Thursday, July 5, 2018

हम करेंगे...



हमारे आगे पीछे हम देखते हैं।
कोई एक व्यक्ति या संस्थान बहोत सारे लोगो को नेतृत्व प्रदान करती हैं।एक अच्छा पिस्टर हैं।सभी समान थे मगर जिस ने को अपनी बात मनवाली वो आज सबका नेतृत्व कर रहा हैं।
लोकशाही का भी यही मॉडल हैं।सबको समजा ने के लिए हमारा कॉम्युनिकेशन स्किल का बहेतर होना जरूरी हैं।आए कौशल्य हमे नेतृत्व प्रदान करने के अवसर तक आसानी से पहुंचा सकती हैं।हमारी आसपास जो भी हो रहा हैं उसमें सबसे पहली बात ये हैं कि क्या हम हमारी बात मनवा पाएंगे!क्या हमारे में नेतृत्व के लक्षण हैं,जिसे हम आगे बढ़ा सकें।आज हमारी मांग हैं कि हमे हमारी बात रखने का मौका मिले।इसका सीधा मतलब हैं कि हमे ऐसी बात करनी होगी जो सब को सहज लगे।नेतृत्व का सबसे पहला नियम हैं,सबके साथ समानता।समानता ही काम में एक दूसरे से हमे जोड़े रखेगी।

@#@
हमे जो करना हैं,उसे तय करके।
क्योकि तय किये बगर जो कुछ होता हैं उसे अकस्मात कहा जाता हैं।
Post a Comment