Showing posts with label JUST. Show all posts
Showing posts with label JUST. Show all posts

Tuesday, April 24, 2018

न हारो हिम्मत


मेरे एक दोस्त हैं।
उनका बेटा इस बार बारहवीं कक्षामें था।हमे उसे शुभकामना देने के लिए जाना था।हम उनके घर पहुंचे।वो बच्चा तो पढ़ाई में व्यस्त था।शुभकामना देने वाले उसे अंतिम दिनोंमें मिलकर उसके तैयारी का समय बिगड़ ते हैं।इसे शुभेच्छा नहीं कही जाती।
मेने पूछा उसकी तैयारी कैसी है,मम्मी जी बोलने लगी।अरे पिछले दो सालों से रोजाना बादाम का दूध पीता हैं।
में समज नहीं पाया कि उसके बचपन में उसके कॉन्सेप्ट क्लियर नहीं हुए होंगे तो वो रोजाना एक किलो भी बादाम खायेगा उसे याद नहीं रहेगा।
सीखी हुई चीज को याद रखने से नहीं उसके उपयोग करने से याद रहती हैं।याद रखे जब हमने बाइक या गाड़ी चलाना सिखाथा तब क्या हम मोबाइल के कॉन्टेक्ट में से फोन नंबर को खोज के लगा सकते थे।आज तो हम गाड़ी या बाइक चलाते मेसेज भी टाइप करते हैं।अगर इसे कोई कहेगा कि ये गाड़ी चलाना सिख गया हैं तो इसका मतलब उस ने गाड़ी सीखी।मोबाइल चलना आता था।अब दो अलग तरीको से काम को एक साथ करना कौशल्य माना जाता हैं।
फिर से बादाम की बात आते हैं...
किसी ने पोस्टर में लिखा हैं।सही बात हैं।हिरन घी नहीं खाता फिरभी घोड़े से आगे और तेज भागता हैं।
आप भी इस बातको माने।निपूणता प्राप्त करने के लिए बाह्य नहीं,अंदरूनी शक्ति चाहिए।बादाम बाह्य शक्ति हैं,कॉन्सेप्ट क्लियरिंग अंदरूनी विश्वास जगाता हैं।
हमे जो काम में सफक होना हैं,उस की अधिक से अधिक जानकारी हमारे पास होगी तो हमे बादाम खाने की कोई जरूरत नहीं हैं।


@#@
में कभी हिम्मत नहीं हारा।
जब मेरी वर्ल्ड फेमस फ़िल्म लाइफ स्माइल बनी तब में मेरे जीवन में सबसे दुखी था।
चार्ली...

Sunday, April 15, 2018

विचार बड़ा...


कोंन बड़ा।
ये तय करना संभव नहीं हैं।
बड़ापन हमेशा सापेक्ष होता हैं।
समजीए...
एक पेंसिल दूसरी पेंसिल से छोटी हैं,मगर वो दूसरी पेन या पेंसिल से बड़ी भी हो सकती हैं।आप जो पोस्टर देखते हैं वो सब कुछ समझ में लाने के लिए काफी हैं।कोई बड़ा या छोटा नहीं होता हैं।कोंन हमारे साथ हैं वो महत्वपूर्ण नहीं हैं।को किस परिस्थिति में हमारे साथ हैं,वो महत्वपूर्ण हैं।
हमारे जीवन में एक बात ये भी हैं कि हम कुछ कम समय या थोड़ी बात के आधार पर किसी को बड़ा या छोटा मानलेते हैं।
तलवार और सुई एक ही धातु से बनती हैं।दोनों को अपने अपने स्थान पर महत्व मिला हैं।जहाँ तलवार की बात हैं वहां सुई नहीं चलेगी।जहाँ तलवार बड़ी हैं वहाँ सुई का काम नहीं चल सकता।आशा रखते हैं हम भी हमारी जिंदगी में कुछ ऐसी बातों को महत्व दे जिसमें हमारी जिंदगी आसान और सुखमय होगी।बड़ा विचार हैं।अगर कोई गलत विचार बड़ा हो जाएगा तो अच्छे दिन नहीं आएंगे।मगर कोई अच्छा विचार बड़ा हो जाएगा तो अच्छे दिन आएंगे ही आएंगे।

@#@
बड़ा कोई नहीं हैं।
बड़ा हैं स्थान।किसी छोटी चीज या व्यक्ति ने किस समय हमारी सहाय की हैं,किस परिस्थिति में हमारे साथ रहे हैं।ये बात ही महत्वपूर्ण हैं।और इस के आधार पर ही हम अपनी सोच बढ़ाये।

Tuesday, April 10, 2018

छोकु की कविता...


जब कोई रोता हैं,
कुछ न कुछ खोता हैं।

गम हो या हो फिकर,
निकलता हैं जब कोई रोता हैं।

कोंन नहीं रो रहा आज बाजार में,
जब कोई रोता हैं,वो चेन से सोता हैं।

-अशरफ 'छोकु'

एक युवा कवि हैं।हाल उनकी आयु शायद चालीस साल होगी।उत्तर प्रदेश के ईश मिजाजी 'छोकु' किए प्रसिद्ध रचना हैं।

जब कोई रोता हैं,
कुछ न कुछ खोता हैं।

या वो अपनी गलती खोदता हैं,याने उसकी गलती का स्वीकार किया हैं।या वो अपनी फिक्र या फिर खुदकी कोई ऐसी बात छोड़ता हैं।शायद वो अपनी जीवन की किसी बात का अहसास करवाने के लिए रो रहा हैं,संभव हैं।मगर रोने से व्यक्ति कुछ खोता हैं।


गम हो या हो फिकर,
निकलता हैं जब कोई रोता हैं।

रोने से गम या फिकर निकलती हैं।दिल साफ और मन हलका होता हैं।कुछ व्यक्ति सहज से रो लेते हैं।किसी भूखे को खाते देखकर भी सहज व्यक्ति रो सकती हैं।मगर ऐसी व्यक्ति जो स्वयं किसी के लिए प्रेरक ओर आवश्यक हो उसके रोने से कुछ तो ऐसा हैं ,की वो जो रो रहे हैं।रोने के लिए कुछ ऐसा भी नहीं 'कुछ ऐसा अपने साथ हुआ हैं,रोना आता हैं,मगर रोनेके बाद दिल साफ हो जाता हैं।

कोंन नहीं रो रहा आज बाजार में,
जब कोई रोता हैं,वो चेन से सोता हैं।

सब लोग आज रोते हैं,किसी का दिखता हूं।किसी का दो चार पांच साल के बाद दिखेगा।कोई सामने रोया हैं,कोई साथ में रोयेगा।कहते हैं कि जीवन में जो साथ चलेगा वो जगडेगा,मारेगा,रोयेगा ओर रुलाएगा।मगर साथ चलेगा।ऐसे लोगो को कभी नहीं भूलना चाहिए कि जिन्हों ने तुम्हारे लिए कभी वख्त नहीं देखा हो।आज वो नाखुश हैं,तो मारेंगे ओर चिल्लायेंगे।मगर जब वो आपके साथ हैं तो आप को रोने में भी लिज्जत मिलेगी।समय का सदुपयोग करना आवश्यक हैं,24 घंटे सबके लिए समान हैं,उसमें से अपने ओर अपनो के लिए हमे समय का आयोजन करना पड़ता हैं।अगर वो हो पाया तो भविष्य संवर सकता हैं।रोना ओर जीना साथ साथ हैं,तो चलो पहले जी ने का प्लान करते हैं।

@#@

मुजे रोना पसंद हैं।
क्यो की वो मेरा रोना हैं।
क्यो किसी के बारे में कुछ जानु या कहूं।मुजे मेरा जीवन पसंद हैं।क्यो की वो रोने से शुरू हुआ हैं।मगर में रोते हुए मरूँगा नहीं।

@ओशो...

Sunday, April 1, 2018

1 એપ્રિલ મૂર્ખ દિવસ:આયોજન દિવસ

આજે 1લી એપ્રિલ અર્થાત એપ્રિલ ફુલ ડે. આ એપ્રિલ ફુલ ડે નો એક રસપ્રદ ઇતિહાસ છે.આપને જાણવાની આપને મજા આવશે. 
આજ પહેલાં પણ આપણે કેલેન્ડરકી કહાની ને નામે આવી વિગતો જોઈ છે.રાજકોટ થી શ્રી શૈલેષભાઇ રંગપરિયા એ એક વાત મૂકી છે.એ આધારભૂત ઘટના ને આધારે આ વિગત એમણે શેર કરી અને હું આપને મોકલું છું.

મિત્રો, 1752ના વર્ષના સપ્ટેમ્બર મહીનાનું આ કેલેન્ડર જરા ધ્યાનથી જુઓ. કેલેન્ડર છાપનારાએ મોટો છબરડો કર્યો હોય એમ લાગે છે ને ? 2 તારીખ પછી સીધી 14મી તારીખ જ આવી ગઇ વચ્ચેના 11 દિવસ અદ્રશ્ય થઇ ગયા. આ કોઇ છબરડો નથી પણ એક વાસ્તવિકતા છે અને આ બિલકુલ સાચુ કેલેન્ડર જ છે. 

ઇંગ્લેન્ડમાં રોમન જુલીયન કેલેન્ડર અમલમાં હતુ. આ કેલેન્ડર વર્ષનો પ્રથમ મહીનો એપ્રિલ હતો અને છેલ્લો મહીનો માર્ચ હતો.એક કેલેન્ડર એવુંય હતું કે તેમાં ફેબ્રુઆરી મહિનો છેલ્લો હતો.365 ન થાય તો 29 અને થાય તો 28 દિવસ થતા.આ વખતે કોઈ ને એવું ધ્યાનમાં આવ્યું કે આવું દર ચસર વર્ષ પછી જ થાય છે.એ પછી કેટલાય વર્ષો ગયાં. છેવટે  1752ના સપ્ટેમ્બર મહીનામાં ઇંગ્લેન્ડ દ્વારા રોમન જુલીયન કેલેન્ડરને પડતુ મુકીને તત્કાલિન રાજા દ્વારા ગ્રેગેરીયન કેલેન્ડર અપનાવવામાં આવ્યુ જે અત્યારે પણ અમલમાં છે જેનો પ્રથમ મહીનો જાન્યુઆરી અને છેલ્લો મહીનો ડીસેમ્બર છે. 

હવે આ નવુ કેલેન્ડર અપનાવવામાં એક મોટી તકલીફ એ હતી કે રોમન જુલીયન કેલેન્ડર નવા ગ્રેગેરીયન કેલેન્ડર કરતા 11 દિવસ લાંબુ હતુ આથી ઇંગ્લેન્ડના રાજાએ ઓર્ડર કરીને 11 દિવસ રદ કર્યા અને 2જી તારીખ પછી સીધી જ 14મી તારીખ આવી. 1752ના સપ્ટેમ્બર મહીનામાં બધાએ 11 દિવસ ઓછુ કામ કર્યુ અને તો પણ બધાને પુરા મહીના માટે પગાર ચૂકવવામાં આવેલો હતો. આજે પણ એ જ રીતે આપણ ને 12 રજાઓ કર્મચારી તરીકે અધિકૃત રીતે આપવામાં આવે છે.11 દિવસ કામ કર્યા વગર પગાર.એક દિવસ જે સીધો ગણ્યો આમ 12 દિવસ નોકરી ન કરો તોય પગાર મળે.બસ,એ પછી અંગ્રેજોએ આ વાતને જાળવી રાખી અને નવું કેલેન્ડર વિશ્વમાં માન્યતા પામ્યું.આ એ જમાનાની વાત છે કે જ્યારે આખી દુનિયામાં અંગ્રેજોનું શાશન હતું.

ગ્રેગેરીયન કેલેન્ડર પ્રમાણે વર્ષનો પ્રથમ મહીનો જાન્યુઆરીથી શરુ થતો હતો આથી નવા વર્ષની ઉજવણી 1લી જાન્યુઆરીના રોજ શરુ કરી. પ્રજા તો રોમન જુલીયન કેલેન્ડર પ્રમાણે 1લી એપ્રિલને જ નવા વર્ષ તરીકે ઉજવવા ટેવાયેલી હતી એટલે ગ્રેગેરીયન કેલેન્ડર અપનાવવા છતા પ્રજાએ 1લી એપ્રિલને જ નવા વર્ષ તરીકે ઉજવવાનું ચાલુ રાખ્યુ.જુના રોમન જુલીયન કેલેન્ડરમાં નવાવર્ષનો પ્રારંભ એપ્રિલથી થતો આથી 1લી એપ્રિલને નવા વર્ષનો પ્રથમ દિવસ ગણવામાં આવતો.

રાજાને લાગ્યુ કે જો આમ જ ચાલતુ રહેશે તો નવા ગ્રેગેરીયન કેલેન્ડરનો કોઇ અર્થ નહી રહે આથી એમણે એક ખાસ આદેશ બહાર પાડ્યો અને જે માણસ 1લી એપ્રિલને નવા વર્ષ તરીકે ઉજવે એને " FOOL" ( મૂરખ) નો ખીતાબ આપવાનો શરુ કર્યો એટલે લોકો 1લી એપ્રિલને નવા વર્ષ તરીકે ઉજવવાનું ભૂલી ગયા. બસ ત્યારથી 1લી એપ્રિલને FOOL's DAY અર્થાત મૂરખાઓના દિવસ તરીકે ઓળખવામાં આવે છે.

@#@
કશું જ કારણ ન હોય.
કોઈ જ અગવડ ન હોય.
છતાં આપણું માણસ આપણાથી વાત ન કરે એ જ મારે મન જાણે હું 'એપ્રિલ ફૂલ' ઉજવતો લાગું.

Sunday, March 25, 2018

છોકરાં ની સમજ...

આપણે સમજીએ એવું જ વિદ્યાર્થી સમજે એવું નથી.થોડા દિવસ પહેલાં આઇઆઇએમ ખાતે જવાનું થયું.થોડા કામથી નવા કેમ્પસમાં જવાનું થયું.અહીં એક જગ્યાએ તદ્દન સહજ છોકરાં રમતાં. હતાં. આ બધાં થઈ ને કદાચ એ વખતે ત્યાં ત્રણ છોકરાં હતાં.મેં એ છોકરાં જોડે વાત કરી.એમની ચોપડી જોવા માંગી.સરસ રીતે લેખન કરેલું હતું.મેં એના પુસ્તકમાં જોયું.મેં ચોક્કસ પ્રવૃત્તિ અંગે તેના પુસ્તકમાં જોયું.

એ પુસ્તક અંગે હાલ કશું કહેવું નથી.એ પાન ઉપર દર્શાવેલ કામ કેવી રીતે કરવું.આ માટે શિક્ષક આવૃત્તિમાં વિશેષ રીતે લખાયું છે.આ વિદ્યાર્થી ના શિક્ષક પાસે શિક્ષક આવૃત્તિ ન હોય એવું બને.હશે,કોઈ થોડી સમજ ફેર સાથે વિદ્યાર્થીની સમજની ચકાસણી શિક્ષક ચોક્કસ અને સતત કરતાં હશે એવું જણાયું.બધી જ રીતે સમજ આધારે તૈયાર થયેલ આ વિદ્યાર્થી.એની નોટ અને ચોપડીના કેટલાક ફોટા. આપને ગમશે.

@705@
સવાલ એવો હોય કે એનો એક જ જવાબ હોય તો એ ફિક્સ ફ્રેમ થાય.3+5=8 થાય.પણ ..... +.....=8 નો જવાબ આપીએ તો અનેક જવાબ મળે.

Wednesday, March 21, 2018

नोबल पुरस्कार वाली कविता

साहित्यिक बातो में नोबल मिलना एक गौरव पूर्ण घटना हैं।समग्र भारत में से ये सन्मान श्री रवींद्रनाथ टैगोर को मिला हैं।आज में आपको एक ऐसे सर्जक की बात बताने जा रहा हूँ,जिन्हें अपनी एक कविता के लिए नोबल पुरस्कार मिला हैं। उन्हों ने जो कहा हैं,उसका हिंदी अनुवाद यहां दे रहा हूँ।ये बाते नोबेल पुरस्कार विजेता ब्राजीली कवियत्री  मार्था मेरिडोस की कविता "You Start Dying Slowly" का हिन्दी अनुवाद हैं।आशा हैं आपको पसंद आएगी।

1) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- करते नहीं कोई यात्रा,
- पढ़ते नहीं कोई किताब,
- सुनते नहीं जीवन की ध्वनियाँ,
- करते नहीं किसी की तारीफ़।

2) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, जब आप:
- मार डालते हैं अपना स्वाभिमान,
- नहीं करने देते मदद अपनी और न ही करते हैं मदद दूसरों की।

3) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- बन जाते हैं गुलाम अपनी आदतों के,
- चलते हैं रोज़ उन्हीं रोज़ वाले रास्तों पे,
- नहीं बदलते हैं अपना दैनिक नियम व्यवहार,
- नहीं पहनते हैं अलग-अलग रंग, या
- आप नहीं बात करते उनसे जो हैं अजनबी अनजान।

4) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- नहीं महसूस करना चाहते आवेगों को, और उनसे जुड़ी अशांत भावनाओं को, वे जिनसे नम होती हों आपकी आँखें, और करती हों तेज़ आपकी धड़कनों को।

5) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- नहीं बदल सकते हों अपनी ज़िन्दगी को, जब हों आप असंतुष्ट अपने काम और परिणाम से,
- अग़र आप अनिश्चित के लिए नहीं छोड़ सकते हों निश्चित को,
- अगर आप नहीं करते हों पीछा किसी स्वप्न का,
- अगर आप नहीं देते हों इजाज़त खुद को, अपने जीवन में कम से कम एक बार, किसी समझदार सलाह से दूर भाग जाने की..।
तब आप धीरे-धीरे मरने  लगते हैं..!!

इसी कविता के लिए उन्हें नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ।रवींद्रनाथ टागोर को जान गण मन के लिए ये सन्मान मिला।इससे आप समज पाओगे की ये कविता विश्व में कितनी महत्वपूर्ण होगी।

@702@
साहित्य सर्जक कभी नहीं मरते।
पेड़ो का उछेर करने वाले कभी नहीं मरते।हमे इन दोनों का सन्मान करना चाहिए।

Friday, February 23, 2018

કક્કો નહીં મૂળાક્ષરનો ક્રમ...


21 ફેબ્રુઆરી.
વિશ્વ માતૃભાષા દિવસ.
દુનિયાના તમામ દેશ આ સિવસ ને ઉજવે છે.ગુજરાતી કે ગુજરાતના નાગરિક તરીકે સૌએ એની ઉજવણી કરી.હુંય કોઈ જગ્યાએ આ કાર્યમાં જોડાયો.એક દૈનિક પેપરમાં થોડા દિવસ પહેલાં એક સમાચાર છપાયા.સમાચાર જાણે એમ કે, ગુજરાતી કક્કો બદલાયો.એનો અર્થ એવો થતો હતો કે ધોરણ એકના પાઠ્યપુસ્તકમાં કક્કો બદલાયો.આ થઈ મીડિયાની વાત.કેમ ક્રમ બદલાયો અને તેનાથી શીખવા શીખવવામાં શું ફેર પડે એ ચર્ચાનો વિષય છે.એના જવાબ પણ છે જ.

હવે આપણી વાત...

ગુજરાતી શીખવા અને શીખવવા માટે પાઠ્યપુસ્તકને માધ્યમ તરીકે રજૂ કરવામાં આવે છે.બોલનાર,છાપનાર અને વાંચનાર કોઈ ને એ ખબર નથી કે ગુજરાતમાં ક્યારેય પાઠ્યપુસ્તકમાં કક્કો ભણાવાયો જ નથી.

જુઓ...

ધોરણ એકમાં કક્કો ક્યારેય ચાલ્યો નથી.આ માટે જુના પાઠ્યપુસ્તકમાં આપેલ ક્રમ અંગે ચર્ચા કરીએ.અહીં વિવિધ વર્ષો દરમિયાન બદલાયેલા પુસ્તકમાં ક્યાં ક્રમે મૂળાક્ષર શીખવાયા હતા તે અંગેની જાણકારી આપી છે.

જુઓ...

1967:
ટ.. ન..જ..ય..
ક..થ..ભ..ચ...
ગ..મ..ત..ફ...
સ...ર...ઢ... ધ...
વ...હ...બ...ડ...
ઝ...ળ...લ...ખ...
પ...વ...દ...ઈ...
શ...ઇ...ઊ...ઉ...છ..ઠ...

1975:
જ...ચ...મ...ગ...
ન...ક...વ...લ...
ત...ર...ખ... ગ...
ર...સ...હ...બ...
છ...ય...શ...ઢ...
ઠ... ચ...અ... ભ...
ણ... ફ...ડ...ળ...
ઇ...ઘ...ઈ... ઉ...ઊ..


1980:

ન...મ...ક...ર...
જ..ગ...દ..ત..
પ...વ...ય...લ...
ખ...લ...અ... બ...
ભ...ઝ...ભ...સ...
ણ... ટ... હ...ધ...
ઇ...ઉ...ફ...થ...
ઇ..શ...ઠ... ઊ...દ...

2000

ગ...મ...ન..જ..
વ...ર..સ...દ...
ક...બ..અ... છ...
પ...ડ... ત...ણ... 
લ...ટ... ચ...ખ...
ઝ..હ...ઘ...ળ... ભ...ય...ધ...ફ...
ટ... ઠ... ઇ...ઈ.. શ..થ...ઉ...ઊ..


અરે...ગાંધીજી એ ચાલણ ગાડી બનાવડાવી હતી.એમાંય કક્કો ન હતો.એક માત્ર ગુજરાતના બાળકો ને માતૃભાષા શીખવવા માટે ગાંધી બાપુએ તૈયાર કરેલ આ પુસ્તક આજેય ગુજરાત વિદ્યાપીઠમાંથી ખરીદી શકાય છે.

એમ જ ટી.વી.માં સ્લોટ સાચવવા અને છાપીને જગ્યા ભરનાર કે વાંચનાર આ વિગતે અજાણ છે.કોઈ એક ચેનલે આખી વાતમાં પ્રકાશ પડ્યો.એય,માતૃભાષા દિવસે.

# Thanks etv
#Thanks Gujarat
#Thanks ગુજરાતી

कृष्ण दवे के साथ...


Bhavesh pandya innovation education innovation story world record likha book record iim iim Ahmadabad innovation dr kaam anil gupta

कृष्ण दवे।
गुजरात के प्रसिद्ध साहित्यकार।
बाल साहित्य के निर्माण में उन्होंने अपनी अलग जगह बनाई हैं।बहोत सारे बच्चो के गाने उन्होंने सर्जन किये हैं।

आज से पहले हम मील थे।गुजरात का प्रथम बालकवि संमेलन हुआ था।सारे गुजरात के बालकवि उपस्थित थे।हम एक दूसरे से वहां मिले थे।ये बात आज से 3 साल पहले की हैं।बीच बीच में भी हमारा मिलना हुआ,मगर साथ बैठ के बात कर पाए वो संम्भव नहीं हुआ।ये मौका मिला पालनपुर में।

45 वा राज्य गणित,विज्ञान एवं पर्यावरण प्रदर्शन आयोजित हुआ था।इस दिनों वो एक विशेष कार्यक्रम में उपस्थित थे।बच्चो के साथ वो खानिबोर गाना करवाने वाले थे।बालसाहित्य के बारे में कुछ अलग से चर्चा होने वाली थी।में भी वहां था।

कृष्ण दवे जी का सरल एवं सहज व्यक्तित्व किसी व्यक्ति को प्रभावित कर सकता हैं।मुजे उनके गाने,कहानिया के साथ उनका व्यवहार भी पसंद आया।खुश नसीब हैं वो लोग जिन्हों ने श्री क्रुअहं5 दवे को सीधा सामने बैठके सुना।

#विद्यामंदिर
#GCERT

Saturday, February 17, 2018

आविष्कार ओर जीवन


आविष्कार क्या हैं।
नवाचार क्या हैं और उसे कैसे कोज जा सकता हैं।ऐसी कई सारी बाते हैं जो हम सुनते जरूर हैं मगर उसे समझने का प्रयत्न नहीं करते।
किसी चीज को खोजना उसका मतलब हैं उसके बारे में कुछ न कुछ नया सामने लाना।हम कुछ नया लाते हैं उसका मतलब ये हैं कि पुराना भी कुछ तो था।वैसी ही बात हमारे जीवन में भी देखने को  मिलती हैं।जब हम किसी भी बात में खुल के सामने आते है तो हमारा व्यक्तित्व पूर्णतः खिलता है। वही हमारा आविष्कार है। ऐसा आविष्कार जो हमे आगे बढ़ाता हैं।आविष्कार सिर्फ विज्ञान या भौतिक सुविधाओ से ही हुड नहीं हो सकते।आविष्कार कभी कभी हमारे जीवन में भी होते हैं।हम उस अविष्कार को जीवन का हिस्सा बनायेनंगे तो आसानी से नव जीवन को महक दिला पाएंगे।आप खिले,खिलते रहे और आविष्कार देते और दिखाते रहे।

#we can...

Saturday, February 10, 2018

जिम्मेदारी पी लो



जिम्मेदारी।
व्यक्तिको मजबूत बनाती हैं।
एक बार आप जिम्मेदारी उठाओ ओर से निभाने की ठान लो तो कभी आप थक नहीं सकते हैं।किसी ने खूब लिखा हैं कि 'जिम्मेदारी एक ऐसा टॉनिक हैं जो एक बार पी लेने से व्यक्ति कभी नहीं थकता।
किसी को दिया हुआ वचन निभाना बहोत मुश्किल होता हैं।अगर आप ने जिम्मेदारी ली हैं तो आप कभी नही थक सकते।एक पिता कभी अपनी जिम्मेदारी से थकता नहीं।एक पति या पत्नी कभी आने काम से थकती नहीं क्यो की उन्होंने जिम्मेदारी पी हुई हैं।
एक दोस्त हैं।
वो जिम्मेदारी निभाते हैं।
एक व्यक्ति के तौर पे पारिवारिक,सामाजिक और व्यावसायिक जिम्मेदारी को निभाते हुए वो अपने आप को आगे बढाने का काम करते हैं।कई बार वो ऐसी छोटी बातों में परेशान होते हैं जो बात परेशानी वाली हैं ही नहीं।कुछ लोग जिन्हें वीक ऐंड पसंद होता हैं।मेरे दोस्त वीक ऐंड में सबसे ज्यादा अस्वस्थ रहते हैं।
जब मेरी बात होती है तो में उन्हें कुछ करने को कहता हूं।में उन्हें कोई नई जिम्मेदारी का वहन करने में या कुछ ऐसा काम करने को कहता हूं जो वोही कर पाएंगे।
जैसे...
किसी बच्चे को खोजना...
उसे दोस्त बनाना और बाते करना...
उसे आदत न हो जाये ऐसी सहाय करना...
गाना सुनना जो हमे पसन्द है या गाना विशेष हैं...

मेने अगर कोई जिम्मेदारी ली है,में उसे निभाउंगा।क्या कोई व्यक्ति बिना सोचे कोई जिम्मेदारी लेगा?आप कहेंगे नहीं।इसका मतलब ये है कि हम जिम्मेदारी से ही जिम्मेदार बन सकते हैं।
आप भी अपनी जिम्मेदारी की ओर अगर जागृत होंगे तो आप भी नहीं थकेंगे।अगर आप ने सच मे जिम्मेदारी से कुछ तय किया है तो भगवान आपको सहाय करेंगे।

जिओ जिम्मेदारी से...

Friday, February 9, 2018

मेरे पैर देख के लिखलो...








एक बच्चा था।
वो कक्षा तीन में पढ़ता था।
उसका नाम भोलू।भोलू पढ़ने में कुछ ज्यादा ही कमजोर था।अध्यापक उन को पढ़ाते समय अच्छी प्रवृत्ति ओर ज्ञान का सर्जन करवाते थे।
एक दिन की बात हैं।

गुरुजी ने सभी बच्चों को एक टास्क दीया।उन्हों ने कहा 'आप पंखी के पैर को देखकर उसका नाम लिखो।पर्यावरण विषय के लेखक होने पर में भी ऐसी प्रवृत्ति को पाठ्यक्रम में लिखता हूँ।मेने ऐसी प्रवृत्तिनको लिखा हैं।
गुरुजी ने भोलू से भी कहा,पंखी के पैर देखकर तुम उसका नाम लिखो।ये सुनकर भोलू रोने लगा।गुरुजी को उसने बताया कि क्यो रो रहे हो।ये बात सुनकर भोलू ने कहा 'पंखी के पैर देखकर में उसका नाम नहीं लिख सकता।उसे रोता देखकर गुरुजी ने कहा 'तुम अपना नाम बताओ।ये सुनकर भोलू ने कहा 'गुरुजी,आप मेरे पैर देखके लिखलो।'
ये तो हुई एक जोक्स वाली बात।मगर ऐसे कई सारे सवाल होते हैं।जिनके बारें में बच्चो के जवाब रियल में सही थे।
बच्चा कहता हैं कि मेरे पैर देखकर मेरा नाम लिखो।मगर उसका दूसरा अर्थ ए भी हैं कि पंखी तो मैने कभी मेरे सामने बैठा हुआ नहीं देखा,में तो गुरुजी,रोज आपके साथ सामने बैठता हु।
आप भी ऐसे सवाल हैं तो मुझ तक पहुंचाए। 

Saturday, February 3, 2018

दोस्तो की सरकार


दोस्त मेरा आईना।
जब हम खुश हो,सामने दोस्त भी खुश हो।अगर में दुखी हूं तो दोस्त भी दुःखी हो।वैसा दोस्त कोंन हैं।
चार्ली चैप्लिन मानते थे कि आईना मेरा दोस्त हैं।क्यो की जब में रोता हु तो वो हंसता नहीं हैं।कुछ लोग कभी कभी ऐसे निर्णय लेते हैं जो कि उनके लिए महत्व पूर्ण हैं।उस वख्त वो ये नहीं सोचते कि सामने वाले को क्या हुआ होगा।जब आप गलत सवाल करते हैं तो आप को कोई भी कितने दिनों तक सही जवाब दे पाएगा?अगर सही तरीके से जीना हैं तो सवाल ओर जवाब दोनों सही और आवश्यक होने चाहिए।कभी कभी गलत सवाल सही जिंदगी को हमसे छीन लेता हैं।
दोस्त ऐसे होते हैं कि जो बिना कहे बात समझ ले।कुछ दिन पहले मेरे एक दोस्त ने मुजे कोल किया।वो तलाक ले चुके थे।उनका तलाक ऐसा था कि हम 5 साल तक अलग रहेंगे।बाद में?मैने पूछा।मेरे पूछते ही उन्हों ने बताया तब तक आदत हो जाएगी या माफी मांग लेंगे।मेने कहा,मगर क्या आप साथ नहीं रह सकते?दोस्त गंभीर हो के बोला पिछले कई समय से में प्रयत्न करता था मगर वो समझ नहीं पाए।

कुछ ऐसा भी आपने सुना होगा कि पति पत्नी बनके न जीने वाले अच्छे दोस्त बनके जीना सीख लेते हैं।दोस्त बने रहने के बाद आप ने जो ख्याल रखा वो ही अगर पति पत्नी के समय में समज लेते तो आज ये नोबत न आती।

एक पतिका जिम्मा हैं कि घर की जिम्मेदारी निभाए।सिर्फ बच्चे पैदा करना ही पति का काम नहीं।अब तो टेस्ट ट्यूब बेबी से भी बच्चे पैदा होते हैं।पति होना सिर्फ डिजिग्नेशन नहीं हैं।एक कर्म हैं।आप की बीबी आपको कुछ पूछ रही हैं और आप जवाब नहीं देते।क्या मतलब हैं।जवाब नहीं हैं या देना नहीं चाहते। आप जब जवाब देने से भी दूर हैं तो आप जीवन में रहके क्या करेंगे।

आज हैं उसे देखे।कल जो होगा उसे देख लेंगे।

आज आप ने जो तय किया हैं।उसे निभाओ।पति और पत्नी दोनों एक दूसरे के दोस्त हैं।मेरे एक दोस्त।वो अमेरिका हैं।उन्होंने 25 जनवरी को एक जिम्मेदारी निभाने का फैंसला लिया।फैंसला ये की उन्होंने जो भगवान के साक्षी में तय किया उसे निभाएंगे।मेने कहा आपने तय क्या किया,भगवान के सामने।उन्हों ने बोला मेरे आगे भगवान थे।मेरे पीछे आईना।दोनों कभी जुठ नहीं बताते।उनके सामने मेने तय किया हैं कि में भगवान के सामने बोली चीज को निभाउंगा।मेने कहा तय क्या किया?वो बोले 'मेरे दोस्त को मालूम हैं!मेरा दोस्त मेरी सरकार हैं।कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जो घर के मंदिर और ड्रेसिंग टेबल के आईने के बीचमें बैठके अपने बाजू वाले दोस्त को भगवान,माताजी या आईने से भी अधिक सच्चा मानके उस दोस्त को अपनी बात बताते हैं।ये फ्रेंड से जो मेरी  बात हुई,मेने यहां लिखी।मेरे दोस्त का नाम में यहाँ बता नही सकता मगर आशा हैं।भगवान गणेश जी इस पवित्र निर्णय में  सहयोग करें।

#दोस्तो की सरकार

Sunday, December 31, 2017

31.12.2017

आज 2017 का अंतिम दिवस हैं।सबसे पहले ये बात करलू की साल बदला हैं,में नहीं।में ओर मेरा काम नहीं बदले गा।में इस साल को अच्छे और बुरे संदर्भ में देखने की जगह में इस साल को मेरे साथ जुड़े 365 दिनों के रूप में देखता हूँ।सबसे पहले तो आज 2017का समापन हो रहा है आने वाला नववर्ष 2018 आपके सम्पूर्ण परिवार के  मंगल मय, सुख समृद्धि एवं खुशियों से भरा रहे। वर्ष 2017 में जाने अनजाने कोई गलती हो गई हो तो मुजे क्षमा करें।
कुछ गलतियां ऐसी होती हैं जिसे कोई और भुगतता हैं।मेने ऐसी गलती की हैं,में भी ऐसी गलती का शिकार बना हु।पिछले साल की हुई गलती यो को आज भूल के नए सालमे में आगे देखना चाहूंगा।
👫
સેલ્ફી ની જગ્યાએ,કોઈકનું દુઃખ ખેંચી શકો તેવો પ્રયત્ન કરજો. દુનિયા તો શું,ઈશ્વર પોતે પણ LIKE કરશે.
मेरे एक दोस्त ने मुजे आज भेजा।किसी का दुःख कम करने का प्रयत्न कभी मुजे खुद दुःखी कर चुका हैं।में जितना हो सकेगा उतना ओरो के दुःख दूर करने की कोशिश करूंगा।भगवान like करता हैं तो भी तो आज कोई हमे like करता हैं।भगवान का शुक्र हैं जो कुछ पिछले साल हुआ,मेरी जिंदगी में महत्वपूर्ण रहा और  आगे मुजे इससे ओर आगे सोचने का,समजने का ओर कुछ नया करने का जैसे भगवान ने चांस दिया हैं।थक ने के बाद जो आराम मोयला हैं,शायद यही आराम आज में महसूस करता हूँ।भगवान का Like ये मौका like करता हूँ।
👫
Invest your energy into something that is going to contribute to your growth.
Always let your actions speak louder than your words.

केयूर पनारा(सृष्टि इनोवेशन) ने मुजे आज ये मेसेज भेजा।मुजे पसंद आया तो आपको शेर करता हूँ।जो मेरे ग्रोथ में मेरे साथ हैं,में उनके पीछे ही मेरी शक्ति को खर्च करूँगा।हमे हमारे काम को बोलने देना हैं,हमारी आवाज नहीं,हमारा काम हमारी पहचान होनी चाहिए।
👫
“दुनिया का सबसे अच्छा तोहफा “वक्त” है।क्योंकी,
जब आप किसीको अपना वक्त देतें हैँ, तो आप उसे अपनी “जिंदगी” का वह पल देतें हैं,जो कभी लौटकर नहीं आता।परिमल (मांडवी, कच्छ) ने मुजे ये भेजा।समय की दौड़ के साथ काम लेते समय कभी कभी जो अपने होते हैं,उन्हें हम समय नहीं दे पाते।उसमें आयोजन का महत्व हैं।समय सबके लिए 24 घंटे समान हैं।इस बात को ध्यान में रखते हुए इस साल सफलता पूर्वक इस बात को संभाले रखने का प्रयत्न करने का मेरे सभी व्यक्तिओ को विश्वास दिलाता हूं।मेरे खाने पीने के समय और अंदाज से जो मेरे साथी हैं में उन्हें आश्वस्थ करना चाहता हूं जी 2018 साल खत्म होने तक में खाने के बारे में सबको कोई फरियाद न हो वैसा करूँगा।
👫
શું ફરક પડે ક્રીસમસ હોય કે ઈદ,મને અંતરમાં છે માણસ બનવાની જીદ.
भारती जी भावनगर  ने मुजे ये भेजा था।मेने कुछ थोड़ा फर्क करके मेरे लिए फिर से लिख दिया।


अब आगे नही,
नए साल की शुभ कामना से पहले, पुराने साल को ढेर सारा प्यार।
जो आज हैं उसे देखलो,
जो कल होगा,उसे देखलेंगे।

नए साल में पुराने सवाल न हो,ओर नई सफलता के रास्ते खुले वोही प्रार्थना से आज मेरे विचारों को लिखने से रुकता हूं।

Sunday, December 10, 2017

नया सवेरा...

अपने नजरियों का फर्क होता हैं।हम हमारे ओर अन्य के बीच अपने जीवन को देखना हैं।इस हालत में कुछ खास बातें देखनी हैं।
क्या हम सहिमें काम करते हैं?
क्या हमारे नाम से काम का महत्व नहीं हैं?
क्या हर चीज को अपने ही नजरिये से सोचना सही हैं।अगर हा, तो भी ये चित्र उपयोगी हैं।अगर ना कहोगे तो भी इस चित्र को आप जुटला नहीं सकते।अगर मेरी सोच ही सही हैं तो दो बातें होगी।

1.या अपनी सोच के वजन को उठाके जिओ...
2.अगर आप कुछ अलग और सही करते हैं तो आप सही हैं।सही याने उपयोगी।हम बहोत समय फिजूल बातो में गवां देते हैं।मगर तब जाके काम याद आता हैं।हम तनाव महसूस करते हैं।हमारी सोच से दुनिया नहीं चलती।दुनिया को आवश्यकता हैं वैसे हमे काम करना हैं।अपने जीवन को बढ़ाना हैं।क्या सिर्फ समय बर्बाद करना ध्येय के प्रति गद्दारी नहीं हैं।क्या सामान्य जीवन में हम विशेष कार्य करने को बाधक हैं।हम हमारे काम से अगर लगाव हैं तो आप को आप के काम को छोड़के किसी चीज को महत्व नहीं देना हैं।जो प्राप्त किया हैं वो सदैव ओर अनंत तक अपने पास हैं।रहेगा और रहना चाहिए।मगर अब आगे भी बढ़ना हैं।भले ही कुछ मुश्किल या चीजे जो सहज न दिखे।आप ही कहिए,क्या आप कुछ नया नहीं करोगे तो आप इस वख्त जमाने में कैसे टीक पाओगे।
मुजे रोज नया सोचने का ओर काम करने का मौका मिलता हैं।सबको ये मौका नहीं मिलता।ज्यादातर जिन्हें मौका नहीं मिलता वो दूसरो की गलती निकालते हैं।आशा हैं अपनी ही सोच को सही बताने वाले इस पोस्टर को देखे।अगर में सही नहीं भी हु तो क्या में कुछ नया करता या करती हूं।मेंजो नया करती या करता हु इससे भले कुछ व्यक्तियो का नुकसान होता हैं।शायद कुछ लोगो को ये पसंद ननाये।वो आपकी आलोचना करें करे।मेरा मानना हैं कि जो गलती करेगा वो सीखेगा।पुरानी बातें दोहरा ने से गलती नही होगी,मगर कुछ नया भी नही होगा।अगर कुछ नया करने में मेरी गलती हैं,गलती होती हैं तो में उसका स्वीकार करूँगा।जीवनमें व्यक्ति सफलता से नही,निष्फलता से शिखता हैं।कुछ ऐसा करे कि रोज एक बार निष्फलता मिले।और तो ओर अगर आपका काम या व्यवहार सही नहीं हैं फिर भी आप अपनी बात को पकड़ के रखेंगे तो समझना होगा कि आप जहां हैं,बस अब और आगे जाने की उम्मीद नहीं हैं।आप की सोच भले ही बुरी नहीं हैं।आप का नजरिया भले साफ हैं।मगर सोच को बदले।
नव विचार से सर्जन होगा,
नए भारत को सजाना होगा।
सोच को अपनी बढ़ाएंगे,नया सवेरा लाएंगे।

कुछ सोच बदले,सब कुछ बदलता दिखेगा।
We can मुमकिन हैं...!

Wednesday, November 1, 2017

જાદુઈ શાળા


મારી જાદુઈ શાળા.
ડૉ. અભય બંગ દ્વારા લખાયેલ આ પુસ્તકનો શ્રી અરવિંદભાઈ ગુપ્તા એ રજૂઆત કરી છે.આ પુસ્તકનો ગુજરાતી અનુવાદ દીપ્તિ રાજુએ કર્યું છે.
શ્રી અભય બેંગ દ્વારા પોતાના શાળા જીવનના અનુભવ રજૂ કરવામાં આવેલ છે.
જો બાળકો શાળાએ જતાં હોય તો રોકવા નહિ.જો બાળકો શાળાએ જતાં ન હોય તો તેમને ધકેલવા નહીં.આવા અનેક વિચારો અને વાતો માટે આ પુસ્તક ખૂબ જ મહત્વનું છે.શિશુ મિલાપ દ્વારા પ્રકાશિત આ પુસ્તક વાંચવું આપણે ગમશે.કારણ આ પુસ્તકમાં જાદુઈ શાળા,જાનવરો સાથે પરિચય,સંતોનો મેળો,વનસ્પતિ શાસ્ત્રનું શિક્ષણ,જીવાતા જીવનનું ગણિત અને સાથોસાથ રસોઈ દ્વારા શિક્ષણ જેવા કેટલાય મુદ્દાઓ અંગે આ પુસ્તકમાં સરળ શૈલીમાં રજૂઆત કરી છે.ખેતીના પ્રયોગો,જીવંત શિક્ષણ અને શિક્ષણમાં નવીનીકરણ અંગેય સરળ ભાષામાં લખાણ લખાયું છે.
નવરચિત સ્ટેટ રિસોર્સ ગ્રુપના સૌ સભ્યોને આ પુસ્તક આજે મળ્યું છે.આપ પણ આ પુસ્તકની વાંચવા માંગતા હોય તો સંપર્ક કરશો.
#શુભમસ્તુ...

Sunday, October 15, 2017

विचार कैसे खोजे...


आज हमारे पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम सर का जन्म दिबस हैं।हम आशा रखते हैं कि आप बच्चो के नवाचार इकठ्ठा करने में सहायक बनेंगे।बच्चो से नवाचार प्राप्त करने के लिए आप इस क्रम में बढ़े गए तो आसानी होगी।

आप से निवेदन हैं।आप के घरमें नवाचार की चर्चा करें।
हम ऐसा करते हैं।एक दो सवाल रखे।ये सवाल ऐसे हो कि आप स्थानिक समस्या से जुड़े हो।

ऐसे सवाल करें...

1.अगर रास्तेमें साइकल का पंक्चर हो जाये तो...

2.सायकल के साथ चलाने के अलावा और क्या क्या हो सकता हैं?

3.अगर कोई चीज गुमने से ऊर्जा पैदा होती हैं तो उसके अन्य अवकाश कोनसे हैं।

4.कैसा शौचालय बनाया जाए कि पानी की खपत कम करे?

5.दिव्यागों के लिए शौचालय की क्या डिजाइन हो सकती हैं।

6.अगर कोई बच्चा सुन नही सकता तो वो एड्रेस कैसे पूछेगा ओर बताएगा।

7.डिब्बेमें से तेल निकाल ते समय तेल बिगड़े नहीं इस के लिए क्या क्या हो सकता हैं?

8.विकलांग व्यक्ति को कार या मोटर साइकिल पर बिठाने के लिए विशेष यंत्र।

9.ICT के उपकरण के इस्तमाल करने में विकलांग व्यक्तियो को सहायक उपकरण।

10.शिखने के तरीके को रोचक बनाने हेतु सहपाठी क्रिया,प्रक्रिया।

ये सवाल सिर्फ दिशा निर्देश करते हैं।ऐसे सवाल के बाद दूसरे चरण में इस में क्या क्या उपलब्ध हैं उसके बारे में आप उनसे चर्चा करें।

ॐ शांति...

आप को सिर्फ चर्चा करनी हैं।कोई सोच या दिशा का निर्देश करना हैं।आप लोकसभा में स्पीकर की तरह  संचालन करें आपको कोई दिशा निर्देश नहीं देना हैं।

अब आप बच्चो को खुला छोड दीजिए।उनके आसपास भी कई समस्या होगी।उन्हें उनके सवाल के लिए जवाब या कोई रास्ता सोचने को कहिए।इस के लिए उन्हें 30 मिनिट का समय दीजिए।

बादमें सभी बच्चे ग्रूपमें अपना प्रेजेंटेशन करेंगे।जो भी अच्छे विचार आपको लगते हैं उसमें संम्भावना न दिखे फिरभी आप नए विचारको एकत्रित करें।

आप की सहाय से बच्चो के जो नवाचार मिलेंगे उनको srushti.org के मार्गदर्शन से उन्हें IGNIT एवॉर्ड के लिए NIF को भेजे जाएंगे।
आप सभी से ये अनुरोध हैं कि आप बच्चो के विचारों के नवाचार को इकट्ठा करने में सहयोग करें।

आज से छुट्टियां हैं।

आप आपके घर परिवार के,सोसायटी या पडोशी के या कोई भी बच्चो के नवाचार भेज सकते हैं।
आप से उम्मीदे हैं।
आप
7rangiskill@gmail.com पर अपने नए विचार भेजे।

भवदीय
डॉ भावेश पंड्या
को.कॉर्डिनेटर सृष्टि:
2017:18

09925044838

Saturday, October 14, 2017

हम बदलेंगे...

हम जो सोचते हैं।
वो सब अगर हो जाता तो किसी व्यक्ति या व्यवस्था का महत्व न रहता।आजकल देखा जाए तो लोग कही सुनी बातोपे यकीन करते हैं।आजकल मीडिया सक्रिय हैं।मीडिया से तुरंत जुड़ा दूसरा कोई शब्द हैं तो वो हैं,सोशियल मीडिया।क्या हम उस भीड़ का हिस्सा बनेंगे?क्या हम किसी की कही सुनी बातोपे यकीन करेंगे!मेरे एक दोस्तने मुजे कार्टून भेजा।एक हड्डी केबीपीछे पूरा मीडिया चलता हैं।आज भी सत्ता पक्ष और विपक्ष के पास अपनी खुद की या खरीदी हुई मीडिया हैं।अब गुजरात के चुनाव में ये ज्यादा दिखाओ देगा।इस बात को किसी दूसरे तरीके से देखते हैं।
पति सदैव अपनी पत्नी के लिए काम करता है।कुछ बाते भूलता हैं।पत्नी को कभी कुछ नहीं दे पाता।पति को हैं कि उसे पसंद न आये।इस बीच बात बिगड़ती हैं।फिर भी वो दोनों एक दूसरे के सामने न होनेबपर भी उनकी चिंता करते हैं।सुबह झगड़ा होने के बाद फोन पे एक दूसरे से बात करते हुए दोनों रो लेते हैं।दोनों एक दूसरे के लिए जीते मरते हैं।मगर फिरभी प्यारी बात पे कुछ बोलभी लेते हैं।जगड़ा भी कर लेते हैं।रोते हुए भी अपनी गलती मानते हैं,गलती जताते हैं।
मेरा मानना हैं कि पत्रकारों को अपने कर्म के बारे में भी सोचना चाहिए।क्या ऐसा हो सकता हैं कि पत्रकार खरीखोटी सुनाता हो,लिखता हो फिरभी उसका ये काम हैं।पत्रकार जैसे प्रत्येक व्यक्तिको खुश नहीं रखपायेगा वैसे ही पति और पत्नी सदैव हर बातपे खुश नहीं हो सकते,नहीं कर सकते।पत्रकारों का ठीक हैं,मगर हमे तो हमारे परिवार के साथ बीबी ओर बच्चोबके लिए कुछ तो करना हैं।
जैसे बर्थ डे पर विष न करने वाले पति को पत्नी माफ करती हैं,वैसे ही पतियों को भी ये करना चाहिए। कुछ पत्रकारों की तरह हड्डी के पीछे,यानी पुरानी आदतों के पीछे न दौड़ते हुए हर बार गिफ्ट देके विष करना चाहिए।हमे ये तय करने में दिक्कत नही होनी चाहिए कि उन्हें क्या देना हैं,क्या गिफ्ट या स्मृति देनी हैं।
मीडिया के कुछ साथियों की हड्डी तय हैं।हमारे जीवन में जैसे साथ बढ़ता हैं हड्डियां बदल जाती हैं।आज हड्डी ओर कुछ पत्रकारों के लिए दियागया आए कार्टून हमे भी पुरानी भूलने की या दिन मेनेज न करने की आदत बदले।
गायत्री परिवार में कहा जाता हैं कि 'हम बदलेगे, युग बदलेगा।हम इस नए साल से पुरानी गलती न दोहराते हुए बदलाव लाएंगे,खुद बदलेंगे।
#Bnoवेशन

Wednesday, October 11, 2017

क्या करेंगे?

शिक्षा से जुड़े लोग इसे जल्द समजेंगे।इस के आधार से एक बात तय हैं कि शिक्षक जो पढ़ाता हैं।बच्चे से पहुंचने से पहले ही वो बात किसी बड़ी खाइमें जा गिरती हैं।अब इस बात को समझ ने वाले कितने हैं।सिर्फ वन वे प्रोसेस से शिक्षामें परिणाम प्राप्त नहीं होते।इस के लिए शिक्षामें सुधार करना जरूरी हैं।ये सुधार क्या हो सकते हैं,वो जान ने के लिए अध्यापन कार्य से जुड़े साथियो से ही बात करनी पड़ती हैं।
हा, एक बात हैं।बच्चे को जानकारी की नही,नए विचार की खोज सिखानी हैं।आप ओर हम आज ऐसी चीजें इस्तमाल करते हैं, जो हम पड़ते थे उस वख्त नहीं थे।आज हम उसका इस्तमाल कर लेते हैं।बस,आगे के समय मे बच्चे भी ऐसे समझदार बने की वो भी अपने जीवन में आगे बढ़े।एमजीआर उसके पहले हमें ये खाई को दूर करना पड़ेगा।

Sunday, October 8, 2017

हमारा साथ...

किसी को हम देखते हैं।कोई हमे देखता हैं।कोई व्यक्ति सफल होती हैं।कोई निष्फल होता हैं।सफलता कभी व्यक्तिगत नहीं हो सकती।सफल होने के लिए सहारा या सहयोग आवश्यक हैं।किसी ने खूब कहा हैं कि सफतला पाने वाली व्यक्ति कभी अकेली नहीं होती।या तो उनसे कोई जुड़ता हैं,या वो किसी से जुड़ते हैं।कई लोग ऐसे होते हैं जो सिर्फ सहकार चाहते हैं।उनकी चाहत इतनी होती हैं कि हम भूल के भी उसे नहीं भुला सकते।
अगर कोई बिना शर्त समर्थन करता है।उनका समर्थन कुछ दिनों बाद शार्टमें बदल जाता हैं।ऐसा सिर्फ पॉलिटिक्स में होता हैं।जीवनमें तो शर्तो के साथ कोई समर्थन नहीं देता।अगर कोई समर्थन देता हैं तो हमे उसके ऊपर सोचना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा हैं।
में सिर्फ इतना कहूंगा कि अगर में किसी काम में सफल हुन तो इसका मतलब मेरे पीछे कई सारे लोगोकी दुआए हैं।अगर में सफल नहीं हूं तो इसका मतलब हैं कि अभी मेरे पीछे दुआ कम हैं।
में अकेला नहीं बढूंगा,में हाथ को साथ लेके चलूंगा।भले मेरी चलने की गति धीमी हो जाय।आप का स्नेह मिलता रहेगा,हम आगे बढ़ते रहेंगे।

Monday, September 11, 2017

शिक्षा मेरा शोख ....

आजकल किसी को कहे की आपका शोख क्या हैं?इस सवाल को सुनते ही हमे कुछ ऐसे जवाब मिलते है जो तय होते हैं!जैसे की खेलना,पढ़ना,गुमना,संगीत और ऐसे कई सरे जवाब मिलते हैं!अगर ऐसे व्यक्ति को उसने जो शोख दर्शाया हैं उसके आधार पे कुछ काम दिया जाय तो हमें मालुम पड़ता हैं की अपने शोख्में बताई कोई क्रिया ये व्यक्ति नहीं कर सकते हैं!आसपास देखा जाए तो की सरे लोग ऐसे हैं जो शोख न होने के बावजूद भी वो काम अच्छी तरह से करते हैं!
काम को दो तरीके से देखा जाता हैं!
एक काम ये हैं जो की हम अपना परिवार चलने के लिए करते हैं!दूसरा काम हम शोख से करते हैं!दोनों काम के नतीजे अलग अलग हैं! किसी से हमे खुशी मिलाती हैं तो किसीसे हमें पैसा!खुशी और पैसा दोनों हमारे लिए महत्त्वपूर्ण हैं!ऐसे महत्वपूर्ण बातों को हमें सिर्फ दिखाना नहीं उसे जीवनमें उतारनी होती हैं!ऐसी बातें जो सुननेमें अच्छी लगाती हैं मगर उसके ऊपर काम करने से हमें पता चलता हैं की शोख निभाना और उसे बनाये रखना भुत मुश्किल हैं!जो मुश्किल से बहार आता हैं वो सफल होता हैं!अगर थोड़े दिनोमें सफलता मिलती तो सिर्फ गुजरातमें कई सरे चित्रकार और संगीतकार होंते!सिर्फ कुछ दिन वर्कशॉप या प्रेक्टिस से महारत हांसिल होती तो शोख बनता!आजकल हमारे बच्चो के पेरेंट्स समर केम्पमें बच्चो को बजाते हैं!मगर वैसेही कुछ दिनोमें अगर कोई शोखीन स्किल प्राप्त कर ले तो वो लाखो बच्चोमें एकाद होता हैं!
सभीके लिए ऐ संभव नहीं हैं!मेरा शोख शिक्षा हैं!अगर मुझे मेरा शोख पाले रखना हैं तो उसमें क्या नया होता हैं वो मुझे जानना हैं!खेल का शोख रखने वाली व्यक्ति खेल के बारें में जानकारी प्राप्त नहीं करेगा तो...बस,एक सवाल के साथ में मेरी बात आज ख़त्म करता हूँ!