Showing posts with label 7रंगी.... Show all posts
Showing posts with label 7रंगी.... Show all posts

Monday, November 12, 2018

एक केले की किंमत


आमतौर केलों की क़ीमत 30-100 रुपए दर्जन तक ही होती है। इससे ऊपर नीचे भी केलों के दाम हो सकते हैं, लेकिन आपने कभी हज़ार रुपए दर्जन वाले केले के बारे में नहीं सुना होगा, लेकिन एक महिला को एक केले के क़रीब 87 हज़ार रुपए देने पड़े। एक केले की इतनी ज़्यादा क़ीमत सुनकर तो कोई भी चौंक जायेगा। और इतना महंगा केला खरीदने के लिए भी आदमी पहले अपनी औकात देखेगा।

और इस केले को खरीद पाना बहुत से लगों की हैसियत से बाहर होगा। लेकिन ब्रिटैन में रहने वाली एक महिला ने 87 हज़ार का केवल एक केला खरीदा।

यह मामला कुछ ऐसा है कि सुनकर आपका दिमाग़ हिल जायेगा। यह मामला ब्रिटैन का है जहाँ एक 'बॉबी गार्डन' नामक महिला ने ब्रिटैन में स्थित एक सुपरमार्केट चेन से ऑनलाइन खरीदारी की। जब महिला ने सारे सामान आर्डर कर दिए थे तो उन सामानों का बिल 100 पाउंड से भी कम था, लेकिन जब सामान उनके घर पहुंचाया गया तो उनके होश उड़ गए।

रिपोर्ट्स की मानें तो बॉबी को केवल एक केले के लिए 930.11 पाउंड यानी क़रीब 87 हज़ार रुपए का बिल थमा दिया गया। जबकि इसकी असली क़ीमत आमतौर पर 11 पेंस होती है। इस घटना की जानकारी बॉबी ने ट्विटर अकाउंट के ज़रिये दी। उन्होंने एक-एक सामान के वज़न और उसपर आए बिल के ब्योरे को शेयर किया है। इसके साथ बॉबी ने लिखा कि, "मुझे ऑनलाइन खरीदा हुआ सामन मिला, एक केले के लिए मुझसे 930. 11 पाउंड क़ीमत ली गई"।

हालांकि ग़लत बिल थमाने के बदले सुपरमार्केट चेन ने उनसे माफ़ी मांगी है, और कहा की बिल बनाने में उनसे ग़लती हो गई है। तो कुछ इस तरह से महिला को एक केले के लिए क़रीब 87 हज़ार रुपए की क़ीमत देनी पड़ी।


सरकुम:

कुछ गलती होती हैं, तो महंगी पड़ती हैं। बाद में सुधार ने का कोई अवकाश नहीं मिलता। प्रयत्न ऐसा करें कि कोई गलती न हो।


Sunday, November 11, 2018

એક અનોખી વાત...

અમેરિકા માં એક હેરાન કરી દેનારી ઘટના સામે આવી છે. અહીં ઓહિયો શહેર માં એકસાથે બે બહેનો પ્રેગ્નેન્ટ થઇ ગઈ હતી. હેરાની ની વાત તો એ છે કે બંને બહેનો એ એક જ સાથે જુડવા બાળકોને જન્મ આપ્યો હતો. હવે તેને સંજોગ કહીયે કે પછી બીજુ કંઈક. જો કે આ પુરી ઘટના પાછળ એક ખાસ કારણ જણાવામાં આવી રહ્યું છે.

મીડિયા રિપોર્ટ ના આધારે આ ચાર બાળકો એ એક જ સાથે જન્મ લીધો છે. તેઓ અલગ અલગ ગર્ભ માંથી જરૂર જન્મ્યા હતા પણ એક જ કપલ ના ભ્રુણ હતા. તેને બે અલગ અલગ ગર્ભ માં રાખવામાં આવ્યા હતા.

એની જોન્સન અને તેના પતિ લાંબા સમય થી એક બાળક માટેની કોશિશ કરી રહયા હતા પણ દરેક વખતે નિષ્ફ્ળતા મળતી હતી. સંતાન સુખ મેળવવા માટે આટલી લાંબી કોશિશો પછી આખરે તેઓ સફળ થયા. ભગવાને તેઓને એક સાથે ચાર-ચાર બાળકો નું સુખ આપ્યું.

જ્યારે નાની બહેન એની જોન્સન કોઈ સંતાન ન મળવાને લીધે ખુબ જ દુઃખી હતી તો મોટી બહેન ક્રિસી એ તેની મદદ કરવા માટે વિચાર્યું. ક્રીસી એ વિચાર્યું કે તે પોતાની બહેન ની મદદ કરશે માટે તેણે સેરોગેટ મધર બનવાનું વિચાર્યું.

એની ને સંતાન સુખ આપવા માટે આ વાત બધા એ સ્વીકારી લીધી. તેના પછી ડોકટરો એ સૌથી પહેલા એની ના એગ્સ કલેક્ટ કર્યા અને પતિ ના સ્પર્મ ની સાથે ફર્ટિલાઇજ઼ કર્યા. તેના પછી બે ભ્રુણ એની ની મોટી બહેન ક્રીસી ના ગર્ભ માં સ્થાપિત કર્યા. 

એવામાં ડોકટરો એ બે ભ્રુણ એની ના શરીર માં પણ વિકસિત કરવા માટે ઈમ્પલાન્ટ કરી દીધા. એમ્બ્રોય ઇમ્પ્લાંટેનશન ની પ્રક્રિયા પુરી થયા પછી એક એવો ચમ્તકા થયો, જેના પર વિશ્વાસ કરવો મુશ્કિલ હતો, બંને બહેનો એક સાથે ગર્ભવતી બની ગઈ, અને બંને એ એકસાથે બે જુડવા બાળકો ને જન્મ આપ્યો.

Saturday, November 3, 2018

ऊंचा पुलिस वाला


सबसे ऊंचा पुलिसवाला को होगा।उसका नाम क्या होगा। लोग उसे कैसे मिल सकते हैं।ऐसे कुछ सवाल के जवाब आज आपको मिलेंगे।

भारत में है दुनिया का सबसे लम्बा पुलिसवाला। उसका नाम हैं जगदीप सिंह जो की पंजाब पुलिस में हेड कांस्टेबल है। इनकी ऊंचाई 7 फ़ीट 6 इंच है,वजन 190 किलो और 19 नंबर का जूता पहनते है। वो जहा भी जाते है लोग एक सेल्फी लेने की रिक्वेस्ट जरूर करते है।

सरकुम:
कुछ भी हो,
ऊंचाई सबसे महत्वपूर्ण है।
जो हमे सबसे अलग दिखाने में मदद करता है

Wednesday, October 31, 2018

મારા સરદાર... મારી સરકાર...


સરદાર વલ્લભભાઇ પટેલનું નામ સાંભળતાની સાથે જ જાણે કે આપણે એક પ્રકારનો ગર્વ અનુભવીએ છીએ. સરદાર વલ્લભભાઇ પટેલ એક અજોડ પ્રતિભા હતા. 


આપણા લોક લાડીલા અને આઝાદીની ચળવળમાં મહત્વનો ભાગ ભજવનાર સરદાર વલભભાઇ પટેલને આપણે આજે આટલા વર્ષો પછી પણ ભુલી શકીએ તેમ નથી. કેમકે તેમને જે અમુલ્ય યોગદાન આપ્યુ છે આપણા દેશ માટે તેને આપણી કેવી રીતે ભુલી શકીએ! સરદાર વલ્લભભાઇ પટેલ કે જેઓને લોખંડી પુરુષ તરીકે ઓખવામાં આવે છે તેઓનો જન્મ ગુજરાતમાં નડિયાદના એક સામાન્ય ખેડુતના ઘરમાં 31મી ઓક્ટોમ્બર, 1875માં થયો હતો. તેમના માતા-પિતા ખુબ જ ધાર્મિક હતાં. વલ્લભભાઇએ તેમનું શિક્ષણ ગુજરાતીમાં જ લીધું હતું. ત્યાર બાદ તેઓ 1910માં વકીલાત માટે ઇગ્લેંડ ગયાં હતાં. 1913માં તેઓને વકીલની પદવી મળ્યા બાદ ભારત પાછા ફર્યા હતાં. ત્યાર બાદ તેઓ ગાંધીજીથી પ્રભાવીત થઈને આઝાદીની ચળવળ માટે તેમની સાથે જોડાઇ ગયાં હતાં. ગાંધીજી અને સરદાર વલ્લભભાઇનો સંબંધ ગુરુ-શિષ્ય જેવો હતો. 

વલ્લભભાઇને ખેડૂતો પ્રત્યે ખુબ જ પ્રેમ હતો. તેથી તેઓએ ખેડૂતો માટે ખુબ જ સારા કાર્યો કર્યાં હતાં. જ્યારે 1928માં સરકારે ખેડૂતો પર જમીનને લગતો ટેક્સ નાંખ્યો ત્યારે તેઓએ ખેડૂતોને સત્યાગ્રહ માટે તૈયાર કર્યાં અને તે ટેક્સ ભરવાની મનાઇ કરી દીધી. તેઓએ ખેડૂતો સાથે મળીને બારડોલી સત્યાગ્રહ કર્યો હતો. 

તેથી સરકારે વલ્લભભાઇને અને ખેડૂતોને પણ જેલમાં પુરી દીધા હતાં. ત્યારથી ગાંધીજીએ તેમને 'સરદાર'નું બીરુદ આપ્યુ હતું. 

1930 માં જ્યારે ગાંધીજીએ મીઠા માટે સત્યાગ્રહ કર્યો હતો ત્યારે તેમાં પણ વલ્લભભાઇ તેમની સાથે હતાં. 1942માં ગાંધીજીએ 'ભારત છોડો' આંદોલન શરૂ કર્યું ત્યારે પણ બ્રીટીશ સરકારની વિરુધ્ધ વલ્લભભાઇ તેમની સાથે હતાં તેથી બ્રીટીશ સરકારે ગાંધીજી, જવાહરલાલ સહિત વલ્લભભાઇને પણ જેલમાં પુરી દીધા હતાં. તેઓ પોતાના દેશ માટે ઘણી વખત જેલમાં ગયાં હતાં. તેઓ જ્યારે જેલમાં હતાં તે સમયે જ તેઓના માતા પિતાનું મૃત્યું થઈ ગયું હતું છતાં પણ તેઓ સહેજ પણ નહોતા ડગ્યાં. 

તેઓનુ મૃત્યું 1950માં ડીસેમ્બરમાં બોમ્બેમાં થયું હતું. તે સમયે જાણે કે ગુજરાતને કોઇ મહાન યોધ્ધો ગુમાવ્યો હોય તેટલો આધાત લાગ્યો હતો. ગુજરાતમાં આવા મહાન પુરૂષો પહેલા પણ હતાં અને આજે પણ છે અને હંમેશા થતાં આવશે. પણ બીજા સરદાર વલ્લભભાઇ પટેલ ક્યારે મળશે તે ખબર નથી. આવા મહાનુભવોને લીધે જ આજે ગુજરાતનો જયજયકાર થઈ રહ્યો છે.  

સરકુમ:
સરદાર એક વિચારક.
એક સંઘઠક અને અસરકારક વ્યક્તિત્વ.
એમ જ લોહપુરુષ બનીને દેશને સજ્જડ રીતે એક ન કરી શકાય.
દેખાડા ને લીધે કાશ્મીરનો આજેય સવાલ છે.બસ, ઈચ્છા 

Wednesday, October 24, 2018

मेरी माँ


मा

जो पैदा करती हैं।
मा जो सिखाती हैं।
मेरे लिए मा एक हैं जिसनके मुजे पैदा किया और सिखाया भी हैं।

सबको शिक्षक मा के स्तर पे मिलने चाहिए।जिसे हम 'मास्तर' कहते हैं। मेरे लिए तो इस कारण मास्तर ओर मा दोनो एक मिली।

1997 के आसपास उसने मुजे फिरसे पढ़ाया। आज मुजे उनके जन्म दिवस पर एक बात ही कहेंनी हैं। जितना जिए स्वास्थ्यप्रद जिए। 

आज मेरे गुरु शिक्षक जिन्हें आज भी में बेन कहता हूं क्यो की उन्होंने मुजे पढ़ाया है। आज को उनको शुभ कामना नहीं मेरा जीवन अर्पित करता हूँ।


लव यू बेन
लव यू ह.बा




सरकुम:


मेरा अभिमान यही हैं कि आप मेरी माँ हो...

Monday, October 15, 2018

नजर ओर नजरिया...


प्यार करते हैं हम तुम्हे इतना,
दो आंखे तो क्या, दो जहां में समाए न इतना।


कुछ दिन ऐसे होते हैं।
जहां हर तरफ से खुशिया सामने से आती हैं।
कुछ वख्त ऐसा भी आता हैं कि खुशिया तो दूर खाना पीना भी हराम हो जाता हैं। ऐसा इस किए होता हैं कि हम अधिक आस लगाए बैठे होते हैं। कुछ बाते ऐसी होती हैं जिसमे आस से ज्यादा विश्वास होता हैं। विश्वास अगर सच्चाई के साथ हैं तो ठीक हैं। मगर अधूरी जानकारी के साथ आप ने विश्वास को जोड़ा हैं तो आप को इसका जवाब समय देगा।

समय आने पर हमें हकीकत का पता चलता हैं,ओर तब जाकर बहोत देर हो चुकी होती हैं। मगर उसका अफसोस करने से कोई फायदा नहीं हैं। जब संभाल लेने की बात थी अपने आप जो न संभाल पाए अब पछताए क्या होवत हैं जब चिड़िया चूब गई खेत। 
नजर ओर नजरिये का सवाल हैं।यहां किसी लयर को समझने वाले ने ताश के पत्तो में से love लिख दिया हैं। अगर कुछ सही हैं तो उसे सराहो ओर अगर गलत हैं तो उसमें सुधार करो। छोड़ने ओर तोड़ने के अलावा और भी जीबन में लक्ष होने चाहिए।

सरकुम:

जो कुछ था, तेरा न था।
अब जो कुछ हैं सिर्फ तेरा हैं।
रहमो करम की बात यही,
तू साथ में होते तेरा संगाथ नहीं।

#अशरफ छोकु

Friday, October 12, 2018

अब ये नहीं दिखते...

पैसा फेंको तमाशा देखो।
दिल्ही का कुतुब मीनार देखो...
आप ने ये गाना सुना होगा,ये उस जमाने की बात हैं जब हमारे पास मनोरंजन के कुछ साधन नहीं थे। उस वख्त ये सब गाँव गाँव गुमते थे और एक पैसा 4 पैसा से 50 पैसे तक दिखाया जाता था।
आज तो ऐसी चीजें हमे मूजियम में देखने को मिलती हैं। ऐसी चीजें आज लुप्त हो रही हैं जैसे इंसानो में से पूंछ लुप्त हो गई हो। ये ऐसी कला थी जिस को लोग उस वख्त काम आती थी जब बारीश न होती हो और कोई काम न हो। इस खेल को देखने के लिए पैसा और अनाज या सब्जी के बदले भी ये फ़िल्म पट्टी देखने को मिलती थी।
आज तो टेक्नोलोजी के कारण ऐसी बहोत सारी कलाए मृतप्राय हैं। और इसे बचने की जिम्मेदारी के
हमे ही निभानी हैं।

सरकुम:
जो हैं उसे याद करेंगे।
जो कहा गया उसे भी याद रखेंगे।
कुछ भी हो,जैसा भी हो,नया सवेरा लाएंगे।

Tuesday, September 18, 2018

दो खिड़कियां


कुछ दिनों पहले की बात हैं।
किसी दोस्त ने एक पोस्टर भेजा।
खिड़की में से जो दिखाई देती हैं, वो हकीकत के सामने बच्चे को जो चाहिए वैसा उसने बनाया हैं।

प्रत्येक व्यक्ति की चाहत होती हैं,चाहत सहज हैं कि उसे शांति मील पाए,सहयोग मील सके। होता हैं ये की अपनी पसंद की खोड़की बनाने के बजाय हम जो दिखता हैं उसे स्वीकार कर लेते हैं। जो भी हैं,ठीक है। हमे हमारे इरादों को कमजोर नहीं करना हैं। अगर खिड़की में जो दिखता हैं उसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं हैं तो अपनी सोच वाली खिड़की बनाने में कोई हर्ज नहीं हैं। सवाल ये होता हैं कि खिड़की को सी चुनते हैं।

क्या हुआ कुछ नहीं।
कैसे हुआ मालूम नहीं।
कैसे ये होगा, तय नहीं।
कुछ बुरा होना संभव नहीं।


जी पेश करने का तरीका गलत हैं।सवाल सही नहीं तो जवाब कैसे गलत नहीं आएगा। जो भी होता हैं पसंद या ना पसंद वाला उसमें 3 रीजन हैं...

1. फरज निभाने में...
2. जिम्मेदारी के कारण...
3. किसी के अनुचित उद्देश्य से...

इन तीन बजह से ये काम हमे करने पड़ते हैं। मगर फिरभी खिड़की तय करने का काम हमारा हैं।हम हमारी आँखे खोलकर ही खिड़की को पसंद करने हैं।


@#@

बेशुमार होता हैं अकेले सोचने का दर्द,
जब सोचकर जब दर्द ही सामने आता हैं।

कैसे होगा जीवन में किसी सोच को पकड़ना,
यहाँ तो बात पकड़ने में  महीनों गुजर जाते हैं।

Friday, September 7, 2018

सच्चा दोस्त


समय क्या हैं।
कोई कुछ भी कहे।
समय हैं सिर्फ और सिर्फ साथ रहने वाला हमारा एक मात्र साथी। जो हमे सिखाता हैं।जो हमे समजता हैं। किसी ने इतिहास के लिए लिखा हैं कि क्या हुआ वो नहीं,इतिहास से क्या नहीं करना हैं वो सीखना हैं। हम वो सीखना होगा। समय हमारा गुरु और अध्यापक हैं। जो हमे सिखाता हैं कि साथ कैसे रहा जाए और  दुःख को कैसे भुलाया जाय। कुछ ऐसे होते हैं दुःख की हमे उसे जीवन भर साथ लेकर चलना हैं। उन्हें कैसे साथ लेकर चला जाये वो भी हमे तय करना हैं।समय से सीखना हैं।समय की सजा सुनाई या दिखाई नहीं पड़ती हैं। समय सिर्फ समय नहीं हमारा ऐसा साथी हैं जो हमारे बाद भी रहेगा और लोग उस समय से हमे याद करेंगे।


@#@
मेरे पास समय नहीं।
जो व्यस्त हैं वो आप के लिए समय निकलगंगर जिस के पास कोई काम न होगा उसके पास समय भी नहीं होगा। सबको 24 घंटे मिलते हैं।मगर कुछ ही लोग उस का सही इस्तेमाल कर लेते हैं।

Thursday, August 30, 2018

હોટલમાં ટેબલ ઉપર સફેદ કપડું જ કેમ...?

જ્યારે પણ આપણે કોઈ હોટલ કે રેસ્ટોરન્ટમાં બહાર ખાવા જઈએ છીએ, તો ત્યારે આપણું સૌથી પહેલું ધ્યાન ટેબલની સજાવટ પર જાય છે. ટેલબ ક્લોથ ચોખ્ખુ છે કે નહિ, ચમચીઓનો સેટ બરાબર ગોઠવ્યો છે કે નહિ, મસાલાની ડબ્બીઓ મૂકેલી છે કે નહિ વગેરે. ટેબલની ગોઠવણ પર સૌથી વધુ ધ્યાનાકર્ષક બાબત એ હોય છે કે, ગમે તે હોટલ હોય પણ ટેબલ ક્લોથ તો હંમેશા સફેદ કલરનું જ હોય છે. સફેદ કલરના ટેબલ ક્લોથ પર જ સૂપ, સલાડ, મસાલેદાર ઝાયકાને પિરસવામાં આવે છે. પણ શું તમે એ જાણવાનો પ્રયાસ કર્યો છે કે, આ ટેબલ ક્લોથ હંમેશા સફેદ કલરના જ કેમ હોય છે. તો આજે જાણી આ પાછળનું કારણ.

ડેનમાર્કમાં આ મામેલ એક રિસર્ચ થયું હતું. જેમાં જાણવા મળ્યું કે, ડાઈનિંગ ટેબલ પર સફેદ ચાદર બિછાવવાથી ફૂડ 10 ટકા વધુ ડિલિસીયસ લાગે છે. કોપેનહેગન યુનિવર્સિટીના રિસર્ચ કરનારાઓએ જાણ્યું કે, ખાવા ઉપરાંત સર્વ કરવાની રીતો, જેમ કે વાસણો, રૂમ, માહોલ વગરેથી સ્વાદને લઈને વ્યક્તિની માનસિકતા પર ઊંડી અસર પડે છે. સફેદ રંગ ખાવા પ્રતિ સકારાત્મક ઉર્જાનો સંચાર કરે છે. આ કારણે હોટલ-રેસ્ટોરન્ટ્સમાં ટેબલ પર સફેદ ટેબલ ક્લોથ અને સફેદ નેપકીન્સ રાખવામાં આવે છે.

ઉલ્લેખનીય છે કે, આજકાલ લોકો ખાવા કરતા ગાર્નિશિંગ પર વધુ ધ્યાન આપે છે. તેથી જ હવે હોટલો પણ હવે ગાર્નિશિંગ પર વધુ ફોકસ કરે છે. ખાવાની જગ્યા સૌથી વધુ ખાસ હોય છે. અને જે લોકો ફૂડ ઈન્સ્ટ્રીઝ સાથે જોડાયેલા હોય છે તેમના માટે કસ્ટમર્સનું આકર્ષણ સૌથી વધુ મહત્ત્વનું હોય છે. તેથી સફેદ ટેબલ ક્લોથ ભલે ગમે તેટલા ગંદા થાય તો પણ તેઓ તેને અચૂક રાખે છે. આ ઉપરાંત ટિશ્યુ પેપર પણ આ જ કારણે સફેદ રંગના રાખવામાં આવે છે.

@#@
કોઈ પણ જગ્યાએ અવલોકન સાથે આવું કેમ?
એ અંગે વિચારવાનું શરૂ થાય તો સમજવું કે કેટલુંય શીખવા જેવું છે.

Monday, August 27, 2018

IBKR


पिछले कुछ सालों के दौरान दो शब्द सुनने को मिलते हैं। उसमें पहला शब्द हैं स्किल ओर दूसरा शब्द हैं स्टार्टअप।में स्किल से जुड़े बच्चो को खोजने के काम से जुड़ा हूं। मेने आज तक 9 नेशनल ओर इंटर नेशनल रिकॉर्ड कायम किये हैं।अब मेरी सोच ये बनती हैं कि ऐसे स्किल वाले बच्चों की स्किल को प्रोत्साहित करने वाली ओर उनका रिकॉर्ड लिखने वाली प्रकाशित करने वाली एक बुक तैयार हो।
इस काम मे अभीतक हम 22 राज्योसे प्रतिनिधि पसंद कर चुके हैं।बच्चो के स्किल या नवाचार से जुड़ी बातें जो अभिनव होगी उसे इस किताबमें लाया जाएगा। साल में एक बार ही ये किताब छपेगी।आप भी आपके आसपास के बच्चों के नवाचार ओर स्किल की जानकारी हम तक पहुंचाए।समग्र देशमें से आए ऐसा स्किल रिकॉर्ड बुक सबसे पहला सप्तरंगी फाउंडेशन तैयार करने जा रहा हैं।आप से अनुरोध हैं कि आप भी इस काममें हमारी सहायता करे।


@#@
स्किल बुक की किसीभी जानकारी के लिए आप हमें मेल या msg के उपरांत कोल भी कर सकते हैं।

09925044838


7rangiskill@gmail.com

bhaveshpandya2008@gmail.com

Monday, August 20, 2018

समय को पहचानो....

क्या आप बहुत कोशिश करने के बाद भी समय पर अपना कार्य पूरा नहीं कर पा रहे हैं? हम समय के सही उपयोग या महत्व के विषय में बात करते हैं पर क्या हमें सही तरीके से पता भी है समय कहते किस चीज को हैं?
समय का महत्व जीवन में अन्य-अन्य पल में अलग-अलग होता है। कभी समय के जीवन के लिए बहुत ही अनमोल होता है तो कभी ना के बराबर।
एक छोटे बच्चे के लिए- समय ना के बराबर है। एक किशोर या young age के लिए- समय उत्साह, मज़ेदार,उमंग से भरा है।
एक वयस्क के लिए- समय कार्य से भरा हुआ है तथा बुजुर्गों के लिए- समय जरूरत से ज्यादा है।
आप सब ने एक कहावत तो सुना ही होगा ! धनुष से छुट हुआ तीर, मुह से निकला हुआ शब्द और बिता हुआ समय कभी वापस नहीं आता । अपने जीवन को सही तरीके से चलने में समय का बहुत ही ज्यादा महत्व है । इसके उपयोग के लिए सबसे जरूरी है अपने जीवन के मुख्य प्राथमिकताओं को समझना और उन्हें सही समय पर पूर्ण करना । समय के सदुपयोग या सही उपयोग से ही आप अपने जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं ।
सोचिये आपके कंपनी का कोई मुख्य कार्य जो आपको कुछ घंटों में पूर्ण करना है पर कार्य करते समय आपका कोई मित्र आपको फ़ोन करता है और आपको अपने घर खाने परु बुलाताहै ! तो ऐसे में आप क्या करेंगे ?
आपको इस सवाल का उत्तर देने से पहले यह निर्धारित करना पड़ेगा कि आप कौन से कार्य को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं , अपने कंपनी के कार्य को या अपने अपने मित्र के निमंत्रण को ।
एक बात जरूर जानलें कि अपने जीवन के प्राथमिकताओं को आप जिस तरीके से पूर्ण करेंगे ! उसी प्रकार आपकी प्राथमिकतायें भी आपके सपनों को पूरा करने में देर नहीं करेंगी । अगर आप अपने सभी कार्यों को सही तरीके से पूरा करना चाहते हैं तो अपने समय के मूल्य को समझें और अपने कार्य को पहला प्राथमिकता देकर जल्द से जल्द पूरा करें । समय को सही तरीके से समझने के लिए हमें पहले यह जानना बहुत जरूरी है कि समय कहते किस चीज को हैं ? कुछ तो ऐसा हैं हमारे ओर हमारी प्राथमिकता के बीच मे, हम गा सकते हैं,

तेरे मेरे बीच मे...
कैसा हैं आए बंधन अंजाना...

एक खूबसूरत गाना।
जो आप ने सुना ही होगा।
में कुछ दूसरे अंदाज में उसे याद करता हूँ। मुजे मालूम नहीं कि क्या हैं मगर कुछ तो ऐसा हैं जो कुछ खास हैं।
कुछ ऐसे बंधन होते हैं जो हमे बंधन नहीं मुक्ति का अहसाह दिलाते हैं। एक बात ये भी समाज लेनी हैं कि जिस कहानी में हमे सिकंदर ओर पोरस की बात याद करनी हैं। ये बंधन सिकंदर ओर पोरस की कहानी भी उतनी ही महत्वनपूर्ण हैं। बस, ऐसा ही व्यवहार हम तब करे जब हम विजेता हो। कभी ऐसा होता हैं जिसमें हारजीत नहीं सफलता और विश्वास को देखना होता हैं।
ये अनजाना बंधन नहीं हैं। ऐसा जान पड़ता हैं कि अब जो हैं वो सब कुछ अनजान नहीं हैं। आगे क्या होगा, क्या समस्या या सवाल  आएंगे वो भी मालूम हैं।सो जो हैं उसे देखो, जो होगा उसे देख लेंगे।  कभी कभी ऐसा होता हैं कि हमे कुछ ध्यानमें नहीं आता।

@#@
जब सोच हैं।
सो सोच हैं।अब उसे पूरा करने के लिए क्या करना हैं वो तय करें।

Saturday, August 11, 2018

जरूरत ओर शोध


जरूरत शोध की जननी हैं।
आप को ये विधान सांजे ने के लिए ओर कुछ नहीं करना हैं।सिर्फ फोटो को देख कर समज़ लेना हैं।अगर देखा जाए तो आए तय हैं कि जब हम किसी की जरूरत होती हैं,हम उस सुविधा या व्यवस्था के लिए कुछ नया खोज लेते हैं।
कोई व्यक्ति अपने कद के कारण एक बेंच पे नहीं सो सकता था। अब करें भी तो क्या करें।उन्हों ने एक नया रास्ता निकाला जो में आपको शेर कर रहा हूँ।

@#@
जीवन में सुविधा नही,साहस और समर्पण महत्वपूर्ण हैं।रास्ते तो बहोत निकलेंगे,अगर मनमे ठाना हैं तो कुछ तो होगा।

Wednesday, August 8, 2018

शिक्षा और स्किल



शिक्षा को हम देखते हैं।उसे समझ ने का प्रयत्न करते हैं।हमारे आसपास कुछ ऐसे लोग ओर ऐसी घटनाएं होती हैं।इस कि हझ से हमे ओर भी चिंतन करने का मौका मिलता हैं।
आज कल शिक्षा में रटना ओर लिखवाना या कहिए पेपर देखकर उसको वोमिट करना एक सामान्य   रास्ता हैं।सिर्फ मेरिट केओ ध्यान में रखकर हमे भविष्य दिखाई पड़ता हैं।
सिर्फ रटलेने से हमारा भविष्य ओर सामने वाले कि समज को हम जान ने का दावा करते हैं।क्या हमारा वो दावा सही हैं?अगर है तो सभी जगह रटने से पास हुए लोग तो नजर नहीं आते हैं।ज्यादा तर रोजगारी प्राप्त करने वाले स्किल से ही आमदनी का रास्ता खोजते हैं।अगर स्किल से कामना है तो रटकर जीवन बर्बाद करना जरूरी नहीं हैं।
आज स्किल इंडिया की बात अभी शुरू हुई हैं।आगे स्किल से ही हम अपना ओर देश का विकास कर पाएंगे।


@#@
स्किल वाला बेरोजगार नही होता।
रटने वाला स्किल वाला नहीं होता।

Tuesday, July 24, 2018

એવું જ હોય...



આધુનિક સમયમાં અનેક સુવિધાઓ આપણી આસપાસ જોવા મળે છે.આવી જ એક સુવિધા એટલે સેલફોન.સેલ ફોનના જમાનામાં વૃદ્ધ,યુવાન કે બાળક પણ સેલફોનથી દૂર રહી શકતો નથી. આજે દરેક ઘરે સરેરાશ સેલ ફોન છે. દરેક બાળકને સેલફોન એટલેકે મોબાઈલમાં બધું જ આવડે છે. આ ઉપકરણનો યોગ્ય ઉપયોગ થાય તપ તે ખૂબ જ ઉપયોગી અને હાથવગું સાધન છે. જો બાળકની ઉંમર પ્રમાણે યોગ્ય ઉપયોગ કરાવવામાં આવે તો બાળકનો માનસિક વિકાસ યોગ્ય રીતે થાય છે.આજ હવે એવી પરિસ્થિતિ નું નિર્માણ થઈ રહ્યું છે કે દાદા દાદી મોઢે વાર્તા કહેતા નથી.કદાચ એટલો સમય નથી.ક્યાંક સાથે સંયુક્ત કુટુંબ ન હોવાથી આવું થાય છે. આજે દાદા કે દાદી જાતે વાર્તા કહેવાને બદલે યુટ્યુબ માં વાર્તા નો વીડિઓ જોવે છે.કારણ હવેનો  જમાનો હવે સેલફોનનો છે.

મારાં એક  મિત્ર છે. તે શિક્ષણના વ્યવસાય સાથે જોડાયેલાં છે.તેમના પતિ અને પરિવાર શિક્ષિત અને આર્થિક સંમ્પન છે. તેમનો પુત્ર હાલ પહેલા ધોરણમાં ભણે છે.તેનું નામ નીક. થોડા સમય પહેલા એને પોતાનો ફોન જોઈએ એવી માંગણી કરી. એ કહે: “મમ્મી મારો ફોન નંબર આપ મારે મારા friend ને આપવો છે.'' એને ઘરના એક બે નંબર આપ્યા.આ જોઈ છોકરો કહે: 'મને મારો નંબર જોઈએ છે. બોલો હવે પહેલા ધોરણના બાળકોને પોતાના ફોન નંબર જોઈએ છે.સમય એવો આવતાં વાર નહિ લાગે કે શિક્ષકોની જેમ બાળકોને પણ પોતાના સેલ ફોન શાળા માં જમા કરાવવા પડશે.આજે અહીં બે પોસ્ટર છે.એક પોસ્ટર આધુનિક સમય પ્રમાણે જન્મ લેતા બાળક ને આધારે કટાક્ષ છે.જ્યારે બીજું પોસ્ટર બાળકોને માટે ખાસ સર્જક બાળકો માટે છે.

Monday, July 2, 2018

हमारा ignite


आप सभी को मेरा नमस्कार।आप माता पिता हो या गुरुजन।आप से मेरा निवेदन है कि इग्नाइट कंपटीशन में आप सहयोगी बने।आप बच्चो तक ये जानकारी शेर करें।उनतक पहुंचाए।वर्ष: 2018 के  पुरस्कारों की घोषणा डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिवस पर की जाएगी।यहाँ ये जानकारी देना आवश्यक हैं कि ये नाम या पुरस्कार 15 अक्टूबर 2018 को गोशित किये जायेंगे। आप सभी से निवेदन है कि अपने अपने बच्चों से Idea कंपटीशन करवाएं।आप सरकारी स्कूल में या प्राइवेट स्कूल में हो।आप पेरेंट्स हो,अधिकारी या संचालक हो।आप इस कार्य में सहयोग कर सकते हैं।कक्षा 1 से 12 तक के बच्चों के  नवाचार या आइडियाज लिखकर नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन की साइट पर ऑनलाइन सबमिट करें।अगर आप on line नहीं कर सकते हैं तो ऑफलाइन भी भेज सकते हैं। उसके अलावा आप...

Sir फाउंडेशन,सोलपुर(महाराष्ट्र)
सप्तरंगी फाउंडेशन,(गुजरात) हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय को भी आईडिया भेज सकते हैं!आप के  जो भी आईडिया हमारे पास आएंगे हम नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन के पास जमा करवा देंगे ।आपके बच्चों का एक छोटा सा आईडिया उनके पूरी जिंदगी को बदल सकता है Idea कंपटीशन में पुरस्कारों की घोषणा के बाद राष्ट्रपति महोदय द्वारा बच्चों को सम्मानित किया जाता है। उनका जो भी idea होगा उसको पेटेंट करवाने में भी नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन पूरा सहयोग करती है ।NIF का यह प्रयास है कि किसी भी क्षेत्र में कोई भी बच्चा जो कि इनोवेटिव विचार रखता है, वह पीछे ना रहे। उन बच्चों को भी एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराकर उनके Idea आविष्कार को देश के सामने लाया जाए। हरियाणा व उसके आसपास के राज्यों में Idea कंपटीशन करवाने के लिए हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय से संपर्क कर सकते हैं ।ऐसी आइडिया कॉम्पिटिशन के जरिये मीले हुए नवाचार को हम NIF तक पहुंचाते हैं। हमारी टीम आपके विद्यालय में आकर बच्चों के साथ इंडिया कंपटीशन करवाने में सहयोग करेगी।इसके लिए आप को कोई खर्च नहीं करना हैं।आप मेरे ब्लॉग से कैसे विचार इकठ्ठा करना हैं इस के बारे में दी गई पुरानी जानकारी का उपयोग कर सकते हैं।
हमे सप्तरंगी फाउंडेशन के माध्यम से आपके विचार NIF तक पहुंचाने में गर्व महसूस होगा।

@#@
विचार सदैव अकेला होता हैं।उस के आधार पर लाभ प्राप्त करने वाले एक से अधिक या बहोत सारे व्यक्ति होते हैं।

Tuesday, June 26, 2018

સાચું શું...


કેટલીક બાબતો જોઈએ.
આ વિગતો ને આધારે આપણે જ નક્કી કરીએ કે શું કરવું જોઈએ.સમય સાથે કદમ મિલાવનાર જ સફળ થાય છે.આ માટે બે બાબતો જોઈએ.

પહેલી વાત એ કે નોકિયાએ એન્ડ્રોઇડ ના સ્વિકાર્યુ. સાથે બીજી વાત એ કે યાહૂએ ગુગલને નકારી દીધી. આ બે વાર્તા કે વાર્તાઓ પુરી થઇ. આ બે વાર્તાઓ માં શું શીખ્યા?

આ બે સત્ય બાબતો ને આધારે નીચેની બાબતો સમજી શકાય.

● જોખમો લો.
● બદલાવને સ્વીકારો
● તમે સમય સાથે બદલતા નથી તો તમે નાશ પામી શકો છો.

આ સાથે બીજી બે વાર્તાઓ જોઈએ.

1. ફેસબુકે વોટસ્ અપ અને ઇન્સટાગ્રામ ખરીદી લીધી.
2. ફ્લિપકાર્ટે મંત્રા ખરીદી લીધી અને ફ્લિપકાર્ટે ખરીદેલ મંત્રાએ જબોંગ ખરીદી લીધી.
    આ બે બીજી વાર્તાઓ પણ પુરી થઇ.બોલો શું સત્ય...સાથે શું શીખ્યા?

● તમારા પ્રતિસ્પર્ધીઓને તમારા સાથીદાર બનાવી બને તેટલા વધુ શક્તિશાળી બનો.

● ટોચ સુધી પહોંચો અને પછી સ્પર્ધા ના કરશો.

● હંમેશા નવુ નવુ અપનાવતા રહી નવું શિખતા રહો.

આ ઉપરાંત આવી જ બીજી બે બાબત જોઈએ.

1. કર્નલ સેન્ડર્સે 65 વર્ષની વયે કેએફસી(KFC) ની સ્થાપના કરી હતી.

2. જેકમા, જેમને કેએફસી(KFC) માં નોકરી ના મળી, અને અલીબાબા કંપની શરૂ કરી. આ બે વિગત કે વાર્તાઓ પુરી થઇ

બોલો ...શું શીખ્યા?

● ઉંમર એ ફક્ત એક આંકડો છે.
● માત્ર તે જ સફળ થાય છે જે સતત પ્રયત્નો કરતાં રહે છે.


અને છેલ્લે એક વાત જે નક્કી કરવા જેવી છે.
લમ્બોર્ગીનીની સ્થાપના એક ટ્રેક્ટરના માલિકે બદલો લેવાની ભાવનાથી કરી હતી. કારણ કે તેમનુ અપમાન ફેરારીના માલિક એન્ઝી ફેરીરીએ કર્યુ હતુ. વાર્તા પુરી થઇ.

શું શીખ્યા?

● ક્યારેય કોઈપણ વ્યક્તિને નાનો ન સમજશો!!
● સફળ થઇ ને સાબિત કરવુ એજ શ્રેષ્ઠ બદલો છે.

આ સાથે એમ પણ કહેવાય કે...

◆ સખત મહેનત કરો!
◆ તમારા સમયનું યોગ્ય રોકાણ કરો!
◆ શું તમે કામ માં ખુશ છો!
◆ નિષ્ફળતાથી ગભરાશો નહી!


આવું બધું ગણું વાંચવા સામે આવે છે.કેટલુંક ગમતું નથી.કેટલુંક પસંદ નથી.બોલો એમાં કોનો વાંક.


@#@
સફળતા કોઈના કહેવાથી નહીં,સખત પરિશ્રમ અને નવ વિચારથી જ આવે છે.

Thursday, June 14, 2018

गांधी के विचार



गांधी एक व्यक्ति।
गांधी एक विचार।
कहिए कि गांधी एक विचारधारा।
आज भी गांधी विचार से जीने वाले लोग हमारी आसपास होते हैं।ऐसे लोग जो हमारे लिए आदर्श होते हैं।किसी एक जगह जब गांधी को याद करना होता हैं,सभी उन्हें चरखे के लिए याद करते हैं।

गांधी याने चरखा ही नहींआज के समय में अगर गांधी हिट तो शायद टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देते।बापू बेरिस्टर थे,ओर अपने कर्म को वो लोगो के सामने रखते थे।कुछ लोग उन्हें जुनवानी कहते हैं।कुछ लोग उन्हें अशक्त कहते हैं।मगर गांधी एक विश्व विभूति हैं।दुनियाका कोई देश ऐसा नहीं जहाँ बापू के नाम का रास्ता या चोक न हो।
आज के समय में गांधीजी को अहिंसा के लिए याद करना जरूरी हैं।किसी के सन्मान को ठेस पहुंचाना एक तरफ से हिंसा हैं।ऐसी हिंसा के लिए हम हमारी जिंदगी को बर्बाद करते हैं।किसी का अपमान करना अगर हिंसा हैं तो किसी को सन्मान देना अहिंसा माना जाना चाहिए।महर ऐसा नहीं हैं।


@#@
सिर्फ बाते करने से जीवन गांधी जैसा नहीं होता,जो कहते हैं उसे करना भी पड़ता हैं।निभाना भी पड़ता हैं।

Wednesday, June 13, 2018

हमारी जिम्मेदारी

व्यक्तिगत और सामूहिक।
हम दो तरीके से काम करते हैं।
हर बार सफलता मिलने के लिए ही हम प्रयत्न करते हैं।मगर वो संभव नहीं हो रहा हैं।
जब हमारे बहोत सारे प्रयत्न के बावजूद भी हम सफल नहीं होते हैं तो हमे दुख होता हैं।मैनेजमेंट में सफलताके लिए 14 प्रयत्नों को समजाया गया हैं।क्या हमारे पास एक ही काम 14 तरीको से या 13 से अधिकबार करने की धीरज हैं।
कोई लक्कड़ हार 95 वे बार कुहाड़ी को मार के पेड़ काटने की कोशिश करता हैं,हो सकता हैं 95 प्रयत्नों के बाद वो असफल रहा हो।अब हीग ये की कोई दूसरा व्यक्ति सिर्फ 5 बार कुहाड़ी मारकर पेड़ काट लेता हैं।किस के प्रयत्नों से ये हुआ!पहले लक्कड़ हारे के कारण या दूसरे ने ही ये कर लिया।
हम असफल होंगे तो वो असफलता हमारी हैं।अगर हम सफल होंगे तो लोग उसके बाद हमे विशेष व्यक्ति बनादेंगे।कहते हैं कि ताला खोलने के लिए अगर 10 चाबी हैं,तो हमे दस चाबी खत्म होने तक हमारी कोशिश नहीं छोड़नी चाहिए।


@#@
कोशिश करना हमारा कर्तव्य हैं,कर्तव्य को पूरा करने का हौंसला ओर शक्ति भगवान या कुदरत से मिल जाती हैं।

Wednesday, May 30, 2018

गर्मी और हम


गर्मी का मौसम हैं।सभी परेशान हैं। आज ओर कल का तापमान 48.00 डिग्री हुआ।समजीए की सूर्य की गर्मी का 48 % हिस्सा जी हमारे ऊपर गिरा हो।सरकार क्या करेगी।हमे ही कुछ करना पड़ेगा।
आइए हम सब  मिल के अब 55 डिग्री का लक्ष्य लेकर चलें । या 7% कम करने का कुछ सोचे।
हम क्या के सकते हैं...आज हम नीचे की बाते करते हैं।

- और अधिक पेड़ काटें ।
- सड़कें चौड़ी करें । 
- चारो तरफ सीमेंट के जंगल खड़े करें
- सभी पब्लिकेशन के अखबार मंगाए ताकि बांस-पेड़ समाप्त हो जाएं
- खूब जोड़ी कपड़े​, जूते रखे
- बहूत सारे टूय्ब वेल खोदें
- खूब प्लास्टिक प्रयोग करें
- नदियों में रोज कचरा डालें
- रात-दिन वातानुकूल, कूलर चलाऐं
- आटोमोबाइल्स को चौबीस घंटे चालू रखे,
- पानी सिर्फ आर ओ का पियें 
- साईकिल पर प्रतिबंध लगवा दें
- देश में धुंवा व प्रदुषण पैदा करने वाले कारखाने लगाए
- वह सभी कार्य करे जिससे ओजोन छिद्र अपने जीवनकाल में खूब बड़ा हो जाय
- खूब जी भर कर पानी ढोले
- खूब डिस्पोजेबल सामान प्रयोग करें 
और घर अनावश्यक सामान से भर दें।
- रोज सुबह शाम पाइप लगाकर पीने के पानी से घर के सामने का सड़क धोएं, कार को रोज स्नान करवाए, पम्प चलाकर भूल जाये जबतक पड़ोसी आकर न कहे पम्प बन्द न करें । पानी की खूब बर्बादी करें ।
व नई पीढ़ी के लिए संदेश छोड़कर जाएं।55 तक पहुंचने के लिए उपरोक्त बाते करने से तो हम जल्द पहुँचपाएँगे।अगर कम करना हैं तो हमे खुद पेड़ लगाने होंगे यही एक रास्ता हैं।

#@#
एक व्यक्ति आज अपना पेड़ लगाए तो 5 साल में गर्मी कम हो सकती हैं

ગંદો માણસ