યારે વરસાદ પડે ત્યારે નક્કી કરવાનું કે આ ક્યા પ્રકારનો વરસાદ છે.

Wednesday, June 28, 2017

कलाम सर को सलाम...










कौन ज्यादा दलित? किस ने बड़े दलित को राष्ट्रपति पद के उम्मेदवार के लिए सहयोग दिया?में कलाम सर की
बात कहना चाहता हौं !मगर आज कल राष्ट्रपति होने  से पहेले जो बात चलती हैं उस से मेने लिखना शुरू किया हैं!जिसे भी थोडासा अंदाज हैं की राष्ट्रपति चुनाव कैसे होते हैं!इन्हें मालुम ही हैं की श्री कोविंद जी हमारे नए राष्ट्रपति होंगे!राष्ट्रपति पद के लिए विरोध पक्ष ने श्रीमती मिरां कुमार को उम्मेदवार बनाया हैं!केसे गिने जाते हैं राष्ट्रपति चुनावमें मत और केसे तय होता हैं धरसभ्य और संसद्सभ्य के मत का मूल्य!आप इस मूल्य को सरकार बनाने वाले या बिगाड़ने वाले सदस्य के मतदान से नहीं हैं!विधानसभ्य और संसदसभी के मतदान और राष्ट्रपति चुनाव के लिए आप यहाँ पढ़ें!

अब बात उस वख्त की हैं जब राष्ट्रपति कलाम सर तय हो चुके थे!एपीजे अब्दुल कलाम साहब का नाम जब भारत के राष्ट्रपति पद के लिए चुना गया और उनके शपथ ग्रहण की तिथि तय हो गई तो प्रोटोकाल व व्यवस्था में लगे एक अधिकारी ने उनसे पूछा - सर, आपके शपथ ग्रहण समारोह में आपके परिवार और मित्रों में से किन किन को बुलाना है, लिखवाइये।

कलाम साहब बोले - "नाम तो याद नहीं है पर जिन जिन शिक्षकों ने मुझे प्राथमिक कक्षाओं में पढाया है उन सभी को ससम्मान समारोह में बुलाया जाये।" फिर क्या था कलाम साहब जिस स्कूल में पढे वहां का रिकार्ड ढूंढा गया। शिक्षकों की खोज की गई और जो जीवित थे उन्हें सम्बन्धित जिला कलेक्टर ने विशेष हेलिकाप्टर अथवा वायुयान से उन्हें दिल्ली पहुंचाया और उन शिक्षकों के निजी सहायक के रूप में सम्बन्धित जिला कलेक्टर स्वयं साथ रहे।

किसी देश का बौद्धिक विकास उस देश के योग्य शिक्षकों पर निर्भर करता है। ह शिक्षक वर्ग ही है जो समाज को परिवर्तित करने का हुनर रखता है!

आज सवाल ये हैं की कहेजाने वाला बड़ा दलित या छोटा दलित राष्ट्रपति होगा!ऐसी बातो के बाद हम कहते हैं की हम विश्व सत्ता बनाने जा रहे हैं!किसी राष्ट्रपति ने कहाथा की में प्रधानमंत्री के कहने पर घरमें कूड़ा कचरा करूँगा!उस वख्त भी प्रधानमंत्री कार्यालय था आज भी हैं!राष्ट्रपति बनाने के लिए कोई अंतरात्मका आवाज से मतदान नहीं करता हैं!

जहाँ शिक्षक का सन्मान नहीं हैं वहां कोई विकास नहीं हो सकता हैं! विश्वमें आज जो देश महासत्ता हैं उनकी शिक्षा और खास करके प्राथमिक शिक्षण को करीब से देखना आवश्यक हैं!राष्ट्रपति पद के अंतिम दिन किसी पत्रकार ने उन्हें पूछा आप अब क्या करोंगे?यह सवाल सुनकर वो तुरंत ही बोले थे में फिरसे शिक्षक बनुगा!

मेरा कहेना सिर्फ यह हैं की आप सिर्फ राष्ट्रपति चुनो!किसी ग्नाती विशेष का व्यक्ति नहीं!
धन्यवाद...

Thursday, June 22, 2017

યોગ...યોગ રે ભાઈ યોગ...









ભારતીય પરંપરા મુજબ, યોગની વ્યાપક (અને મને બહુ ગમતી) વ્યાખ્યા છેઃ કર્મમાં કૌશલ્ય તે યોગ.World Record લેવાને બદલે પોતપોતાના કર્મમાં કૌશલ્ય માટે ધ્યાન આપવું એ ઉત્તમ યોગ છે. 
અને એવા તો ઝાંસા મારતા જ નહીં કે યોગને અમે લોકપ્રિય બનાવ્યો કે દુનિયાભરમાં ફેલાવ્યો. 

અને હા,ભારતમાં અનેક વ્યક્તિઓ એ આજે અને પહેલાં યોગના પ્રચાર પ્રસાર માટે ખૂબ કર્યું છે.

યીગથી બધું જ મટી શકે.શાંતિ માટે યોગ્ય જરૂરી છે.આનંદીબેન પટેલ ને હવે શાંતિ છે.છતાં પાછાં નીતિન પટેલ સાથે યોગ કરવા બેઠાં હતાં.મને લાગે છે આસપાસ બેઠેલા ને આ દિવસે સવારે ઉજાગરો થયો હશે.
માતૃભાષા હોય કે પછી યોગ જેવો વારસો, ગિનેસ બુકના રેકોર્ડોથી કે યોગના નામે એક દિવસ ઉજવવાથી તેની જાળવણી થતી હોત તો, તે અત્યારના સમય સુધી શી રીતે પહોંચ્યો હોત?

સંસ્કૃતિ-અધ્યાત્મ-યોગ-આસનો-પ્રાણાયામ-પતંજલિ અને ધંધાની મસ્ત ભેળસેળ કરનારા બાબા રામદેવ હવે ધંધાદારી માણસ છે. તેમની ભેળસેળના રવાડે ચડવું હોય  પસંદગી તમારી, પણ એ શું છે એના વિશે મહેરબાની કરીને ભ્રમમાં રહેતા નહીં કે ભ્રમ ફેલાવતા નહીં.અને સંસ્કૃતિના નામે શુદ્ધતાના દાવા કરતા રામદેવના પતંજલિની ખાસમખાસ પ્રોડક્ટ જેવા આમળાના રસમાં ગુણવત્તાના લોચો પડવાથી ભારતીય સૈન્યની કેન્ટીને તેને રીજેક્ટ કર્યો, તેન લગતા ફક્ત બે મહિના જૂના સમાચાર, જેમણે ન જોયા હોય કે જે ભૂલવા માગતા  તે સૌના લાભાર્થે આ વાત અને વિગત લખી છે.આગળ કીધું એમ સ્વાસ્થ્ય માટે યોગ્ય છે.મારા એક મિત્ર કહે 'પેટ હલાવી હલાવી ને બાબા એ 5000 કરોડ ભેગા કર્યા.
આખા ભારતમાં જેટલું તેલીબિયાંનું ઉત્પાદન નથી એટલું તો બાબા એક જ પ્રકારે તેલનું ઉત્પાદન કરે છે.નેપાળ અને ભારતમાં આંબળા પકતા હોય તેના કરતાં વધારે આંબળાનો જ્યુસ બાબા બનાવે છે.
બોલો...1000 રૂપિયાની આવક હોય તો 1100 રૂપિયાની વસ્તુ મળે?
હશે...આ તો...રાજા...વાજા અને...

Wednesday, June 21, 2017

विश्व योग दिवस आज क्यों?




21 जून पूरे कैलेंडर वर्ष का सबसे लम्बा दिन है। साल का यह 172 क्रम वाला दिन हैं!लिपयर होता तो 173 वां दिन होता!
आज के ही दिन 1947 के दिन लार्ड माउंट बेटन ने इस्तीफा दिया और राष्ट्रपति के हाथों भारत को गवर्नर जनरल के पद से इस्तीफा दिया था!विश्वमें FARMAT को साबित करने वाले गणित शास्त्री एंड्र ने अपने दावे को आज के दिन साबित किया था!

आज सबसे लंबा दिन हैं!क्योंकि सूर्य और उसका तेज इस दिन सबसे अधिक प्रभावी रहता है।और इसी लिए इस दिन को योग दिवस के लिए पसंद किया होगा!

बेंगलुरू में 2011 में पहली बार दुनिया के अग्रणी योग गुरुओं ने मिलकर इस दिन 'विश्व योग दिवस' मनाने पर सहमति जताई थी।

इस दिन को किसी व्यक्ति विशेष को ध्यान में रखकर नहीं, बल्कि प्रकृति को ध्यान में रखकर चुना गया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के लिए पिछले सात सालों के दौरान यह इस तरह का दूसरा सम्मान है। इससे पहले यूपीए सरकार की पहल पर वर्ष 2007 में संयुक्त राष्ट्र ने
महात्मा गाँधी के जन्मदिन यानि ' 2 अक्टूबर' को ' अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस ' के तौर पर घोषित किया था।

प्राचीन आध्यात्मिक पद्धति
योग 5,000 साल पुरानी भारतीय शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक पद्धति है, जिसका लक्ष्य मानव शरीर और मस्तिष्क में सकारात्मक परिवर्तन लाना है।
समारोह

भारत में 21 जून को 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस'* बड़े पैमाने पर मनाया जाएगा, जिसकी तैयारियाँ बड़े जोर-शोर से भारत सरकार कर रही है। योग दिवस का मुख्य समारोह दिल्ली के राजपथ पर होगा, जिसमें स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शिरकत करेंगे। प्रधानमंत्री राजपथ पर 16000 लोगों के साथ योग करेंगे। 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' समारोह का गणतंत्र दिवस समारोह जैसा कवरेज दूरदर्शन द्वारा किया जायेगा। इसका सीधा प्रसारण किया जायेगा। प्रसारण अंतरराष्ट्रीय मानक का हो यह सुनिश्चित करने के लिए अत्याधुनिक उपकरण का इस्तेमाल किया जायेगा। 

राजनीतिक लोगों के अतिरिक्त योगगुरु बाबा रामदेव और हिन्दी फ़िल्मों के महानायक अमिताभ बच्चन भी इस समारोह भी शामिल होंगे। *संयुक्त राष्ट्र में भी योग दिवस मनाने के लिए व्यापक तैयारियाँ चल रही हैं।* पहले 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' के उपलक्ष्य में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज संयुक्त राष्ट्र में आयोजित समारोह की अध्यक्षता करेंगी।

योग शिविर

'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' पर भारत ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी योग शिविर लगाए जाएंगे। इसके लिए अलग-अलग देशों में योग गुरुओं को भेजा जाएगा। इसी समय देश के अलग-अलग हिस्सों में भी करोड़ों लोग योग शिविर में हिस्सा लेंगे। यह आंकड़ा 'गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड' में भी दर्ज हो सकता है। ऐसा पहला बार होगा, जब एक ही दिन और एक ही समय इतनी बड़ी तादाद में लोग योग शिविरों में हिस्सा लेंगे।

Tuesday, March 21, 2017

म्यूजिक थेरापी...बच्चो के लिए...

आज कल मेडिकल के खेस्त्र में बहोत साडी जानकारी उपलब्ध हैं!कई तरीके सर्वर में आगे आये हैं!
आगे देखने को मिलेंगे!आज कल म्यूजिक की बड़ी चर्चा हैं! कई जगह से निराश होने वाले आज म्यूजिक थेरापी के लिए काम कर रहे हैं! ख़ास कर म्यूजिक थेरैपी से बच्चों की निराशा और व्यवहार संबंधी एवं भावात्मक समस्याओं में कमी लाई जा सकती है. यह जानकारी एक रिसर्च में सामने आई है.
इस बात को परखने के लिए रिसर्चर्स ने 251 बच्चों एवं किशोरों को अध्ययन में शामिल किया. इनकी उम्र आठ से 16 वर्ष के बीच थी. इनका संगीत उपचार किया गया. जिन बच्चों को ये थेरैपी दी गई, उनके आत्मविश्वास में काफी वृद्धि हुई और उनकी उदासी काफी कम हुई. जिनका इलाज बगैर म्यूजिक थेरैपी के किया गया, उनमें इतना अच्छा परिणाम नहीं आया.
आपको ये जान के ख़ुशी होगी की ऐ रिसर्च कई जगह पब्लिश हुई हैं!ख़ास कर यह रिसर्च चाइल्ड साइकोलॉजी एंड साइकेट्री में प्रकाशित हुई है! इसमें पाया गया है कि 13 साल से अधिक उम्र के जिन किशोरों को संगीत चिकित्सा दी गई, उनके बातों को रखने के सलीके में काफी सुधार हुआ. खासकर उनकी तुलना में, जिन्हें सामान्य चिकित्सा मुहैया कराई गई और अकेले रहे. म्यूजिक थेरैपी से सभी आयुवर्ग के समूहों की सामाजिकता में भी सुधार हुआ.
इस रिसर्च्के लिए ख़ास तरीका इस्तमाल किया गया था! रिसर्च में शामिल बच्चों को दो समूहों में बांटा गया था. 128 को सामान्य चिकित्सा के विकल्प के तहत रखा गया था, जबकि 123 को सामान्य संगीत चिकित्सा के साथ संगीत चिकित्सा भी दी गई थी. इन सभी का भावात्मक, विकासात्मक या व्यवहार संबंधी समस्याओं का इलाज किया जा रहा था.

ब्रिटेन के बोर्नमाउथ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर सैम पोर्टर ने कहा, 'यह अध्ययन बच्चों और किशोरों के व्यवहार संबंधी और मानसिक स्वास्थ्य की जरूरतों संबंधी प्रभावी इलाज का तरीका तय करने के बारे में बहुत महत्वपूर्ण है.'स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने वालों को जब वे बच्चों और किशोरों का इलाज कर रहे होते हैं, तब उन्हें हमारी रिजल्ट पर विचार करना चाहिए कि वे किस तरह से उनकी सहायता करना चाहते हैं.


आज भारत में भी इस प्रकार के संशोधन को बढ़ावा मिल रहा हैं!हाला की विश्व के देश जिस तरह कर रहे हैं उसके सामने ऐ कुछ भी नहीं हैं!क्या भारत ऐसे सवालों के लिए अलग से काम नहीं कर सकता!? एवरीडे हार्मोनी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी सिएरा रिली ने कहा कि संगीत चिकित्सा का अक्सर बच्चों और किशोरों पर खास मानसिक स्वास्थ्य की जरूरतों के हिसाब से इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह पहला अवसर है, जब एक चिकित्सा व्यवस्था के तहत इसके इलाज के लिए इसके प्रभाव को दिखाया गया है.

Thursday, March 16, 2017

बच्चों की भाषा में ही...

प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले ज्यादातर बच्चे अपने घर-परिवार में बोली जाने वाली भाषा बोलते हैं। 

यह भाषा हिन्दी के स्वीकृत मानक खड़ी बोली से अलग होती है। हमारे प्रदेश में बोली जानेवाली ऐसी भाषाओं में अवधी, ब्रज, भोजपुरी, बुन्देली, कुमाऊँनी, गढ़वाली आदि मुख्य हैं। 

स्कूलों में शुरुआत से ही बच्चों को मानक भाषा सिखाने पर जोर दिया जाने लगता है जिससे बच्चे भाषा सीखने से कतराते हैं। बच्चे घर पर बोली जाने वाली भाषा के असर के कारण मानक भाषा के प्रयोग में "अशुद्धियाँ " करते हैं - "उसने कही", "हम लोगों ने जाना है" आदि। इस पर उन्हें डांट पड़ती है, जबकि शुरु में ही शुद्धता पर जोर देने से भाषा सीखने में एक बड़ी रुकावट खड़ी हो जाती है। 

शिक्षकों की बार-बार टोका-टाकी और चुप कराने से बच्चों में घरेलू भाषा के प्रति हीनभावना भी पैदा हो जाती है और वे आत्मविश्वास के साथ खुलकर अपनी बात नहीं कह पाते। कक्षा में सार्थक / अर्थपूर्ण बातचीत के पर्याप्त अवसर नहीं उपलब्ध हैं। इस तरह का दबाव या अनुशासन रहता है कि बच्चे चुपचाप कार्य करें। भाषा सिखाने में मौखिक पक्ष की अक्सर उपेक्षा की जाती है। इससे बच्चे आगे की कक्षाओं में अपनी बात कहने में हिचकते हैं। इससे मौखिक अभिव्यक्ति जैसे सशक्त माध्यम का प्रयोग और विकास नहीं हो पाता। जबकि यह भाषा शिक्षण का जरूरी पहलू है।


भाषा सीखने से पहले उस अवधि की ‘सहायक तैयारियों’ पर तो ध्यान दिया ही नहीं जाता। भाषा सीखने-सिखाने के प्रचलित तौर-तरीके बहुत उबाऊ, नीरस और मशीनी किस्म के हैं। बच्चों को इनमें मजा नहीं आता। इसके अलावा कक्षा में कुछ ही बच्चों को बार-बार बोलने का मौका दिया जाता है जिससे ज्यादातर बच्चे भाषा सीखने में पिछड़ते चले जाते हैं ।



बच्चे अपने घर-परिवेश में हो रही बातों को सुनते रहते हैं तथा उनके साथ हो रहे हाव-भावों को देखते-समझते हैं। शुरु में बच्चे संकेतों के आधार पर बात को पकड़ने का प्रयास करते हैं। स्वयं भी वे हाव-भावों एवं संकेतों का माध्यम के रूप में प्रयोग करते हैं। धीरे-धीरे वे कहने की कोशिशों और उनके परिणामों को जानने लगते हैं। फिर वे अपने आस-पास तैर रहे शब्दों को पकड़ना शुरु कर देते हैं। शब्द गूंजते समय वे उस दौरान आस-पास हो रहे व्यवहारों को भी देखते हैं। एक दौर ऐसा आता है जब वे सुनना-समझना तेज कर देते हैं। इस प्रकार वे सुनकर, समझने की ओर बढ़ते हैं। जब उन्हें यह समझ आती है कि वे शब्दों को बोलकर कुछ हासिल कर सकते हैं तो वे उनका उपयोग करने लगते हैं। क्रमश: उनका काम चलाऊ शब्दभंडार बढ़ता जाता है।
 
बच्चे अपने कथनों और उनके प्रभाव से अपनी भाषा विकसित करते हैं। स्कूल आने से पहले बच्चे काफी कुछ बोल सकते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि बच्चा भाषा ऐसे समय सन्दर्भ से सीखता है, जहां उसका ध्यान भाषा केंद्रित नहीं है। भाषा सीखने में सुनने बोलने, पढ़ने-लिखने का क्रम तो है, लेकिन दरअसल हमेशा ऐसा ही नहीं होता है। क्या जब ‘सुनना’ होता है तो ‘बोलना’ रुका रहता है या ‘बोलने’ के समय ‘सुनना’ स्थगित रहता है ? यह सब साथ-साथ भी चलता रहता है - सुनना, बोलना, पढ़ना। 
 
क्या स्कूल में बच्चों को शुरु में सुनने-बोलने के पर्याप्त अवसर दिये जाते हैं? बच्चा जब विद्यालय में पहली बार आता है तो परम्परागत शिक्षण में शिक्षक उससे सीधे लिखने-पढ़ने का कार्य कराने लगते हैं। वह समझ ही नहीं पाता कि क्यों कुछ आकृतियां जबरन उसे दिखाई पढ़ाई और लिखाई जा रही हैं। वह घर जैसा वातावरण चाहता है। स्कूल नामक इस जगह पर उसके अपने अनुभवों को सुनने वाला कोई नहीं है, उसकी ‘अपनी भाषा’ के लिये कोई जगह नहीं होती।

अध्यापक के लिये जरूरी है कि पहले वह बच्चे की भाषा को स्वीकार करे, तब उसे अपनी मानक भाषा की ओर ले जाये। स्कूल में बच्चों को मानक भाषा सुनने, समझने, बोलने के अधिक मौके देनाचाहिये। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि बच्चों की घरेलू भाषा को छोटा माना जाय या उपेक्षित किया जाय।

शिक्षकों द्वारा यह क्रम अपनाने से बच्चों को शायद अधिक मजा आयेगा और भाषा सीखने की गति तेज होगी। कक्षा में ऐसे वास्तविक और रोचक संधर्भ बनाये जायें जिनमें तरह-तरह से भाषा का उपयोग करना हो। बच्चों के अनुभव सुनना, उनमें आपस में ‘गपशप’ करवाना, उन्हें कहानियां-कविताएं सुनाना, कहानियां-कविताएं कहलवाना ऐसी ही गतिविधियां है। इनके जरिये उन्हें मौखिक अभिव्यक्ति के लिये उकसाया जा सकता है। मौखिक अभिव्यक्ति के साथ उन्हें अभिनय या अंगसंचालन के मौके देना भी जरूरी है। बच्चों के पंसद के विषयों पर छोटे-छोटे भाषण देने के मौके भी मिलने चाहिये। जब उन्हें लगेगा कि विद्यालय भी घर जैसा है, यहाँ बहुत मजेदार बातें सिखाई / कराई जाती हैं, तो हमारा विश्वास है कि वे स्वाभाविक रूप से बोलेंगे। बच्चों को स्कूल व कक्षा में बातचीत के पर्याप्त मौके दिये जायें। यह कार्य उनकी भाषा के विकास में मददगार होगा। बातचीत भाषा सिखाने का जादुई माध्यम है। मौखिक अभिव्यक्ति के पर्याप्त अभ्यास के बाद ही लिखित कार्य की ओर कदम बढ़ाना ठीक रहेगा। 

भाषा तो भाषा ही रहेगी, क्यों ना इसे इसे बच्चों को बच्चों की भाषा में ही पढाएं?

Monday, March 13, 2017

होली का त्यौहार और गुजरात...


आज कई दोस्तों ने रंगपर्व की शुभकामना दी!मेने भी कई सरे दोस्तोको शुभकामना बांटी!आज का दिन राजस्थान,गुजरात महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में होली और रंगपर्व के तोर पे मनाया जाता हैं! आज के दिन में आपको बात करूँगा गुजरात के एक ऐसे प्रदेश की जहा होली को कई सदियों से अलग तरीके से मनाया जाता हैं! उत्तर गुजरात के इशान कोनेमें एक प्रदेश हैं! यह प्रदेश मेघरज के नाम से जाना जाता हैं! राजस्थान और मध्यप्रदेश से जुड़ा हुआ ऐ प्रदेश ट्रायबल बेल्ट के तोर पे अपनी अलग पहचान बनाये रखता हैं!

गुजराती में जिन्हें ठाकरडा कहते हैं ऐसे सामाजिक एवं शैक्षणिक व्यवस्था में पिछड़े जाती के लोग यहाँ रहते हैं! मेघरज से उनका छोटा बड़ा व्यव्हार हैं! शिक्षा और सामाजिक विचारोमे आज भी पिछड़े लोगो को अगर आप देखना चाहो,उनके जन जीवन पर अभ्यास करना चाहो तो आप यहाँ आके काम कर सकते हों!

इस गाव में सबसे महत्त्व पूर्ण बात यह हैं की यहाँ होली का त्यौहार देखने को दूर दूर से लोग और मिडिया कर्मी आते हैं! आसपास से जुड़े 12 छोटे गाव को मिला के यहाँ ‘बाठीवाडा’ गाव या एक छोटा प्रदेश हैं! 15.००० के करीब जनसँख्या वाला ऐ समूह गाव एक ही तरह के कायदे और सामाजिक व्यवस्थाको अपनाता हैं! यहाँ ‘चाडिया’ के नाम से होली के दूसरे दिन रंगोत्सव मनाया जाता हैं! सभी बार छोटे गाव से यहाँ लोग इकठ्ठा होते हैं! चाडिया के लिए सब इकठ्ठा होते हैं! चाडिया याने एक जगह की बात दूसरी जगह कहने वाला!गुजराती शब्द हैं जिसका मतलब हैं चाडी करने वाली व्यक्ति~आसपास के सभी गाव से कपडे और लकड़ी इकठ्ठा करके एक पुरूष की मूर्ती बनाई जाती हैं! मुझे इस के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए श्री योगेश पंड्या ने बताया की तिन चार बड़ी लकड़ी को पकd के उसके ऊपर चाडिया को बंधा जाता हैं! पिछली एक साल में जिन की शादी हुई हैं ऐसे नव विवाहित पुरुष चाडिया को पाने का प्रयास करते हैं! आसपास खड़े लोग उन्हें चाडिया तक पहुचनेमे और उसे पाने में बाधा ऐ कड़ी करते हैं! कभी कभी यहाँ गंभीर चोट या मोट भी हो जाती हैं!

शराब और सीनाजोरी पिछले कुछ सालो से कम हैं! वरना आज होली और उसके आसपास के बो तिन दिन कोई इन छोटे 12 गाव या बांठीवाडा के करीब से निकलने में या मुसाफ़री करने में दर महसूस करते हैं! कहा जाता हैं की यहाँ हजारो की संख्या में लोग आते हैं! एक एक ढोल के पीछे 150 से 200 लोग होते हैं! सरे ढोल बजाने वाले समूचे मेघरज के सभी गाव से आते हैं! पुरे रास्ते में ढोल वाले ग्रुप दिखाते हैं! कोई भी उन्हें होली के संदर्भमे कुछ दिए बिना नहीं जा सकता!

कहा जाता हैं की यहाँ पे पहले कभी नियत मुर्हुत में होली दहन नहीं होता था!यहाँ कोई भी छोटी बड़ी तकरार होती होर उसके बाद जगडा!और उसका नत भी बुरा आता!जब तक कोई मर नहीं जाता यहाँ होली नहीं होती!पिछले कई सालो से उसमे कुछ [अरिवर्तन आया हैं! आज यहाँ होली के दिन समग्र डिस्ट्रिक की पोलिस भी आ जाती हैं! में आज लिख रहा हौं! मेने ऐसी होली...अरे..बाठीवाडा की होली को देखा हैं! मिडिया के लिए कुछ साल पहले कवरे ज भी किया था! आज भी वहा होलिका त्यौहार ऐसे ही मनाया जाता हैं! आज तो यहाँ कई लोग कमाने हेतु बहार निकल चुके हैं मगर इस दिन कहीसे भी बाठीवाडा पहुँच के इसके पर्व में अपनी जात को यहाँ समर्पित करता हैं! ट्रायबल बेल्ट में रहने वाले लोगो की जीवन शैली के अभ्यास के हेतु इस त्यौहार को देखना एक उत्सव ही कहूँगा!


Thursday, February 2, 2017

ભાષા શિક્ષણ અને...

અવારનવાર એવું સાંભળવા કે જોવા મળે છે. વ્યાકરણ શીખવવું ખૂબ જ મુશ્કેલ છે.શક્ય છે કે શિક્ષક શાત્રોક્ત રીતે કદાચ
શીખવતા હોય.આગમન નિગમન પદ્ધતિ દ્વારા શીખવવું જોઈએ.ગિજુભાઈ બધેકા કહેતા હતા કે બાળક વ્યાકરણ જાણે જ છે.તેના નિયમો જ તારવવાના છે.જો આ નિયમોને રસપ્રદ રીતે તારવવામાં આવે તો મજા પડી જાય.અહીં કેટલીક વિગત આપી છે.આપ આ વિગતો જોઈને કી રીતે રસપ્રદ રીતે અહીં રજૂ કરીએ તો બાળકોને ગમે એ માટે પણ આપના વિચારો જણાવી શકો છો.
તો કરો શરૂ વાંચવાનું અને નોંધવાનું...

અલંકાર  એટલે શું?

સાહિત્યમાં વાણીને શોભાવવા માટે ભાષાકિય રૂપોનો જે પ્રયોજન કરવામાં આવે છે તેને અલંકાર કહેવામાં આવે છે.
શબ્દાલંકાર  એટલે શું ?વાકય કે પંકિતમાં જ્યારે શબ્દની મદદથી ચમકૃતિ સર્જાય ત્યારે...

અર્થાલંકાર એટલે શું?

વાકય કે પંકિતમાં જ્યારે અર્થની મદદથી ચમકૃતિ સર્જાય ત્યારે...

ઉપમેય એટલે શું ?

જે વસ્તુ કે પદાર્થની સરખામણી કરવાની હોય તે...

ઉપમાન એટલે શું?

જે વસ્તુ કે પદાર્થની સાથે સરખામણીકરવાની હોય તે...

સાધારણ ધર્મ એટલે શું ?

બે જુદી જુદી વસ્તુઓ વચ્ચે રહેલા કોઇ ખાસ  ગુણોને સાધારણ ધર્મ કહેવામાં આવે છે.

ઉપમાવાચક શબ્દો એટલે શું ?

બે જુદી જુદી વસ્તુઓ વચ્ચેની સરખામણી કરવામાટે વપરાતા શ્બ્દોને ઉપમાવાચક શબ્દો કહે છે.

શબ્દાલંકારના પ્રકાર

(૧) વર્ણાનુપ્રાસ  (વર્ણસગાઇ),(૨) યમક(શબ્દાનુપ્રાસ),(૩) આંતરપ્રાસ  (પ્રાસસાંકળી),(૪) અંત્યાનુંપ્રાસ 
(૧) ઉપમા (૨)  ઉત્પ્રેક્ષા (૩) રૂપક (૪) અનન્વય (૫) વ્યતિરેક (૬) શ્લેષ (૭) સજીવારોપણ  (૮) વ્યાજસ્તુતિ

 વર્ણસગાઇ, વર્ણાનુપ્રાસ, અનુપ્રાસ અલંકારઃ

 વાકય કે પંકિતના પ્રારંભે એકનોએક વર્ણ બે કે બે થી વધારે વખત આવી વાકયમાં ચમત્કૃતિ સર્જે ત્યારે.. ..

ઉદાહરણઃ

૧  નિત્યસેવા,નિત્યકીર્તનઓચ્છવ નિરખવા નંદકુમાર રે.

૨  જેને ગોવિંદા ગુણ ગાયા રે.

૩  નટવર નિરખ્યા નેન તે.

૪  માડી મીઠી,સ્મિતમધુર ને ભવ્ય મૂર્તિ પિતાજી.

૫  પુરી કાશી,કાંચી,અવધ,મથુરાને અવર સૌ

 શબ્દાનુપ્રાસ, યમક, ઝટ અલંકારઃ

જ્યારે વાકયમાં પંકિતમાં એક સરખા  ઉચ્ચારવાળા અને અલગ અલગ અર્થ  ધરાવતા બે અથવા બેથી વધારે શબ્દો આવી ચમત્કૃતિ સર્જય ત્યારે.

ઉદાહરણઃ

 ૧  કાયાની માયામાંથી છુટવા ગોવિંદરાયની માયા કરો.

૨  જાંબાળાખોપાળાતગડીને ભડીનેભાવનગર

 ૩  હળવે હળવે હળવે હરજી મારે મંદિર આવ્યા રે.

૪ અખાડામાં જવાના મેં ઘણીવાર અખાડા કર્યા.

૫  દીવાનથી દરબારમાં, દીવા નથી છે અંધારું ઘોર.

આંતરપ્રાસ, પ્રાસસાંકળીઃ

પહેલા ચરણના છલ્લો શબ્દનો અને બીજા ચરણના પ્રથમ શબ્દ વચ્ચે જ્યારે પ્રાસ રચાય ત્યારે.

ઉદાહરણઃ

 ૧  જતો હતો અંધ થતી નિશામાં,સુગુપ્ત રાજગૃહની દિશામાં.

૨  વિચારનો નેઞ જલે ભરાય છે,શરીરનું ચેતન ત્યાં હરાય છે.

૩  પાનેપાને પોઢી રાત,તળાવ જપ્યું કહેતા વાત.

૪  સામા સામા રહયાં શાભે,વ્યોમ ભોમ બે સોય.

૫  વિદ્યા ભણિયો જેહ,તેહ ઘેર વૈભવ રૂડો.

         વિદ્યા ભણિયો જેહ,કામનીકંચન ચૂડો.

ઉપમા અલંકારઃ

ઉપમેયની ઉપમાન સાથે સરખામણી કરવામાં આવે ત્યારે….

 ઉપમાવાચક શબ્દો (શું,શી,શા,જેવું,જેવા,જેવી,જેમનું,તેમનું,સરખું,સમોવડું,તુલ્,પેઠે,માફક,સમાન,)

ઉદાહરણઃ

૧  પુરુષોની માફક સ્ત્રીઓ પણ કેળવણી લઇ શકે છે.

૨  મને તેમનું વચન અપમાન જેવું લાગે છે.

૩  સંતરાની  છાલ જેવો તડકો વરસે છે.

૪  ધરતીપર વરદાનની માફક ચાંદની ઊતરી રહી છે.

૫  શામળ કહે બીજાબાપડા, પ્હાણ સરીખા પારખ્યા.

ઉત્પેક્ષા અલંકારઃ

ઉપમેય અને ઉપમાનની એકરૂપતાની સંભાવના/શકયતા વ્યકત કરવામાં આવે ત્યારે.. .. ..

ઉત્પેક્ષા વાચકશબ્દોઃજાણે,રખે,શકે

ઉદાહરણઃ

૧ જેનામાં વૃક્ષપ્રીતિ નથી એનામાં જાણે કે જીવનપ્રીતિ નથી.

૨ વપુ-તેજ પ્રગટયું ભગવાન ,જાણે થયા ઉઠે શશિયર-ભાણ.

૩ જયાં-ત્યાં આવી વય બદલી સંતાય,જાણે પરીઓ.

૪ દર્દ અને ઉપેક્ષા જાણે ગળથુંથી માંથી જ મળેલા.

૫ થાય છે મારી નજર જાણે હરણ ન રહે ઠેકતી એ ઘાસમાં.

રૂપક અલંકારઃ

ઉપમેય અને ઉપમાનને એકરૂપ દર્શાવવામાં આવે ત્યારે,

ઉદાહરણઃ—      

     ૧   બિદુને નવી મા મળતાં પ્રેમ સાગરમાં ભરતી આવી.

    ૨   ફાગણનાં વૃક્ષો પરથી સૂરજને ખરતો જોઉં છું.

    ૩   ધણી સુરભિ સુત છે.

    ૪   હરખને શોક ની નાવે  જેને હેડકી.

    ૫  ઊંગતાને પાયે જગની જેલ.

અનન્વય અલંકારઃ

ઉપમેયની ઉપમેય સાથે જ સરખામણી કરવામાં આવે ત્યારે

ઉદાહરણઃ—     

  ૧  મહુડાના વૃક્ષો એટલે મહુડાના વૃક્ષો.

  ૨  હિમાલય એટલે હિમાલય.

  ૩  આકકાનું વર્તન એટલે આકકાનું વર્તન,

  ૪  માતેમા બીજા બધા વગડાના વા.

 ૫ મનેખ જેવા મનેખને કપરો કાળ આવ....

વ્યતિરેક અલંકારઃ

ઉપમાન કરતાં ઉપમેયને ચડિયાતું બતાવવામાં આવે ત્યારે ..

ઉદાહરણઃ

૧  બાપુનુ હૃદય ફૂલ કરતાં કોમળ હતું.

૨  કમળકળી થકી કોમળું રે બેની અંગ છે એનું !

૩  સુદામાના વૈભવ આગળ કુબેર તે કોણ માઞ.

૪  ઊર્મિલાની વાણી અમૃતથીયે મીઠી છે.

૫  તું ચંદ્રથી ચારૂ સુહાસિની છે.

શ્લેષ અલંકારઃ

  જ્યારે શબ્દને જોડવાથી કે તોડવાથી (અર્થાત્‌)

  એક જ શબ્દના બે કે બેથી વધારે અર્થ બને ત્યારે

ઉદાહરણઃ—     

૧  જવાની તો આખરે જવાની છે.

૨  સાહેબ ,આબાં નીચે મરવા પડયા છે.

૩  રવિને પોતાનો તડકો ન ગમેતો જાય કયાં.

૪  હું માનવી માનવ થાઉં તો ઘણું.

૫  તપેલી તપેલી છે.

સજીવારોપણ અલંકારઃ

નિર્જીવ વસ્તુમાં સજીવ વસ્તુનું આરોહણ કરવામાં આવે ત્યારે,

૧ નવપલ્લવો મમતાભરી નજરે સ્વામીજીને જોવા લાગ્યા.

૨ ઋતુઓ વૃક્ષોને વહાલ કરતા થાકતાં નથી.

૩ સડક પડખું વાળીને સુઇ ગઇ.

૪ રાતે તડકાએ રસ્તામાં રાતવાસો કર્યો.

૫ ઋતુઓ ને દૂરદૂર વહીજતી જોવું છું.
આશા રખુંકે આપને આ માહિતી ઉપયોગી થશે.આપ આપને આ વિગત ઉપયોગી થશે.ભાષાના નિયમોને બદલે તેના ઉદાહરણ દ્વારા સહજ રીતે શીખવા તો અસરકારક પરિણામ મળી શકે છે.


Thursday, December 15, 2016

इसे कोई नहीं बोल सकता...

ब्कोल....
         ब्कोल....
                  ब्कोल....
                          ब्कोल....

हम उसे बोल नहीं सकते!ऐसा ही एक लिखा हुआ आज कल सोसियल नेटवर्कमें हमे देखनेको मिलता हैं!भाषा एक शास्त्र हैं!शास्त्र याने नियम के आधीन!जेसे की पाक शास्त्र...नाट्य शास्त्र.... संगीत और चित्र हमारी कला हैं!कौशल्य को अंग्रेजीमे स्किल कहते हैं!एक कलाकार एक ही गाना दुसरे तरीके से गा सकता हैं!चित्र में भी ऐसा होता हैं!

लेकिन आप और में ' द ' अलग तरीको से नहीं लिख सकते! अब ब्कोल के बारे में...कई दिनों से ऐ और ऐसे शब्द हैं जो सोसियल मिडिया में चलते हैं!इसे चिह्न या प्रतिक कहते हैं!ये कोई शब्द नहीं हैं!चिह्न को समजा जा सकता हैं!उसे पढ़ा नहीं जा सकता!

🙂 स्माइल...
😘 किस ...
🏆 एवोर्ड...
✂ केंची...

ऐसे सिम्बोल हम whats app या ऐसे दुसरे सोसियल साईट में इस्तमाल करते हैं!इनको देखके ही मालूम पड़ता हैं की ऐ क्या कहते हैं!नो हॉर्न का सिम्बोल हम देखते हैं!उसे पड़ते नहीं सिर्फ समजते हैं!निचे दिए गए सिम्बोल से हम जान लेंगे की क्या सूचना हैं!अगर इस सिम्बोल को हम लिखेंगे तो क्या लिखेंगे?


⬆....⬇.... ↗..... ↘....

और हाँ...
जो आगे लिखा हैं वो इस लिए भी नहीं पढ़ पाते!आप शब्द लिखके समज ते हैं मगर वो गलत तरीको से लिखा गया हैं!अगर कुछ दिखता हैं मगर उसे हम सिम्बोल कहते हैं!

अगर एक तरीके से देखा जाए तो इसे दो मूलाक्षर से कुछ लिखा हैं!जोडाक्षर की पेटन यहाँ पे दिखाई देती हैं!गुजराती भाषा में जोडाक्षर के चार प्रकार हैं!

1.सदंडी जोडाक्षर...

2.दंड रहित जोडाक्षर...

3.लोप जोडाक्षर...

4.' र ' के उच्चारण वाले जोडाक्षर...

जोडाक्षर एक भाषा की तहत तय किया गया हैं!भिन्न भिन्न नियमो के आधीन ये काम होता हैं!सबसे पहले बोली और बादमे भाषा बनती हैं!इसके कुछ नियम हैं...

यहाँ पे दिया गया 'ब' स दंडी प्रकारमे आने वाला मूलाक्षर होनेकी बजह से ब स दंडी मूलाक्षर हैं!नियम ऐसा हैं की इसके पीछी दंड रहित मूलाक्षर कभी नहीं जुड़ता!जेसे की इक प्रत्यय लगाने से हस्व 'इ' लिखते हैं !यह नियम हैं!वेसे ही यह नियम हैं!सदंडी और दंड रहित में नियम ऐसा हैं की हमारी गुजराती भाषामे सदंडी ही जुड़ता हैं!तमिल...कन्नड़...मलयालम भाषा ऐसी हैं की उसके नियम कुछ अलग हैं!हो सकता हैं की किसी और भाषा में इसे पढ़ा जा सके!पंजाबी भाषा ऐसी हैं की जिसमे जोडाक्षर हैं ही नहीं!भारत की एक मात्र भाषा जिसमे जोडाक्षर नहीं हैं!

अब हमारी बात...

क्या हम गुजराती में દડો को 3ડો लिख सकते हैं?

अगर उसे गुजराती में पढेंगे तो उसे 'त्रण डो ' पढ़ना होगा!यहाँ त्रण डो हैं...दड़ो नहीं लिखा हैं!अगर उसे दड़ो नहीं लिखा हैं तो त्रण डो को दड़ो नहीं पढ़ सकते!जेसे उसे लिख नहीं सकते वेसे ही उसे पढ़भी नहीं सकते...

समजे?

चाय बनानेकी प्रक्रिया सेइम होने के बावजूदभी लेमन टी और मिल्क टी समान नहीं हैं!ऐ लिखा ही गलत गया हैं!पर ऐसी कई जानकारी हम इकठ्ठा कर रहे हैं!आप के कोई सवाल हो तो मेरा संपर्क करें!हम उसे खोजनेका प्रयत्न करेंगे!

Saturday, December 10, 2016

innovative teachers video ...

शिक्षा देना एक पवित्र व्यवसाय हैं!शिक्षाकर्मी को हम देखते हैं!आधुनिक समयमे शिक्षा में भी कई बदलाव देखे जा सकता हैं!समयकी माग हैं की शिक्षाको वैश्विक तोर पे देखा जाए!जो लोग शिक्षा से जुड़े हैं उनको मालूम हैं की शिक्षामे कई समस्या सामने आती हैं!
बछोका अनियमित रूप से स्कूलमे आना!नामाकन करवाने के बाद शिक्षा पूर्ण होने से पहेले पढ़ाई छोड़ देना!ऐ समस्या सिर्फ भारत की नहीं  हैं! ऐ समस्या वैश्विक समस्या हैं! हम ऐ भी जानते हैं की अध्ययन और अध्यापन के दोरान भिन्न भिन्न समजशक्ति वाले बच्च्जो के साथ काम करना होता हैं!भिन्न भिन्न समज शक्ति वाले बच्चो को केसे एक साथ पढ़ाया जाए?!
यहाँ में शिक्षा से जुडी समस्योके बारेमे लिखना नहीं चाहता!में तो यहाँ कुछ ऐसी बात लिखना चाहता हूँ!कुछ शिक्षक ऐसे हैं जो की ऐसी समस्याओ के सामने उन्होंने कुछ रस्ते निकले हैं! सिर्फ रस्ते निकले हैं ऐसा नहीं हैं!ऐसा भी हैं की उन विचारो को कही और अजमाया गया तो वहा भी अच्छे परिणाम मिले हैं! ऐसे अध्यापकोने अपने नवाचार को आई.आई.एम तक पहुंचाए!इन नवचारको एज्युकेशन इनोवेशन बेंक की कोर टीमने देखा...समजा और उसको प्रस्थापित किया! इस विचारको अन्य संकुल या परिथितिमे अमली करवाया!
आज उनके कार्यके बारेमे एज्युकेशन इनोवेशन बेंक प्रोफ़ेसर विजया शेरिचंद के मार्गदर्शनमें प्रोजेक्ट हेड श्री अविनाश भंडारी,को.ऑर्डिनेटर मेघा गज्जर, संकेत और लालजीभाई के सहयोगसे विडिओ मटेरियल का निर्माण हो रहा हैं!कई अध्यापक ऐसे थे की वो किसी बजह से अपना विडिओ हमे भेज नहीं पाए!भेज नहीं पाते थे!ऐसे बाकी अध्यापको को की जानकारी तयार करने हेतु आई.आई.एम के विंग 6 में एक प्रोग्राम रेकोर्दिन्ग्का वन डे वर्क ख़तम हुआ!मेरे साथ कोर टीम की सदस्या प्रीती गाँधी जुडी थी!हमने मिलके 20 से अधिक अध्यापको के बारेमे विडिओ डोक्युमेंट बनाया!

ऐसे और अध्यापको के बारेमे भी  वीडियो बना रहे हैं! इस काम में आपके सुजाव नया आयाम देंगे!

शुभमस्तु:1