Friday, September 8, 2017

No problame...

हम कुछ नया करना चाहते हैं।उस वख्त हमारी बात कोई समझने को तैयार नहीं होता।हम कुछ करें और इसके लिए हमे शाबाशी मीले तो हम खुश होते हैं।कई बार ऐसा होता हैं कि कोई हमारी बात सुननेको या आमजन को तैयार नहीं होता।
ग्रेहाम बेल।एक संशोधक ओर शोधक।उन्होंने टेलीफोन की शोध की।यहाँ सवाल ये हैं कि जिसने टेलीफोन की शोध कीथी वो सुन नहीं पाते थे।उनके घरमे उनके अलावा बीबी ओट बच्चे थे।बीबी सुन नहीं पाती थी,बच्चा पागल था।उनके इस मशीनके बारे में किसने माना होगा कि एक बहेरा आदमी टेलीफोन की शोध करेगा!एक तरफ दुनियामें सबसे अधिक सदस्य वाली भारतीय जनता पार्टी हैं।एक सोचने वाली बात ये हैं कि भाजपा या जनसंघ की स्थापना कितने लोगोने कीथी?
बस,अपने काम में लगे रहे।हमे को देखता या सुनता हैं वो महत्वपूर्ण बात नहीं हैं।लगन से नियत अनंत की प्राप्ति के लिए प्रयत्नशील रहें।
#आपका महत्व...
Post a Comment