Friday, November 8, 2019

कथा कैसे सुने....




कथा तब सुनी कहोजाति है,
जब मनमे बंधी गङ्ढों छूटने लगे।



दृढ़ ता के बगेर का ज्ञान व्यर्थ हैं।बेदारकारी से या आलसमे किया गया श्रवण व्यर्थ हैं।कथा सुनए इस वख्त एकध्यान होना अपेक्षित हैं। अगर एल पथ्थर एल सी गुसाईं से पथ्थर भी। अपना आकर बदल देता हैं।हम तो इंसान हैं। सदगुरु के आशीर्वाफ से यह संभव हैं। लाभूभाई जो की ऐसे विषयो पर उँदान से लिखते हैं। उनका कहना है कि कथा सुनए समय नियम बनाने चाहिए।

जैसे....


#न बोलना या जरोरत होने पर धीरे और कम बोलना।
आसपास खाने पीने की सारी  चीजो को लेकर मत बैठना।
प्रभु सरनइन है तब सारो चिंताए पंडाल में छोड़ दो,शांति प्राप्त होगी।


कथाकार कोई भी हो।
आज बाहर है,कल जेल में भी हो सकते हैं।कोई या किसी के बारे में हम मानते नहीं हैं।
कथा में आते जाते समय रास्ते में प्रभु शरण करे और हो पाए तो किसी को अन्न का दान दे।
कथा के पंडाल से कुछ धार्मिक चीजे खरीदकर हमारे स्नेही और साथियो को प्रसाद के रूप में  इन्हें दे।

कोई कथा सुनाता है।
कुछ सुनाता हैं।अगर कोई सच्ची बात हैं तो वो घटना हैं।
अगर बात गलत या छुपानी वाली है तो आप पे कोई भरोसा न देखेगा।
अगर हमें 10 बजे मिलना हैं,और मिलने वाला नवाचार की गेम खेलने जाय और आके किछ भी कहे। वो कथा नहीं कहते इसे मूर्ख बनाने के सन्देश से फोटो भेजे और कहानी बनाए उसे जूठी कथा कहते हैं। मगर व्यक्तो की पहचान हो जा सकती हैं। जिस के लिए कोई जूथ बोलता है उसे मालूम होना चाहिए ले उन के सीधे पास रहने वाले,छिनने का अधिकार जिन्हें प्राप्त है,उनकी कथा आप को जॉब छोड़ने पर मजबूर करने पर तुले हैं। अगर यकीन न हो तो छिनने वाले को पूछो। वो करीब है,आप को सही लगने वाला बोलेगा,महर सही अब मेरे हाथ हैं।


शुभमस्तु:


उधार में घी लेकर दान करने वाले,खरीदनार को जल्द उधार पैसे वापस नहीं लड़ सकते।


वरसाद ले 12 नाम जो आप को जानने जरूरी हैं।

આજકાલ વરસાદ પડે એટ્લે લોકોને કેટલાંક શબ્દો કાયમ સાંભળવા મલે છે.વરસાદ ને લગતા કેટલાંક શબ્દો આપણા સાંભળવામાં આવે છે. આ દરેકનો અર્થ સામાન નથી. આજે આ શબ્દો વિશે જાણીએ.આજકાલ સમાચાર, છાપામાં કે પછી કોઈના મોઢેથી સાંભળતા હોય કે "બારેય મેઘ ખાંગા થયા"*

ચાલો જાણીયે બાર મેઘ શું છે.?

ગુજરાતી સાહિત્યમાં વરસાદના બાર પ્રકાર પાડેલા છે.

૧. ફરફર.  ૨. છાંટા.  ૩. ફોરા.  ૪. કરા.  ૫. પછેડીવા    ૬. નેવાધાર.  ૭. મોલ મેહ.  ૮. અનરાધાર.  ૯. મુશળધાર
૧૦. ઢેફાભાંગ   ૧૧. પાણ મેહ    ૧૨. હેલીફરફર

જેનાથી ફકત હાથ પગના રુવાળા ભીના થાય તેવો નજીવો વરસાદ

છાંટા

ફરફર થી થોડો વધારે વરસાદ

ફોરા

છાંટાથી મોટા ટીપા વાળો વરસાદ

કરા

ફોરાથી વધુ અને નાના બરફના ટુકડાનો વરસાદ

પછેડીવા

પછેડીથી રક્ષણ થાય તેવો વરસાદ

નેવાધાર

છાપરાના નેવા પરથી પાણીની ધાર વહે તેવો વરસાદ

મોલમેહ

મોલ - પાકને પૂરતો થઈ રહે તેટલો વરસાદ

અનરાધાર
એક છાંટા ને બીજો છાંટો અડે અને ધાર થાય એવો વરસાદ

મુશળધાર

અનરાધાર થી વધુ હોય એવો વરસાદ
મુશળ - સાંબેલાધાર વરસાદ પણ કહેવામાં આવે છે


ઢેફાં

વરસાદની તીવ્રતાથી ખેતરમાં માટીના ઢેફાં ભાંગી જાય એવો વરસાદ

પણ મેહ

ખેતરો પાણીથી ભરાઇ જાય અને કૂવાના પાણી ઉપર આવી જાય એવો વરસાદ

હેલી/ ફરફર

અગિયાર પ્રકારના વરસાદથી કોઈ વરસાદ સતત એક અઠવાડિયું ચાલે તેને હેલી કહેવાય છે. આપણી ભાષામાં એટલું બધુ સાહિત્ય છે કે આપણે પણ તેનાં અંગે જાણતા નાથી. આ લેખ ઉપયોગી થાશે.


Bnoવેંશન:

વરસાદ....આવે યાદ અનેક વાત.
વાતો તૌ ચાલે,પણ કામ ન અટકે.
કામ અટકે એ મને ખટકે, છીનવી લેનાર તેમનાં સહયોગી વડે છીનવી લે તપ ઍક ડાયલોગ છે.

#मेरे जैसा होंसला लाओगे, मगर मेरे जैसा दरिंदपन नहीं ला पाओगे।(एक मनपसंद फिल्म का डायलॉग)

तूलसी विवाह का महत्त्व



आज तूलसी विवाह हैं।
कई लोगो को लगता हैं कि क्या एक वनस्पति की शादी कैसे होगी।
इस जानकारी को समझने हेतु आप को इसे पढ़ना चाहिए,आशा है आप अवश्य पढेंबे।

तूलसी(पौधा) पूर्व जन्म मे एक लड़की थी जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी.बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी.जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया। जलंधर समुद्र से उत्पन्न हुआ था.वृंदा बड़ी ही पतिव्रता स्त्री थी सदा अपने पति की सेवा किया करती थी. एक बार देवताओ और दानवों में युद्ध हुआ जब जलंधर युद्ध पर जाने लगे तो वृंदा ने कहा``` -स्वामी आप युद्ध पर जा रहे है आप जब तक युद्ध में रहेगे में पूजा में बैठ कर``` आपकी जीत के लिये अनुष्ठान करुगी,और जब तक आप वापस नहीं आ जाते, मैं अपना संकल्पनही छोडूगी। जलंधर तो युद्ध में चले गये,और वृंदा व्रत का संकल्प लेकर पूजा में बैठ गयी, उनके व्रत के प्रभाव से देवता भी जलंधर को ना जीत सके, सारे देवता जब हारने लगे तो विष्णु जी के पास गये।

सबने भगवान से प्रार्थना की तो भगवान कहने लगे कि – वृंदा मेरी परम भक्त है में उसके साथ छल नहीं कर सकता ।
फिर देवता बोले - भगवान दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है अब आप ही हमारी मदद कर सकते है।
भगवान ने जलंधर का ही रूप रखा और वृंदा के महल में पँहुच गये जैसे ही वृंदा ने अपने पति को देखा, वे तुरंत पूजा मे से उठ गई और उनके चरणों को छू लिए,जैसे ही उनका संकल्प टूटा, युद्ध में देवताओ ने जलंधर को मार दिया और उसका सिर काट कर अलग कर दिया,उनका सिर वृंदा के महल में गिरा जब वृंदा ने देखा कि मेरे पति का सिर तो कटा पडा है तो फिर ये जो मेरे सामने खड़े है ये कौन है?

उन्होंने पूँछा - आप कौन हो जिसका स्पर्श मैने किया, तब भगवान अपने रूप में आ गये पर वे कुछ ना बोल सके,वृंदा सारी बात समझ गई, उन्होंने भगवान को श्राप दे दिया आप पत्थर के हो जाओ, और भगवान तुंरत पत्थर के हो गये।
सभी देवता हाहाकार करने लगे लक्ष्मी जी रोने लगे और प्रार्थना करने लगे यब वृंदा जी ने भगवान को वापस वैसा ही कर दिया और अपने पति का सिर लेकर वे सती हो गयी।


                         उनकी राख से एक पौधा निकला तब। भगवान विष्णु जी ने कहा –आज से



इनका नाम तुलसी है, और मेरा एक रूप इस पत्थर के रूप में रहेगा जिसे शालिग्राम के नाम से तुलसी जी के साथ ही पूजा जायेगा और में
बिना तुलसी जी के भोग```स्वीकार नहीं करुगा। तब से तुलसी जी कि पूजा सभी करने लगे। और तुलसी जी का विवाह शालिग्राम जी के साथ कार्तिक मास में ``किया जाता है.देव-उठावनी एकादशी के दिन इसे तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है !

Bnoवेशन:

हर एक किरदार की कहानी हैं।
मेरी,आप की और सभी की एक कहानी हैं। कहानी जो रास्ता दिखाती है,कहानी जो रास्ते तय करती हैं।क्या आप में कोई कहानी हैं।

राम के दिन से रामायण



अयोध्या फेसला आया उसी दिन से  communication के नये नियम लागू हो जायेंगे

1. सभी कॉल की recording होगी।

2. सभी call recording saved होंगे
 
3. Whatsapp, Facebook, Twitter और सभी Social media सभी monitored होंगे।

जो ये नहीं जानते उन सभी को  सूचित कर दीजिये। आज से ऐसा ही होगा। आप डिलीट करोगे महर वहां से कुछ डिलीट नहीं कर पाएंगे। इसका मतलब आप समझ सकते हैं।

4. आपकी Devices को मन्त्रालय systems से जोड़ दिया जायेगा।

5. ध्यान दीजिये कोई भी गलत message किसी को भी मत भेजिये।


7. अपने बच्चों, भाइयों, रिश्तेदारों, दोस्तों,परिचितों आदि सभी को सूचित कर दें कि इन सबका ध्यान रखें और social sites को संयम से चलायें।


8. कोई आपत्तिजनक post या video..आदि जो आप recieve करते हैं राजनीति या वर्तमान स्थिति पर सरकार सरकार से जुड़े लोगो की बाते Send नहीं करें।


9. इस समय किसी राजनीतिक या धार्मिक मुद्दे पर कोई आपत्तिजनक मैसेज लिखना या भेजना अपराध है .....ऐसा करने पर बिना वारंट के गिरफ़्तारी हो सकती है |


10. पुलिस एक नोटिफ़िकेशन निकालेगी ....फ़िर Cyber अपराध... फ़िर action लिया जायेगा ।


11. यह बहुत ही गम्भीर है।
आप सभी group members, admins ,...इस विषय पर गहराई से सोचिये। किसी एक सभ्य के कारण कहि एडमिन जी  हवालात में दिखे।

12. कोई गलत Message मत भेजिये। सभी को सूचित करें तथा इस विषय पर ध्यान रखें।

जब पानी शर से ऊपर  चढ़ रहा है तो ये तो होना ही था। कुछ वैसे भी अन्यो के मोबाईल में जाकनेके शौखिन हैं।उन्हें अब ये मालुम पड़े गा की उन्होंने कितनो का मोबाईल हैक किया हैं। अब वो आसानी से ऐसा नहीं कर पाएंगे। अब कानून बना हैं। सरकार मेरा डेटा देखे कोई मेरे मोबाईल को हैक करके नहीं देख पायेगा।

आप भी सावधान रहिए।
आप के ही साथ रहने वाले, छीन के खाने के संबंध रखने वाले ही तुम्हारी फिरकी करते हैं।तब जाके देखना ये होगा कि आज हैक लड़ने वाला और करवाने वाले साथ हैं।आज भी वो साथ है।मतलब वो साथ जुड़कर ऐसी कहानिया बनाकर सोसियल क्राइम कर  रहे हैं।

शुभमस्तु:

इस्तमाल करने का मतलब हैं,
अपना इस्तमाल भी होनेदेना।

ઍક સાચી વાત....


પ્રિય મિત્રો!

  આજે ઍક ડૉક્ટર દ્રારા કિધેલી વાત કરવાની છે.તેમનું નામ છે ડૉ. ભાવના.  તેઓ   પેડિયાટ્રિક  સર્જરી (પીજીઆઈ)  ના  કાઉન્સિલર  તરીકે  કામ  કરે છે.
તેં નાની વિનંતિ કર્તા કહે છે. આ વાત કરતાં પહેલાં ઍક વાત સમજવી જરૂરી છે. 
તેં કહે છે. 'હું  તમારી  સાથે  માહિતીનો  એક  નાનો  ભાગ  શેર  કરવા  માંગુ  છું.'
તમારામાંથી ઘણા લોકોએ આજના અખબારો વાંચ્યા હશે. પહેલાં MRI અને હવે  EMRI. આના પરિણામો કહે છે....

હાર્ટ  એટેક  ધરાવતા મોટા  ભાગના લોકો  50  વર્ષથી  ઓછા  ઉંમરના  હોય  છે.


જાણીને આશ્ચર્ય થશે કે  આ માટે ગુનેગાર  પામ  ઓઇલ  છે.

આ પામ તેલ ઍક તરફ  અલકો્હોલ  અને  ધૂમ્રપાનને  એકસાથે મૂકવા  કરતાં વધુ  જોખમી  છે. 
       
ભારત  આ  વિશ્વમાં  પામ  તેલ માટે  સૌથી  વધુ  આયાત  કરનાર  છે. પામ ઓઇલ માફિયા ખૂબ મોટી સંસ્થા માફક તેમાં અનેક લોકો કામ કરે છે.

આ બધુ જોખમ આવનાર આ બાળકો સામે આવશે. આજે એ નાનાં છે. મોટા છે એ મરી  જશે. જીવશે આજના આ નાના બાળકો.તેમનાં ભવિષ્યને મોટું જોખમ  છે,આ બધું એમનાં જોખમે જ છે. 

પામ  ઓઇલ  વિના  કોઈ ફાસ્ટ  ફૂડ  ઉપલબ્ધ  નથી. જો તમે  અમારી કરિયાણાની દુકાન પર જાઓ છો, તો પામ તેલ વગર બાળકોનો  ખાદ્ય  ખોરાક  લેવાનો  પ્રયાસ  કરો - તમે  સફળ  થશો  નહીં. તમને તે જાણવાનું રસ હશે કે  મોટી કંપનીઓના  બીસ્કીટ  પણ  તેમાંથી  બનાવવામાં  આવે  છે, અને તે જ રીતે બધા ચોકલેટ્સ . લાખો ને ખર્ચે, કરોડોના આયોજન પછી ખરીદનાર ને સમજાવવામાં અને  માનવવામાં આવ્યું  છે  કે  તેઓ  સ્વસ્થ  છે. પરંતુ આપણે  વિનાશક  પામ  તેલ  અથવા  પેમિટિક  એસિડ   વિશે  ક્યારેય  જાણતા  નહોતા. લેઝ  જેવી  મોટી  કંપનીઓ  પશ્ચિમના  દેશોમાં  જુદા  જુદા  તેલનો ઉપયોગ કરે છે.  ભારતમાં  પામ  તેલનો જ  ઉપયોગ  થાય છે. કારણ તે  સસ્તું  છે. 
દર વખતે  બાળક  પામ તેલ  સાથેનું  ઉત્પાદન  ખાય છે, ત્યારે લાંબા સમયે તેની આડઅસર થાય છે. વ્યક્તિનું મગજ અયોગ્ય વર્તન કરે છે અને હૃદયની આજુબાજુ અને હૃદયમાં ચરબીનું સંક્રમણ કરે છે આ કારણે સૌને આવુ તેલ ખૂબ  જ  નાની  ઉંમરે  ડાયાબિટીઝ  તરફ  દોરી  જાય છે. 
 વર્લ્ડ ઇકોનોમિક ફોર્મ  એ અનુમાન લગાવ્યું છે કે  50 % ટકા  યંગ  લોકો  જે નાની  ઉંમરે  મરે  છે  ડાયાબિટીઝ અને  હાર્ટ ડિસીઝથી  મરી જશે.

પામ  ઓઇલ  માફિયાએ  આપણા  બાળકોને  જંક  ફૂડના  વ્યસની  બનાવી  દીધા છે, ફળો અને શાકભાજીઓને એક બાજુ મૂકી દીધા છે, જે હાર્ટ રક્ષણાત્મક છે.આગલી વખતે જ્યારે તમે તમારા બાળક માટે કંઈક ખરીદો, ત્યારે ઉત્પાદનનું લેબલ જુઓ. જો તેમાં પામ તેલ અથવા પામોલિઅનિક તેલ અથવા પામિટિક એસિડ છે, તો તેને ખરીદવાનું ટાળો!
તેમણે,  માનનીય વડા પ્રધાનને પત્ર લખ્યો છે  અને  આપણી  ભાવિ   પેઠીઓને  સુરક્ષિત  રાખવા માટે કેટલાક પગલાં લેવા ભારતભરના 1 લાખ ડોકટરો દ્વારા સમાન પત્ર લખવાની પ્રક્રિયામાં પણ વિચારાધીન  છે.
ફરી એકવાર  બાળકો માટે, તેમનાં સ્વાસ્થ્ય અને તંદુરસ્તી માટે અને આ તેલ ને લીધે ઉભા થતાં જોખમ  પર  ભાર  મૂકવામાં તેઓ માને છે.

Bnoવેશન: કોઈ ને દાન આપવું સારું. અન્ન દાન સૌથી સારું. પણ, આવી આડઅસરો થાય એવા જહેંર ને શું દેખાડો કરવા જાહેરમા આપવા દઈએ?


પણ... મફત હોય તો સૌને લેવું ગમેજ.

Wednesday, October 30, 2019

सोलापुर कोन्फ्रंस





आज सोलापुर में एक कोन्फ्रंस हैं। वहाँ 7 स्किल फाउंडेशन और sir फाउंडेशन के संयुक्त साहस से हम ये कार्यशाला कर रहे हैं। सर फाउंडर स्थापक सदस्य के तौर पे कहु तो आज 13 साल खत्म हुआ।अब और जोस् से आगे बढ़ रहे हैं।

सारे देश में से 16 स्टेट से  100 से अधिक शिक्षक एवं उन के साथ उन के नए विचार होंगे। 7स्किल समूचे देश में से स्किल और नवाचार खोज रहे हैं। पिछली बार ये कोन्फ्रंस गुजरात में हुई थी। पिछले 2 साल से सोलापुर वाले साथी कर रहे हैं।
श्री बालासाहब वाघ, श्री सिद्धराम जी, श्रीमती हेमा ताई, श्री राजकिरण और अन्य साथी उसे सफल बनाने में जुड़े हैं।आप भी आप के नवाचार,शोधपत्र या अन्य जानकारी हम तक पहुंचाएंगे।

#THANKS #अनिल गुप्ता sir
#with U 7स्किल

सोलापुर मुझे याद हैं।
आज भी में सोलापुर हु।
31 और 1 तारीख का आयोजन हैं।में 1 तारीख को निकलूंगा। पिछले साल जो यहां तय हुआ था,आखिर तक उसे नहीं संभाल पाए। आज जो हम साथ मिलेंगे तो एरर दूर करेंगे और नए तरीके से अच्छा,सच्चा और बेहत खूबसूरत करेंगे। किसी से जुड़ने से होंसला बढ़ता हैं। बिच काम में कोई छोड़ दे तो तो...कुछ बढे न बढ़े जस्सा डबल हो जाता हैं। 7स्किल का इस साल का ये दूसरा नॅशनल इनोवेशन कोन्फ्रंस हैं। जो जुड़े है,जुड़े रहे। जो छोड़ गए वो कभी वापस आएंगे। जिन्हें मेने छोड़ा हैं वो मेरे होते कभी नहीं आएंगे। और में तो रहूंगा। किसीको म्यूजिक भी नहीं आता और इनोवेशन भी नहीं कर पाते ऐसे लोगो इस इनोवेशन या संगीत स्पर्धा में निर्णायक बनाना याने इनोबेशन या स्किल  की समझ को बदलने को तैयार रहना। 7स्किल के चेरमेंन श्री प्रवीण माली बच्चो के स्किल और नवाचार को खोजने में विशेष सहयोग दे रहे  है। आज की कोन्फ्रंस में वो भी अवश्य आते महर एक व्यक्तिगत जिम्मेदारी और सामाजिक जीवन से जुडी विशेष जिम्मेदारी निभाने हेतु वो आज विशेष उपस्थित नहीं रहे हैं।आशा हैं 7 स्किल और sir फाउंडेशन के अन्य आयोजन में वो जरूर उपस्थित रहेंगे। उन की शुभकामना के साथ में आज रात सोलापुर पहुंचने वाला हु।

फिरसे समजीए...

एक कुत्ता भी क्रिकेट खेलता हैं।
अंध व्यक्ति सुई में धागा जोत सकता हैं। मगर कुछ लोग करना नहीं चाहते और बहाने से जीतते हैं। मगर ऐसे व्यक्ति अपना स्थान और महत्त्व कम करने को तैयार होते हैं। आज ऐसे व्यक्तियोको मिलना है जिन के नवाचार नॅशनल लेवल पे पसंद हुए है।उन सभी को 7स्किल फाउंडेशन की और सेशुभकामना।

Bnoवेशन:

बोलना याने जीभ से लिखना।
           (महेंद्र चोटलिया सर)

किसी ने बोलके कहा है उसे जीभ से लिखा हुआ मानकर मेने सच्चे लोगोंको,अपने लोगोंको छोड़कर किसी को अपना मनाकर सलाह या पैसा नहीं दूंगा।

जय गुजरात

Tuesday, October 29, 2019

मेरी दिवाली

 



रंगोंली दीपावली ली में महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। हमारे नए घर में पहली दिवाली थी। श्याम को रंगोली बनाने की में तैयारी करता था। उसी समय मेरी बड़ी बच्ची कहे मुझे ही रंगोली बनानी हैं। आज से पहले उस ने छोटी रंगोली बनाई हैं। आज इतनी बड़ी और सुन्दर रंगोली उस ने कभी नहीं बनाई थी। कुल मिलाकर 2 फिट के व्यास से ये बनाई गई हैं। एक बैठक पे 6 घंटे की महेनत के बाद ये रंगोली बनी गई हैं।

ऋचा जो, आज कॉलेज करती हैं। मगर उसे रंगोली बनाना पसंद है। रंगोली हमारे पर्व की एक अनोखी पहेचान हैं। इसे बनाए रखने में और हर साल 4 से 5 प्रकारकी रंगोली बनाती हैं। खुद ही पसंद करती है और जो सबसे अच्छी है उस के ऊपर हमारे साथ फोटो खिंचती हैं। मेरी पगली फोटो भी अच्छी लेती हैं।रंगोंली दीपावली ली में महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। हमारे नए घर में पहली दिवाली थी। श्याम को रंगोली बनाने की में तैयारी करता था। उसी समय मेरी बड़ी बच्ची कहे मुझे ही रंगोली बनानी हैं। आज से पहले उस ने छोटी रंगोली बनाई हैं। आज इतनी बड़ी और सुन्दर रंगोली उस ने कभी नहीं बनाई थी। कुल मिलाकर 2 फिट के व्यास से ये बनाई गई हैं। एक बैठक पे 6 घंटे की महेनत के बाद ये रंगोली बनी गई हैं।

ऋचा जो, आज कॉलेज करती हैं। मगर उसे रंगोली बनाना पसंद है। रंगोली हमारे पर्व की एक अनोखी पहेचान हैं। इसे बनाए रखने में और हर साल 4 से 5 प्रकारकी रंगोली बनाती हैं। खुद ही पसंद करती है और जो सबसे अच्छी है उस के ऊपर हमारे साथ फोटो खिंचती हैं। मेरी पगली फोटो भी अच्छी लेती हैं।


Bnoवेशन:
नई दिवाली।
मेरे लिए बहोत कुछ नया लाइ हैं।
मुझे ख़ुशी है, की लंबे इंतजार के बाद मेरे वाली 'दिवाली' आई हैं।