Monday, March 11, 2019

हमारे शहिद...


शहीदों के लिए सन्मान हैं।
आज हमारे देश में एक ही चर्चा हैं।
मोदी जी क्या करेंगे। हमला करेंगे या बातचीत करेंगे
आज विश्व में अधिकतम देश भारत के पक्षमें हैं। किसी पेपर में कोन से  प्रधानमंत्री ने कितने विदेशी दौरे किये उसका विवरण छापा गया था।
मेरा कहना कुछ अलग हैं।
किस ने कितना खाया वो नहीं, कितना पचाया वो महत्वपूर्ण हैं। किस ने कितना बोया उससे अधिक महत्वपूर्ण सवाल हैं कितना पाया। आज विश्व में भारत को एक पहचान मिली हैं। विश्व के दूसरे नंबर का माने जाने वाला शांति पुरस्कार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को मिला हैं। एक तरफ आप को कोई परेशान करता हैं और उस वख्त आप शांति रखते है उस वख्त की शांति का महत्व अधिक हैं। देश के सिपाही जो शाहिद हुए हैं। लोग उन के माध्यम से पोलिटिकल बाते कॉमेंट कर रहे हैं। क्या हमारे परिवार के सदस्य होते तो हम सदमे में होते या कॉमेंट करते।
कोई मोमबत्ती जलाता हैं।
कोई खून या पैसा दान में देता हैं।
न्यूज़ वाले भी ऐसी भिखारन को खोज लाते हैं जिस ने भीख से कमाया पैसा दान में दे दिया। कोई चायवाला पूरे दिनकी आमदनी दे देता हैं। हमें सिर्फ भरोसा रखना हैं।

#यह वख्त गुजर जाएगा।
#वो सुबहा कभी तो आएगी।

सरकुम:

ॐ शांति
हमारे जीवन में शांति बनी रहे।
गलती का अहसास तब होता हैं जब अशांति महसूस होती हैं। साथ रहने वालो में थोड़ा जागड़ा एक दूसरे की फिक्र की निशानी हैं। अगर ऐसा नहीं हैं तो समजीए वो साथमें होने का अभिनय कर रहे हैं।

No comments: