Saturday, February 24, 2018

आज हैं इसे देखो...


कुछ दिनों पहले की बात हैं।में अमदावाद में था।सुबह सुबह कुछ काम से में गाड़ी लेके निकला। आज के दौर में जानकारी प्राप्त करने के माध्यम में FM रेडियो भी बहोत बड़ा रोल अदा करता हैं।गाड़ी में रेडियो जॉकी ध्वनित का शॉ चल रहा था।ध्वनित के इस कार्यक्रम का नाम हैं, 'मॉर्निंग मंत्र'च₹। ध्वनित बात कर रहे थे।आज वो शीतल महाजन की बात कर रहे थे।शीतल महाजन ने एक कीर्तिमान हांसिल किया हैं।उन्होंने साडी पहनकर स्काई डायविंग की।उनके लिए सिर्फ ये बात नहीं हैं।उनके किए ऐसी बहोत सारी जानकारी थी जो ध्वनित ने बताई।


शीतल महाजन।बहुत कम लोगो स्काई डायविंग के बारे में मालूम होगा। हम उसे tv पे देखते हैं।बहोत ही हिम्मत का काम हैं स्काई डायविंग करना।

महाराष्ट्र के पुने में रहनेवाली शीतल महाजन  भारत की पहली महिला है जो स्काई डायविंग करती है। वो 21 साल की थी तब पहली बार जम्प लगया था। उन्होंने पहला जम्प बिना ट्रेंनिग के लगाया था।उनका पहला जम्प नार्थ  पोल से  लगाया गया था।करीब 2400 फिट से उन्होंने पहला जम्प लगाया था।शीतल महाजन ने दूसरा जम्प अंटार्कटिका साउथ पोल से 11600 फिट से लगाया था।

शीतल एक अकेली भारतीय महिला हैं जो दूसरे देशो में भी इसके लिए विविध ओर गौरवपूर्ण रीकॉर्ड अपने नाम कर चुकी हैं। दुनिया के सात भूखंड में जम्प कर के उन्होंने नया कीर्तिमान आने नाम किया हैं।

विविध हेलीकॉप्टर ओर प्लेन से वो आजतक जम्प कर चुकी है। अभी तक उन्होंने 700 से अधिक जम्प लागए है। शीतल महाजन के नाम से आज 18 नेशनल अवॉर्ड ओर 6 वर्ल्ड रेकॉर्ड है। भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सन्मानित किया है।

आज वो भारत में स्काई डायविंग की कोच है ।वो कहती है के मेरा धेय्य कुछ अलग करना था। दुनिया को दिखाना था कि भारतीय महिला किसी भी फील्ड में कुछ न कुछ कर सकती है ।

अपनी सोच को बदलिए।सब कुछ मुमकिन हैं।एक महिला अगर ऐसा काम करती हैं तो हमे उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए।सोच बदलो,विचारों से गिरे हुए आप ओर में ऐसी सोच रखते हैं जो सही नहीं हैं।एक अच्छा विचार हमे सफ़लताकी ओर ले जाता हैं।ऐसा ही एक नकारात्मक विचार हमे सफ़लतासे दूर करती हैं।

कृष्ण भगवान ने कहा हैं की,
जो हो गया हैं,वो फिरसे न होगा।
जो हो रहा हैं,वो ही अंतिम सत्य हैं।जो होगा, वो हमने तय किया होगा वैसा ही होगा।
अगर आप अकेले हैं तो वो अब ऐसा नहीं होगा क्यो की वो भूतकाल हैं।आज आप जो हैं,जिन के साथ हैं,जो भी कर रहे हैं वो ही सत्य हैं,क्योकी ये वर्तमान हैं।आप का कल जैसे आपने तय किया हैं वैसा ही होगा।
शीतल महाजन को ही देखलो।भूतकाल में किसी महिला ने स्काय डाइविंग नहीं की थी।अब ऐसा नहीं होगा, वो भूतकाल हैं।शीतल डाइविंग करती हैं,वो वर्तमान हैं और वो ही अंतिम सत्य हैं।कल वो ही होगा जो शीतल चाहेगी।उनकी चाह थी कि वो जरा हटके काम करें।वैसा ही होगा।वो कर रही हैं।
अपने आप में श्रद्धा रखने से ही हम किसी ऑर की श्रद्धा प्राप्त होगी।जो नहीं होने वाला हैं,या जो पहले हो चुका हैं इस बातो मे अपना वर्तमान बर्बाद न करें।
शीतल महाजन के माध्यम से आज जो संदेश में देना चाहता हूं वो स्पस्ट हैं।और वो मेरी टेग लाइन भी हैं।जो है इसे देखो,जो होगा उसे देखलेंगे।

#Thanks RJDhvanit
#waw shital mahajan

We can मुमकिन हैं...!

No comments:

सनथ