Saturday, November 4, 2017

आज 4 in 1


आज का दिन महत्व पूर्ण हैं।आज एक साथ  चार महत्वपूर्ण दिवस एक साथ हैं।आज हिन्दू त्योहार में देव दीवाली हैं।आज भगवान दीवाली मनाएंगे।साथ में आज गुरु नानक जी की जन्म जयंती हैं।आज से जैन साधु साध्वीजी ओर भगवंतों के द्वारा विहार यात्राका प्रारंभ होगा।इन सबके साथ गांधीजी के आध्यात्मिक गुरु और विचारक श्रीमद राजचंद्र जी की 150 वी जन्म जयंती भी हैं।

गुरु नानक:-

15 वी सदी में आज के ही दिन 1469 में गुरुनानक जी पैदा हुए थे।लोगोंमें उस वख्त बहोत हताशा ओर निराशा थी।गुरुजी ने अपने वर्तन ओर संदेसे सदभावना के लिए  काम किया था।अपने जीवन के अंतिम समय में उन्होंने अपने लहैंना नामक सेवक को अपनी गादी की पवित्रता ओर कार्योको संभाल ने हेतु उन्हें गादीपति बनाया था।70 सालकी आयुमें 1539 में उनका निर्वाण हुआ था।1430 पेज का गुरुग्रंथ साहेब   का निर्माण किया था।आज उसे हम गुरुवाणी मानते हुए उसका सन्मान करते हैं।

हेमचंद्र आचार्य:-

उनके द्वारा निर्माण हुए सिद्धहेम शब्दानु साशन का सन्मान करते हुए सिद्धराज जयसिंह ने उसे पूरे नगरमें पालखिमें गुमाया था।1145 में धांधूका में हेमचंद्र आचार्य जी का जन्म आज के दिन हुआ था।धर्म उपदेशक,विचारक,धर्म साहित्य और भाषा साहित्य के प्रबुद्ध लेखक के तोरपे उन्हें आज भी माना जाता हैं।उनके प्रयत्न से ही उस वख्त पत्नी और पुत्री को मिलकत में हिस्सा देनेका शुरू हुआ।इस व्यवस्था को प्रस्थापित करने हेतु आज हम उन्हें सन्मान के साथ याद करते हैं।84 सालकी मरमें पाटन(नार्थ गुजरात)में उनका देहांत हुआ था।
भाषा और धर्म के साथ सामाजिक व्यवस्था में दिए गए उन के योगदान के लिए हम अंगे आज याद करते हैं।सन्मान करते हैं।उन्होंने पशु ओर जीवो की हत्या या बली देनेकी प्रथा का विरोध करके उसे बंध करवाया था।

देव दिवाली:

आज हिन्दू धर्म में सबसे बड़ा त्यौहार हैं।आज के दिन चंद्र ओर शिवजी ओर पार्वती माता की पूजा अर्चना का करने का महत्व हैं।आज के इस दिन को हम भी किसी की सहाय करके यादगार बनाने का प्रयत्न कर सकते हैं।आप भी आज किस को सहयोग करें।
#शुभमस्तु...
#Bnoवेशन....
Post a Comment