Showing posts with label Bee The Change. Show all posts
Showing posts with label Bee The Change. Show all posts

Sunday, May 13, 2018

ऐसा होमवर्क....


आज कल शिक्षा को लोग अपने तरीके से देखते हैं।कोई अच्छा होमवर्क देने वाली स्कुल हैं,कुछ अच्छा शिखने वाली स्कूल हैं।कोई स्कूल ऐसी हैं कि जहाँ एक बार खाना और ब्रेकफास्ट मिलता हैं।मगर आज हम एक ऐसी स्कुल के बातें में बात करेंगे जो चेन्नई में हैं।जहाँ अलग तरीके से होमवर्क दिया जाता हैं।

चेन्नई के एक स्कूल ने अपने बच्चों को छुट्टियों का जो एसाइनमेंट दिया वो पूरी दुनिया में वायरल हो रहा है. वजह बस इतनी कि उसे बेहद सोच समझकर बनाया गया है. इसे पढ़कर अहसास होता है कि हम वास्तव में कहां आ पहुंचे हैं और अपने बच्चों को क्या दे रहे हैं. अन्नाई वायलेट मैट्रीकुलेशन एंड हायर सेकेंडरी स्कूल ने बच्चों के लिए नहीं बल्कि पेरेंट्स के लिए होमवर्क दिया है, जिसे हर एक पेरेंट को पढ़ना चाहिए.

उन्होंने लिखा-
पिछले 10 महीने आपके बच्चों की देखभाल करने में हमें अच्छा लगा.आपने गौर किया होगा कि उन्हें स्कूल आना बहुत अच्छा लगता है. अगले दो महीने उनके प्राकृतिक संरक्षक यानी आप उनके साथ छुट्टियां बिताएंगे. हम आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं जिससे ये समय उनके लिए उपयोगी और खुशनुमा साबित हो.

- अपने बच्चों के साथ कम से कम दो बार खाना जरूर खाएं. उन्हें किसानों के महत्व और उनके कठिन परिश्रम के बारे में बताएं. और उन्हें बताएं कि खाना बेकार न करें खाने के बाद उन्हें अपनी प्लेटें खुद धोने दें. इस तरह के कामों से बच्चे मेहनत की कीमत समझेंगे.

- उन्हें अपने साथ खाना बनाने में मदद करने दें. उन्हें उनके लिए सब्जी या फिर सलाद बनाने दें.

- तीन पड़ोसियों के घर जाएं. उनके बारे में और जानें और घनिष्ठता बढ़ाएं.

- दादा-दादी/ नाना-नानी  के घर जाएं और उन्हें बच्चों के साथ घुलने मिलने दें. उनका प्यार और भावनात्मक सहारा आपके बच्चों के लिए बहुत जरूरी है. उनके साथ तस्वीरें लें. उन्हें अपने काम करने की जगह पर लेकर जाएं जिससे वो समझ सकें कि आप परिवार के लिए कितनी मेहनत करते हैं. किसी भी स्थानीय त्योहार या स्थानीय बाजार को मिस न करें.

- अपने बच्चों को किचन गार्डन बनाने के लिए बीज बोने के लिए प्रेरित करें. पेड़ पौधों के बारे में जानकारी होना भी आपके बच्चे के विकास के लिए जरूरी है. अपने बचपन और अपने परिवार के इतिहास के बारे में बच्चों को बताएं. अपने बच्चों का बाहर जाकर खेलने दें, चोट लगने दें, गंदा होने दें. कभी कभार गिरना और दर्द सहना उनके लिए अच्छा है. सोफे के कुशन जैसी आराम की जिंदगी आपके बच्चों को आलसी बना देगी. उन्हें कोई पालतू जावनर जैसे कुत्ता, बिल्ली, चिड़िया या मछली पालने दें.

उन्हें कुछ लोक गीत सुनाएं.

अपने बच्चों के लिए रंग बिरंगी तस्वीरों वाली कुछ कहानी की किताबें लेकर आएं.

अपने बच्चों को टीवी, मोबाइल फोन, कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से दूर रखें. इन सबके लिए तो उनका पूरा जीवन पड़ा है. उन्हें चॉकलेट्स, जैली, क्रीम केक, चिप्स, गैस वाले पेय पदार्थ और पफ्स जैसे बेकरी प्रोडक्ट्स और समोसे जैसे तले हुए खाद्य पदार्थ देने से बचें.

अपने बच्चों की आंखों में देखें और ईश्वर को धन्यवाद दें कि उन्होंने इतना अच्छा तोहफा आपको दिया. अब से आने वाले कुछ सालों में वो नई ऊंचाइयों पर होंगे. माता-पिता होने के नाते ये जरूरी है कि आप अपना समय बच्चों को दें.

मुजे ये जानकारी श्री रमेशभाई पटेल ने भेजी थी।श्री रमेशभाई पटेल सृष्टि के सेक्रेटरी हैं।सृष्टि समग्र देश और विदेश से नाव सर्जको को खोजने का काम करती हैं।उन्हों ने अपनी बात में जोड़ा हैं कि...अगर आप माता-पिता हैं तो इसे पढ़कर आपकी आंखें नम जरूर हुई होंगी. और आखें अगर नम हैं तो वजह साफ है कि आपके बच्चे वास्तव में इन सब चीजों से दूर हैं. इस एसाइनमेंट में लिखा एक-एक शब्द ये बता रहा है कि जब हम छोटे थे तो ये सब बातें हमारी जीवनशैली का हिस्सा थीं, जिसके साथ हम बड़े हुए हैं, लेकिन आज हमारे ही बच्चे इन सब चीजों से दूर हैं, जिसकी वजह हम खुद हैं।
अगर इनमें से कुछ थोड़ा भी आप करते हैं तो आप करीब होने का दावा कर पाएंगे।

@#@
शिखने सिखाने के लिए होमवर्क होता हैं।इस नए होमवर्क से किसे फायदा होगा वो वख्त बताएगा।

Thursday, April 26, 2018

શબ્દ અને સોચ્...

આજે આપણે એવી વાત કરીશું. જે અંગે આપણે સૌ જાણીએ જ છીએ.આ વાત એટલે આપણા થી બોલાયેલ શબ્દો કે આપણાં વિચારો.

ક્યારેક શબ્દો આપણાં હાથમાં હોતા નથી.ક્યારેક શબ્દો આપણાથી અજાણતાં કે કોઈ પરિસ્થિતિ ને આધારે બોલાઈ જાય છે.આ શબ્દો માટે કહેવાય છે કે એક વખત જીભથી બોલાયેલ શબ્દો કાયમ સામે મળે છે.ક્યારેક બોલાયેલું આપણે સમજી શક્યા ન હોઈએ કે ગુસ્સામાં બોલાય ત્યારે, તે પછી શબ્દનો અર્થ સમજાય છે.કદાચ એવે વખતે મોડું થઈ ગયું હોય છે.

હાથમાંથી છુટેલ વસ્તુ અને જીભમાંથી નીકળેલ શબ્દ કાયમ આપણ ને નીચે તરફ ધકેલે છે.સારું જ બોલવું.સાચું જ બોલવું એના કરતાં વિચારી ને બોલવું એ જરૂરી છે.આવું બોલાયેલું ક્યારેક આપણ ને દૂર લઈ જાય છે.દૂર કરી જાય છે.


આવું જ દૂર થવાનું બીજું કારણ એટલે આપણાં વિચારો.જેને હિન્દીમાં સોચ કહેવાય છે.આ સોચ્ એટલે વિચારો.નકારાત્મક વિચારો.જ્યારે આપણાં જીવનમાં  નકારાત્મક વિચારો આવે ત્યારે આપણ ને એ જ વિચાર સાચો લાગે છે.જો કોઈ એક વિચાર આપણાં મનમાં આવે એટલે એ ખોટો જ હોય એવું માનવાને કારણ નથી.હા...આ વિચાર અંગે વિચારવું જ પડે.જો ન વિચારીએ તો આપણ ને અસંતોષ થતો હોય છે.આ માટે એક જ રસ્તો છે.આ રસ્તો એટલે એ કે આ વિચાર અંગેની સ્પષ્ટતા કરવી પડે.આ સ્પષ્ટતા વખતે ન બોલી શકાય કે દુઃખ ન થાય એ જરૂરી છે.આ વખતે  કેટલાક શબ્દો ને ટાળી ને સ્પષ્ટતા કરી શકાય.

આમ એ નક્કી કે શબ્દો અને વિચારો જો હકારાત્મક હોય તો ખૂબ સારું પરિણામ મળે છે.જ્યારે જો એ નકારાત્મક હોય તો એને લીધે અંતર વધે છે.આ માટે કોઈ ગાઈડ લાઈન નથી. હા,જાતે જ એમ સુધારો લાવવો જરૂરી છે.આ જરૂરિયાત આપણાં માટે નહીં,ભવિષ્ય માટે છે.

થોડા દિવસ પહેલાની વાત છે.મારા એક મિત્રથી  મારા માટે કશુંક બોલાઈ ગયું.એમને એમ કે હવે મારુ આવી બન્યું.એમને અને મને એ વાતનો ખૂબ જ વસવસો હતો.મારે માટે બોલાયેલ એ શબ્દો એ મને ડિસ્ટર્બ કરી મુક્યો.જે મારા માટે બોલાયું હતું તેનો જવાબ હું આપી શક્યો હોત.પણ,સામેની વ્યક્તિનું મારા જીવનમાં મહત્વ હતું જ.બસ..એમ ને ક્યારેય આ વાતનું દુઃખ ન વર્તાય અને ફરીથી તે નોર્મલ રીતે જ સાથે રહી શકે એ રીતે વર્તન કર્યું. જીવન અને સબંધ ને જાળવવા મારે એ શબ્દો પકડી રાખવા જરૂરી ન હતા. એ મારો વિચાર હતો.મારી જીવન શૈલી કે વિચારધારા હતી.મારા આ વર્તને આજે મને ફરીથી એમની સાથે નોર્મલ વ્યવહાર કરતો કર્યો.
આપણે જીવનમાં એટલે જ શબ્દો અને વિચાર ને કન્ટ્રોલ રાખીએ તો અનેક સમસ્યાઓથી દૂર થઈ શકાય અને શાંતિથી જીવી શકાય છે.

@#@
 માફી માગવી કે માફ કરવું.
જીવન ને એમ જ સુખી કરવું.

मेने इस तरह से मेरी जिंदगी को आसान करदिया,
किसी से माफी मांगी,किसीको माफ करदिया।

Friday, April 20, 2018

CBSC અને શિક્ષણ...


કેટલાક દિવસોથી ગુજરાત રાજ્યની ખાનગી શાળાઓ અંગે ચર્ચા ચાલે છે. અન્ય રાજ્યોમાં શાળાઓ ફી વધારો કરે છે તેની સામે સરકાર અને વાલીઓ નારાજ છે. આ માટે નાના-મોટા આંદોલનો પણ થયા છે. વિવિધ મીડિયામાં આ અંગે અહેવાલ કે રિપોર્ટ જોવા કે વાંચવા મળ્યા છે.આ બાબતના અનુસંધાનમાં એક ન્યૂઝ ચેનલ ઉપર ચાલતી ચર્ચા સાંભળવાનું થયું.  આ ઈન્ટરવ્યૂ દરમિયાન જ ટી.વી.ના એન્કર દ્વારા વાલીઓના પ્રતિભાવ મેળવવા એક પ્રશ્ન પૂછ્યો.તમે બાળકને કેવી શાળામાં મુકવા માંગો છો.શિક્ષિત દેખાતા કેટલાક વાલીઓ એ કહ્યું CBsE માં ભણાવવા માગીએ છીએ. પત્રકારે સવાલ કર્યો તમે તમારા બાળક ને CBSE માં અભ્યાસ માટે શા માટે મૂક્યો છે? આ સવાલ લાઈવ દર્શકો અને ટીવીમાં જોતા સૌને લાગુ પડતો હતો.અહીં દુઃખ સાથે કહેવું પડે કે એક પણ વાલીનો જવાબ યોગ્ય નહોતો. જવાબમાં કોઈ તર્ક કે દલીલ નહીં.તે કહે: ' પરીક્ષામાં અભ્યાસ કરવા મોકલવા. અંગ્રેજી માધ્યમને કારણે.થોડું વધારે શીખે એ માટે. આ અને આવા અનેક કારણ આવ્યા.આવા તર્કહીન જવાબ આપનાર વાલીઓ CBSE શાળા વિશે જાણ્યા વગર જ દેખાદેખીમાં જ પોતાના બાળકને આવી શાળામાં ભણાવે છે. કદાચ આ લેખ એવા ભણેલા અભણ વાલીઓ ને કામ લાગશે.
અહીં એક વાત એ કે આવી શાળામાં અભ્યાસ કરતાં વિદ્યાર્થીના વાલીને CBSE નું પૂરું નામ પૂછયું.વાલીનો જવાબ ખોટો હતો.GSEB નું નામ કાંઈ ગુજરાતી માધ્યમના બધાં ને ન આવડતું હોય.એ શક્ય છે.વિચારો જે વાલી બોર્ડનું પૂરું નામ નથી જાણતા તે વાલી તે બોર્ડના હેતુઓ અને કાર્યો તો ક્યાંથી જાણતો જ હશે.આ માટે આપણે જોઈએ. CBSE નું પૂરું નામ છે સેન્ટ્રલ બોર્ડ ઓફ સેકન્ડરી એજ્યુકેશન. અહીં માત્ર માધ્યમિકની વાત છે.પ્રાથમિક શાળાની વાત નથી. એકથી આઠ ધોરણ માટે રાજ્ય સરકારની મંજૂરી જ મળે છે.મુંબઇ અધિનિયમ મુજબ એ જ કાયદો છે. થોડા દિવસો પહેલા ગુજરાતના મોટા શહેરમાંથી ફરિયાદો મળી.સાંભળવા મળેલી ફરિયાદ મુજબ કેટલીક શાળામાં પ્રાયમરીમાં પ્રવેશ વખતે સંચાલકોએ કહ્યું હતું કે, અમારી પાસે CBSE ની માન્યતા છે. અમે અમારાં બાળકોને તે શાળામાં પ્રવેશ લીધો. હવેથી  ખબર પડી કે આ શાળા પાસે પ્રાથમિક શાળા સંચાલન માટેની માન્યતા નથી.આવી શાળાઓ NCERT ના પુસ્તકો ખરીદે છે. આ પુસ્તકો કોઈને પણ બજારમાંથી કે માન્ય સ્ટોરમાંથી મળે છે.NCERT તો હવે ઓન લાઈન બુકિંગ કરીને બુક્સ ઘરે મોકલી આપે છે. અહીં એક વાત યાદ કરીએ કે CBSE પ્રાથમિક શાળાને માન્યતા આપતું જ નથી. તેનું કાર્યક્ષેત્ર માત્ર ને માત્ર હાઈસ્કૂલ અને હાયર સેકન્ડરી પૂરતું જ છે. તે કોઈ પણ શાળાના પ્રાથમિક વિભાગને મંજૂરી આપી ના શકે. તેની સત્તા પણ નથી. ઘણાં આ જાણતા નથી પછી સંચાલકો પાસે પ્રાથમિક વિભાગની  માન્યતા ક્યાંથી માંગે? આપ એમની CBSE ની પ્રથમીકની મંજૂરી માગજો. અરે....માગો તો તે ક્યાંથી બતાવશે ? હું પ્રાથમિક ધોરણના પાઠ્યપુસ્તકો સાથે છેલ્લા 18 વર્ષથી જોડાયેલો છું.વિવિધ ધોરણ અને વિષય ધરાવતી 43 બુક્સ મારી લખેલી પાઠ્યક્રમમાં છે.ધોરણ એક થી દસ સુધી દરેક ધોરણના કોઈએક વિષય સાથે જોડાવાનું મને ગૌરવ છે. મને એ નથી સમજાતું કે, ગુજરાત બોર્ડની શાળાઓમા બાળકો હોશિયાર નથી એવું નથી. CBSE કે અન્ય કોઈપણ બોર્ડ હોય. જે હોશિયાર છે,ચોક્કસ ગમે તે બોર્ડમાં હશે, તે વિદ્યાર્થી ઈચ્છે ત્યાં પ્રવેશ મેળવવાનો છે. જે નબળો છે તે ગમે તે બોર્ડમાં હશે. તેને મેરિટમાં પ્રવેશ નથી મળવાનો. વાત રહી બોર્ડર પર આવતા વિદ્યાર્થીઓની. આવા વિદ્યાર્થીઓની સંખ્યા કેટલી ? શું વાલી આવી બાબતો વિચારે છે ? અને હા, વાત રહી જેઈઈ પરીક્ષા અને એન્જિનિયરિંગની. તો એમાં તો કોલેજોની સંખ્યા એટલી બધી છે કે આ કોલેજોને તો પૂરતા વિદ્યાર્થી મળતાં નથી.  જેને એન્જિનિયરિંગમાં જવું છે તેને તો ગમે તે કોલેજમાં પ્રવેશ મળી જવાનો છે. તે માટે કયા બોર્ડમાં ભણ્યા છો તે જરાય ધ્યાનમાં લેવાતું નથી. દેખાદેખી કે પડોશીના કે સગાંના બાળક કરતાં પોતાનું બાળક કે પોતે વધુ ઊંચા છે તે બતાવવા માટે સી.બી.એસ.ઈ.ની શાળામાં બાળકને પ્રવેશ લેવો જોખમી છે.
મોટા બેનર વાળી શાળાઓ મોટા ભાગે ટ્રસ્ટ કે કોઈ NGO દ્વારા ચાલે છે. તેમના બિલ્ડિંગ મોટા, સુવિધાયુક્ત અને આકર્ષક હોય છે. જેઓ ફી  ઊંચી લેતા હોય છે. વાલીએ એક ભ્રમણામાંથી બહાર નીકળી જવું જોઈએ કે ઊંચી ફી એટલે સારું શિક્ષણ. આ માન્યતા ભૂલ ભરેલી છે. ગુજરાતમાં એવી અનેક શાળાઓ છે કે જે ખૂબ જ નીચી ફી લઈને ખૂબ જ સારું શિક્ષણ અને મૂલ્યો પીરસે છે. અનેક સરકારી શાળાઓ આજે ખાનગી સંકુલ ને આંબી છે. દરેક વાલી એમ માને છે કે, આ દુનિયાનું શ્રેષ્ઠ બાળક મારું જ છે. તેણે સારામાં સારી ભલે ગમે તેટલી ફી હોય તો પણ ત્યાં જ ભણાવું. જેમાં વાલી ખોટા છે. સારી શાળામાં શિક્ષણ અપાવવું જોઈએ, પણ સારી શાળા એટલે ઊંચી ફી લેતી હોય અને સી.બી.એસ.ઈ. હોય એ જ એ માન્યતામાંથી બહાર આવી જવાની જરૂર છે. આપણા ગુજરાત બોર્ડની ઘણી શાળાઓ સારી છે જ.  બાળક હોશિયાર હશે અને તમે વ્યક્તિગત રસ લેશો તો તે ગમે તે બોર્ડમાં હશે તેને કોઈ જ મુશ્કેલી પડવાની નથી.




 એક ખરાબ સલાહ આપીશ.અત્યારે ઊંચી ફી ભરવી અને પછી સારી જગ્યાએ પ્રવેશ ના મળે એના કરતાં સામાન્ય ફી ભરો, વધારાની ફીની બચત કરો. ભવિષ્યમાં પ્રવેશ લેવાનો થાય ત્યારે બચેલા પૈસાનો ડોનેશન આપીને પણ પ્રવેશ મેળવી શકશો. અંતે, ફી સામે બાંયો ચડાવનાર વાલીને કહીએ કે તમે કદાચ સાચા હશો, પણ આવી શાળામાં તમે તમારા સંતાનને શા માટે મૂકો છો. સંચાલકો પાસે લેખિત બાંયધરી લો કે તમારું બાળક ભણશે ત્યાં સુધી આટલી જ ફી લેશે. આવી શાળાઓમાં જો વાલી પોતાના બાળકને મૂકશે નહીં તો શાળા આપોઆપ ફી ઘટાડો કરશે, પણ વાલી આવું કરશે ખરા ? અંતે સી.બી.એસ.ઈ.નો મોહ છોડો, તમારા બાળકને ઓળખો, શિક્ષણ સાથે સંકળાયેલ વ્યક્તિઓની સલાહ લો, જે શાળામાં બાળકને મૂકવું છે તેનો પાછલા પાંચ વર્ષનો ઇતિહાસ જુઓ. માત્ર ભૂગોળ જોઈ આકર્ષાઈ જશો નહીં. તમારું બાળક ચોક્કસ શાળામાં ભણશે તો જ તેનો વિકાસ થશે તેવું ના માનશો.અનેક શક્તિના માલિક આ બાળકો ને કોઇ એક જગ્યાએ ફિક્સ ન કરીએ તો સુખદ પરિણામ મળશે જ.


@#@
શિક્ષણ મોંઘું નથી.
કેટલાકે મોંઘું બનાવ્યું છે.
આવા મોંઘેરા મહેમાનો ને ઓળખીએ.જેને સાચી જરૂર છે એને સહકાર મળશે જ.

Friday, April 13, 2018

रात ओर दिन...


रात हैं तो दिन हैं।
दिन हैं तो रात हैं।रात दिन हैं,तो सप्ताह,महीना और साल हैं।कुछ दिन गुजर जाते हैं,तब महीने होते हैं।महीने कैसे गुजर गए वो मालूम नहीं हैं,आने वाला वख्त भी कैसे गुजर जाएगा मालूम नहीं पड़ेगा।

जब व्यक्ति सुबह जागता हैं,अपने काम पे लगता हैं।तब उसे दिन कैसे खत्म होगा उसकी नहीं,दिनभर क्या क्या होगा उसकी फिक्र रहती हैं।जब दिन निकलता हैं तब कुछ तय नहीं किया होता हैं।भगवान के आशीर्वाद से कभी में खाली हाथ नहीं वापस आया हूँ।आप नहीं मानोगे, जब भी रात को तय किया हो या न किया हो।सदैव मेरी फेवर में ही सब होता हैं।रात याने अंधेरा हैं।अंधेरा हैं तो उजाला अवश्य होगा।आज अगर जो हैं वो उजाला हैं तो कल कुछ दिनोंका अंधेरा अवश्य आएगा।अंधेरे का इंतजार न करे।अंधेरा अपने आप दूर हट जाएगा


@$@
अंधेरा दूर करने का सबसे आसान तरीका हैं,थोड़ी देर आंखे बंद करलो।फिर से खोलो,आपको अवश्य दिखाई देगा।आप अगर फ़िल्म देखने गए होंगे तो आपने महसूस किया होगा।

Saturday, April 7, 2018

સલમાન અને બિશ્નોઈ સમાજ...

સલમાન ખાન.
ફિલ્મસ્ટાર.આજે તે જેલમાં છે.સાંજ સુધીમાં જામીન મળી જશે.10000 રૂપિયા ભરવા પડશે.સલમાન સાથેના અન્ય સ્ટાર ને છોડી મુકવામાં આવ્યા.તે નિર્દોષ છે.હવે બિશ્નોઈ સમાજ પોતાની રીતે નિર્દોષ ને દોષિત જાહેર કરવા વડી અદાલતમાં જશે.સલમાન દોષિત છે.એ નિર્દોષ સાબિત થવા વડી અદાલતમાં જશે.આ બિશ્નોઈ સમાજ અને તેના પર્યાવરણ પ્રેમ અંગે શ્રી રમેશ તન્ના એ સરસ 
આલેખન કર્યું છે.મારા મિત્ર જીતુભાઇ વૈદ્ય દ્વારા મને આજે એ મોકલવામાં આવ્યું.

સલમાનખાનને કોટડીની કેદ સુધી પહોંચાડવામાં બિશ્નોઈ સમુદાયનું મોટું પ્રદાન છે. આ સમાજના લોકોએ આપેલી સાક્ષીએ કેસને અસર કરી હતી. કાળિયાર હરણનો શિકાર કરનારો સલમાન જેલમાં જશે પણ 'હમ સાથ સાથ હૈં' વાળા તેના સાથીદારો સૈફ અલી ખાન, તબ્બુ, નીલમ અને સોનાલી બેંદ્રે નિર્દોષ છુટી ગયા તેનું આ સમાજને દુઃખ છે. સરકારે તેમની સામે ઉપલી કોર્ટેમાં જવું જોઇએ તેવું તેઓ માને છે. 

રાજસ્થાનના પશ્ચિમી થાર રણ વિસ્તારમાં રહેતા બિશ્નોઈ સમુદાયના લોકો પ્રકૃતિપ્રેમી છે અને પશુઓને તો ભગવાન જ માને છે. બિસ્નોઇ શબ્દ વીસ અને નવ(હિન્દીમાં નોઇ) મળીને બનેલો શબ્દ છે. એ લોકો વીસ વત્તા નવ ઓગણત્રીસ નિયમોનું પાલન કરે છે.
આ નિયમોમાંઃ
સત્ય...અહિંસા...પરોપકાર...પશુઓનું રક્ષણ...માંસાહાર ન કરવાનું...તમ્બાકુ નહીં ખાવાની...ભાંગ-શરાબ નહીં...ચોરી નહીં કરવાની...જૂઠ્ઠું નહીં બોલવાનું,રસોઇ જાતે બનાવવાની...ભૂખ્યા ને ભોજન અને પ્રવારણ નું રક્ષણ જેવા નિયમો નો સમાવેશ થાય છે.
બિસ્નોઇ સમાજના લોકો પશુઓની હત્યા કોઇ પણ સંજોગોમાં થવા દેતા નથી. બિકાનેરના તાલવાના મહંતને દિના નામની વ્યક્તિ પર શંકા જતાં તેની પાસેથી તેમણે ઘેટું લઇ લીધું હતું. 2001માં બાબુ નામની વ્યક્તિએ એક મરઘી મારી તો તેને સમુદાયમાંથી બહાર કાઢી દીધી હતી.આ નિર્ણય બિસ્નોઇ પંચાયતે કર્યો હતો.
સમાજની કોઇ વ્યક્તિ લીલા(જીવંત) ઝાડની ડાળી કાપી ના શકે. સમાજના જે ભાઇ-બહેનોએ ખિજડા કે અન્ય વૃક્ષો કાપ્યાં હતાં તેમણે આત્મસમર્પણ કરવું પડ્યું હોવાના દાખલા આ સમાજમાં જોવા મળ્યા છે. 1909માં કસાઇઓને એવો આદેશ અપાયો હતો કે તેઓ બકરો લઇને ગામમાંથી પસાર ના થાય.

363 બિશ્નોઈ શહીદ:

વાત 1730ની છે. જોધપુરના તત્કાલીન મહારાજા અભયસિંહને લાકડાંની જરૂર પડી. ખેજડલી ગામમાં ગીચ વૃક્ષો હતાં. દિવાન અને સૈનિકો ત્યાં વૃક્ષો કાપવા ગયા. 84 ગામના બિશ્નોઈની મહાપંચાયત મળી. નિર્ણય કરાયો કે જ્યાં સુધી આપણામાં પ્રાણ છે ત્યાં સુધી લડીશું અને વૃક્ષો બચાવીશું. મા અમૃતાદેવી એ નેતૃત્વ લીધું. આ સમુદાયના લોકો વૃક્ષોને ચોંટી ગયા. 60 ગામનો, 64 ગોત્રોના, 217 પરિવારના, 294 પુરુષો અને 69 મહિલાઓ સહિત 363 વ્યક્તિઓ વૃક્ષ બચાવવા શહીદ થયાં હતાં.
આ ઘટનાના 250 વર્ષ પછી  1978માં શહીદોની સ્મૃતિમાં મેળો ભરાયો. ભારતમાં હજારો-લાખો મેળા ભરાય છે, પણ પર્યાવરણ મેળો તો આ એક માત્ર છે. મેળામાં પર્યાવરણને લાગતી અનેક પ્રવૃતિ યોજાય છે. પ્રકૃતિ અને પશુઓ માટે શહીદ થનારી આ સમુદાય સામે હરણનો શિકાર પડદા પરનો હીરો સલમાન કેવો મોટો વિલન લાગે?
જે સમુદાય વૃક્ષ માટે પ્રાણ આપી દે એ સમુદાય શિકારીને સજા કરાવવા પોતાનાથી થાય તે બધું જ કરે.હજુ કેસ ચાલશે.પણ,ન્યાયતંત્રની વાત કરનાર મીડિયા અને આપણે સૌએ બિશ્નોઈ સમાજ ને આ માટે સહયોગ કરવો રહયો.


@#@
સલમાન ને સજા થાય કે હાઇકોર્ટ તેને નિર્દોષ છોડશે. તોય કેસ હજુ કેટલાક વર્ષ ચાલશે.આ માટે આપણે રાહ જોઈશું.આજે જે નિર્દોષ છે એ કાલે દોષિત ન પણ ઠરે.
જોઈએ...
#we can...

Sunday, April 1, 2018

બાળપણ...


દરેક ને પોતાનું બાળપણ યાદ આવે.દરેક ને પોતાનું બાળપણ ગમે જ.કેટલાંય એવા બાળકો જોયા છે.આ બાળકો ને બાળપણ એટલે શું એની સમજ પણ પડતી નથી.આવું જીવન જીવનાર પાછા કાયમ માટે સમાજ સેવાનું જ કામ કરતાં જોવા મળે છે.આ કામ એટલે પ્લાસ્ટિક વીણવાનું,સફાઈ કે કોઈ જગ્યાએ મજૂરી કે બાળ મજૂરીનું કામ કરતાં જોવા મળે.આ માટે જવાબદાર કોણ એ નક્કી કરનાર હું કે આપ નથી.એ નક્કી કે એવું ન થવું જોઈએ.આ માટે આપણે શું કરી શકીએ.આ વાત માટે આપણે આપણી જાત ને જ પૂછવું પડે.
આજના પોસ્ટરમાં દેખાતાં બાળકો શું કાયમ આ જ કામ કરશે. આ બાળકો તો આ દિવસો સાંભરે તો સારું.કારણ આ સંભાળશે એનો અર્થ એ કે એ આજની સ્થિતિ કરતાં સારી રીતે જીવન જીવતાં હશે.મુંબઈમાં પ્લાસ્ટિક વિણનાર કે ભીખમાંગતા બાળકો કોડે બે દિવસ કામ કરવાની તક મળી છે.આ તક મળી ત્યારે સિદ્ધુ સમજાયું કે આપણા બાળકો કરતા આવાં બાળકો જોડે વિશેષ અનુભવ હોય છે.એમની સાથે આપણે કોઈપણ વિષયમાં ચર્ચા કરી શકીએ.શર્ત એટલી કે ચોપડીમાં હોય તેવી વાત ન પૂછવી. પછી તો એમનેય મજા.અમનેય મજા.એક યાદગાર દિવસો હતા.

@#@
મહંમદ કુરેશી નામનો છોકરો આખું ટેપ બનાવી શકતો હતો.હા,સ્પીકરમાં લોહચુંબક આવે તેની તેને ખબર ન હતી.છતાંય એ રોજ 300 થી 500 રૂપિયા કમાઈ શકતો હતો.

Friday, March 30, 2018

जिंदगी

किसी ने कहा हैं,जिंदगी जिंदा दिलीका नाम हैं,मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं।हमने जिंदगी को करीब से देखा हैं।बहोत बार हम ऐसा किसी के मुह से सुनते हैं।ये सुनने में जितना अच्छा लगता हैं,उतना सरल होता नहीं हैं।आज के पोस्टरमें आप इसे अच्छे से समज सकोगे।
जब हमारी जिंदगी शुरू होती हैं,मम्मी पापा ओर अन्यका सहयोग और समर्पण हमारे लिए रहता हैं।जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती हैं।वैसे वैसे हम कुछ कमजोर हो जाते हैं।जब अपने पैरों पे अपनी जिम्मेदारी आती हैं,हमारा रंग और जीवन बदल जाता हैं।
आखिर में थके हारे हम ऐसे हालात में पहुंच जाते हैं कि हम कुछ करने के काबिल नहीं रहते।आज अगर देखा जाए तो हमारा जीवन और सुविधाओं को हम सुख मानते हैं।इस हालमें एक ही बात हमारे सामने आती हैं।ये बात हैं आत्म विश्वास और अपने पन की पहचान।हम भी हमारी पहचान बनाते हुए जीवन को पूर्ण करने की ओर आगे बढ़ते हैं।बच्चा जब छोटा होता हैं,उसे चलने में ओर खाने में हमे सहयोग करना पड़ता हैं।ऐसी ही बात बुढ़ापे में आती हैं।इसका मतलब ये हैं कि कॉम्युटर जहाँ से शुरू होता हैं,वही से बंध होता हैं।हमने हमारे बच्चों से जो व्यवहार किया होगा,हमारे बच्चों के सामने हमने हमारे वडील या बुजुर्ग से जो व्यवहार किया होगा।वो बच्च उनके मातापिता के सामने ऐसा ही व्यवहार करेंगे।हमे अपना जीवन खुद बनाना हैं।हम अपना जीवन खुद निर्माण करना हैं।

@#@

आप जो करना चाहते हो,
किसी भी उम्र में आप उसे खत्म करना चाहोगे तो लोग कहेंगे।तुम्हे क्या हैं,तुम्हे ये नहीं करना चाहिए।अब ये शोभा नहीं देता।
तो उसके लिए कोई मार्गदर्शिका हो कि आप कब क्या कर सकते हैं।

Thursday, March 29, 2018

विद्यार्थी कार्य

पिछले कुछ दिनों से कुछ बातें चर्चामें हैं।गुजरात में जून 2018 से NCERT की किताबें आ रही हैं।किताबे बदल ने जा रही हैं।सबसे अधिक चर्चा शिक्षकों में ओर पब्लिकेशन के व्यवसाय से जुड़े लोगों में हैं।

किताबे बदलती हैं,पॉलिसी भी बदल रही हैं।अब इन बातों को समज ने के लिए ट्रेनिग ओर आयोजन भीत महत्वपूर्ण हो गया हैं।शिक्षकों की तालीम के लिए KRP ओर RP के वर्ग चल रहे हैं।किसी एक तालीम में तीन बातो पे चर्चा हो रही थी।चर्चा में विषय था व्यक्तिगत कार्य,जूथकार्य ओर सामूहिक कार्य।इन तीन बातो की चर्चामें मेरा भी जुड़ना हुआ।

व्यक्तिगत कार्य:

इस कार्य में बच्चे अपने आप काम करते हैं।सूचना के आधारपर या किसी ओर काम के लिए जब विद्यार्थी कार्यरत होता हैं तो उसे व्यक्तिगत कार्य कहते हैं।

जूथकार्य:

जब एक से अधिक व्यक्ति एक साथ मिलकर एक काम करते हैं तो उसे जूथकार्य कहा जाता हैं।इस काम में अलग अलग सदस्य अलग अलग काम या एक ही काम करते हैं।

समूहकार्य:

सभी बच्चे एक साथ काम करते हैं।जैसे कि अभिनय या गीत।ये दो सिर्फ उदाहरण हैं।जब सभी एक साथ जुड़कर काम करते हैं तो उसे समूहकार्य कहते हैं।

इन शब्दों के बारे में जब चर्चा हुई तब एक नया शब्द सामने आया।वैसे तो ये शब्द नया नहीं हैं,मगर उसे थोड़ा हटके समजना हैं।ये शब्द हैं सर्जनात्मक कार्य।जब हम विद्यार्थियो को एक समान चित्र देते हैं,उसमें रंग भरने की बात करते हैं।हमारी समज में शायद वो सर्जनात्मक कार्य होंगया,सही में ये काम आदेश के आधारपर अमल करने वाला होता हैं।इसे सर्जनात्मकता नहीं कहते हैं।

ऐसी छोटी छोटी बाते ही हमे आगे का काम समजा सकता हैं।बच्चो के साथ काम करना एक चुनोती हैं।उस में सफल होने के लिए सबसे पहली शर्त हैं 'बच्चे बनकर सोचे' ओर तो ही हम हमारे काम को अच्छे से दिखा सकते हैं।

@#@
जब बच्चो से काम करना हैं तो हमे बच्चा बनना हैं।क्योंकि जब छोटा बच्चा हमारी नकल करता हैं तो वो हम जैसा बनता हैं।जब हम  बच्चो के लिए काम करते हैं तो क्या हमें बच्चा नहीं बनना चाहिए?

Wednesday, March 7, 2018

महीने के 5...


मेने सुना हैं।
शाहबुद्धिन राठौर ने कहा हैं।
अपनी बात को रखते हुए उन्होंने कहा हैं कि शादीसुदा जीवन में महीने में चार से पांच सामान्य विवाद या तकरार नहीं होती हैं तो वो सह जीवन शांत नहीं हो सकता।
अब
कोई व्यक्ति कहेगा,ऐसा क्यों होता हैं।तो मेरा जवाब हैं की यहाँ दो व्यक्ति हैं हर बात में मनना संभव नहीं हैं।सही भी नहीं हैं।ऐसी बातों में तकरार लाजमी हैं।तभी तो शादी के बाद जीवन में ऐसी तकरार लाजमी हैं,एमजीआर ऐसे   छोटे मुद्दों पे हो तो ठीक हैं।

ये कोई ऐसी घटना नहीं हैं जिससे आपका जीवन खत्म हो जाएगा।ये ऐसी बात हैं जो आपको ओर करीब लाएगा।जैसे जैसे करीबी बढ़ती जायेगी वैसे वैसे ऐसी छोटी अरे एकदम से ऐसी कोई बात जो आपको झगड़ा करवाएगी।हो सकता हैं कुछ दिनों से झगड़ा नही किया हो।
हो सकता हैं कि पिछले सप्ताह झगड़ा हुआ था,सो आज हुआ हो।
महीने में चार या पांच का मतलब हैं सप्ताह में एक।अगर सप्ताह में एक नहीं होता तो कुछ भी करके लरायत्न करे कि छोटासा झगड़ा हो।जहाँ अधिकार हैं,वहां अपना अभिप्राय भी होगा।अभिप्राय हैं तो कुछ तो जताना चाहिए।में कहती हूं आप गलत मतलब निकल ते हो।जी हां, आए सामान्य रूप से सवाल हैं जो सामने आता हैं।आप जो कहते हैं वो ही समज जरूरी हैं।मग़र उस वख्त वो सांजे ले संम्भव नहीं हैं।उसे थोड़ा समय दीजिए।ये समय तब आएगा जब छोटी सी तकरार होगी।आप को बगैर कहे सांजे ने वाले व्यक्ति आप की बात कैसे नहीं समजेंगे।सवाल ये होता हैं कि वो आप को आगे का समजाएँगे।तब आपको लगेगा की वो आपकी बात का गलत मतलब निकाल रहे हैं।सिर्फ पत्नी ऐसी बात नहीं करती।पति भी कहते हैं,आप मुजे वलत समज रहे हैं।
अरे पतिदेव...
आप गलत नहीं हैं मगर आप से जुड़ी बात हैं तो आप से नहीं कहेंगे तो किसे कहेंगे।बस...ये सुख में आप एक दूसरे के साथ हैं।आप के घर में सरकार और हुकुम आप ही हैं।बस,ये कुछ ऐसा होता हैं जो नजदीक लेन का मौका देता हैं।

#समझ से परे...
#We can मुमकिन हैं...

Saturday, February 17, 2018

Go Go Go indigo...

एशिया की सबसे बड़ी बस।ऐसा  गौरव रखने वाली बस।वैसी बस में मैने आज लंबा प्रवास शुरू किया।वैसे तो प्लेन का टिकट था।बुकिंग भी हो चुकी थी।हम समय से पहले पहुंच भी गए।सिक्योरिटी क्लियरिग करवाने में ही समय खत्म हो गया।
ओर हमे वोल्वो का संपर्क करना पड़ा।मेरी जिंदगी में पहली बार में वॉल्वो में बैठा हूँ।
लंबा सफर हैं।दूर तक जाना हैं।थकना नहीं हैं।रुकना नहीं हैं।हारना नहीं हैं।में हररोज सुबह उठके दिन के सारे काम कब करने हैं,कैसे करने है उसके बारे में सोचता हूँ।जो सोचता हूं उसे पूरा करने को तैयार रहता हूँ।नहीं में थकता हूँ, नहीं थकने देता हूँ।
कहते हैं कि बंध घड़ी भी दिन में दो बार सही समय बताती हैं।सुबह में जितने बजे पूना पहुंचने वाले थे उतने ही बजे पहुंचेगे,फर्क है तो इतना कि सुबह के बदले श्याम को पहुंचेंगे।देर आये दुरुस्त आये।आजका काम सारा कल करलेंगे।खुशी इस बात की हैं कि जहाँ पहुंचना था,थोड़ा देर से,थोड़ी दिक्कतो से साथ,मगर पहुंच ही गए।

#ThanksGo.. Go.. Indigo.
# वाह SRS वाह...


@#@

कभी ऐसा नहीं सोचना हैं कि जो हुआ बुरा हुआ।अच्छा और बुरा हमारी समज के आधिन हैं,हमे सिर्फ उसका स्वीकार करना हैं।

Tuesday, February 13, 2018

शिवरात्री के संकल्प...

आज शिवरात्री का दिवस हैं।
मुजे एक बच्चे ने पूछा, ये शिवरात्री दिन को क्यो आती हैं।कोई इसे रात भर क्यो नहीं मनाता?
सृष्टि के सर्जनहार शिव।महा मृत्युंजय के अधिपति।आज उनका दिवस हैं।उन की ही रात्री हैं।कुछ लोग जन्म तारीख को मनाते हैं।थोड़े लोग आज भी हिन्दू कैलेंडर की तिथि के आधार पर दिन या तिथि मनाते हैं।में कुछ तारीखे ओर कुछ तिथियां मनाता हूँ।मेरे साथी आर.अलकनंदा मुजे कहती हैं,क्या आप की आयुष्य में एक साल की कमी हुई वो क्या  ख़ुशी का दिन होता हैं।अगर वो दिन खुशिका हैं या आप इसे मानते हैं तो एक साल में आने वाले हर दिन कों खुशी से मनाना चाहिए।क्यो की वो ही दिन आप को एक साल पूरा करवाता हैं।में ऐसे दिनों में कुछ संकल्प करता हूँ और उसे निभाता हूं।

आज का दिन मेरे लिए ओर समस्त पृथ्वी के लिए महत्व पूर्ण हैं।वैसे तो महत्वपूर्ण रात हैं,आज शंकर की उपासना का दिवस हैं।विशेष रूप से उपासना करने वाले सारी रात उपासना करते हैं।
में शकर भगवान के पुत्र की पूजा और उपासना करता हूँ।कहिए कि में जिन्हें मानता हूं उनके पिताजी का दिन हैं।

आज मेने संकल्प किये है।
ऐसा पहले भी में लिख चुका हूं।
जो मेने लिखा हैं उसे मेने निभाया हैं।आज जो संकल्प किये हैं वो भी आपको बता देता हूँ।

# रोज सुबह 5 बजे उठूंगा।
# सुबह में नियमित कसरत करूँगा।
# उपवास वाले दिन को छोड़कर दिन में दो बार खाना खाऊंगा।
# अगली शिवरात्री के दिन ही भांग खाऊंगा या भांग पिऊँगा।
#पहले में डायरी लिखता था,बाद में लेपटॉप में सीधा लिखना शुरू किया,वो चला गया,एक डायरी छूट गई और कॉम्प्यूटर में कुछ खराबी आ गई।जो भी हुआ,अब से रोज लिख के में मेल करूँगा।अपने आपको मेल करूँगा।
#जब भी में घर पे रहूंगा,रुचार्मी से फाइटिंग करूँगा ही करूँगा।(आज हमने घंटो फाइटिंग की,ऋचार्मी ने कहा 'पापा,एक साल हो गया।आज फाइटिंग में मजा आ गया।)
#सदैव ड्राइविंग के नियमो का पालन करता रहा हूँ और मेरे परिवार के लिए मेरी सरकार के लिए ड्राइविंग रूल्स का पालन करूँगा।
#मेने जितना लिखा हैं इसे इस साल में प्रकाशित करवा ने का प्रयत्न करूँगा।


ये जो लिखा हैं,उस में आप भी मुजे कुछ और सुजाव दे सकते हैं।क्यो की...I can मुमकिन हैं...we can मुमकिन हैं।

#परिवार की सरकार
#सरकार का परिवार

Saturday, February 3, 2018

25 साल आईआईएम ving:C







 IIM (A)
भारतीय प्रबंधन संस्थान,अमदावाद।
में 2000 जी साल से जुड़ा हूं।कई सारे ऐसे कामो में सहभागी होने का मुजे मौका मिला हैं।2006 में मैने आईआईएम से सीधा काम करना शुरू किया।सर रतन टाटा इनोवेटिव टीचर्स एवॉर्ड मिला।
आईआईएम के साथ काम की शुरुआत यहाँ से हुई।सीखता हुआ साथ जुड़ता रहा।आज मुजे खुशी हैं कि मैने नेशनल ओर इंटरनेशनल कोंफ़र्न्स में आईआईएम के साथ रहके मेरी बात को रखनेका मौका मिला।
मेरे सारे रिकॉर्ड ओर एचीवमेंट तक पहुंचा ने के लिए मेरे काम को जब भी आवश्यकता हुई आईआईएम ने सहयोग और मार्गदर्शन दिया।आज ving:7 के शिक्षा से जुड़े इनोवेशन को 25 साल हो गए हैं।30 मार्च 1993 को इस के लिए एक बैठक हुई थी।जिसका उद्देश्य था एज्युकेशन इनोवेशन की संकल्पना तय करना,स्पस्ट करना।
वहां से शुरू हुआ सफर आज 25 साल खत्म करने को हैं।समग्र भारत के सबसे पहले 10 इनोवेटिव टीचर्स से लेकर आज आज दिन तक जो भी नवाचार पसंद हुए हैं,उनमें से वैश्विक पहचान प्राप्त करने वाले 25 इनोवेटर्स को साथ लेकर इस सफर को याद करना हैं।उस यादों के साथ indian एज्यूकेशनल इनोवेटर्स  के साथ एक कोंफ़र्न्स का आयोजन होने जा रहा हैं।प्रोफेसर विजया शेरिचंद ने इस मुकाम को करीब से देखा हैं।उसे रास्ता तय करने में अपने आप को जोड़ा हैं।ऐसे टीचर्स जो आईआईएम के रास्ते विश्व में अपनी पहचान बनाई हैं वैसे 25 शिक्षक यहाँ उपस्थित रहेंगे।
आयोजन के आधार पर जो व्यक्ति सीधा इस कोंफ़र्न्स में जुड़ना चाहते हैं वैसे अध्यापक या शिक्षा कर्मी के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया जाएगा।गुजरात के भी कुछ इनोवेटिव टीचर्स इसमें अपनी बात रखेंगे।
पिछले 11 सालों से में सीधा आईआईएम से जुड़ा हूं।गीता चौधरी अमीन जो आज भी मेरी दोस्त और मार्गदर्शक हैं।उन्हों ने मेरे केस स्टडी को 2005 में पढ़ा था।वहां से मेरी सोच को प्रोफेसर विजया शेरिचंद के मार्गदर्शन ओर गीता चौधरी अमीन के सहयोग से में ब्रिटिश काउंसिल तक पहुँचपाया ओर मेरे नाम के आगे डॉ. लगा।
आईआईएम से जुड़ी ओर एज्युकेशन इनोवेशन सिलेक्शन की नेशनल कोर कमिटी के को.कॉर्डिनेटर की जिम्मेदारी निभाने को मिली। (प्रो. विजया सर मुजे आज भी कमिटी के चेरमेन कहते हैं..)सारे देश के इनोवेशन को देखने का ओर समझ ने का मौका मिला।
नेपाल के शिक्षा से जुड़े काम के लिए मुजे इनके साथ काम करने का अवसर आईआईएम ने दिया।दिल्ही सरकार के साथ MOU हुआ और मुजे दिल्ही के अध्यापकों से जुड़ ने का मौका मिला।बहोत सिख हैं और सीखना हैं।
सृस्टि के साथ आईआईएम के माध्यम से कैसे जुड़ा कुछ मालूम नहीं हैं।चेतन मुजे 2011 से सृष्टि में घसीट लाया।प्रो.अनिल गुप्ता का प्यार और काम करने के तरीके से बहोत कुछ सीखा।सृष्टि के साथ जुड़ के बहोत कुछ लिखा।मेरी 3 किताबे हुई।बच्चो के नवाचार के लिए मुजे जोड़ा गया।पिछले 4 सालों से राष्ट्रपति सन्मान लेने वाले बच्चों के साथ काम करने का ओर सीखने का मौका मुजे मिलता रहा हैं।2015 में सृष्टि सन्मान मिला।मुजे मेरी कहानियों के लिए आए सन्मान मिला।आज में सृष्टि ओर आईआईएम से एक परिवार की तरह जुड़ा हु।मुजे खुशी हैं की मुजे कई सारी जिम्मेदारी आईआईएम ओर सृष्टि के माध्यम से मिली हैं।आज तक उसे निभाता आया हूँ।कभी गलतियां की हैं और गलतियों से सीखा भी हु।मुजे ज्यादा काम करने का मौका मिला तो मैने ज्यादा गलतिया भी की हैं।में हर बार काम से ही सीखा हु ओर सिखाता रहूंगा।
#प्रो.विजया शेरिचंद
@गीता चौधरी अमीन
@समीर जोशी
@चैतन्य भट्ट
@अविनाश भंडारी
@मेघा गज्जर
@संकेत और लालजी
#प्रो. अनिल गुप्ता (प्लस यूनिवर्स)
#डॉ. माशेलकर सर
@बिपिन सर(NIF)
@रमेशभाई पटेल
@चेतन पटेल
@सागर
@अवंतिका मेडम
@हेमा मेम
@तेजल मेम
@ओर सृष्टि परिवार के सभी साथी।अरे दूसरे स्टेट के तो इतने सारे दोस्त की हर स्टेट के 2 भी आये तो कुछ ऐसा लगे कि भारत के इनोवेटर्स आये हैं।आज में कहूंगा कि ऐसे 25 स्टार शिक्षा से जुड़े इनोवेटर्स गुजरात में इकट्ठा हो तब हम भी गौरव से कहे कि जी ये तो हमारेके दोस्त हैं।देखते हैं,मगर 30 मार्च को अगर जुड़ना हैं तो आपको भी कुछ करना होगा।नव विचार की बात को आगे बढ़ा ने के लिए आप इस काम से जुड़ सकते हैं।
ऐसे शिक्षक जो अपनी आसपास की समस्याओं के ऊपर विजय प्राप्त कर चुके हैं।ऐसे शिक्षक जो एक विचार के शोधक या प्रणेता हैं जिन्हों ने कुछ नया किया हैं।सारे देश के ऐसे 25 इनोवेटर्स को देखने के लिए तैयार रहे।
मुजे ख़ुशी हैं कि इस के आयोजन में मुजे जुड़ने का मौका मिला हैं।30 मार्च के लिए आप देखते रहे।संपर्क में रहे।

Thursday, December 14, 2017

मेरा अधिकार

आज का दिन।
गुजरात चुनाव में दूसरे चरण का मतदान हो रहा हैं।93 विधानसभा सदस्यों के चुनाव के लिए मतदान होगा।कुल मिलाके 2 करोड़ से अधिक मतदार मतदान करने के लिए अधिकृत हैं।
आज मतदार का दिन हैं।पिछले 2014 में लोकसभा और 2012 में विधानसभा के सापेक्ष में देखा जाय तो अबतक का मतदान कम दिखाई पड़ता हैं।आचारसंहिता का अमल ओर उसमें से कुछ दूसरे टीको के रास्ते अपनाते हुए उम्मीदवार आज अपना आखरी जोर लगाएंगे।
आप भी इस अधिकार का उपयोग कर चुके होंगे।आशा हैं।आप के इस प्रयत्न से लोकशाही को जीवंत रहेनेमें सुविधा होगी।
#लोकमत


Sunday, December 10, 2017

प्रथम चरण मतदान...

गुजरात में चुनाव का माहौल हैं।प्रथम चरण का मतदान खत्म हो चुका हैं।पिछली बार से यहाँ 2%मतदान कम हुआ हैं।में सरकारी कर्मचारी हूँ।में कुछ बोल नहीं सकता।में सिर्फ गुप्त मतदान कर सकता हूं।मगर में जरूर कहूंगा कि मतदान ज्यादा होना चाहिए।

अगर हमारी उंगली पे चुनाव की शाही नहीं लगी हैं तो 5 साल तक हमें किसी सरकार पर उंगली उठाने का अधिकार नहीं।
मुजे याद हैं 2012 में हमने मतदार जागृति के लिए एक डॉक्यूमेंट तैयार किया था।वीडियो में हमने मताधिकार ओर मतदार जागृति के लिए संदेश दिया था।आज भी में आप को मतदान करने की ही विनंती करता हूँ।
सरकार हमारी नहीं हो सकती,मगर सरकार के हम जरूर हो सकते हैं।अपने मताधिकार का उपयोग करने वाले व्यक्ति को ही सारे अधिकार मिलने चाहिए।

क्या...हम कर्तव्य करेंगे?
क्या...हम सरकार के होंगे?
क्या...हमे दूसरे अधिकार चाहिए?


इन सारे सवालों के जवाब एक ही हैं।मताधिकार हमारा भारतीय होने का गौरव हैं।विश्व की सर्वाधिक मतदार वाली लोकशाही के हिस्से में हम भी एक हैं।
इस गर्व के साथ मतदान अवश्य करें...
#Bnoवेशन
#We can मुमकिन हैं...!

Saturday, December 2, 2017

We can...?



जो है उसे देखो,
जो होगा उसे देखलेंगे।

मेरे दोस्त ने आज मुजे ये संदेश दिया।हररोज मुजे दोस्त व्हाट्स एप या अन्य व्यवस्था के माध्यम से संदेश देते हैं।इस संदेश के पीछे उन्होंने लिखा था की इन दो लाइन पर में लिखू।
मेरा लिखना एकदम सरल और सहज मुद्दों पर होता हैं।ये ऊपर वाली बात तो एकदम से अलग थी।
मेण्य उसे दो बार पढा।जो हैं इसे देखो।ये वर्तमान में जीने की बात हैं।में आप को दो उदाहरण देता हूं।

जो हैं उसे देखो... 
मेरे एक दोस्त।वो शादी से परत आ रहै थे।वहां से वो गाड़ी में बेठे।कुछ आगे चलते गाड़ी में पंक्चर हो गया।उनके  पास दो विकल्प थे।एक वो दूसरी गाडीमें चला जाय।उनकी नियत  प्रगति को पाने के लिए आगे बढ़ते रहै।उनका दूसरा रास्ता था वे उस पंचर वाली गाड़ी के साथ खड़े रहें।वो व्यक्ति गाड़ी वाले के साथ खड़े रहे।उन्होंने  टायर चेंज किया और प्रगति की ओर बढ़े।
किसी के साथ कुछ समय चलने के बाद अगर कोई दिक्कत हैं तो उसे सुधारनी चाहिए,नहीं कि उसे छोड़ देना चाहिए।
एक प्रसिद्ध कहानी हैं।एक व्यक्ति ने आश्रम बनाया।
यह व्यक्ति सदैव सबको सहयोग करता था।उस के सहयोग से बहोत लोग कुछ पा रहे थे,पाने की आस में जुड़ रहे थे।व्यक्ति अपने आपमें विशेष होने का लोग कहते थे।लोग इस आश्रम से या व्यक्ति से जुड़ ते जा रहे थे।एक दिन की बात हैं।अपने आश्रम से सभी काम निपटा के सभी लोग जा रहे थे।अंत में आश्रम की वो व्यक्ति ओर उनके एक साथी रुके।दोनों एक ही काम कर रहे थे,जिस बजह से किसी को जल्दी जाने का मौका भी नहीं था।दोनों व्यक्ति आश्रम में काम को प्राधान्य देते हुए उसे निपटाकर बहार निकल।अब हमारी दूसरी कहानी शुरू होगी।
वो व्यक्तिभी आश्रम से निकले।साथ में उनसे जुड़े साथी भी थे।दोनों आश्रम के बाहर आते दिखाते थे।किसी गाड़ी को देखकर व्यक्ति ने हाथ उठाया।दोनों को गाड़ी में बिठाया गया।दोनों गाडीमें बैठे ही थे कि गाड़ी ने शुरू होने से मना कर दिया।आधे घंटे तक इस के पीछे श्रमनकरने के बादभी गाड़ी शुरू नहीं हुई।दोनों को था कि अगर गाड़ी चालू हो जाती तो मंजिल पा लेते।अब ...!गाड़ी से उतर के दोनों कुछ दूर गए।दोनों गाड़ी को ओर परस्पर एक दूसरे को देखते हैं।कहते हैं ना आश हैं वहाँ राह हैं।क्या मालूम क्या हुआ कि थोड़ी देर में दोनों वापस आये।गाड़ी में बैठे।सिर्फ मैन को मनाने के लिए गाड़ी को शुरू करने के लिए दोनों आश्रमवासी ने गाड़ी वाले को कहा।गाड़ी थोड़ी देर के बाद शुरू हो गई।
अब दूसरी वाली बात आती हैं।मगर उस से पहले बात बनती हैं कि जो हैं उसे देखो।।।और उस को सही भाव से जो अच्छा हैं वो ही हुआ हैं ऐसा समज  के जुड़के रहने वाले सभी सिद्धि को प्राप्त करते हैं।गाड़ी बिगड़ने के बाद भी उस के साथ जुड़ा रहना वो तो जो हैं उसे देखो,ओर जो तकलीफ हुई या गाड़ी शुरू करने के तक जो श्रम हैं उसे 'जो होगा उसे देख लेंगे...'वाली बात से जुड़ जाता हैं।
में कहूंगा कि हर जवाबदेही को निभाते हुए जो हैं उसे देखो,ओर जो होगा उसे देखलेंगे वाले बोधन को जीवन के हर मोड़ पर भी हम चिपका के देख सकते हैं।समज के अमल करके कुछ प्राप्त कर सकते हैं।
गाड़ी हैं तो पंक्चर होगा,गाड़ी हैं तो बिगड़ेगी मगर जों गाड़ी लेके निकले हैं उसे कभी नही छोड़ेंगे।धीरे धीरे मगर गति को बनाये रखेंगे।

#we can मुमकिन हैं...!

Friday, December 1, 2017

HIV AIDS

आज का दिन विश्वमें विशेष तौर पे मनाया जाता हैं।लोक जागृति से जुड़े इस दिन को मनाया जाता हैं।इस दिन को स्वास्थ्य से जुड़ के पूरे विश्वमें मनाया जाता हैं।AIDS को इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम या एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिसिएंसी सिंड्रोम के नाम से मेडिकल फिल्डमें पहचाना जाता हैं।AIDS के साथ दूसरा शब्द जुडा हैं।वो शब्द हैं एचआईवी जिसे ह्यूमन इम्यूनो वायरस कहा जाता हैं।जो मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है। इस रोग को पहली बार 1981 में मान्यता मिली। ये एड्स के नाम से पहली बार 27 जुलाई 1982 को जाना गया।
एचआईवी संक्रमण आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे में प्रेषित हो जाता है,यदि उन्होंने शारीरिक द्रव या रक्त श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से कभी सीधे संपर्क किया है। पहले की अवधि में, एचआईवी/एड्स से पीड़ित लोगों पर बहुत से सामाजिक कलंक लगाये जाते थे। अनुमान के मुताबिक, ये उल्लेख किया गया है कि, 33 लाख लोग एचआईवी से संक्रमित हैं और 2 लाख लोगों का हर साल इसकी वजह से निधन हो जाता है।
एचआईवी एक वायरस है, यह रोग प्रतिरक्षा प्रणाली की टी-कोशिकाओं पर हमला करता है और ईसके कारण एक रोग होता है ये एड्स के रूप में जाना जाता है। यह मानव शरीर के तरल पदार्थों में पाया जाता है जैसे: संक्रमित व्यक्ति के रक्त, वीर्य, योनि तरल पदार्थ, स्तन के दूध में जो दूसरों में सीधे संपर्क जैसे: रक्त आधान, ओरल सेक्स, गुदा सेक्स, योनि सेक्स या दूषित सुई याने की किसी के ऊपर उपयोगमें ली हुई इंजेक्शन को उबाले बिना फिर से लगाने से फैलता है। यह प्रसव के दौरान या स्तनपान के माध्यम से गर्भवती महिलाओं से बच्चों में भी फैल सकता है।

एचआईवी:एड्स के लक्षण और संकेत एचआईवी एड्स से संक्रमित व्यक्ति के निम्नलिखित संकेत और लक्षण है...
बुखार...ठंड लगना...गले में खराश...रात के दौरान पसीना...बढ़ी हुई ग्रंथियाँ
वजन घटना...थकान....दुर्बलता...जोड़ो का दर्द...मांसपेशियों में दर्द...लाल चकत्ते उसकी निशानी हैं।लेकिन, इस रोग के कई मामलों में प्रारंभिक लक्षण कई वर्षों तक दिखाई नहीं देते जिसके दौरान एचआईवी वायरस के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली नष्ट हो जाती है। जो की लाइलाज है। संक्रमित व्यक्ति इस अवधि के दौरान किसी भी लक्षण को कभी महसूस नहीं करता है और स्वस्थ दिखाई देता है।
लेकिन एचआईवी संक्रमण वायरस इसके खिलाफ लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करते हैं।आखिरी चरण में व्यक्ति एड्स की बीमारी से ग्रसित हो जाता है। आखिरी चरण में संक्रमित व्यक्ति को निम्नलिखित संकेत और लक्षण दिखने शुरू हो जाते है:
धुंधली दृष्टि...स्थायी थकान
बुखार(100F ऊपर)...रात का पसीना दस्त (लगातार और जीर्ण)सूखी खाँसी
जीभ और मुंह पर सफेद धब्बे
ग्रंथियों में सूजन...वजन घटना...साँसों की कमी जैसे लक्षण हैं।कपोसी सार्कोमा, गर्भाशय ग्रीवा, फेफड़ों, मलाशय, जिगर, सिर, गर्दन के कैंसर और प्रतिरक्षा प्रणाली (लिम्फोमा) का कैंसर होता हैं।
आज के दिन ये तय करे कि अपने स्वास्थ्य के प्रति जागृत रहे और HIV AIDS से बचे।
#शुभमस्तु...

Tuesday, November 21, 2017

ऋषिपाल:एक बंदा.. नेक बंदा...

ऋषिपाल।
एक अभिनव शिक्षक।एक इनोवेटर्स।एक नवाचार के शोधक ओर शोधसृष्टि के सहयोगी।हरियाणा में रहते हैं।अध्यापक हैं।आने काम से समय बचाकर वो बच्चो के नवाचार खोजने के काम में जुड़के रहते हैं।पिछले कई सालों से हम हरियाणा और राजस्थान के कुछ हिस्सों तक ऋषिपाल के सहयोग से जा पाए हैं।पहुंच पाए हैं।
उनके स्वभाव में ही ऐसी एक बात हैं जो उन्हें कभी हारने नहीं देती।सृष्टि इनोवेशन से जुड़े ऋषिपाल हनी बी नेटवर्क के स्थायी सदस्य और सहयोगी हैं।सप्तरंगी फाउंडेशन,गुजरात के वो मार्गदर्शक भी हैं।गुजरात में आयोजित हो चुकी बहोत सारी क्रिएटीविटी वर्कशॉप में वो जुड़ चुके हैं।नेशनल कोंफ़र्न्स के आयोजन में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहता हैं।आप भी उनके काम को पसंद करेंगे।
#Bnoवेशन

Monday, November 20, 2017

महेंद्र की कहानियां

एक बच्चा।
उसका नाम महेंद्र।
महेंद्र कहानियां लिखता हैं।महेंद्र बच्चा हिने परभी कहानियां लिखता हैं।उसके शिक्षक श्री पंकजभाई प्रजापति ने उसकी कहानियों को देखा।उसे मार्गदर्शन दिया।प्रोत्साहन दिया।लोगो से बिनती करके पैसा जुटाया।ओर महेंद्र परमार की कहानियां की किताब छपी।

सबसे कम उम्र वाले ये साहित्यकार को सन्मान भी अनूठा मिला हैं।आईआईएम अमदावाद में उसे निमंत्रण प्राप्त हुआ।यहां उसकी कहानियों को सराहा गया।दिल्ही में आयोजित राष्ट्रपति भवन के कार्यक्रम में महेंद्र परमार को सृष्टि के माध्यम से निमंत्रण प्राप्त हुआ।सृष्टि ओर हनी बी नेटवर्क के माध्यमसे डॉ अनिल गुप्ता के सहयोग से महेंद्र को ये सन्मान प्राप्त हुआ।
#सृष्टि
#हनी बी
#Bnoवेशन

Tuesday, November 14, 2017

ऊबन2




कुछ नाम ऐसे होते हैं,जिनका अर्थ कुछ अलग होता हैं।कुछ अर्थ भी ऐसे होते हैं कि जिसके बारेमें बादमें मालूम पड़ता हैं।वैसा एक नाम हैं,उबुन्टु ( UBUNTU ) के नाम के बारे में एक सुंदर जानकारी हैं।
उबुन्टु ऑपरेटिंग सिस्टम
( Ubuntu Operating System )जिसे हम कम्प्यूटर के बारे में जुड़ी हुई बात के स्वरूपमें देखते हैं।बात ऐसी थी कि
कुछ आफ्रिकन आदीवासी बच्चों के ऊपर एक मनोविज्ञानी प्रयोग कर रहे थे।उन्होंने बच्चो से एक खेल खेलने को कहा।

खेलमें ऐसा था कि  एक टोकरी में मिठाइयाँ और कैंडीज एक वृक्ष के पास रख दिए गए थे।बच्चों को वृक्ष से या कहें कि मिठाई से  100 मीटर दूर खड़े कर दिया गया था।

फिर बच्चो को कहा गया कि, जो बच्चा सबसे पहले पहुँचेगा उसे टोकरी के सारे स्वीट्स मिलेंगे।जैसे ही जानकारी दी गई, रेड़ी... स्टेडी ...ओर गो कहा...तो कुछ नया सामने आया।

सभी ने एक दुसरे का हाँथ पकड़ा और एक साथ वृक्ष की ओर दौड़ गए, पास जाकर उन्होंने सारी मिठाइयाँ और कैंडीज आपस में बराबर बाँट लिए और मजे ले लेकर खाने लगे।

जब मनोविज्ञानी ने पूछा कि, उन लोगों ने ऐंसा क्यों किया ?तो उन्होंने कहा" उबुन्टु ( Ubuntu )"जिसका मतलब होता हैं,कोई एक व्यक्ति कैसे खुश रह सकता है जब, बाकी दूसरे सभी दुखी हों ? "

उबुन्टु ( Ubuntu ) का उनकी भाषा में मतलब है,में कहूँगा  की " मैं हूँ क्योंकि, हम हैं! "आइए उबुन्टु ( Ubuntu ) वाली जिंदगी जिएँ...मैं हूँ क्योंकि, हम हैं!
#साथ बना रहै...!

Saturday, November 11, 2017

UNICEF ओर शिक्षा

भावेष pandya pandya bhavesh dr bhavesh pandya iim innovation education वर्ल्ड record लिम्का record

आज शिक्षा का बहोत महत्व हैं।कुछ दिन पहले वडोदरा से मुजे निमंत्रण मिला।UNICEF के साथ बरोडा की स्थानिक संस्थाभी इसमें जुड़ी थी।बच्चियो के लिए वैश्विक स्तर पे क्या संभावना हैं।कोनसी व्यवस्था का निर्माण करना चाहिए।कैसे शिक्षामें छोटी बातों को इम्प्लीमेंट करके परिणाम प्राप्ति तक पहुंच सकते हैं।इन महत्वपूर्ण विषयो के साथ मुजे भी निमन्त्रित किया गया था।
मेण्य मेरी बात रखी।सभी को पसंद आई।बहोत लोगोने उसे शेर भी किया।दीपक जो की इस कार्यक्रम के फोटोग्राफर थे।उन्हों ने मेरे साथ ये फोटो शेर किये हैं।
UNICEF गुजरात की लक्ष्मी भवानी मेम के साथ 91.1 RJ जाह्नवी के साथ मेरा पहला परिचय हुआ।91.1 के माध्यम से मुजे कहानी कहने का मौका मिला।शिक्षा में नवाचार ओर मेरी समजाई बातों के साथ चर्चा करके मुजे अच्छा लगा।
कुमार मनीष जो मेरे दोस्त हैं।जिन्होंने Times of India में मेरे इनोवेशन की स्टोरी की थी।उनके सहयोग से मुजे ये मौका मिला।
#UNICEF
#Bnoवेशन
#Innovation