Wednesday, September 19, 2018

स्किल ओर खोज


हरेक के पास स्किल का होना असंभव हैं। स्किल के लिए महेनत ओर लग्न से शुरू करते हुए उसके पीछे आयोजन पूर्वक श्रम करना पड़ता हैं।

कुछ दिनों पहले की बात हैं। त्रिपदा इंटरनेशनल स्कूल में मुजे जाना था। जैसे गाड़ी पार्क कर के मुजे गेट से एंटर होना था। एक व्यक्ति ने हमे रोका। उन्होंने मेरा नाम और किसे मिलना हैं,जैसे सवाल किए। मुझसे बात करते समय वो अपने हाथ में कुछ कर रहे थे।
मेने भी उनसे बात की।
वो चोक से गणेश जी की मूर्ति बना रहे थे।बहोत कम समय में वो एक मूर्ति बना लेते हैं। त्रिपदा स्कूल के सिक्योरिटी जवान जो करते थे। में देखता रह गया। जैसे में स्कूल में जाने को था,की जैसे मुजे गणेश जी ने दर्शन दिए। में खुश हुआ। आप उनकी बनाई मूर्तिया देख सकते हैं।

संपर्क:
जितेंद्र राजपूत
जवाहर चोक, साबरमती।
अमदावाद:5
Phone no: 
9824598650


@#@
स्किल को खोजने में नजर चाहिए।
नजर में कुछ और आता हैं तो स्किल नजर नहीं आएगी।
आप को नजर ओर नजरिया दोनो बदलने पड़ेंगे तो ही आगे सफलता मिलेगी।
Post a Comment

दो बहनें