Tuesday, September 25, 2018

शक्ति को सन्मान...

आज सबसे बड़ी पूनम हैं।
शक्ति की आराधना करने वालो के लिए आज का दिन महत्व पूर्ण हैं। शक्ति याने जो हमे साथ दे,विश्वास दे और अपने साथ रखे। अपने दुख को हम से छुपाए ओर सुख को हमसे बाटे।

मा अंबा, महाकाली या चामुंडा। शकि ओर भक्ति उपासको को अवश्य मिलती हैं। आज के दिन माँ से जो मांगते हैं,मिल जाता हैं। हमारे अंदर कोई पाप नहीं हैं तो शक्ति की देवियां हमे सहाय करती हैं।

किसी ने खूब कहा हैं,

गोकुल देखो,
मथुरा देखो।
कृष्ण की मूर्ति भी देखो तो काली हैं।
सारे जग के सुख देने वाली रात भी देखो काली हैं।
काली महाकाली वो तो सर्व शक्ति शाली हैं।

ऐसी सर्व शक्तिमान सिर्फ माँ हो सकती हैं। हर औरत शक्ति का स्वरूप हैं। जो शक्ति में आस्था रखते हैं, जो शक्ति की आराधना करते हैं। उनका दिल भी विशाल होता हैं।
जीवन मे बहोत सारे उतार चढ़ाव आते हैं।तब घर की शक्ति याने ऑरत ही घर को सजाती हैं, संवारती हैं। कुछ ऐसा नहीं जो औरत न कर पाए। पहाड़ को भी रौंदना शक्ति के लिए आसान हैं।बड़े पर्वत भी जहां शीश जुकाते हैं वहाँ में भी आज नतमस्तक हूं।


सरकुम:

जीवन में चाह हैं तो राह हैं,
वरना ये जीवन भी कंगाल हैं।

No comments: