Saturday, February 3, 2018

25 साल आईआईएम ving:C







 IIM (A)
भारतीय प्रबंधन संस्थान,अमदावाद।
में 2000 जी साल से जुड़ा हूं।कई सारे ऐसे कामो में सहभागी होने का मुजे मौका मिला हैं।2006 में मैने आईआईएम से सीधा काम करना शुरू किया।सर रतन टाटा इनोवेटिव टीचर्स एवॉर्ड मिला।
आईआईएम के साथ काम की शुरुआत यहाँ से हुई।सीखता हुआ साथ जुड़ता रहा।आज मुजे खुशी हैं कि मैने नेशनल ओर इंटरनेशनल कोंफ़र्न्स में आईआईएम के साथ रहके मेरी बात को रखनेका मौका मिला।
मेरे सारे रिकॉर्ड ओर एचीवमेंट तक पहुंचा ने के लिए मेरे काम को जब भी आवश्यकता हुई आईआईएम ने सहयोग और मार्गदर्शन दिया।आज ving:7 के शिक्षा से जुड़े इनोवेशन को 25 साल हो गए हैं।30 मार्च 1993 को इस के लिए एक बैठक हुई थी।जिसका उद्देश्य था एज्युकेशन इनोवेशन की संकल्पना तय करना,स्पस्ट करना।
वहां से शुरू हुआ सफर आज 25 साल खत्म करने को हैं।समग्र भारत के सबसे पहले 10 इनोवेटिव टीचर्स से लेकर आज आज दिन तक जो भी नवाचार पसंद हुए हैं,उनमें से वैश्विक पहचान प्राप्त करने वाले 25 इनोवेटर्स को साथ लेकर इस सफर को याद करना हैं।उस यादों के साथ indian एज्यूकेशनल इनोवेटर्स  के साथ एक कोंफ़र्न्स का आयोजन होने जा रहा हैं।प्रोफेसर विजया शेरिचंद ने इस मुकाम को करीब से देखा हैं।उसे रास्ता तय करने में अपने आप को जोड़ा हैं।ऐसे टीचर्स जो आईआईएम के रास्ते विश्व में अपनी पहचान बनाई हैं वैसे 25 शिक्षक यहाँ उपस्थित रहेंगे।
आयोजन के आधार पर जो व्यक्ति सीधा इस कोंफ़र्न्स में जुड़ना चाहते हैं वैसे अध्यापक या शिक्षा कर्मी के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया जाएगा।गुजरात के भी कुछ इनोवेटिव टीचर्स इसमें अपनी बात रखेंगे।
पिछले 11 सालों से में सीधा आईआईएम से जुड़ा हूं।गीता चौधरी अमीन जो आज भी मेरी दोस्त और मार्गदर्शक हैं।उन्हों ने मेरे केस स्टडी को 2005 में पढ़ा था।वहां से मेरी सोच को प्रोफेसर विजया शेरिचंद के मार्गदर्शन ओर गीता चौधरी अमीन के सहयोग से में ब्रिटिश काउंसिल तक पहुँचपाया ओर मेरे नाम के आगे डॉ. लगा।
आईआईएम से जुड़ी ओर एज्युकेशन इनोवेशन सिलेक्शन की नेशनल कोर कमिटी के को.कॉर्डिनेटर की जिम्मेदारी निभाने को मिली। (प्रो. विजया सर मुजे आज भी कमिटी के चेरमेन कहते हैं..)सारे देश के इनोवेशन को देखने का ओर समझ ने का मौका मिला।
नेपाल के शिक्षा से जुड़े काम के लिए मुजे इनके साथ काम करने का अवसर आईआईएम ने दिया।दिल्ही सरकार के साथ MOU हुआ और मुजे दिल्ही के अध्यापकों से जुड़ ने का मौका मिला।बहोत सिख हैं और सीखना हैं।
सृस्टि के साथ आईआईएम के माध्यम से कैसे जुड़ा कुछ मालूम नहीं हैं।चेतन मुजे 2011 से सृष्टि में घसीट लाया।प्रो.अनिल गुप्ता का प्यार और काम करने के तरीके से बहोत कुछ सीखा।सृष्टि के साथ जुड़ के बहोत कुछ लिखा।मेरी 3 किताबे हुई।बच्चो के नवाचार के लिए मुजे जोड़ा गया।पिछले 4 सालों से राष्ट्रपति सन्मान लेने वाले बच्चों के साथ काम करने का ओर सीखने का मौका मुजे मिलता रहा हैं।2015 में सृष्टि सन्मान मिला।मुजे मेरी कहानियों के लिए आए सन्मान मिला।आज में सृष्टि ओर आईआईएम से एक परिवार की तरह जुड़ा हु।मुजे खुशी हैं की मुजे कई सारी जिम्मेदारी आईआईएम ओर सृष्टि के माध्यम से मिली हैं।आज तक उसे निभाता आया हूँ।कभी गलतियां की हैं और गलतियों से सीखा भी हु।मुजे ज्यादा काम करने का मौका मिला तो मैने ज्यादा गलतिया भी की हैं।में हर बार काम से ही सीखा हु ओर सिखाता रहूंगा।
#प्रो.विजया शेरिचंद
@गीता चौधरी अमीन
@समीर जोशी
@चैतन्य भट्ट
@अविनाश भंडारी
@मेघा गज्जर
@संकेत और लालजी
#प्रो. अनिल गुप्ता (प्लस यूनिवर्स)
#डॉ. माशेलकर सर
@बिपिन सर(NIF)
@रमेशभाई पटेल
@चेतन पटेल
@सागर
@अवंतिका मेडम
@हेमा मेम
@तेजल मेम
@ओर सृष्टि परिवार के सभी साथी।अरे दूसरे स्टेट के तो इतने सारे दोस्त की हर स्टेट के 2 भी आये तो कुछ ऐसा लगे कि भारत के इनोवेटर्स आये हैं।आज में कहूंगा कि ऐसे 25 स्टार शिक्षा से जुड़े इनोवेटर्स गुजरात में इकट्ठा हो तब हम भी गौरव से कहे कि जी ये तो हमारेके दोस्त हैं।देखते हैं,मगर 30 मार्च को अगर जुड़ना हैं तो आपको भी कुछ करना होगा।नव विचार की बात को आगे बढ़ा ने के लिए आप इस काम से जुड़ सकते हैं।
ऐसे शिक्षक जो अपनी आसपास की समस्याओं के ऊपर विजय प्राप्त कर चुके हैं।ऐसे शिक्षक जो एक विचार के शोधक या प्रणेता हैं जिन्हों ने कुछ नया किया हैं।सारे देश के ऐसे 25 इनोवेटर्स को देखने के लिए तैयार रहे।
मुजे ख़ुशी हैं कि इस के आयोजन में मुजे जुड़ने का मौका मिला हैं।30 मार्च के लिए आप देखते रहे।संपर्क में रहे।
Post a Comment