Showing posts with label Help Media. Show all posts
Showing posts with label Help Media. Show all posts

Friday, May 17, 2019

છોકરીને ચંપલ...


થોડાક દશકથી સૂર્યનારાયણની ગરમી વધી છે,ધરતીમાતા વ્યાકુળ બની છે,પવનદેવ ફુગર્યા છે,જાફરાબાદ ના દરિયાકિનારાના પાણી તપ્યા છે.કાળઝાળ ગરમીમાં જેને પગ અને પાંખો છે તે પોતીકો મારગ શોધી લે. ત્યાં અમારું શું...?
  
    
   એક એવી છોકરી જેના શરીર પર હાડ મેલ જામી ગયેલો.માથાના વાળ શાહુડીનાં પીંછા જેવા થઈ ગયેલા.પાણીની વ્યવસ્થા માટે ભરવાનું પાત્ર ક્યાં ..? માટે નાહવાનો લાભ જ ક્યાં.
    શાળાએ આવતા જતા ઘણીવાર એ મને સામે ભટકાઈ જતી.એનાથી બે ફૂટ દૂર હોઈએ તોય નાક દુર્ગધથી ભરાઈ જતું.મને બાળકો ગમતા.દયાભાવ પણ ખરો,પણ અસ્વચ્છતાથી ભારે સૂગ.ઘણીવાર એને સમજાવું પણ પથ્થર ઉપર પાણી.

        મારા વર્ગમાં અભ્યાસ કરતી દેવી પૂજક ની જ્ઞાતિમાંથી આવતી ધોરણ :-૨ ની વિદ્યાર્થીની ચુડાસમા શારદા બાળપણથી જ માતા ગુમાવી પિતા અને મોટી બહેનને ટીબી નામના રોગે ભરડો લીધો પથારી વશ કરી દીધા.દાદીમા જોડે રહીને આખો દિવસ પોતાના પિતા અને તેમના પેટનો ખાડો પુરવા ભીખ માંગીને બટકું-બટકું  ભેગું કરે.પોતાના શરીર ને ઢાંકવા માટે છ મહિનાથી બે જોડી જ કપડા હતા. તેમાં એક તો શાળાનો યુનિફ્રોમ.

      જેમના ઘરે રાંધવા માટે તેલનું ટીપું  ના હોય તે પોતાના માથામાં તેલ નાખીને શાળાએ કેવી રીતે આવે..? જેમના મકાનની ઉપરની છત ના હોય તે પોતાની પગની છત કેવી રીતે ઢાંકે...? અવારનવાર વાલી સંપર્ક કરવાનો થાય ત્યારે આ દ્રશ્ય કઈક અલગ જ તરી આવતું. આજે આશા એ જાગી કે આ ચપલ આ દીકરી ને  પહેરાવવાનો મને વિચાર સ્ફુર્યો છે. ખૂબ આનંદ થયો.
   
શ્રી મિતિયાળા પ્રા.શાળા
તા.જાફરાબાદ જિ. અમરેલી

રઘુ રમકડું...


#Bno...

मुजे कोई कुछ भेजता हैं,अगर वो बात मुजे अच्छी लगी तो शेर करता हु। आप को पसंद आये तो आप भी शेर करें।

વિચારજો...


મા મને નવી નિશાળ દે ગોતી,
બેન મારી મારે છે તમતમતી સોટી. આવી નવી શાળાઓ કે શહેરની કેટલીય ખાનગી શાળાઓ હવે નવું કરશે. માર્ચ માસથી શહેરોના હોર્ડિંગ્સ ઉપર “ખાનગી શાળા”ની જાહેરાતોની વસંત ખીલશે.

”હનીમૂન” અને “હનુમાન” શબ્દ વચ્ચેનો ભેદ ન પારખી શકનારા સંચાલકો જાહેરખબરો માટે નાણાં કોથળી છૂટી મૂકી દેશે. પ્રોફેશનલ્સ કેમેરામેન્સ પાસે સ્ટુડિયોમાં બાળકોને ગોઠવી 'નાઈસ નાઈસ ઈમેજીસ'  બનાવી છટકાં ગોઠવશે. તેઓ જાહેરાતમાં બધું જ લખશે, સિવાય કે  વિદ્યાર્થી ને ભણાવવા માટેની “ફીની વિગત”.

મગજને લીલુંછમ કરી,
હ્રદયને ઉજ્જડ બનાવી દેતી કેટલીક સ્કૂલો છે ! 

વેદના તો જુઓ...

બાળકની છાતીએ આઈકાર્ડ લટકે છે પણ તેની પોતાની 
“ઓળખ” ગુમાવી ચૂક્યો છે. તે સ્ટુડન્ટ નથી રહ્યો,
રનર બની ગયો છે, રનર.  “લીટલ યુસેન બોલ્ટ” ઓફ એજ્યુકેશન સિસ્ટમ્સ. 15 કી.મી.નું અપડાઉન કરીને થાકી જતાં વડીલો  બાળકને ઘરથી 20 કી.મી. દૂરની શાળામાં ભણવા મોકલે છે ! 

મને મારા મિત્ર...
પોતાનો રાચરચિલા વાળો ફ્લેટ છોડી, ચિલોડા ભાડે રહેવા ગયા ?, જવાબ : મારી પૌત્રી અડાલજની સ્કુલમાં ભણે છે, તે માટે. 'આને પૃથ્વી પરનું સૌથી મોટું આશ્ચર્ય કહેવાય !'

વળી, પેલા જાહેરાતના બોર્ડ પર પણ ક્યાં લખે છે કે 'દફતરનું વજન કેટલાં કિલો હશે' ગુજરાતનો એક સર્વે કહે છે કે,  શહેરમાં છેલ્લાં ૧૦ વર્ષમાં પ્રતિ બાળક ભણાવવાના ખર્ચમાં ૧૫૦% નો વધારો થયો છે. દેશના મધ્યમ વર્ગમાં “નસબંધી” કરતાં “શિક્ષણખર્ચ”નાં કારણે વસ્તી વધારાનો દર ઘટ્યો છે !!! 

ગુજરાતની કહેવાતી ઈન્ટરનેશનલ શાળામાં'રિબોક'ના 'શૂઝ' 'કમ્પલસરી' છે. કિંમત માત્ર 3500 રૂ. (આપણી સરકારી શાળાઓમાં દાતાશ્રીએ બાળકોને ચંપલો આપ્યાના ન્યૂઝ ન્યુઝપેપર્સમાં આવે છે ! નાસ્તામાં રોજ શું લાવવું તેનું 'મેન્યુુ' શાળા નક્કી કરે છે.

અઠવાડિયાના અમુક દિવસ માટે જુદાં-જુદાં રંગ કે ડીઝાઈનના યુનિફોર્મ નક્કી કર્યા છે. વિદ્યાર્થીઓની પરીક્ષા લઈને જ એડમિશન આપવામાં આવે છે. ઈન શોર્ટ એટલું જ કે “આર્થિક રીતે નબળા” અને  “માનસિક રીતે નબળા” માટે આ શાળાઓ નથી.ખાનગી શાળામાં ભણતા બાળકોની માતાશ્રીઓ બાળકને મળતા હોમવર્કના "પ્રમાણમાપને આધારે, આજે રસોઈમાં ફલાણી વસ્તુ જ બનશે” એમ જાહેર કરે છે.  લેશન વધારે હોય તો “એક ડીશ બટાકાપૌંઆ” અને લેશન ઓછું હોય તો
“દાળ-ભાત, શાક, રોટલી અનલિમિટેડ” મળે છે !! 

આખા ઘરના સંચાલનનું કેંદ્ર બિંદુ આજે સ્કૂલ બની ગઈ છે.

એ દિવસ પણ દૂર નથી કે
પ્રાથમિક શિક્ષણની ફી ભરવા માટે  વાલીઓએ પ્રો.ફંડ ઉપાડવા પડશે.  હાલ માત્ર ઉચ્ચ શિક્ષણ માટે લોન આપતી બેંકો પ્રાથમિક શિક્ષણ માટેની ફી ભરવાય લોનો આપશે.
પેલી જાહેરાતોમાં પાછું લખશે કે  અમારે ફલાણી-ઢીંકણી બેંક સાથે ટાઈ-અપ છે, લોન પેપર ઉપલબ્ધ છે.બાળકના દફતર પર લખેલું જોવા મળશે 
“ 'ફલાણી'બેંકના સહયોગથી”..

બીજી એક ખોડ છે, તેઓની શિક્ષણ પધ્ધતિ. 
એક “છત્રપતિ શિવાજી” નો પાઠ હોય અને બીજો “અમેરિકા ખંડ” નામનો પાઠ હોય.  જે પાઠમાંથી પરીક્ષામાં વધારે ગુણનું પૂછાવાનું હોય તેના આધારે જે-તે પાઠને મહત્ત્વ આપવામાં આવે છે.  “છત્રપતિ શિવાજી”ના કોઈ ગુણ બાળકમાં ન આવે તો ચાલશે, વાર્ષિક પરીક્ષામાં ગુણ આવવા જોઈએ. 

ચાલો, 
છેલ્લે છેલ્લે 
'ઈન્ટરનેશનલ લેવલ'એ  આપણી શિક્ષણની ગરીબાઈ પણ જોઈ લઈએ. પાંચ-છ આંકડામાં ફી લઈને ઉચ્ચ ક્વોલિટીના શિક્ષણની વાતો કરનાર ભારતની એક પણ સ્કૂલ આંતરરાષ્ટ્રીય કક્ષાએ પ્રથમ 500માં પણ નથી.  માત્ર 13/14 વર્ષની કાચી ઉંમરે આત્મહત્યા કરતા બાળકો  સમાજને દેખાય છે ? આ આત્મહત્યા પાછળની તેની વેદના સમજાય છે ?

મારી વાત સાથે કોઈ સંમત થાય કે ન થાય એ અલગ વાત છે પણ હું...

“પ્રામાણિક અભણ મજૂર” અને “અપ્રામાણિક સાક્ષર અધિકારી” માંથી પ્રથમ વિકલ્પને પસંદ કરીશ.  જો નજરમાં દમ હશે તો થાંભલા અને પેન્સિલ વચ્ચેનો આ તફાવત સમજાઈ જશે. આ કોઈ નકારાત્મકતા નથી. ઘણી સારી શાળાઓ છે જ. આ તો એવી શાળાઓની વાત હતી જે 
સરસ્વતી માતાની છબી ઓથે “વ્યાપાર” કરે છે !!! તેના શિક્ષકોની લાયકાત તથા ચૂકવતા પગારની તો હજુ વાત બાકી છે .. !!

#Bno...

શિક્ષણ માટે ખર્ચ કરનાર સૌ વાલી જે ન બની શક્યા તે એમના બાળકને બનાવવા માટે જ આટલો ખર્ચ અને તણાવ ભોગવે છે.

Saturday, May 4, 2019

क्या साथमें रहेगा...



एक राजा था जिसने ने अपने राज्य में क्रूरता से बहुत सी दौलत इकट्ठा करके( एकतरह शाही खजाना ) आबादी से बाहर जंगल एक सुनसान जगह पर बनाए तहखाने मे सारे खजाने को खुफिया तौर पर छुपा दिया था खजाने की सिर्फ दो चाबियां थी एक चाबी राजा के पास और एक उसकेएक खास मंत्री के पास थी इन दोनों के अलावा किसी को भी उस खुफिया खजाने का राज मालूम ना था एक रोज़ किसी को बताए बगैर राजा अकेले अपने खजाने को देखने निकला , तहखाने का दरवाजा खोल कर अंदर दाखिल हो गया और अपने खजाने को देख देख कर खुश हो रहा था , और खजाने की चमक से सुकून पा रहा था।

उसी वक्त मंत्री भी उस इलाके से निकला और उसने देखा की खजाने का दरवाजा खुला है वो हैरान हो गया और ख्याल किया कि कही कल रात जब मैं खजाना देखने आया तब शायद खजाना का दरवाजा खुला रह गया होगा, उसने जल्दी जल्दी खजाने का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और वहां से चला गया . उधर खजाने को निहारने के बाद राजा जब संतुष्ट हुआ , और दरवाजे के पास आया तो ये क्या ...दरवाजा तो बाहर से बंद हो गया था . उसने जोर जोर से दरवाजा पीटना शुरू किया पर वहां उनकी आवाज सुननेवाला उस जंगल में कोई ना था ।

राजा चिल्लाता रहा , पर अफसोस कोई ना आया वो थक हार के खजाने को देखता रहा अब राजा भूख और पानी की प्यास से बेहाल हो रहा था , पागलो सा हो गया.. वो रेंगता रेंगता हीरो के संदूक के पास गया और बोला ए दुनिया के नायाब हीरो मुझे एक गिलास पानी दे दो.. फिर मोती सोने चांदी के पास गया और बोला ए मोती चांदी सोने के खजाने मुझे एक वक़्त का खाना दे दो..राजा को ऐसा लगा की हीरे मोती उसे बोल रहे हो की तेरे सारी ज़िन्दगी की कमाई तुझे एक गिलास पानी और एक समय का खाना नही दे सकती..राजा भूख से बेहोश हो के गिर गया ।

जब राजा को होश आया तो सारे मोती हीरे बिखेर के दीवार के पास अपना बिस्तर बनाया और उस पर लेट गया , वो दुनिया को एक पैगाम देना चाहता था लेकिन उसके पास कागज़ और कलम नही था ।

राजा ने पत्थर से अपनी उंगली फोड़ी और बहते हुए खून से दीवार पर कुछ लिख दिया . उधर मंत्री और पूरी सेना लापता राजा को ढूंढते रहे पर बहुत दिनों तक राजा ना मिला तो मंत्री राजा के खजाने को देखने आया , उसने देखा कि राजा हीरे जवाहरात के बिस्तर पर मरा पड़ा है , और उसकी लाश को कीड़े मोकड़े खा रहे थे . राजा ने दीवार पर खून से लिखा हुआ था...ये सारी दौलत एक घूंट पानी ओर एक निवाला नही दे सकी...

यही अंतिम सच है |आखिरी समय आपके साथ आपके कर्मो की दौलत जाएगी , चाहे आप कितनी बेईमानी से हीरे पैसा सोना चांदी इकट्ठा कर लो सब यही रह जाएगा |इसीलिए जो जीवन आपको प्रभु ने उपहार स्वरूप दिया है , उसमें अच्छे कर्म लोगों की भलाई के काम कीजिए बिना किसी स्वार्थ के ओर अर्जित कीजिए अच्छे कर्मो की अनमोल दौलत |जो आपके सदैव काम आएगी।


जय हिंद:

कहना पड़ेगा की खान तो फ्री में भी भरपेट मिलता हैं। कहीं पे खाने का 50 से लेकर 5000 तक का होता हैं। आप के पास धन हैं तो आप के लिए 5000 का शायद महत्व न हो। भगत जो भूखा हैं वो 5 रुपये के कहने से भी पेट भर सकता ह

Tuesday, April 9, 2019

होना चाहिए....




होना चाहिए एक साथी
ऐसा भी ज़िन्दगी मे,

जो अलग हो दायरों से
सामाजिक रिवाज़ों से।

बांट सके हर वख्त
जिससे अपना अंतर्मन,

ये ख़्याल ही न आये
की वो सखी है या सखा।

जो समझे आपको
आपकी ही तरह,

मिलकर जिससे लगे
जैसे हो गयी हो।

" ख़ुद से ही ख़ुद की मुलाकात"

Friday, January 11, 2019

मिस थाईलैंड: सफाई कामदार की बेटी


मा सदैव मा होती हैं।
आप जो तस्वीर देख रहे हैं, वो थाईलैंड की हैं। बात हैं वर्ष 2015 की। वहाँ मिस थाईलैंड की प्रतियोगिता थी। विजेता गोशित किये गए। जिस लड़की को मिस थाईलैंड का खिताब मिला वो साधारण परिवार से तालुक रखती हैं।

उसकी माँ ने उसे पालपोसकर बड़ा किया हैं। उस के पापा नहीं हैं, उसकी मम्मी सफाई कामदार के तौर पे कूड़ा उठानेका काम करती हैं। अपनी ट्रॉफी ओर स्कार्फ लेके जब मिस थाईलैंड आपीने घर को निकली तब उसके पीछे स्थानीय मीडिया का जमावड़ा था। घर जाने से पहले रास्ते में उसने एक औरत के पैरों में अपनी ट्रॉफी रखकर उनका चरण स्पर्श किया, ये औरत उसकी माँ थी।

अपनी पहचान बनाने के लिए जिस ने उन्हें पाला उनके आगे नतमस्तक होना एक आदर्श विचार और व्यक्तित्व की पहचान हैं। आप के पास भी ऐसे फोटो हैं, तो कृपया हम तक पहुंचाए।

सरकुम:

मां...
सिर्फ शब्द काफी हैं।

बा...
सिर्फ विचार काफी हैं।

Thursday, December 27, 2018

मेरे दिलमे तेरी धड़कन...


एक बच्चा।
जो मर रहा था।
उसका हार्ट किसी ओर को दिया गया।
मरने वाले का नाम जॉन स्मिथ था। उसकी मम्मी का नाम रेलया जिम ओर जिसे हार्ट दिया गया उस लड़कीका नाम सोजन्वे।

आप जो तस्वीर देखते हैं, उस तस्वीर में एक माँ अपने बच्चे की हार्टबीट किसी ओर के शरीर में पहली बार सुन रही हैं। इस से अधिक यहाँ मेरे लिए लिखना सम्भव नहीं हैं।

सरकुम:
जिसे हम प्यार करते हैं उस को हम बिना बोले ही समज लेते हैं। जिनसे प्यार करते हैं उनकी धड़कन भी हम महसूस करते हैं। 

Thursday, December 20, 2018

जीवंत जीवन ऐसा होता हैं...

बच्चे को माता-पिता ने राक्षस समझ कर छोड़ दिया था,एक महिला ने सहारा दिया,फिर क्या हुआ पढ़े।

नाइजीरिया के एक गांव में एक 2 साल का लड़का बिलकुल हड्डियों के ढ़ांचे में तब्दील हो गया था. उसके माता-पिता ने उसे अशुम, राक्षस मानकर सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया था. माता -पीता के अंधविश्वास की सज़ा एक मासूम बच्चे को यह मिली की वह बच्चा भूख के मारे कचराकुंडियों जो कुछ मिल जाता था खा लेता और अपनी भूख मिटाने की कोशिश करता रहता था.

नाइजेरिया में मानवतावादी संघठन में काम करनेवाली अंजा रिंगरेन लोवेन ने इस बच्चे (होप) को जब देखा तो भूख और प्यास से बेताब था. अंजा ने उसे पानी पिलाया और खाना खिलाया. फिर उसे अस्पताल ले गई उसका इलाज करवाया. बच्चे के शरीर में कीड़े पड़ चुके थे.

अंजा ने फिर उसे अपने 'अफ्रीकन चिल्ड्रेन्स ऐड एजुकेशन एंड डेवलपमेंट फाउंडेशन' द्वारा चलायें जा रहे बाल विकास केंद्र में शामिल किया और अब वह वहां दूसरे बच्चों के साथ खुश और स्वस्थ हैं. अंजा ने उसे स्कूल में भी दाखिल कर दिया हैं और वह अब पढ़ाई कर रहा हैं.


अंजा ने स्वंय एक नाइजेरियाई व्यक्ति से विवाह किया हैं और उनको एक लड़का हैं. आज दुनिया में चारों तरफ मानवता की धज्जियाँ उड़ाई जा रही हैं ऐसे में अंजा जैसे कुछ लोग मानवता के लिए उम्मीद का किरण साबित होते हैं. ऐसे लोगों से हर किसी ने सबक लेने के ज़रूरत हैं।

सरकुम:

क्या हम ऐसे बच्चों के लिए कुछ कर सकते हैं? सोचा तो हैं, ऐसा काम कुछ हो भी रहा हैं। इसे फैलाने के लिए हमारे पास पैसा नहीं हैं। आज 14 बच्चे ऐसे हमारे पास हैं। पेसो के बगैर समस्या कम नहीं होती। कभी कभी बढ़ती हैं।

Friday, December 14, 2018

एक व्यवस्था: किन्नर

आम आदमी के जन्म से लेकर मृत्यु तक अलग अलग धर्मों के अलग अलग रीती रिवाज होते हैं। जो लग भग हर कोई जानता है क्योंकि इनके रीती रिवाज को हर कोई देख सकता है। लेकिन आज आपको किन्नरों के अंतिम संस्कार को लेकर कुछ जानकारी देंगे जो बहुत ही कम लोग जानते हैं। जी हाँ दोस्तों, कहा जाता है कि किन्नर की दुआओं में बहुत जल्दी असर होता है। 

अगर किसी घर में किसी बच्चे का जन्म होता है तो वहां किन्नर जरूर जाते हैं और बच्चे को अच्छे जीवन की दुआएं देते हैं। आपको बतादें किसी किन्नर के मरने पर उसके अंतिम संस्कार आम आदमी के अंतिम संस्कार के विपरीत होता है और इनका अंतिम संस्कार रात में किया जाता है ताकि आम आदमी देख न सके।


इनका मानना है यदि कोई व्यक्ति किन्नर का अंतिम संस्कार को देखेगा तो वो किन्नर फिर से किन्नर का ही जन्म पाता है। किन्नर के अंतिम संस्कार के पहले मजूद सभी किन्नर बॉडी को जूते चप्पल से भी पीटते हैं। अब आपके मन में ये सवाल जरूर उठेगा कि आखिर किन्नर के अंतिम संस्कार के पहले बॉडी को क्यों पीटते हैं जूते चप्पल से। 

दोस्तों, ये सच्चाई जानकर आपको हैरानी होगी कि किन्नर ऐसा इसलिए करते हैं ताकि उस जन्म में किए सारे पापों का प्रायश्चित हो सके और वो इंसान दोबारा किन्नर के रूप में वापस न आये।

@#@
साथ जीना हैं तो दोबारा भी पैदा होंगे,
अकेले रहने को तो पल भी एक जीवन हैं।
क्यो आस लगाए बैठेंगे किसी के कारण,
हमे जिंदा रहने का वजूद आपसे मिला हैं।

Monday, December 10, 2018

एक ऐसी भी कहानी...

हमारा देश सभी धर्मों का सन्मान करता हैं। हर धर्म को पहचानने के लिए हम सब ने अपने दिमाग में कई तस्वीरें बना रखी हैं। अगर किसी व्यक्ति ने पगड़ी पहन रखी हैं तो वह पंजाबी ही होगा या किसी ने अगर धोती पहनी हैं तो वह हिन्दू होगा या फिर किसी व्यक्ति ने अगर टोपी लगायी हैं और दाढ़ी रखी हैं तो वह मुसलमान ही होगा लेकिन यह सब हमारे दिमाग का सिर्फ एक मज़हबी फ़ितूर मात्र हैं।पर कभी आपने सोचा कि मुस्लिम सिर्फ दाढ़ी क्यों रखते हैं मूछें नहीं? आईएं आज हम आप को बताते हैं मुस्लिम धर्म से जुड़ी एक दिलचस्प बात। कहा जाता हैं कि हिन्दू धर्म ही सबसे पुराना और सनातन धर्म हैं। 
हिन्दू धर्म का इतिहास कितना पुराना हैं इस बात की पुष्टि अभी तक नहीं हुई हैं, वही इस्लाम धर्म लगभग 1400 साल पुराना हैं।वेद व्यास जी अभी तक 18 पुराण लिख चुके हैं और भविष्य पुराण उनमे से एक हैं। हिन्दू धर्म के अंतर्गत कई तरह के पुराण और ग्रन्थ लिखे गए हैं और उन्ही ग्रन्थों में से एक भविष्य पुराण में इस्लाम से जुड़ी भविष्यवाणी पहले ही कर दी थी। इस पुराण में लगभग 50000 श्लोक थे लेकिन तक्षशिला विश्व विद्यालय में रखे इस ग्रन्थ को मुग़ल शासन काल में जला दिया गया पर उस किताब में से 129 अध्याय और लगभग 14000 श्लोक बच गए थे।इस किताब में यह पहले से ही उल्लेखित था कि उस वक़्त के तात्कालीन राजा हर्षवर्धन के साथ और कई राजा, अलाउदीन, तुगलक, तैमुर, बाबर, और अकबर जैसे मुगलों का इस काल आना होगा। इस पुराण में ईसाई धर्म के प्रमुख ईसा मसीह के जन्म का भी प्रमाण मिलता हैं।लेकिन इससे पहले भी अपने भारत देश की शक्ति कम होती देख एक और राजा हुए, जो राजा भोज के नाम से जाने गए और उन्होंने तय किया कि अपनी मातृभूमि की रक्षा करने के लिए दुनिया जीतने निकलना ही पड़ेगा। अपनी दस हज़ार सेना को साथ लेकर कई विद्वानों और कालीदास जैसे बुध्हिजीवी राजा के साथ आगे बढ़े।सिन्धु नदी पार करके गंधार और कशमीर में शठ राजाओं को हरा कर राजा भोज की सेना ईरान और अरब होते हुए मक्का पहुची। वहां के मरुस्थल में पहुच कर जब वहां उन्होंने एक शिवलिंग देखा तो उसकी पूजा करते हुए वह भगवान् शिव का ध्यान करने लगे।भगवान् शिव भी राजा भोज की प्रार्थना सुनकर उनसे बात करने आये और उनसे कहा कि तुम्हे यहाँ नहीं आना चाहियें था वत्स। तुम्हे मक्केश्वेर , जिसे आज हम मक्का के नाम से जानते हैं उसके बजाये उज्जैन महाकालेश्वेर को पूजना चाहियें। 

आगे कहा गया हैं कि, इस स्थान पर अब एक राक्षस त्रिपुरासुर, जिसका मैंने वध किया था, उसके मानने वालें लोगों को असुरराज बाली से संरक्षण प्राप्त हो रहा हैं और इस समुदाय का प्रमुख उत्पात मचा रहा हैं इसलिए तुम इस मलेच्छ जगह से चले जाओ।भगवान् शिव की बात सुनकर राजा भोज जब लौटने लगे तब “महा-मद” नामक व्यक्ति वहा आ गया और राजा भोज से कहा कि आप का आर्यधर्म विश्व का सर्वश्रेष्ट धर्म हैं, लेकिन मैं आपके शिव की मदद से ही एक ऐसे धर्म की स्थापना करूँगा जो अपनी क्रूरता के लिए जाना जायेगा। इसे मानने वालो को अपना लिंगाछेदन (खतना) कर के, बिना तिलक और बिना मुछों के सिर्फ दाढ़ी रखना अनिवार्य होगा। मेरा यह सम्प्रदाय उन्हें बहुत प्रिय होगा जिसे कुछ भी खाना ,जिसमे मांस स्वीकार्य होगा और अपनी इस बात का यकीन दिलाने के लिए मैं आपके देश में आकर अपने मूंछ के बाल को त्याग दूँगा।

कश्मीर के हजरत बल मज्जिद में आज भी हजरत मोहम्मद के मुछों के उन बालों को सुरक्षित रखा गया हैं। हजरत के उस बाल को “मोई-ए-मुकद्दस” के नाम से जाना जाता हैं। हर मुस्लिमों के लिए उस बाल का दर्शन हो सके इसके लिए साल में एक या दो बार ही उस बक्से को खोला जाता हैं।

कुछ बाते देखी और पढ़ी हैं।कुछ बाते कहासे खोजी गई हैं।बात सिर्फ यरे हैं कि सभी धर्म एक दूसरे के सहयोग से बढ़ सकते हैं।

 और ग्रन्थ लिखे गए हैं और उन्ही ग्रन्थों में से एक भविष्य पुराण में इस्लाम से जुड़ी भविष्यवाणी पहले ही कर दी थी। इस पुराण में लगभग 50000 श्लोक थे लेकिन तक्षशिला विश्व विद्यालय में रखे इस ग्रन्थ को मुग़ल शासन काल में जला दिया गया पर उस किताब में से 129 अध्याय और लगभग 14000 श्लोक बच गए थे।
इस किताब में यह पहले से ही उल्लेखित था कि उस वक़्त   
लेकिन इससे पहले भी अपने भारत देश की शक्ति कम होती देख एक और राजा हुए, जो राजा भोज के नाम से जाने गए और उन्होंने तय किया कि अपनी मातृभूमि की रक्षा करने के लिए दुनिया जीतने निकलना ही पड़ेगा। अपनी दस हज़ार सेना को साथ लेकर कई विद्वानों और कालीदास जैसे बुध्हिजीवी राजा के साथ आगे बढ़े।
सिन्धु नदी पार करके गंधार और कशमीर में शठ राजाओं को हरा कर राजा भोज की सेना ईरान और अरब होते हुए मक्का पहुची। वहां के मरुस्थल में पहुच कर जब वहां उन्होंने एक शिवलिंग देखा तो उसकी पूजा करते हुए वह भगवान् शिव का ध्यान करने लगे।
भगवान् शिव भी राजा भोज की प्रार्थना सुनकर उनसे बात करने आये और उनसे कहा कि तुम्हे यहाँ नहीं आना चाहियें था वत्स। तुम्हे मक्केश्वेर , जिसे आज हम मक्का के नाम से जानते हैं उसके बजाये उज्जैन महाकालेश्वेर को पूजना चाहियें। 

आगे कहा गया हैं कि, इस स्थान पर अब एक राक्षस त्रिपुरासुर, जिसका मैंने वध किया था, उसके मानने वालें लोगों को असुरराज बाली से संरक्षण प्राप्त हो रहा हैं और इस समुदाय का प्रमुख उत्पात मचा रहा हैं इसलिए तुम इस मलेच्छ जगह से चले जाओ।
भगवान् शिव की बात सुनकर राजा भोज जब लौटने लगे तब “महा-मद” नामक व्यक्ति वहा आ गया और राजा भोज से कहा कि आप का आर्यधर्म विश्व का सर्वश्रेष्ट धर्म हैं, लेकिन मैं आपके शिव की मदद से ही एक ऐसे धर्म की स्थापना करूँगा जो अपनी क्रूरता के लिए जाना जायेगा। इसे मानने वालो को अपना लिंगाछेदन (खतना) कर के, बिना तिलक और बिना मुछों के सिर्फ दाढ़ी रखना अनिवार्य होगा। मेरा यह सम्प्रदाय उन्हें बहुत प्रिय होगा जिसे कुछ भी खाना ,जिसमे मांस स्वीकार्य होगा और अपनी इस बात का यकीन दिलाने के लिए मैं आपके देश में आकर अपने मूंछ के बाल को त्याग दूँगा।

कश्मीर के हजरत बल मज्जिद में आज भी हजरत मोहम्मद के मुछों के उन बालों को सुरक्षित रखा गया हैं। हजरत के उस बाल को “मोई-ए-मुकद्दस” के नाम से जाना जाता हैं। हर मुस्लिमों के लिए उस बाल का दर्शन हो सके इसके लिए साल में एक या दो बार ही उस बक्से को खोला जाता हैं।

कुछ बाते देखी और पढ़ी हैं।
कुछ बाते कहासे खोजी गई हैं।
बात सिर्फ यरे हैं कि सभी धर्म एक दूसरे के सहयोग से बढ़ सकते हैं।

सरकुम:

मुजे धर्म पसंद हैं।
धर्म के द्वारा मेने जो कर्म किये हैं वो भी मेने ही किये हैं। हिन्दू हु, ओर गणेश जी को सामने रखकर जो कहा हैं, निभाया हैं।

धर्म मेरी आस्था, आस्था से जीवन।
जीवन से सरोकार, जीवन ही सरकार।

Sunday, December 9, 2018

लोग हैं...



तू अपनी खूबियां ढूंढ,
कमियां निकालने के लिए
                                    लोग हैं |

अगर रखना ही है कदम तो आगे रख,
पीछे खींचने के लिए
                                    लोग हैं |

सपने देखने ही है तो ऊंचे देख,
नीचा दिखाने के लिए
                                    लोग हैं |

अपने अंदर जुनून की चिंगारी भड़का,
जलने के लिए
                                    लोग हैं |

अगर बनानी है तो यादें बना,
बातें बनाने के लिए
                                 लोग हैं |


तू बस संवार ले खुद को,
आईना दिखाने के लिए
                                    लोग हैं |

खुद की अलग पहचान बना,
भीड़ में चलने के लिए
                                    लोग है |

तू कुछ करके दिखा दुनिया को,
तालियां बजाने के लिए
                                    लोग हैं |

Wednesday, October 24, 2018

आखरी मौका...


वो रिश्ता ही नहीं जो एक तरफा हो। सोच और रिश्ते बदलने के लिए नहीं बदलाव लाने के लिए होते हैं।अगर कोई एक व्यक्ति किसी बात को अपने स्वाभिमान से जोड़ता हैं तो उसे भी समझना चाहिए के स्वाभिमान हर किसी का होता हैं।

अगर कोई जवाब नहीं दे रहा हैं उसका मतलब ये नहीं कि वो बोलेगा नहीं। हो सकता हैं अभी वो बोलना नहीं चाहते। कोई भोंकता हैं तो उसके सामने भोंकना आवश्यक नहीं हैं।

एक फोटो किसी की औकात दिखा देती हैं।
कुछ दिनों पहले की बात हैं। में एक कॉंफ़र्न्स में था। वहां किसी जे मेरे साथ फोटो खिंचवाई। जिस ने सवाल उठाया वो तो #मी2 तक पहुंच गए। 
वहाँ बहोत सारे लोग थे।
मेरे साथ किसी ने प्यार से तो किसी ने दोस्ती में या तो किसी ने भड़ास निकालने के लिए फोटो खिंचवाई होंगी। बहोत सारे कॉमन दोस्त आज कल सोसियल मिडियामें हैं। किसी ने वो फोटोग्राफ देखे होंगे। बड़े लोगो को दिखाने वाले भी सेवक होते हैं। 

अब हुआ ये की...
वो फोटो शेर किये गए।
बस, ग्रुप में बैठे हुए फोटो थे।
शायद उस दिन मेरे 500 से अधिक फोटो शेर हुए होंगे।मगर अपनी विफलताओं को छुपाने वाले मुजे सवाल करने लगे। 

1.क्या आइआइएम आप का हैं। 
2. आप आईआईएम से कैसे जुड़ सकते हैं।
3.आप आईआईएम में दूसरों को चांस क्यो नहीं देते हैं।


सोसियल मीडिया में बहोत सारी कॉमेंट हुई। उसमें से कुछ कॉमेंट भद्दी कही जा सकती हैं। जो लोगो ने अच्छी नजर से उसे देखा उन्होंने अच्छी कॉमेंट की।कुछ लोगो ने अपने विचार मुझपे प्रस्तुत किये। एक महानुभव जिनके पास मेरे लिए सोचने के अलावा कोई काम नहीं हैं। उन्होंने तो #मी2 तक का सोच डाला। मेने उस वाकिए को बहोत दिनों तक जेला ओर महसूस किया।

500 फोटोग्राफ खिंचवाए होंगे।
5 की चर्चा करने वाले बहोत थे। उसमें 1 की तो सलोने हद करदी। आईआईएम के बारे में सवाल थे।

तो जानिए...


आईआईएम एक ऐसी संस्था हैं जो नए विचारों को पुरस्कृत करता हैं। किसान से लेकर कलेक्टर ओर कोई भी वहाँ अपेक्षित हैं, अगर कुछ अच्छा और नया किया हैं। वहां किसी के बाप की नहीं चलती। 

आज मेरे पास समय नहीं हैं।
मुजे ये भी मालूम हैं की मुजे से भिड़कर तुम्हारा ही सन्मान बढ़ेगा। में ये तक तुम्हे देना नहीं चाहता। ओर हा स्कूल छोड़ा नही हैं। आज भी कक्षा 1 से 10 के किसी भी विषय में (मुजे से सवाल करने वाले से अधिक) जनता हूं। 

2 गिनिस रिकॉर्ड
3 एशिया रिकॉर्ड
4 नेशनल रिकॉर्ड
3 नेशनल एवॉर्ड

पूरे भारत के 70 हजार शिक्षक और 40 हजार बच्चो का नेटवर्क बना पाए हैं।2020 तक 1 लाख शिक्षक और 75 हजार बच्चो तक पहुंचने का इरादा हैं।

मुजे जो सन्मान मील हैं वो 2014 तक के हैं।

ये सब 2014 तक का हैं।
ब्रिटिश काउंसिल ने 4 साल रिसर्च करके मुजे होनाररी डॉक्टरेट दिया हैं। आज तक कभी आईआईएम में मेरा सन्मान नहीं हुआ। न होगा न होने दूंगा। 

गूजरात के 3 टीचर्स को राष्ट्रपति भवन की गेलेरी में स्थान दिलवा पाए हैं। आईआईएम के माध्यम से 16 टीचर्स राष्ट्रपति भवन तक पहुंचा पाए हैं। 40 को नेशनल इनोबेशन तक पहुंचा पाए हैं।

जो सिर्फ बाते करते हैं।
वो सिर्फ बाते करे। काम करना हैं तो साथ में जुड़जाओ। समय आने पर आपका भी सन्मान होगा। आज जिनका हुआ हैं या हो पाया हैं उन्होंने सिर्फ FB में बाते नहीं कि ओर भी बहोत किया हैं। आज कुछ नहीं कहता हूं,उसका मतलब ये नहीं कि कह नहीं पा रहा हूँ। मानलो की आप को मौका दे रहा हूँ। आज के बाद बोलने में ओर लिखने में मुजे सीधा बीचमें न गुसेटो, वरना आप कुछ भी करने के काबिल न रहोगे। मुजे रोज पढ़ने वालों को बुरा लग सकता हैं। ऐसा पढ़ने की ओर मुजे लिखने की आदत नहीं हैं।


बस,
प्यार से...


सरकुम:
संवाद के तरीके होते हैं।
आप जैसा करोगे,वैसा ही में करूँगा।



शरद का स्वागत



चारुचंद्र की चंचल किरणें,
खेल रहीं हैं जल थल में,


स्वच्छ चाँदनी बिछी हुई है
अवनि और अम्बरतल में।

पुलक प्रकट करती है धरती,
हरित तृणों की नोकों से,

मानों झूम रहे हैं तरु भी,
मन्द पवन के झोंकों से।

सरकुम:
बोलने से बात शुरू होती हैं।
न बोलने से बात खत्म नहीं होती।
समय तो आता ओर जाता रहता हैं,
कभी यादे तो कभी अहसास से हाश होती हैं।