Thursday, September 28, 2017

अन्नपूर्णा....

क्या आप कभी भूखे सोये हैं।शायद ये सवाल ही गलत हैं।कोई भूखा नहीं सो सकता।भूख किसी को सोने नहीं देती।रोटी फ़िल्म में एक संवाद था इसमें रोटी के महत्व को राजेश खन्ना ने बहोत खूब पेश किया हैं।साउथ इंडियामें कुछ स्टेट ऐसे हैं जहाँ के लोगो को सरकार द्वारा भरपेट इडली मिलती हैं।
मेने वो इडली तमिलनाडु में खाई हैं।गुजरात के बनासकांठा में ऐसाही कुछ हैं।अन्नपूर्णा रथ के माध्यम से श्री केसर सेवा की तहत ये काम चालू हैं।बनासकांठा जिला पंचायत के पूर्व प्रमुख ओर राजकीय व्यक्तित्व के स्वामी राजेन्द्र जोशी(राजू जोशी)इसे क्रियान्वित किये हुए हैं।
केसर सेवा के नाम से एक रथ बनाया गया हैं।इस रथ के निर्माण में 6 से 8 लाख रुपया लगता हैं।ऐसे चार रथ आज पालनपुर ओर डीसा में चल रहे हैं।सबसे बड़ी बात ये हैं कि सिर्फ 2 रूपयो में भरपेट खिचड़ी मिलती हैं।एक बार दो रूपया देके आप भरपेट  खा सकते हैं।
मेरी जब श्री राजू जोशी से बात हुई तो उन्होंने कहा,मेरी माँ का नाम केसर हैं।उन्हों गरीबो को,भूखे लोगो को खिलाने का शोख था।अब सही वख्त पे पोषणयुक्त खाना नहीं मिलेगा तो लोग अशक्त बनेंगे।होटल में मिलने वाला नास्ता 20 से 25 रुपये में मिलता हैं।अब 20 रूपिया दे के बाजार के नाश्ते के सामने 2 रूपयो में भरपेट बादाम,काजू ओर पिस्ता वाली खिचड़ी कोंन नहीं लेगा।
ये पूरा काम राजू जोशी की ऑफिसमें श्रीमती सोनल मोढ देख रही हैं।उन्होंने बताया कि कई लोग तो अन्नपूर्णा रथ की राह देखते हैं।शहर में अस्पताल या ऐसे किसी कचेरी के काम से आये लोगो के लिए अन्नपूर्णा रथ आशीर्वाद समान हैं।
आप भी इस काम में सहयोग दे सकते हैं।किसी एक दिन के लिए आप 2100 रूपया दे सकते हैं।2100 रूपया ओर 2 रूपये में प्लेट की आमदनी से रथका एक दिनक  खर्च निकलता हैं।
मेने एक विधवा औरत को डीसा में अपने भानजे के लिए रोज ये खिचड़ी लेते देखा हैं।कई लोगो के लिए ऐ बचत हैं।जिस 20 रूपये में वो कचोरी समोसा खाके न पेट भर सकते हैं न स्वास्थ्य प्राप्त करते हैं।आज ये खिचड़ी रोजाना 18 रूपये बचाती हैं।ऐसे तो महीने में 540 कई बचत होती हैं।कुल मिलाके सालाना 6 हजार रुपया एक गरीब का बचता हैं।श्रो राजू जोशी ऐसे नए चार रथ के लिए आयोजन कर सकते हैं।
#Bनोवेशन
#GoG

No comments: