Sunday, December 9, 2018

लोग हैं...



तू अपनी खूबियां ढूंढ,
कमियां निकालने के लिए
                                    लोग हैं |

अगर रखना ही है कदम तो आगे रख,
पीछे खींचने के लिए
                                    लोग हैं |

सपने देखने ही है तो ऊंचे देख,
नीचा दिखाने के लिए
                                    लोग हैं |

अपने अंदर जुनून की चिंगारी भड़का,
जलने के लिए
                                    लोग हैं |

अगर बनानी है तो यादें बना,
बातें बनाने के लिए
                                 लोग हैं |


तू बस संवार ले खुद को,
आईना दिखाने के लिए
                                    लोग हैं |

खुद की अलग पहचान बना,
भीड़ में चलने के लिए
                                    लोग है |

तू कुछ करके दिखा दुनिया को,
तालियां बजाने के लिए
                                    लोग हैं |

No comments: