Wednesday, March 21, 2018

नोबल पुरस्कार वाली कविता

साहित्यिक बातो में नोबल मिलना एक गौरव पूर्ण घटना हैं।समग्र भारत में से ये सन्मान श्री रवींद्रनाथ टैगोर को मिला हैं।आज में आपको एक ऐसे सर्जक की बात बताने जा रहा हूँ,जिन्हें अपनी एक कविता के लिए नोबल पुरस्कार मिला हैं। उन्हों ने जो कहा हैं,उसका हिंदी अनुवाद यहां दे रहा हूँ।ये बाते नोबेल पुरस्कार विजेता ब्राजीली कवियत्री  मार्था मेरिडोस की कविता "You Start Dying Slowly" का हिन्दी अनुवाद हैं।आशा हैं आपको पसंद आएगी।

1) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- करते नहीं कोई यात्रा,
- पढ़ते नहीं कोई किताब,
- सुनते नहीं जीवन की ध्वनियाँ,
- करते नहीं किसी की तारीफ़।

2) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, जब आप:
- मार डालते हैं अपना स्वाभिमान,
- नहीं करने देते मदद अपनी और न ही करते हैं मदद दूसरों की।

3) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- बन जाते हैं गुलाम अपनी आदतों के,
- चलते हैं रोज़ उन्हीं रोज़ वाले रास्तों पे,
- नहीं बदलते हैं अपना दैनिक नियम व्यवहार,
- नहीं पहनते हैं अलग-अलग रंग, या
- आप नहीं बात करते उनसे जो हैं अजनबी अनजान।

4) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- नहीं महसूस करना चाहते आवेगों को, और उनसे जुड़ी अशांत भावनाओं को, वे जिनसे नम होती हों आपकी आँखें, और करती हों तेज़ आपकी धड़कनों को।

5) आप धीरे-धीरे मरने लगते हैं, अगर आप:
- नहीं बदल सकते हों अपनी ज़िन्दगी को, जब हों आप असंतुष्ट अपने काम और परिणाम से,
- अग़र आप अनिश्चित के लिए नहीं छोड़ सकते हों निश्चित को,
- अगर आप नहीं करते हों पीछा किसी स्वप्न का,
- अगर आप नहीं देते हों इजाज़त खुद को, अपने जीवन में कम से कम एक बार, किसी समझदार सलाह से दूर भाग जाने की..।
तब आप धीरे-धीरे मरने  लगते हैं..!!

इसी कविता के लिए उन्हें नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ।रवींद्रनाथ टागोर को जान गण मन के लिए ये सन्मान मिला।इससे आप समज पाओगे की ये कविता विश्व में कितनी महत्वपूर्ण होगी।

@702@
साहित्य सर्जक कभी नहीं मरते।
पेड़ो का उछेर करने वाले कभी नहीं मरते।हमे इन दोनों का सन्मान करना चाहिए।
Post a Comment

ગંદો માણસ