Wednesday, May 15, 2019

अपनी स्किल को फैलाए...


सर्जनात्मकता किसीबकी जागीर नहीं हैं।हम देखने का नजरिया बदलना हैं।ऐसा करने से हम नया सर्जन कर पाएंगे।हमारे आसपास ऐसी बहोत सी चीजें ऐसी होती हैं,  जिससे हम अच्छे से नई चीज बना सकते हैं।
महाराष्ट्र सोलापुर से कई दोस्तो से में जुड़ा हूं।एक शिक्षक हैं जो रोजाना नई चीजें बना लेते हैं। कुछ लोग जो ऐसी चीजें बना लेते हैं, वो अपने घर का सुशोभन कर सकता हैं। जो चीज हमारे काम की नहीं हैं उस के सामने ऐसी फिजूल की सामग्री से सब जैसे नया बना सकते हैं।ऐसे सर्जकों को हम स्थान देना चाहते हैं।अगर आप के पास कोई ऐसी स्किल हैं तो आप हमारा संपर्क करें।

#Bno...

किसी टूटी हुई चीज से कुछ नया बनाना।
किसी भी टूटे हुए व्यक्ति को खड़ा करना।
किसी को टूटते हुए बचाने के लिए खुद टूट जाना।

ये तीनो कला हैं। कुछ लोग तोड़ने में तो कुछ लोग टूटने में कौशल्य रखते हैं।

2 comments:

रोपडा प्राथमिक शाला said...

हमारी शाला के छात्र विराम के समय या फिर शाला समय के बाद पुराणी एवं टूटी हुई चीजो को खोज कर जरूरत के हिसाब से सर्व श्रेष्ठ कृतियाँ बनाते है। नया करने का आनंद लेते है।

रोपडा प्राथमिक शाला said...

बालक हर हमेश नई चीजे बनाने में उत्सुक होते है।