Showing posts with label Just think. Show all posts
Showing posts with label Just think. Show all posts

Sunday, September 15, 2019

हम मूर्ख है...



एक बार एक अजनबी किसी के घर गया । वह अंदर गया और मेहमान कक्ष में बैठ गया । वह खाली हाथ आया था तो उसने सोचा कि कुछ उपहार देना अच्छा रहेगा । उसने वहाँ टंगी एक पेन्टिंग उतारी और जब घर का मालिक आया ।उसने पेन्टिंग देते हुए कहा, यह मै
आपके लिए लाया हूँ । घर का मालिक, जिसे पता था कि यह मेरी चीज मुझे ही भेंट दे रहा है, सन्न रह गया । अब आप ही बताएँ कि क्या वह भेंट पा कर, जो कि पहले से ही उसका है, उस आदमी को खुश
होना चाहिए ?

मेरे ख्याल से नहीं । लेकिन यही चीज हम भगवान के साथ भी करते हैं । हम उन्हें रूपया, पैसा चढाते हैं और हर चीज जो उनकी ही बनाई है, उन्हें भेंट करते हैं । लेकिन मन  में भाव रखते है की यह चीज मै भगवान को दे रहा हूँ और सोचते हैं कि ईश्वर खुश हो जाएगें ।

मूर्ख हैं हम। हम यह नहीं समझते कि उनको इन सब चीज़ों की कोई जरुरत नहीं । अगर आप सच में उन्हें कुछ देना चाहते हैं तो अपनी श्रद्धा दीजिए, उन्हें अपने हर एक श्वांस में याद कीजिये और विश्वास कीजिए, प्रभु जरुर खुश होगें ।

अजब हैरान हूँ भगवन्,
तुझे कैसे रिझाऊं मैं ।
कोई वस्तु नहीं ऐसी,
जिसे तुझ पर चढाऊं मैं ।

भगवान ने जवाब दिया : संसार की हर वस्तु तुझे मैनें दी है । तेरे पास अपनी चीज़ सिर्फ़ तेरा अहंकार है, जो मैनें नहीं दिया। उसी को तू मेरे अरपण कर दे । तेरा जीवन सफल हो जायेगा।


#एक विचार

क्यों हम आगे का सोचकर दुखी होते है? हमे भी 'सरकार' की तरह पंच वर्षीय योजना अपने जीवन में अमली करनी चाहिए।

Saturday, May 4, 2019

અનોખી ભેટ...



એક મેલીધેલી છોકરી. થોડાક દશકથી સૂર્યનારાયણની ગરમી વધી છે,ધરતીમાતા વ્યાકુળ બની છે,પવનદેવ ફુગર્યા છે,જાફરાબાદ ના દરિયાકિનારાના પાણી તપ્યા છે.કાળઝાળ ગરમીમાં જેને પગ અને પાંખો છે તે પોતીકો મારગ શોધી લે. ત્યાં અમારું શું...?
  
    
એક એવી છોકરી જેના શરીર પર હાડ મેલ જામી ગયેલો.માથાના વાળ શાહુડીનાં પીંછા જેવા થઈ ગયેલા.પાણીની વ્યવસ્થા માટે ભરવાનું પાત્ર ક્યાં ..? માટે નાહવાનો લાભ જ ક્યાં.
શાળાએ આવતા જતા ઘણીવાર એ મને સામે ભટકાઈ જતી.એનાથી બે ફૂટ દૂર હોઈએ તોય નાક દુર્ગધથી ભરાઈ જતું.મને બાળકો ગમતા.દયાભાવ પણ ખરો,પણ અસ્વચ્છતાથી ભારે સૂગ.ઘણીવાર એને સમજાવું પણ પથ્થર ઉપર પાણી.

મારા વર્ગમાં અભ્યાસ કરતી દેવી પૂજક ની જ્ઞાતિમાંથી આવતી ધોરણ બે ની વિદ્યાર્થીની ચુડાસમા શારદા બાળપણથી જ માતા ગુમાવી પિતા અને મોટી બહેનને ટીબી નામના રોગે ભરડો લીધો પથારી વશ કરી દીધા.દાદીમા જોડે રહીને આખો દિવસ પોતાના પિતા અને તેમના પેટનો ખાડો પુરવા ભીખ માંગીને બટકું-બટકું  ભેગું કરે.પોતાના શરીર ને ઢાંકવા માટે છ મહિનાથી બે જોડી જ કપડા હતા. તેમાં એક તો શાળાનો યુનિફ્રોમ.

જેમના ઘરે રાંધવા માટે તેલનું ટીપું  ના હોય તે પોતાના માથામાં તેલ નાખીને શાળાએ કેવી રીતે આવે..? જેમના મકાનની ઉપરની છત ના હોય તે પોતાની પગની છત કેવી રીતે ઢાંકે...? અવારનવાર વાલી સંપર્ક કરવાનો થાય ત્યારે આ દ્રશ્ય કઈક અલગ જ તરી આવતું. આજે આશા એ જાગી કે આ ચપલ આ દીકરી ને  પહેરાવવાનો મને વિચાર સ્ફુર્યો છે. ખૂબ આનંદ થયો.
  
શ્રી મિતિયાળા પ્રા.શાળા
તા.જાફરાબાદ જિ. અમરેલી

રઘુ રમકડું...
(વહાટ્સ એપ માં મળેલ વિગત,કોઈ પણ સુધારા વગર આપ સૌ માટે છે.)

Saturday, April 27, 2019

पहले चुनाव की सबसे बड़ी समस्या




कुछ भी काम अगर करना हैं तो सामने सवाल भी बहोत सारे होंगे। आजकल चुनाव का माहौल हैं। आज हम EVM से चुनाव कर रहे हैं। आज से कुछ साल पहले विधानसभा ओर लोकसभा के चुनाव के दौरान मतपेटी का इस्तेमाल होता हैं। जो चुनाव बैलट से होते हैं।वो सारे मतदान पेटी में मत डालने से होता हैं।
भारत में लोकसभा का पहला चुनाव था। मुख्य चुनाव आयुक्त के सामने सवाल था की मतपेटी कैसी बने।दूसरा सवाल था की मतदान के बाद उसे कोई खोल न पाए ऐसी व्यवस्था भी चुनाव के लिए महत्वपूर्ण थी। चुनाव आयोग ने हर मत पेटी को ताला लगाने का फैसला किया था। अब होता यरे था की ताले से चुनाव आयोगका खर्च दुगना हो जाता था।1.96 लाख मतदान मथक के लिए 12 लाख 84 हजार मतदान पेटी बनानी थी। इसे बनाना था। कोई भी मेन्यूफेक्चरिग यूनिट चार महीनों में आए काम नहीं कर सकता था।

गुजरात के एक मजदूर जो मुम्बई में इसी यूनिट में काम कर रहे थे जिन्हें मतदान पेटी बनाने का मौका मिला था। ताला लगाने के खर्च के कारण चुनाव आयोग पीछे पड़ने की तैयारी में था। तब मूल गुजराती ओर महाराष्ट्र में कामर्थे पहुंचे नाथालाल पंचाल ने एक पेटी की डिजाइन बनाई। इस पेटी में 2 लोक ऐसे रखे जिन्हें लाख से सील करदिया जाता था। अगर कोई मतदान पेटी खोलता हैं तो उसे सबसे पहले सील तोड़ना पड़ता था।
इस रास्ते से हमारे देश को नाथालाल पंचाल के द्वारा बनाई गई मतपेटी से गफला न हो सके ऐसा चुनाव हो पाया। 82000 टन लोखंड से ये मतपेट तैयार होकर देश में पहुंचाई गई।
बगैर ताले के मतपेटी की ऐसी डिजाइन बनी जो आजतक चल रही हैं।


जय हिंद:


हर नेता,कार्यकर ओर राजनीतिक पार्टी को इस के बारे में समझना चाहिए। क्यो आज दिन उनका कही सन्मान नहीं सुना। विश्व में सबसे बडा लोकतंत्र होने के बावजूद लोकशाही को जीवंत बनाने वाले श्री नाथालाल पंचाल का पद्म श्री हो ऐसी नई आने वाली सरकार को प्रार्थना।

Wednesday, December 26, 2018

साधुओं के ड्रेस में फैशन...👍

जीवन क्या हैं।
एक तरफ खुशी और एक तरफ विश्वास। जो लोग अपने जीवन के रंग बना देते हैं, उनका चित्र आगे जाके बहोत सारे सफलता का रंग अच्छा हॉग हैं। आप जो तस्वीर देखते हैं और आपको लगता होगा कि मुजे भी ऐसी फोटो खिंचाने का मौका मिले। जी आप को इस के लिए उदयपुर जाना हैं। यहां ऐसे महतो को नया लुक उनके पंथ के नाम से वैसे ही कपड़े डिजाइन करते हैं जो लोग वो आर्य फेब्रिक आर्ट के नामसे संतो महतो को उनकी डिजाइन फशन डिजाइनर काम करते हैं। शंकरेश्वर दास इस फोटो में दिखस्ता हैं।


आप भी आपकी बात उनतक पहुंचाओ आप के लिए भी आर्य समाज की पहनावा आएगा। आए गेरंटी के आप यहां काम करते हैं तो काम अच्छा होगा। आज यहाँ नवाचार के माध्यम से आगे बढ़ा हैं।


सरकुम:

मेरा ड्रेसकोड कन्फॉम हैं।
जिसन मेरी पहचान बनाई हैं।
पेंट ओर शर्ट साथ में सूज।

Tuesday, November 13, 2018

અમદાવાદ કે કર્ણાવતી


અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવાને લઈને હાલમાં ભારે વિવાદ ઉભો થયો છે. પ્રતિદિવસે અમદાવાદના નામને બદલવાને લઈને રાજકારણીઓના નિવેદનો આવતા હોય છે. હાલમાં જ વિશ્વ હિન્દુ પરિષદે પણ અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવાની તરફેણ કરી છે. તેવામાં એક તરફ અમદાવાદના નામ બદલવાને લઈને વિરોધ ચાલી રહ્યો છે. આ બધા શોરબકોર અને અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવાને લઈને હાલમાં ભારે વિવાદ ઉભો થયો છે. પ્રતિદિવસે અમદાવાદના નામને બદલવાને લઈને રાજકારણીઓના નિવેદનો આવતા હોય છે. હાલમાં જ વિશ્વ હિન્દુ પરિષદે પણ અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવાની તરફેણ કરી છે. તેવામાં એક તરફ અમદાવાદના નામ બદલવાને લઈને વિરોધ ચાલી રહ્યો છે. આ બધા શોરબકોર અને વિરોધ વચ્ચે અમદાવાદના એક વકીલે વિરોધ નોંધાવતા અમદાવાદનું નામ યથાવત રાખવા ઓનલાઈન પીટિશન ફાઈલ કરી અભિયાન શરૂ કર્યું છે. આ પીટિશનને ત્રણ દિવસમાં જ ભારે પ્રતિસાદ સાંપડયો છે.

અમદાવાદ નામ શહેરીજનોની એક ઓળખ બની ગઈ છે. આ નામ યથાવત રહે તે માટે અમદાવાદના વકીલ બંદીશ સોપારકરે ઓનલાઈન પિટિશન ફાઈલ કરી નામ નહિ બદલવા વિરોધ દર્શાવ્યો છે. WWW.CHANGE.ORG વેબસાઈટ પર ઓનલાઈન પીટીશન કરી લોકોનો અભિપ્રાય મેળવતા ત્રણ દિવસમાં જ નામ યથાવત રાખવામાં આવે તેવો પ્રતિસાદ જોવા મળ્યો છે. આ વકીલ દ્વારા વેબસાઈટ પર ફાઈલ કરાયેલી પીટિશનમાં અમદાવાદનો ઐતિહાસિક આધાર રજૂ કરીને તેનું નામ ન બદલવા જનમત માંગવામા આવી રહ્યો છે. સોમવારની સાંજ સુધીમાં જ 12 હજારથી વધુ સોશિયલ મીડિયાના યૂઝર્સે અમદાવાદનું નામ કર્ણાવતી ન કરવા મુખ્યમંત્રીને વિનંતી કરતા પત્રને સમર્થન આપ્યું છે.

આ ઓનલાઈન પીટિશનરે અમદાવાદનું નામ ન બદલાય તે માટે મુખ્યમંત્રી વિજય રૂપાણી અને નાયબ મુખ્યમંત્રી નીતીન પટેલને પણ પત્ર લખ્યા છે. આ પીટિશનમાં ત્રણ મુદ્દાઓ પર ભાર મુકાયો છે. જેમાં સરકાર પાસે સોશિયલ અને ઈકોનોમીકને લગતા કરવા માટે ઘણા અગત્યના કામો છે. સરકાર માટે નામ કરણ જેવું કામ ના હોવું જોઈએ સાથે સાથે અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવું તે સંવિધાનની વિરુદ્ધ છે. તેમજ જો નામ બદલવું જરૂરી હોય તો સરકારે તેનો કોઈ પુરાવો લોકો સમક્ષ રજુ કર્યો નથી. આ તમામ મુદ્દાઓ આ ઓનલાઈન પીટિશનમાં ઉલ્લેખ કરાયો છેવિરોધ વચ્ચે અમદાવાદના એક વકીલે વિરોધ નોંધાવતા અમદાવાદનું નામ યથાવત રાખવા ઓનલાઈન પીટિશન ફાઈલ કરી અભિયાન શરૂ કર્યું છે. આ પીટિશનને ત્રણ દિવસમાં જ ભારે પ્રતિસાદ સાંપડયો છે.

અમદાવાદ નામ શહેરીજનોની એક ઓળખ બની ગઈ છે. આ નામ યથાવત રહે તે માટે અમદાવાદના વકીલ બંદીશ સોપારકરે ઓનલાઈન પિટિશન ફાઈલ કરી નામ નહિ બદલવા વિરોધ દર્શાવ્યો છે. WWW.CHANGE.ORG વેબસાઈટ પર ઓનલાઈન પીટીશન કરી લોકોનો અભિપ્રાય મેળવતા ત્રણ દિવસમાં જ નામ યથાવત રાખવામાં આવે તેવો પ્રતિસાદ જોવા મળ્યો છે. આ વકીલ દ્વારા વેબસાઈટ પર ફાઈલ કરાયેલી પીટિશનમાં અમદાવાદનો ઐતિહાસિક આધાર રજૂ કરીને તેનું નામ ન બદલવા જનમત માંગવામા આવી રહ્યો છે. સોમવારની સાંજ સુધીમાં જ 12 હજારથી વધુ સોશિયલ મીડિયાના યૂઝર્સે અમદાવાદનું નામ કર્ણાવતી ન કરવા મુખ્યમંત્રીને વિનંતી કરતા પત્રને સમર્થન આપ્યું છે.

આ ઓનલાઈન પીટિશનરે અમદાવાદનું નામ ન બદલાય તે માટે મુખ્યમંત્રી વિજય રૂપાણી અને નાયબ મુખ્યમંત્રી નીતીન પટેલને પણ પત્ર લખ્યા છે. આ પીટિશનમાં ત્રણ મુદ્દાઓ પર ભાર મુકાયો છે. જેમાં સરકાર પાસે સોશિયલ અને ઈકોનોમીકને લગતા કરવા માટે ઘણા અગત્યના કામો છે. સરકાર માટે નામ કરણ જેવું કામ ના હોવું જોઈએ સાથે સાથે અમદાવાદનું નામ બદલીને કર્ણાવતી કરવું તે સંવિધાનની વિરુદ્ધ છે. તેમજ જો નામ બદલવું જરૂરી હોય તો સરકારે તેનો કોઈ પુરાવો લોકો સમક્ષ રજુ કર્યો નથી. આ તમામ મુદ્દાઓ આ ઓનલાઈન પીટિશનમાં ઉલ્લેખ કરાયો છે.


સરકુમ:

નામ બદલાવાથી કશું ન થાય.
તમે મન બદલો તો નામ બદલાવું   જરૂરી નથી.
22 વર્ષથી સરકાર છે. ચાર વર્ષ કેન્દ્રમાંય BJP ની સરકાર આવે છે.

સરકાર, હું તો ન બદલું.
નામ કે નિયમ.
વાત કે વેવાર.
સાથ કે સાથી.

બોલુ એ કરું જ.
નામ બદલાવું જોઈએ.
જો જારૂર હોય તો કારણ સરકાર કહે.
અને બદલાવું પડેે તો સરકાર કહે તે સાચું.

Saturday, September 29, 2018

समस्या और समाधान


एक बहुत ज्यादा जटिल समस्या आपको बहुत ज्यादा परेशान कर सकती है और इसे हल करना आपके लिए काफी कठिन भी हो सकता है। अगर आपके सामने एक-से ज्यादा समस्याएँ हैं, तो उन्हें छोटे-छोटे भागों में बाँट लें और फिर एक-एक कर के उनका सामना करें। अगर आप अपनी समस्या को छोटे-छोटे भागों में बाँट लेंगे, तो इससे आपको इनके हल की तलाश करने में आसानी होगी। भले पूरी समस्या हल न हो, उस के बारेंमे जानकर भी कुछ अच्छा कर सकते हैं। 

जैसे कि, अगर आपको किसी क्लास को पास करने के लिए बहुत सारे असाइनमेंट्स पूरे करने हैं, तो पहले इस बात पर ध्यान लगाएँ, कि आपको कितने असाइनमेंट पूरे करने हैं, फिर उन्हें एक-एक कर के पूरा करने की कोशिश करें। सिर्फ खुशिया बाटने से बढ़ती हैं वो आपनके सुना होगा। बस, वैसे ही दर्द और काम के बारे में अपनों को बताना जरूरी हैं। कुछ बाते ऐसी होती हैं जिस में दरार पड़ने से मजबूती ओर बढ़ती हैं। देखिए ओर याद कीजिए। मीठे जगड़े के बाद जब पति पत्नी साथ बैठते हैं तो प्यार बढ़ता हैं। महसूस होता हैं।

जब कभी भी आप से हो सके, तो किसी भी समस्या को एक करके और फिर हल करने की कोशिश करें। जैसे कि, अगर आपके पास में पढ़ाई करने के लिए वक़्त नहीं बचा है, तो फिर क्लास की तरफ जाते वक़्त रिकॉर्ड हुए लेक्चर को सुनें या फिर डिनर का इंतज़ार करते हुए आपके नोट्स ही पढ़ लें। बस,छोटी छोटी बुराइयों को छोड़कर जो अच्छा है उस पर ध्यान केंद्रित करें।

सरकुम:
जो है सो हैं,
न कुछ बदलेगा,
न कुछ बिगडेगा।
बस, सोच को मजबूत करो।
बस, सोच कर ही कदम भरो।

Sunday, September 9, 2018

जिन्दजी के मोड़

जिन्दजी जिन्दजी है।
आशा और निराशा के साथ चलती हैं। कभी हमे लगता हैं, जो हम चाहेंगे वो होगा। ऐसा न होनेपर हम मायूस रहने लगते हैं।हमारी गलती ये हैं कि हम पहले सोच लेते हैं,बाद में ऐसा न होने पर या कुछ कम होता हैं,तब जाके हम मायूस होते हैं। अब ऐसा होता हैं तब हमें लगता हैं कि हमारी जिन्दगी जैसे अच्छे से बुरे मोडमें अचानक आ गई शायद इसी तरह, जिन्दगी  फिरसे अचानक मोड़ ले लेती हैं। इस के लिए हमे हमारी आशा जीवन्त रखनी चाहिए। कुछ ऐसा होता हैं। जिसनके लिए हम अधिक चिंतित होते हैं। जब उसको फिक्र बढ़ जाती हैं, ओर एक आसान से  तरीके से हमे कुछ ऐसा मिलता हैं तो हमारेके लिए अच्छा नहीं बहोत अच्छा हो जाता हैं।

आज कुछ ऐसी घटनाएं बनी जो मुजे फिरसे मजबूत कर गई।
मुजे जिस डॉक्यूमेंट की ज्यादा फिक्र थी वो जैसे आसान हो गए। जो सवाल की वो कहा हैं,उसका भी सटीक जवाब ओर कुछ आसार आते हैं तो फिर से जीवन में शांति का अनुभव होता हैं।


@#@

जिन्दजी जिंदा रहने वालों की हैं।
मरने के बाद तो सारी दुनिया कुछ दिनों में भूल जाती हैं।
इस लिए जिंदा रहना हैं, उससे महत्व पूर्ण हैं की अच्छे से ओर शांति से जीवन पसार हो। व्यतीत होना और व्यवस्थित होना,इस दोनो में फर्क हैं। कुछ दिनों में उसके ऊपर हम लिखेंगे।


Monday, September 3, 2018

मोत की राह: उम्र 181

क्या ऐसा हो सकता हैं। आज से कुछ सालों पहले मेने लिखा था। एक व्यक्तिने 124 साल की उम्र का दावा करते हुए गिनिस बुक में दावा किया था। साथ में 104 की उम्र के साथी ने मेरेथोन में हिस्सा लेकर दौड़ पूरी की थी।
आज मेरे पास ऐसी न्यूज़ आई।हैदराबाद से ये खबर मिली। 181 साल की उम्र का दावा हैं। पेपर में लिखा हैं 'शायद मोत मेरा रास्ता भूल गई हैं.'वाराणसी में ये रहते हैं।उनका नाम महस्टा मुरासी हैं।1835 में बेंगलूर में पैदा हुए थे।वो 1903 में वाराणसी रहने को आये थे।अपनी 122 की उम्र तक उन्होंने काम किया। आज वो मोत का इंतजार कर रहे हैं।

@#@
उनको मोत का इंतजार हैं।
अगर मेरा इंतजार खत्म नहीं हुआ तो मोत आएगी।

Sunday, September 2, 2018

धर्म और शीतला सातम

आज शीतला सातम हैं।
एक त्योहार के तौर पर हम उसे मनाते हैं। ठंडा खाना और घर में चुला न जलाने जैसे नियम हम सुनते हैं।ऐसे नियमो पर कार्य करते हैं।आज धर्म और विज्ञान को साथ देखने का भी दिन हैं। शीतला की रसी के शोधक एडवर्ड जेनर ने उसको खोजा। हमारे उलटे हाथ पर उस रसी यानी वेस्किन दी जाती थी। 1798 से 98 के बीच उस रोग को काबू करने के लिए उन्होंने इस को खोजा। आज पूरी दुनिया शीतला के रोग से मुक्त हैं।

धर्म उसकी जगह सही होगा। शायद घर में एक दिन 'भोजनोत्सव' का कुछ प्लानिग होगा। जो भी हो आज उन्हें याद किये बगैर हम ठंडा खाना भी नहीं खा सकते हैं। ऐसी कुछ खोज जिससे पहले लोग कुदरत या भगवान का प्रकोप मानते थे। आज भारत पोलियो मुक्त हैं। सारी क्रेडिट अमिताभ बच्चन ले गए। रविवार को घर घर और गाँव गाँव जाकर पोलियो की दो बूंद पिलाने वालो को कोई याद नहीं करता हैं।आज ठंडा खाना और ठंडा रहना आवश्यक हैं। 

@#@
विज्ञान और धर्म...
जहाँ से धर्म खत्म होता हैं,विज्ञान शुरू होता हैं। जहाँ से विज्ञान का अंत होता हैं,शायद वही से धर्म पे आस्था बढ़ती हैं।

Sunday, August 5, 2018

તું છે...એટલે...



આજે મિત્રોનો દિવસ.
આજે કખાસ દિવસ જે મિત્રો છે.
મારેય ખૂબ મિત્રો છે.મારી ઈઓડે બે જ વિકલ્પ છે
એક કે મિત્ર છે.બીજો જે મિત્ર નથી.મિત્ર નથી એનો સીધો અર્થ એ કે તે મારા જીવનમાં નજીક કે ખાસ નથી.આવા જ અર્થની એક કવિતા આજના દિવસ માટે.મારા મિત્રો માટે.


તું છે એટલે...

તું મિત્ર છે એટલે જ તો તું ખાસ છે ,
આ હ્રદયની એટલે જ તો તું પાસ છે ,
એક એક પળે  સુદામા થઇને બેઠો છું ,
મારા માટે તો તું રાધા સાથે નો રાસ છે !

વાવી છે લાગણીઓને ખૂબ ખંતથી મેં ,
હર  જન્મે લણીશ બસ એવી આશ છે;
હા હું તારી જેટલો અમીર નથી કોઇ રીતે ,
 હ્રદયના હર ધબકારે તારો  નિવાસ છે !

એક એક પાંદડીઓને ગૂંથી છે ગજરામાં ,
લાખો જન્મારાની એ આજે સુવાસ  છે
કસોટીની એરણ પર ન ચડાવીશ મને હો ,
તું નથી તો પછી આ જીવન જ લાશ છે !

@#@

મિત્રો માટે મારી વાત.
નથી જોઈ કોઇ જાત કે પાત.
બસ,ખબર પડે એટલે આજે કે,
મિત્રો મારી છે મારી ખાસ સૌગાત.

Tuesday, July 24, 2018

साम पित्रोडा


गुजरात के गौरव।
सुरेन्दनगर के रत्न जिन्होंने दुनिया में भारत को पहचान दिलाई हैं।हम आज जो संदेशा व्यवहार और बैंकिग में सुविधा भुगत रहे हैं,उसके पीछे साम पित्रोडा का हो हाथ हैं।उनका मानना हैं कि हम धर्म के माध्यम से देश को चलाना चाहते हैं।उनका मानना हैं कि हमारे युवान आज अपने विकास को भूलकर किसी ओर माध्यम से विकास को देख रहे हैं,ढूंढ रहे हैं।युवाओ की सोच को पोलिटिकल सोच और नजरिया दिया गया हैं।
उन्होंने गुजरात के एक कॉलेज में युवा एसेम्बली में बोलते हुए कहा कि हमारे देश को कोई मंदिर या राम मंदिर की जरूरत नाउं हैं,हमारे देश को रोजगार और स्किल केश हो पाए ऐसी आवश्यकता हैं।और उसे दूर से ही दूसरे चश्मे पहनाए जाते हैं।साम या सेम पित्रोडा कोंग्रेस के करीबी हैं।राजीव गांधी के वो विज्ञान सलाहकार रहे हैं।विश्व के कई सारे देशों के साथ टेक्निकली स्पोर्ट का वो काम कर रहे हैं।

@#@
साम पित्रोडा गुजराती बोलते हैं।मगर उनकी गुजराती सुनने में खुशी होती हैं।में उन्हें 2 बार मिला हूं।मेने उन्हें बोलते हुए भी सुना हैं।वो गुजराती हैं,में गुजराती हु इसका मुजे गौरव हैं।

Sunday, July 15, 2018

सुंदरता और संस्कार



सुन्दर महिला ने विमान में प्रवेश किया और अपनी सीट की तलाश में नजरें घुमाईं। उसने देखा कि उसकी सीट ऐसे व्यक्ति के बगल में है, जिसके दोनों ही हाथ नहीं है। महिला को उस अपाहिज व्यक्ति के पास बैठने में झिझक हुई। 
उस महिला ने एयरहोस्टेस से बोला "मै इस सीट पर सुविधापूर्वक यात्रा नहीं कर पाऊँगी। क्योंकि साथ की सीट पर जो व्यक्ति बैठा हुआ है उसके दोनों हाथ नहीं हैं।" उस महिला ने एयरहोस्टेस से सीट बदलने हेतु आग्रह किया। 
असहज हुई एयरहोस्टेस ने पूछा, "मैम क्या मुझे कारण बता सकती है..?"
'सुंदर' महिला ने जवाब दिया "मैं ऐसे लोगों को पसंद नहीं करती। मैं ऐसे व्यक्ति के पास बैठकर यात्रा नहीं कर पाउंगी।"
दिखने में पढी लिखी और विनम्र प्रतीत होने वाली महिला की यह बात सुनकर एयरहोस्टेस अचंभित हो गई। महिला ने एक बार फिर एयरहोस्टेस से जोर देकर कहा कि "मैं उस सीट पर नहीं बैठ सकती। अतः मुझे कोई दूसरी सीट दे दी जाए।"
एयरहोस्टेस ने खाली सीट की तलाश में चारों ओर नजर घुमाई, पर कोई भी सीट खाली नहीं थी। 
एयरहोस्टेस ने महिला से कहा कि "मैडम इस इकोनोमी क्लास में कोई सीट खाली नहीं है, किन्तु यात्रियों की सुविधा का ध्यान रखना हमारा दायित्व है। अतः मैं विमान के कप्तान से बात करती हूँ। कृपया थोडा धैर्य रखें।" ऐसा कहकर होस्टेस कप्तान से बात करने चली गई। 
कुछ समय बाद लोटने के बाद उसने महिला को बताया, "मैडम! आपको जो असुविधा हुई, उसके लिए बहुत खेद है | इस पूरे विमान में, केवल एक सीट खाली है और वह प्रथम श्रेणी में है। मैंने हमारी टीम से बात की और हमने एक असाधारण निर्णय लिया। एक यात्री को इकोनॉमी क्लास से प्रथम श्रेणी में भेजने का कार्य हमारी कंपनी के इतिहास में पहली बार हो रहा है।"
'सुंदर' महिला अत्यंत प्रसन्न हो गई, किन्तु इसके पहले कि वह अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करती और एक शब्द भी बोल पाती... एयरहोस्टेस उस अपाहिज और दोनों हाथ विहीन व्यक्ति की ओर बढ़ गई और विनम्रता पूर्वक उनसे पूछा "सर, क्या आप प्रथम श्रेणी में जा सकेंगे..? क्योंकि हम नहीं चाहते कि आप एक अशिष्ट यात्री के साथ यात्रा कर के परेशान हों।
यह बात सुनकर सभी यात्रियों ने ताली बजाकर इस निर्णय का स्वागत किया। वह अति सुन्दर दिखने वाली महिला अब शर्म से नजरें ही नहीं उठा पा रही थी।
तब उस अपाहिज व्यक्ति ने खड़े होकर कहा, "मैं एक भूतपूर्व सैनिक हूँ। और मैंने एक ऑपरेशन के दौरान कश्मीर सीमा पर हुए बम विस्फोट में अपने दोनों हाथ खोये थे। 
'सुंदर' महिला पूरी तरह से शर्मिंदा होकर सर झुकाए सीट पर बैठ गई।

@#@
व्यक्ति ला अपाहिज होना कुदरत के हाथमें हैं।मगर उसे नजर अंदाज करना हमारे हाथोंमें होता हैं।

Monday, July 9, 2018

शिक्षा में विचार


आप पोस्टर देखेंगे।

आईं स्टाइन ने कहा हैं।
आप उस भाव को तो समझ गए होंगे।मुजे कुछ कहना नहीं हैं।विचार के सर्जन के किए शिक्षा आवश्यक हैं।मगर इसे कहने में मजा हैं,सुन ने में मजा हैं मगर इसे इम्प्लीमेंट करते समय हम सिर्फ फेक्ट ओर फिगर के प्रति ही ध्यान देते हैं।सवाल उठने चाहिए।ऐसी थिंकिंग प्रोसेस आवश्यक हैं।इसको कक्षा एक से पाठ्यक्रम में लिया गया हैं।सभी कक्षा के सभी विषय में जहाँ जो भी स्किल का चांस मील उसे बच्चो के सामने रखने का अवकाश देती हैं।पाठ्यक्रम NCERT का हो या स्थानीय काउंसिल का मगर इन चीजों के बारे में कुछ सोचके रखा होता हैं।मगर न जाने क्यों सिर्फ फेक्ट ओर फिगर चलते हैं।

@#@
शिक्षा याने बच्चो की दुनिया।
जजिस में सिर्फ बच्चो का अधिकार होता हैं।हम सिर्फ उन्हें सुविधा प्रदान करनी होती हैं।

Wednesday, July 4, 2018

नया विचार:नई कहानियां...

मेरी कहानियां।
मेरे नाम से कहानियां कहने का रिकॉर्ड। जहाँ भी जाना हुआ।कहानी कहानी पडती।संगीत के शोख ने मुजे ओर सहयोग दिया।star मेकर ऐप के सहयसे कहानियां कहने का नया तरीका सोचा।जो लोग उसे सुनते हैं,कोई न कोई सुजाव देते हैं।वैसे सुजावो को में रोज़ सुधारने को तैयार हूं।आप भी अपने सुजाव भेजे।
कहानियों को ओर बहेतर ओर बच्चों की पसंदीदा बनाने के लिए उसे स्टूडियो में बुक करवाने का आयोजन हैं।जो होगा,आप को अवगत किया जाएगा।
2236 संयुक्ताक्षर के बगैर जी कहानिया लिखने के लिए मेने 10000 से अधिक कहानियां पढ़ी होगी।आज मुजे कहानी कहने का शोख हुआ हैं।ये शोख बड़ी चीज हैं।आप का सहकार मिला तो ये कहानियां में कुछ न कुछ खास होगा।

@#@
इस कहानियों को 'जीवंत वार्ता' के नाम से शुरू करने जा रहे हैं।आप का सहकार चाहिए उसे फैलाने में ओर सुधारने में।आशा हैं कि ये काम आप बखूबी निभाएंगे।

Friday, May 18, 2018

વિજ્ઞાન અને ધર્મ


આપણી આસપાસ અનેક બાબતો એવી છે,જે અંગે આપણે બધી જ બાબત જાણતા નથી.કેટલીક ધર્મ સાથે તો કેટલીક વિજ્ઞાન સાથે જોડાયેલ છે.કેટલીક બાબતો એવી છે કે આપણે તેને પરિવાર સાથે કે પરિવારના સિદ્ધાંત સાથે જોડી દઈએ છીએ. આવી કેટલીક બાબતો માટે આજનો આ લેખ જરૂર વાંચો.શક્ય છે કે આ પછી આપના અનેક વિચારો બદલાઈ જશે.

સાંજે કચરો ન કઢાય :

પહેલાના સમયમાં ઈલેક્ટ્રિસિટિ ન હતી. આજે સરકાર ગામડે વીજળી પહોંચાડી ને વિકાસ કર્યાનું કહે છે. તે સમયે સૂર્યાસ્ત બાદ દીવો કે ફાનસના અપૂરતા પ્રકાશમાં કામ ચલાવવાનું રહેતું.આ સમયે બનતું એવું કે દિવસ દરમિયાન કામમાં અજાણતા કોઈ ચીજ-વસ્તુ હાથમાંથી પડી ગઈ હોય ને સંધ્યા ટાણે કચરો કાઢવામાં આવે ત્યારે મંદ અંધકારની સ્થિતિમાં એ વસ્તુ કચરા સાથે ઘરની બહાર જતી રહે. આજ કારણથી એ સમયના વડીલો કહેતા કે સંધ્યાકાળે કચરો કાઢવાથી લક્ષ્મી ઘરમાંથી ચાલી જાય છે. આજે એ બાબત આપણે સ્વીકારેલી છે. લગભગ દરેક ઘરે આ વાત કહેવાય છે. આજે તો ઘર-ઘરમાં રાત્રે પૂરતો પ્રકાશ મળી રહે તેવી વ્યવસ્થા છે આ કારણે કોઈ વસ્તુ કચરા સાથે ઘર બહાર નિકળી જાય અને ધ્યાનમાં ન આવે એવું થતું નથી. છતાં દિવસ જેવો ઉજાસ તો આજેય ઉપલબ્ધ નથી જ. માટે રાત્રે કચરો વાળી શકાય પરંતુ ચોકસાઈ તો રાખવી જ પડે.

શનિવારે તેલ ન નખાય:

અંગ્રેજોના શાસનકાળ દરમિયાન જ  રવિવાર રજાનો દિવસ જાહેર થયો. કામ કાજ અને અન્ય રીતે જોવા જઈએ તો ત્યારે અને આજેય રવિવારે જ સમય મળતો. હવે માથામાં બહુ ચિકાશ ન હોય તો સરળતાથી માથાના વાળમાં રહેલો મેલ કાઢી શકાય. એ સમયે ચિકાશ કાઢવા માટે અદ્યતન સાબુ-શેમ્પૂ ઉપલબ્ધ ન હોઈ લોકો સમજીને શનિવારે માથુ કોરું રાખતા. જે આ વાત ન માને તેને  ધર્મનો ડર બતાવી કાબુમાં લેવાનું સરળ બનતું. આ માટે એવું કહેવાય છે  કે શનિવાર હનુમાનજીનો વાર હોવાથી માત્ર હનુમાનજીને તેલ ચઢે, આપણે માથામાંતેલ નાંખવાનું નહિ. આવું જ નખ કાપવા માટે, બુટ ખરીદવા માટે, દાઢી બનાવવા કે વાળ કપાવવા માટે રવિવારની રજા બહુ કામમાં આવતી. શનિવારે આ બધું ન થાય એની પાછળ કોઈ વિજ્ઞાન નથી. રવિવારની રજાના દિવસે મોટા ભાગના લોકો વાળ કપાવવાનું તેમજ દાઢી સાફ કરાવવાનું રાખતા હોવાથી એ દિવસે વાળંદ રજા તો ન જ રાખી શકે ઉલ્ટાનું એને રવિવારે ઓવરટાઈમ કરવો પડે. આથી આગલા દિવસે શનિવારે એ રજા ભોગવી લે તો રવિવારે પુરી સ્ફૂર્તિથી કામ કરી શકે. એક વ્યવસ્થા અને અન્ય સુવિધા ને માટે વાળંદ કે તેમના યુનિયન દ્વારા શનિવારે રજા નક્કી થઈ હોઈ શકે.

મુહૂર્ત જોવડાવવામાં આવે છે :

કૃષ્ણ મુહૂર્ત જોઈને દુર્યોધન સાથે વિષ્ટી (સંધિ) કરવા હસ્તિનાપુર ગયા હતા. છતાં એમણે કહ્યું હતું કે ‘હું જાઉં છું માટે જ વિષ્ટિ સફળ નહિ થાય. અલબત્ત મારા સઘન પ્રયાસો હશે જ વિષ્ટિને સફળ બનાવવા માટેના !’ ગૃહપ્રવેશ, રાજ્યાભિષેક ,લગ્ન વગેરે મુહૂર્ત જોવડાવીને થાય છે. એની પાછળનું રહસ્ય પ્રકૃતિનો સાથ લેવાનો આશય છે. આપણે ત્યાં વર્ષાઋતુમાં એક પણ લગ્નનું મુહૂર્ત હોતું નથી. કારણ શું ? વરસાદમાં બધાને અગવડ પડે છે. અરે, તીર્થયાત્રીઓ ચાર માસ સુધી પોતાની તીર્થયાત્રા અટકાવી દે છે. વસંતપંચમી તેમજ અખાત્રીજનું વણજોયું મુહૂર્ત ગણાય છે કારણ કે એ સમયે પ્રકૃતિ સદાય સોળ કળાએ ખીલેલી હોય છે.

કોઈ પણ વ્યક્તિ ધન અને કીર્તિ કમાય એટલે એ માનસિક રીતે એટલો બધો નબળો થઈ જાય છે કે શુકન-અપશુકનના રવાડે ચઢી જ જાય છે. રાજકારણીઓ, રમતવીરો, ફિલ્મસર્જકો ,  હીરો-હીરોઈનો બધાને આ વાત એક સરખી લાગુ પડે છે. અમુક જગ્યાની મુલાકાત લેનાર મુખ્યમંત્રી પોતાનું પદ ગુમાવે છે, ફિલ્મના નામના સ્પેલિંગમાં અમુક અક્ષર બેવડાવવાથી ફિલ્મ સફળ થશે, ચોક્કો કે છક્કો વાગે એટલે તાવીજ ચુમવું, સદી વાગે એટલે જમીન ચુમવી, પોતાનું બેટ ન બદલવું, નંગની વીંટીઓ, ગળામાં પેંડંટ વગેરે મનોરોગની નિશાનીઓ છે. એમાંથી કોણ બચ્યું છે ? જ્યોતિર્વૈદ્યૌ નિરંતરૌ. એટલે કે જ્યોતિષી અને વૈદ્ય સદાય કમાવાના જ ! એમના ધંધામાં ક્યારેય મંદિ આવવાની જ નહિ ! કારણ કે હંમેશા શારીરિક અને માનસિક રીતે નબળા માણસો સમાજમાં હોવાના જ !

આત્મવિશ્વાસથી ભરપૂર માણસ શુકન-અપશુકન પર આધારિત રહેતો નથી. પોતાના બાહુબળના આધારે એ અશક્યને શક્ય કરી શકે છે.

આત્મવિશ્વાસની સાથે-સાથે ઈશ્વર ઉપરનો વિશ્વાસ આવશ્યક છે. માનવ પ્રયત્ન અને ઈશકૃપાથી બધું જ સંભવ છે.આપ પણ વિજ્ઞાન સાથે ધર્મ અને ધર્મ જોડે વિજ્ઞાન ને અપનાવો.શાંતિ થી અને આત્મ વિશ્વાસ થકી જીવી શકશો.

@#@
જીવનમાં જ્યાં વિકાસ છે ત્યાં વિજ્ઞાન છે.વિજ્ઞાન સાબિતી માંગે છે જ્યારે જીવન ટકાવવા માટે સહકાર અને સ્વાસ્થય જરૂરી છે.

Saturday, April 14, 2018

भारत रत्न...

अम्बेडकर।भारत रत्न भी कम हैं।आज उनके साथ गायकवाड़ को भी याद करना उतनाही जरूरी हैं।इस काम में कहीं न कहीं गायकवाड़ को याद करना जरूरी हैं।आज अम्बेडकर जी के जन्म जयंतिनदिवस पर उनसे जुड़ी कुछ जानकारी देखते हैं।
उनका मूल नाम भीमराव था। उनके पिताश्री रामजी वल्द मालोजी सकपाल महू में ही मेजर सूबेदार के पद पर एक सैनिक अधिकारी थे। अपनी सेवा के अंतिम वर्ष उन्‍होंने और उनकी धर्मपत्नी भीमाबाई ने काली पलटन स्थित जन्मस्थली स्मारक की जगह पर विद्यमान एक बैरेक में गुजारे। सन् 1891 में 14 अप्रैल के दिन जब रामजी सूबेदार अपनी ड्यूटी पर थे, 12 बजे यहीं भीमराव का जन्म हुआ। कबीर पंथी पिता और धर्मर्मपरायण माता की गोद में बालक का आरंभिक काल अनुशासित रहा।
शिक्षा:
Biography, Profile of Dr. Bhimrao Ambedkar in Hindi
शिक्षा
बालक भीमराव का प्राथमिक शिक्षण दापोली और सतारा में हुआ। बंबई के एलफिन्स्टोन स्कूल से वह 1907 में मैट्रिक की परीक्षा पास की। इस अवसर पर एक अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया और उसमें भेंट स्वरुप उनके शिक्षक श्री कृष्णाजी अर्जुन केलुस्कर ने स्वलिखित पुस्तक 'बुद्ध चरित्र' उन्हें प्रदान की। बड़ौदा नरेश सयाजी राव गायकवाड की फेलोशिप पाकर भीमराव ने 1912 में मुबई विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा पास की। संस्कृत पढने पर मनाही होने से वह फारसी लेकर उत्तीर्ण हुये।

अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय

बी.ए. के बाद एम.ए. के अध्ययन हेतु बड़ौदा नरेश सयाजी गायकवाड़ की पुनः फेलोशिप पाकर वह अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय में दाखिल हुये। सन 1915 में उन्होंने स्नातकोत्तर उपाधि की परीक्षा पास की। इस हेतु उन्होंने अपना शोध 'प्राचीन भारत का वाणिज्य' लिखा था। उसके बाद 1916 में कोलंबिया विश्वविद्यालय अमेरिका से ही उन्होंने पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त की, उनके पीएच.डी. शोध का विषय था 'ब्रिटिश भारत में प्रातीय वित्त का विकेन्द्रीकरण'।

लंदन स्कूल ऑफ इकोनामिक्स एण्ड पोलिटिकल सांइस

फेलोशिप समाप्त होने पर उन्हें भारत लौटना था अतः वे ब्रिटेन होते हुये लौट रहे थे। उन्होंने वहां लंदन स्कूल ऑफ इकोनामिक्स एण्ड पोलिटिकल सांइस में एम.एससी. और डी. एस सी. और विधि संस्थान में बार-एट-लॉ की उपाधि हेतु स्वयं को पंजीकृत किया और भारत लौटे। सब से पहले छात्रवृत्ति की शर्त के अनुसार बडौदा नरेश के दरबार में सैनिक अधिकारी तथा वित्तीय सलाहकार का दायित्व स्वीकार किया। पूरे शहर में उनको किराये पर रखने को कोई तैयार नही होने की गंभीर समस्या से वह कुछ समय के बाद ही मुंबई वापस आये।

दलित प्रतिनिधित्व

वहां परेल में डबक चाल और श्रमिक कॉलोनी में रहकर अपनी अधूरी पढाई को पूरी करने हेतु पार्ट टाईम अध्यापकी और वकालत कर अपनी धर्मपत्नी रमाबाई के साथ जीवन निर्वाह किया। सन 1919 में डॉ. अम्बेडकर ने राजनीतिक सुधार हेतु गठित साउथबरो आयोग के समक्ष राजनीति में दलित प्रतिनिधित्व के पक्ष में साक्ष्य दी।

अशिक्षित और निर्धन लोगों को जागरुक बनाने के लिया काम

उन्‍होंने मूक और अशिक्षित और निर्धन लोगों को जागरुक बनाने के लिये मूकनायक और बहिष्कृत भारत साप्ताहिक पत्रिकायें संपादित कीं और अपनी अधूरी पढ़ाई पूरी करने के लिये वह लंदन और जर्मनी जाकर वहां से एम. एस सी., डी. एस सी., और बैरिस्टर की उपाधियाँ प्राप्त की। उनके एम. एस सी. का शोध विषय साम्राज्यीय वित्त के प्राप्तीय विकेन्द्रीकरण का विश्लेषणात्मक अध्ययन और उनके डी.एससी उपाधि का विषय रूपये की समस्या उसका उद्भव और उपाय और भारतीय चलन और बैकिंग का इतिहास था।

डी. लिट्. की मानद उपाधियों से सम्मानित

बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर को कोलंबिया विश्वविद्यालय ने एल.एलडी और उस्मानिया विश्वविद्यालय ने डी. लिट्. की मानद उपाधियों से सम्मानित किया था। इस प्रकार डॉ. अम्बेडकर वैश्विक युवाओं के लिये प्रेरणा बन गये क्योंकि उनके नाम के साथ बीए, एमए, एमएससी, पीएचडी, बैरिस्टर, डीएससी, डी.लिट्. आदि कुल 26 उपाधियां जुडी है।

@#@
आम्बेडकर जी से प्रेरणा लेने वाले कभी किसी बात को ना मुमकिन नहीं मानते।सतत संघर्षो से जूझकर हालात बदल देते हैं।


Friday, April 6, 2018

કૌશલ્ય અને બાળકો

બાળકોમાં વિશ્વાસ રાખવો.
બાળકોમાં અનેક કૌશલ્ય હોય છે.આ કૌશલ્ય શોધવા જવાની જરૂર નથી.બાળક ને એનું ગમતું કામ કરવા દેવાથી એના વિશેષ કૌશલ્ય અંગે જાણી શકાય છે.
આવી જનાએક વાત કેટલાક વર્ષો પહેલા લખાઈ હતી.આજે એને ટૂંકમાં જોઈ લઈએ.
વાત છે પાલનપુરની...
અહીં રેલવે સ્ટેશનમાં ફરજ બજાવતા એક કર્મચારીની દીકરી હંસા.કોઈ કારણસર તેના હાથની આંગળીઓ  રેલવે એન્જીન નીચે આવી ગઇ.હંસના હાથની આંગળી કપાઈ ગઇ.હંસા મોટી થતાં તે શાળામાં દાખલ થઈ.અહીં એણે પગેથી લખવાનું શરૂ કર્યું.સમય જતાં તેણે બે હાથના કાંડાની મદદથી લખવાનું શરૂ કર્યું.એના અક્ષર એટલા સરસ કે સૌને નવાઈ લાગે.એક દિવસ એવો આવ્યો કે હંસાને સુંદર અક્ષર માટે રાષ્ટ્રીય પુરસ્કાર રાપ્ત થયો.આજનું આ પોસ્ટર અને હંસાની વાત આપણે ગમી હોય તો શેર કરશો.

@#@
જીવન એટલે સમસ્યા.
સમસ્યા સામે સાહસ એટલે સફળતા.

Saturday, March 3, 2018

मेरा इक्का


हमे अपनी ओर से जो अच्छा हो सके वैसा करना हैं।हम कभी कभी भूल जाते हैं कि हमे क्या करना हैं।हमारे आसपास कुछ लोग अपनी बात को अच्छे से समजा नहीं पाते हैं।
कुछ लोग कमसे कम शब्दमें अपनी बात रखते हैं,मुजे ऐसे लोग पसंद हैं।कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो हमारे लिए कुछ भी करते हैं तो हमे वो पसंद आता हैं।कहते हैं कि किसी का प्यार भिनपसन्द नहीं,ओर किसी की डांट भी प्यारी लगती हैं।मेरी एक दोस्त हैं।हमने साथ में काम किये हैं और आज भी कर रहे हैं।कुछ भी बात हो,हम जब तकरार करते हैं तब तक ठीक हैं।कभी कभी वो समजा नहीं पाती हैं तो अपने हाथ जोड़ती हैं।कहिए के जब में कुछ समझता नहीं हूं तब भी वो हाथ जोड़ती हैं।में उन्हें हाथ जोड़ने से मना करता हूँ।में कहता हूं कि आप हाथ जोड़ते हो तो मुजे शर्म आती हैं।यहाँ मेरे किए हुकुम का इक्का हैं कि में बात मानलू।सही गलत का कोई सवाल नही,इसे फिरसे देख सकते हैं,इसे फिरसे सुधार सकते हैं।मगर अभी तो इस बात को मानना ही सही फैंसला हैं।

मेरे एक दूसरे दोस्त हैं।
वो महाराष्ट्रमें रहते हैं।शिक्षकों के ओर बच्चो के लिए वो महक से जुड़े हैं।'महाराष्ट्र हनी बी क्लब' याने महक।उनका जब भी फोन आता हैं,अगर कमसे कम 20 मिनिट का समय नहीं हैं तो में उनका फोन रिसिब नहीं करता हूँ।मेरे लिए मेरी ओरसे सबसे अच्छा ये हैं कि अगर 20 मिनिट का समय हो तो ही बात करूँ।

मेरे साथ बहोत सारे लोग जुड़े हैं।मेने बहोतो से सीखा हैं।में रोज नया काम हाथ में लेता हूँ और उसे पूरा करना चाहता हूं।इस काम में कई सारे लोग अपने नजरिये से देखते हैं।मुजे किसी के नजरिये की फिक्र नहीं हैं।मुजे किसी से कोई शिकवा नहीं हैं।मुजे बस मेरी मस्ती में मस्त रहने दो।आपके पास पत्ते हैं।हो सकता हैं,आप के पास दो इक्के हो।मेरे पास एक तो हो ही सकता हैं।मुजे मेरे देश पे भरोसा ही नहीं गौरव भी हैं।में भारत का नागरिक हूँ।सभी भारतीयों में में भी शामिल हुन,ओर मुजे सभी अधिकार प्राप्त हैं।यही हमारा पत्ते का इक्का हैं।



@#@
कुछ लोग कुछ नहीं कहते इसका मतकब ये नहीं हैं कि वो बोलनहीँ सकते हैं।

Tuesday, February 13, 2018

मेरे हिस्सेका आसमान...




आज दुनिया वेलेंटाइन डे मना रही होगी।इस कि तैयारी पिछले कुछ दिनों से शुरू होती हैं।
 श्री गणपत पटेल 'सौम्य' की एक कविता हैं।
 
किनारे..
एक किनारे पुरुष खड़ा हैं,
 एक किनारे नारी,
बड़ा फांसला कैसे मिटता?
काम बहुत हैं भारी।
मनमानी आज़ादी ले एक  पंछी उड़ता ऊपर,
कटे पैरो से दूजा पंछी तड़प रहा हैं भू पर।
कदम कदम पर पाबंदी के पहरे लगे हुए हैं।

सदीयां बीती लेकिन,उनके चेहरे ढके हुए हैं।


कैसे मुमकिन होगा दो पीढ़ियों को साथ चलाना?
खत्म दूरी कर, दो साहिल का फिरसे हाथ मिलाना?


एक जीवन शक्ति को कुचलना; लाश बनाकर रखना,
बड़ा पाप है हरे भरे पौधे को जलाकर रखना।

लड़कियों की नयी पीढ़ी अब पूछ रही हैं हमसे,
आनेवाले दिनों में क्या मुक्ति हैं उस गम से?

पीते है अपमान सदा;
पर अब नहीं यह हो सकता,
अलग बना व्यक्तित्व नारी का,
अब यह नहीं खो सकता।


काम हमारा इस दूरी को खत्म किये देना है,
सदियों के इस कुरिवाज का अंत किये देना है।

एक चुनोती इसे समझकर कुछ प्रण लेना होगा,
जन्म लिया हैं मानव का यह ऋण चुकाना होगा।

बस,
भ्रूण से शुरू हो ने वाली एक जिंदगी।क्या फर्क हैं।क्या कुछ बदलाव आया हैं ओरत की जिंदगी में?पिछले कुछ सालों से कुछ दिन विशेष को खास तरीको से मनाने का चलन बढ़ा हैं।

आज कल हम कुछ ऐसे दिनों के बातें में सुनते हैं जो आप ने भी सुने ही होंगे।

जैसे...
रोज डे...
प्रपोज डे...
चॉकलेट डे...
टेडीबियर डे....
प्रोमिस डे...
किस डे...

ओर अंतिम जीसे हम अंतिम मानते हैं ओर वो हैं...

वेलेंटाइन डे...

संशोधको ने उस के बाद वाली सीरीज को भी खोज निकाला हैं।

जिस में...
स्लेप डे...
किक डे...
परफ्यूम डे...
फ्लर्टिंग डे...
कॉंफिसन डे...
मिसिंग डे...
ओर अंतमें...
ब्रेकप डे

कुछ देने से छोड़ ने तक के वो दिन कोई नहीं चाहता।कोई आए नहीं चाहता कि कोई उसे छोड़े।मगर ओरत, एक खिलौना समझने वाले लोगो ने जैसे कुछ फालतू स्टेप तय कर लिए,ओर हमने उसे मनाने का संकल्प ले रखा हैं।

स्व.शफदर हाज़मी ओर माल्या श्री हाज़मी का नाटक 'औरत' अगर जो कोई देख लेगा तो कभी ऐसे फालतू डे नहीं मनाएगा।क्या भद्दा मजाक हैं औरत के साथ।दिन विशेष की में ब्रेकप हैं।कोई ब्रेकअप नहीं होता हैं।जो होता हैं कुछ दिनों या सालो के लिए होता हैं।कुछ दिन बीत गए और कुछ बीतेंगे।आज जो हैं उसे देखो,कल जो होगा देखा जाएगा। कुछ समय के लिए।इस समझ से ही हमे सुख और दुख को देखना ओर समझना हैं।

श्री 'सौम्य' की कविता आज भी इतनी ही ताजा हैं जैसे पद्मावती फिल्म    में थी।आशा हैं अगले वेलेंटाइन तक हम ये बात सोचेंगे,समजेंगे ओर जीवन को समझ ने के लिए नए तरीके खोजेगे।


#
पदमावत फ़िल्म के रिलीज होने का विवाद चलता हैं।मगर ओरत के स्वमान का क्या हो सकता हैं।


लिखा:टेडीबियर डे...
Thanks @ सौम्य...

Saturday, February 10, 2018

राजू सोलंकी


એક છોકરો.
પાંચમા ધોરણમાં ભણે છે.
કદાચ એને શાળામાં જવાનું ગમતું નથી.
તે આજે શાળામાં ગયો નથી.અમે એને અંબાજી થી દાંતા વચ્ચે મળ્યા.એ વખતે એ છોકરો કેસૂડાના ફૂલ લઈ ઊભો હતો.અમારે એ ફૂલ જોઈતાં હતાં.એની સાથે વાત કરી.ખૂબ જ આત્મવિશ્વાસ સાથે એ વાત કરતો હતો.મેન એને કેસૂડાના ઉઓયોગ વિશે પૂછ્યું.એક શિક્ષક કરતા સરળ રીતે એણે આખી વાત સમજાવી. અમે ગાડીમાં ચાર વ્યક્તિ હતા. રાજુ અમને બધાંના સવાલ સાંભળી એક પછી એક જવાબ આપતો હતો.મેં એને કેસૂડાનું કોઈ ગીત ગાવા વિનંતી કરી. એણે ન ગાયું.મેં ગાયું 'કેસૂડાની કળીએ બેસી,ફાગણિયો લહેરાયો' મેં એટલુંજ ગાયું ને રાજુ કહે 'આ તો મને આવડે છે.'
મારા સાથી અને પર્યાવરણ વિષયના લેખક શ્રી પ્રવીણભાઈ પટેલે ચાલીસ રૂપિયાના કેસૂડાનાં ફૂલ છેવટે પચાસમાં લીધાં.
#